Anmol Tera Jeevan Yunhi Ganwa Raha Hai

Krishna Mantra Jaap (श्री कृष्ण मंत्र जाप)

ॐ नमो भगवते वासुदेवाय हरे राम – हरे कृष्ण श्री कृष्ण शरणम ममः
हरे कृष्ण हरे कृष्ण – कृष्ण कृष्ण हरे हरे – हरे राम हरे राम – राम राम हरे हरे
Krishna Bhajan
_

अनमोल तेरा जीवन यूँही गँवा रहा है


अनमोल तेरा जीवन,
यूँही गँवा रहा है
किस और तेरी मंजिल,
किस और जा रहा है

सपनो की नीद में ही,
यह रात ढल न जाये
पल भर का क्या भरोसा,
कही जान निकल न जाये

गिनती की है ये साँसे,
यूँही लुटा रहा है
किस और तेरी मंजिल,
किस और जा रहा है

अनमोल तेरा जीवन,
यूँही गँवा रहा है
किस और तेरी मंजिल,
किस और जा रहा है

जायेगा जब यहाँ से,
कोई न साथ देगा
इस हाथ जो दिया है,
उस हाथ जा के लेगा

कर्मो की है ये खेती,
फल आज पा रहा है
किस और तेरी मंजिल,
किस और जा रहा है

अनमोल तेरा जीवन,
यूँही गँवा रहा है
किस और तेरी मंजिल,
किस और जा रहा है

ममता के बन्धनों ने,
क्यों आज तुझको घेरा
सुख में सभी है साथी,
कोई नहीं है तेरा

तेरा ही मोह तुझको
कब से रुला रहा है
किस और तेरी मंजिल,
किस और जा रहा है

अनमोल तेरा जीवन,
यूँही गँवा रहा है
किस और तेरी मंजिल,
किस और जा रहा है

जब तक है भेद मन में,
भगवान से जुदा है
खोलो जो दिल का दर्पण,
इस घर में ही खुदा है

सुख रूप हो के भी,
दुःख आज पा रहा है
किस और तेरी मंजिल,
किस और जा रहा है

अनमोल तेरा जीवन,
यूँही गँवा रहा है
किस और तेरी मंजिल,
किस और जा रहा है

Anmol Tera Jeevan Yunhi Ganwa Raha Hai
Anmol Tera Jeevan Yunhi Ganwa Raha Hai

अनमोल तेरा जीवन,
यूँही गँवा रहा है
किस और तेरी मंजिल,
किस और जा रहा है

_

Bhajan and Prayers

_
_

Anmol Tera Jeevan Yunhi Ganwa Raha Hai

SHRI PREM BHUSHAN JI

_

Anmol Tera Jeevan Yunhi Ganwa Raha Hai


Anmol tera jivan,
yunhi ganwa raha hai
Kis aur teri manjil,
kis aur ja raha hai

Anmol tera jivan,
yunhi ganwa raha hai
Kis aur teri manjil,
kis aur ja raha hai

Sapano ki nind mein hi,
yah raat dhal na jaaye
Pal bhar ka kya bharosa,
Kahi jaan nikal na jaaye

Ginti ki hai saanse,
yunhi luta raha hai
Kis aur teri manjil,
kis aur ja raha hai

Anmol tera jivan,
yunhi ganwa raha hai
Kis aur teri manjil,
kis aur ja raha hai

Jaayega jab yahaan se,
koi na saath dega
Is haath jo diya hai,
Us haath ja ke lega

Karmo ki hai ye kheti,
phal aaj pa raha hai
Kis aur teri manjil,
kis aur ja raha hai

Anmol tera jivan,
yunhi ganwa raha hai
Kis aur teri manjil,
kis aur ja raha hai

Mamata ke bandhanon ne
kyon aaj tujhako ghera
Sukh mein sabhi hai saathi,
koi nahin hai tera

Tera hi moh tujhko,
kab se rula raha hai
Kis aur teri manjil,
kis aur ja raha hai

Anmol tera jivan,
yunhi ganwa raha hai
Kis aur teri manjil,
kis aur ja raha hai

Jab tak hai bhed man mein,
Bhagwaan se juda hai
Kholo jo dil ka darpan,
is ghar mein hi khuda hai

Sukh roop ho ke bhi,
duhkh aaj pa raha hai
Kis aur teri manjil,
kis aur ja raha hai

Anmol tera jivan,
yunhi ganwa raha hai
Kis aur teri manjil,
kis aur ja raha hai

Anmol Tera Jeevan Yunhi Ganwa Raha Hai
Anmol Tera Jeevan Yunhi Ganwa Raha Hai

Anmol tera jivan,
yunhi ganwa raha hai
Kis aur teri manjil,
kis aur ja raha hai

_

Bhajan and Prayers

_