Aasra Is Jahan Ka Mile Na Mile

Krishna Mantra Jaap (श्री कृष्ण मंत्र जाप)

ॐ नमो भगवते वासुदेवाय हरे राम – हरे कृष्ण श्री कृष्ण शरणम ममः
हरे कृष्ण हरे कृष्ण – कृष्ण कृष्ण हरे हरे – हरे राम हरे राम – राम राम हरे हरे
Krishna Bhajan
_

आसरा इस जहाँ का मिले ना मिले


आसरा इस जहाँ का मिले ना मिले।
मुझको तेरा सहारा सदा चाहिये॥

आसरा इस जहाँ का मिले ना मिले।
मुझको तेरा सहारा सदा चाहिये॥


चाँद तारे गगन में दिखे ना दिखे।
मुझको तेरा नजारा सदा चाहिये॥

आसरा इस जहाँ का मिले ना मिले।
मुझको तेरा सहारा सदा चाहिये॥

आसरा इस जहाँ का मिले ना मिले, मुझको तेरा सहारा सदा चाहिये

यहाँ खुशियों हैं कम और ज्यादा है गम।
जहाँ देखो वहीं है, भरम ही भरम॥

मेरी महफिल में शमां जले ना जले।
मेरे दिल में उजाला तेरा चाहिये॥

आसरा इस जहाँ का मिले ना मिले।
मुझको तेरा सहारा सदा चाहिये॥


कभी वैराग है, कभी अनुराग है।
यहाँ बदले है माली, वही बाग़ है॥

मेरी चाहत की दुनिया बसे ना बसे।
मेरे दिल में बसेरा सदा चाहिये॥

आसरा इस जहाँ का मिले ना मिले।
मुझको तेरा सहारा सदा चाहिये॥

मेरे दिल में उजाला तेरा चाहिये – मुझको तेरा सहारा सदा चाहिये

मेरी धीमी है चाल और पथ है विशाल।
हर कदम पर मुसीबत, अब तू ही संभाल॥

पैर मेरे थके हैं, चले ना चले।
मेरे दिल में इशारा तेरा चाहिये॥

आसरा इस जहाँ का मिले ना मिले।
मुझको तेरा सहारा सदा चाहिये॥


चाँद तारे फलक पर (गगन में) दिखे ना दिखे।
मुझको तेरा नजारा सदा चाहिये॥

आसरा इस जहाँ का मिले ना मिले।
मुझको तेरा सहारा सदा चाहिये॥

Aasra Is Jahan Ka Mile Na Mile
Aasra Is Jahan Ka Mile Na Mile

आसरा इस जहाँ का मिले ना मिले।
मुझको तेरा सहारा सदा चाहिये॥


(For download – Prayer Song Download 3)

_

Krishna Bhajans

_
_

सच्चा भक्त और ईश्वर भक्ति

सच्चे भक्त का एक ही धर्म रहता है, जिससे वह सारे बंधनों से मुक्त हो जाता है और सारे दुखों से मुक्ति पा लेता है। वह परम धर्म है – भगवान का हो जाना।

भगवानकी ही भक्ति करना, भगवान की ही पूजा करना, भगवान को ही नमस्कार करना, और भगवान के ही कर्म करना।

जब वह ऐसा करता है तब भगवान के अतिरिक्त न कहीं आसक्ति रहती है और ना ममता। सारा अहंकार सब जगह से निकलकर एक ही जगह केंद्रित हो जाता है कि वह भगवान का है। वह नित्य निरंतर सदा के लिए भगवान का हो जाता है।

आसरा इस जहाँ का मिले ना मिले।
मुझको तेरा सहारा सदा चाहिये॥

_

Aasra Is Jahan Ka Mile Na Mile

Rameshbhai Oza

_

Aasra Is Jahan Ka Mile Na Mile


Aasra is jahan ka mile na mile,
mujhko tera sahara sada chaahiye.

Aasra is jahan ka mile na mile,
mujhako tera sahaara sada chaahiye.

Chand taare gagan mein dikhe na dikhe,
mujhko tera najaara sada chaahiye.

Aasra is jahan ka mile na mile,
mujhako tera sahara sada chaahiye.

Yahaan khushiyon hain kam aur jyaada hai gam,
Jahaan dekho vahin hai, bharam hi bharam.

Meri mahfil mein shammaa jale na jale,
mere dil mein ujaala tera chaahiye.

Aasra is jahan ka mile na mile,
mujhko tera sahaara sada chaahiye.

Kabhi vairaag hai, kabhi anuraag hai,
yahaa badale hai maali, vahi baag hai.

Meri chaahat ki duniya base na base,
mere dil mein basera sada chaahiye.

Aasra is jahan ka mile na mile,
mujhako tera sahaara sada chaahiye.

Meri dhimi hai chaal aur path hai vishaal.
Har kadam par musibat, ab tu hi sambhaal.

Pair mere thake hain, chale na chale,
mere dil mein ishaara tera chaahiye.

Aasra is jahan ka mile na mile
mujhko tera sahaara sada chaahiye.

Chaand taare phalak par (gagan me) dikhe na dikhe,
mujhako tera najaara sada chaahiye.

Aasra is jahan ka mile na mile,
mujhako tera sahaara sada chaahiye.

Aasra Is Jahan Ka Mile Na Mile
Aasra Is Jahan Ka Mile Na Mile

Aasra is jahan ka mile na mile,
mujhako tera sahaara sada chaahiye.

_

Krishna Bhajans

_