Jai Jai Harihar Gauri Shankar – Hindi

जय जय हरिहर गौरी शंकर,
ईश्वर दीन दयाला है।
राम नाम में समय बिताना,
सच्चा धर्म हमारा है।

_

Jai Jai Harihar Gauri Shankar


जय जय हरिहर गौरी शंकर,
ईश्वर दीन दयाला है।
राम नाम में समय बिताना,
सच्चा धर्म हमारा है।

हरि भजन में चित्त लगाना,
सच्चा धर्म हमारा है॥


सुबह शाम दिन रात जपे,
तब ही कल्याण हमारा है।
कैलाशी काशी के वासी,
भोला डमरूवाला है॥

हरि भजन में चित्त लगाना,
सच्चा धर्म हमारा है।

जय जय हरिहर गौरी शंकर,
ईश्वर दीन दयाला है।
राम नाम में समय बिताना,
सच्चा धर्म हमारा है॥


जटा जूट में गंग बिराजे,
शीश चन्द्रमा न्यारा है।
गले बीच लिपटे है विषधर,
कानन कुण्डलवाला है॥

हरि भजन में चित्त लगाना,
सच्चा धर्म हमारा है।

जय जय हरिहर गौरी शंकर,
ईश्वर दीन दयाला है।
राम नाम में समय बिताना,
सच्चा धर्म हमारा है॥


नाव पड़ी मझधार बीच में,
दीखता नही किनारा है।
भोलानाथ महेश्वर शम्भु,
पार लगानेवाला है॥

हरि भजन में चित्त लगाना,
सच्चा धर्म हमारा है।

जय जय हरिहर गौरी शंकर,
ईश्वर दीन दयाला है।
राम नाम में समय बिताना,
सच्चा धर्म हमारा है॥


अलख निरंजन भव दुख भंजन,
भक्तों का प्रतिपाला है।
जो ध्यावे इच्छा फल पावे,
पल में करत निहाला है॥

हरि भजन में चित्त लगाना,
सच्चा धर्म हमारा है।

जय जय हरिहर गौरी शंकर,
ईश्वर दीन दयाला है।
राम नाम में समय बिताना,
सच्चा धर्म हमारा है॥


नैन खोलकर देख रे मनवा,
जग में कौन तुम्हारा है।
भजन किये भव बन्धन टूटे,
छूटै सब संसारा है॥

हरि भजन में चित्त लगाना,
सच्चा धर्म हमारा है।


जय जय हरिहर गौरी शंकर,
ईश्वर दीन दयाला है।
राम नाम में समय बिताना,
सच्चा धर्म हमारा है॥


For more bhajans from category, Click -

-
-

_

Shiv Bhajans

  • शिव तांडव स्तोत्र
    जटाटवीगलज्जल प्रवाह पावितस्थले
    गलेऽवलम्ब्य लम्बितां भुजङ्ग तुङ्ग मालिकाम्।
    डमड्डमड्डमड्डमन्निनाद वड्डमर्वयं
    चकार चण्डताण्डवं तनोतु नः शिवः शिवम्॥
  • Updated - श्री बद्रीनाथ स्तुति
    पवन मंद सुगंध शीतल,
    हेम मंदिर शोभितम्।
    निकट गंगा बहती निर्मल,
    श्री बद्रीनाथ विश्व्म्भरम्॥
  • शिवजी के १०८ नाम - अर्थ सहित
    शिव - कल्याण स्वरूप
    शंकर - सबका कल्याण करने वाले
    शम्भू - आनंद स्वरूप वाले
    महादेव - देवों के भी देव
    मृत्युंजय - मृत्यु को जीतने वाले
  • हे त्रिपुरारी, हे गंगाधारी
    हे त्रिपुरारी, हे गंगाधारी, भोले शंकर
    भसम रमाय, भक्त सहाए, हे कैलाश के वासी
    दिखा दो छवि अविनाशी
    है तेरे भक्त अभिलाषी
    अंखिया दर्शन की प्यासी
  • ऐसी सुबह ना आए
    ऐसी सुबह ना आए, आए ना ऐसी शाम।
    जिस दिन जुबा पे मेरी आए ना शिव का नाम॥
    मन मंदिर में वास है तेरा, तेरी छवि बसाई।
    प्यासी आत्मा बनके जोगन, तेरी शरण में आई।
    ॐ नमः शिवाय, ॐ नमः शिवाय
  • ज्योतिर्लिंग स्तोत्रम - अर्थ सहित
    सौराष्ट्रे सोमनाथं च
    श्रीशैले मल्लिकार्जुनम्।
    उज्जयिन्यां महाकालं
    ओम्कारममलेश्वरम्॥
  • श्री शिव चालीसा
    जय गिरिजा पति दीन दयाला।
    सदा करत सन्तन प्रतिपाला॥
    भाल चन्द्रमा सोहत नीके।
    कानन कुण्डल नागफनी के॥
  • हे शिव शंकर नटराजा
    हे शिव शंकर नटराजा,
    मैं तो जनम-जनम का दास तेरा
    निसदिन मैं नाम जपू तेरा
    शिव शिव, शिव शिव, गुंजत मन मेंरा
  • मिलता है सच्चा सुख
    मिलता है सच्चा सुख केवल,
    शिवजी तुम्हारे चरणों में।
    यह बिनती है पलछिन छिनकी,
    रहे ध्यान तुम्हारे चरणों में॥
_

Bhajan List

Shiv Bhajans – Hindi
Shiv Stotra
Bhajan, Aarti, Chalisa, Dohe – Hindi List

_
_

Shiv Bhajan Lyrics

_
_

Bhajans and Aarti

_
_

Bhakti Geet Lyrics

_