Guru Mahima – Kabir Dohe with Meaning


Kabir Dohe Bhajan

गुरु महिमा – संत कबीर के दोहे अर्थसहित

गुरु गोविंद दोऊँ खड़े,
काके लागूं पांय।
बलिहारी गुरु आपने,
गोविंद दियो बताय॥
  • गुरु गोविंद दोऊ खड़े – गुरु और गोविन्द (भगवान) दोनों एक साथ खड़े है
  • काके लागूं पाँय – पहले किसके चरण-स्पर्श करें (प्रणाम करे)?
  • बलिहारी गुरु – कबीरदासजी कहते है, पहले गुरु को प्रणाम करूँगा
  • आपने गोविन्द दियो बताय – क्योंकि, आपने (गुरु ने) गोविंद तक पहुचने का मार्ग बताया है।
बलिहारी गुरु आपने, गोविंद दियो बताय
गुरु आज्ञा मानै नहीं,
चलै अटपटी चाल।
लोक वेद दोनों गए,
आए सिर पर काल॥
  • गुरु आज्ञा मानै नहीं – जो मनुष्य गुरु की आज्ञा नहीं मानता है,
  • चलै अटपटी चाल – और गलत मार्ग पर चलता है
  • लोक वेद दोनों गए – वह लोक (दुनिया) और वेद (धर्म) दोनों से ही पतित हो जाता है
  • आए सिर पर काल – और दुःख और कष्टों से घिरा रहता है
गुरु नारायन रूप है, गुरु ज्ञान को घाट।
गुरु बिन ज्ञान न उपजै,
गुरु बिन मिलै न मोष।
गुरु बिन लखै न सत्य को,
गुरु बिन मिटे न दोष॥
  • गुरु बिन ज्ञान न उपजै – गुरु के बिना ज्ञान मिलना कठिन है
  • गुरु बिन मिलै न मोष – गुरु के बिना मोक्ष नहीं
  • गुरु बिन लखै न सत्य को – गुरु के बिना सत्य को पह्चानना असंभव है
  • गुरु बिन मिटे न दोष – गुरु बिना दोष का (मन के विकारों का) मिटना मुश्किल है
गुरु बिन ज्ञान न उपजै
गुरु कुम्हार शिष कुंभ है,
गढ़ि गढ़ि काढ़े खोट।
अंतर हाथ सहार दै,
बाहर बाहै चोट॥
  • गुरु कुम्हार – गुरु कुम्हार के समान है
  • शिष कुंभ है – शिष्य मिट्टी के घडे के समान है
  • गढ़ि गढ़ि काढ़े खोट – गुरु कठोर अनुशासन किन्तु मन में प्रेम भावना रखते हुए शिष्य के खोट को (मन के विकारों को) दूर करते है
  • अंतर हाथ सहार दै – जैसे कुम्हार घड़े के भीतर से हाथ का सहारा देता है
  • बाहर बाहै चोट – और बाहर चोट मारकर घड़े को सुन्दर आकार देता है
गुरु कुम्हार शिष कुंभ है

Sant Kabir Dohe – 1


Sant Kabir Dohe – 2

Kabir Dohe – Guru ki Mahima

गुरु पारस को अन्तरो,
जानत हैं सब संत।
वह लोहा कंचन करे,
ये करि लेय महंत॥
  • गुरु पारस को अन्तरो – गुरु और पारस पत्थर के अंतर को
  • जानत हैं सब संत – सभी संत (विद्वान, ज्ञानीजन) भलीभाँति जानते हैं।
  • वह लोहा कंचन करे – पारस पत्थर सिर्फ लोहे को सोना बनाता है
  • ये करि लेय महंत – किन्तु गुरु शिष्य को ज्ञान की शिक्षा देकर अपने समान गुनी और महान बना लेते है।

Kabirdas ke Dohe – Guru Mahima

गुरु समान दाता नहीं,
याचक सीष समान।
तीन लोक की सम्पदा,
सो गुरु दिन्ही दान॥
  • गुरु समान दाता नहीं – गुरु के समान कोई दाता (दानी) नहीं है
  • याचक सीष समान – शिष्य के समान कोई याचक (माँगनेवाला) नहीं है
  • तीन लोक की सम्पदा – ज्ञान रूपी अनमोल संपत्ति, जो तीनो लोको की संपत्ति से भी बढ़कर है
  • सो गुरु दिन्ही दान – शिष्य के मांगने से गुरु उसे यह (ज्ञान रूपी सम्पदा) दान में दे देते है
गुरु समान दाता नहीं
गुरु शरणगति छाडि के,
करै भरोसा और।
सुख संपती को कह चली,
नहीं नरक में ठौर॥
  • गुरु शरणगति छाडि के – जो व्यक्ति सतगुरु की शरण छोड़कर और उनके बत्ताए मार्ग पर न चलकर
  • करै भरोसा और – अन्य बातो में विश्वास करता है
  • सुख संपती को कह चली – उसे जीवन में दुखो का सामना करना पड़ता है और
  • नहीं नरक में ठौर – उसे नरक में भी जगह नहीं मिलती
कबीर माया मोहिनी,
जैसी मीठी खांड।
सतगुरु की किरपा भई,
नहीं तौ करती भांड॥
  • कबीर माया मोहिनी – माया (संसार का आकर्षण) बहुत ही मोहिनी है, लुभावनी है
  • जैसी मीठी खांड – जैसे मीठी शक्कर या मीठी मिसरी
  • सतगुरु की किरपा भई – सतगुरु की कृपा हो गयी (इसलिए माया के इस मोहिनी रूप से बच गया)
  • नहीं तौ करती भांड – नहीं तो यह मुझे भांड बना देती।
  • (भांड – विदूषक, मसख़रा, गंवार, उजड्ड)
  • माया ही मनुष्य को संसार के जंजाल में उलझाए रखती है। संसार के मोहजाल में फंसकर अज्ञानी मनुष्य मन में अहंकार, इच्छा, राग और द्वेष के विकारों को उत्पन्न करता रहता है।
  • विकारों से भरा मन, माया के प्रभाव से उपर नहीं उठ सकता है और जन्म-मृत्यु के चक्र में फंसा रहता है।
  • कबीरदासजी कहते है, सतगुरु की कृपा से मनुष्य माया के इस मोहजाल से छूट सकता है।
यह तन विष की बेलरी,
गुरु अमृत की खान।
सीस दिये जो गुरु मिलै,
तो भी सस्ता जान॥
  • यह तन विष की बेलरी – यह शरीर सांसारिक विषयो की बेल है।
  • गुरु अमृत की खान – सतगुरु विषय और विकारों से रहित है इसलिए वे अमृत की खान है
  • मन के विकार (अहंकार, आसक्ति, द्वेष आदि) विष के समान होते है। इसलिए शरीर जैसे विष की बेल है।
  • सीस दिये जो गुर मिलै – ऐसे सतगुरु यदि शीश (सर्वस्व) अर्पण करने पर भी मिल जाए
  • तो भी सस्ता जान – तो भी यह सौदा सस्ता ही समझना चाहिए।
  • अपना सर्वस्व समर्पित करने पर भी ऐसे सतगुरु से भेंट हो जाए, जो विषय विकारों से मुक्त है। तो भी यह सौदा सस्ता ही समझना चाहिए। क्योंकि, गुरु से ही हमें ज्ञान रूपी अनमोल संपत्ति मिल सकती है, जो तीनो लोको की संपत्ति से भी बढ़कर है।
सतगुरू की महिमा अनंत,
अनंत किया उपकार।
लोचन अनंत उघाडिया,
अनंत दिखावणहार॥
  • सतगुरु महिमा अनंत है – सतगुरु की महिमा अनंत हैं
  • अनंत किया उपकार – उन्होंने मुझ पर अनंत उपकार किये है
  • लोचन अनंत उघारिया – उन्होंने मेरे ज्ञान के चक्षु (अनन्त लोचन) खोल दिए
  • अनंत दिखावन हार – और मुझे अनंत (ईश्वर) के दर्शन करा दिए।
  • ज्ञान चक्षु खुलने पर ही मनुष्य को इश्वर के दर्शन हो सकते है। मनुष्य आंखों से नहीं परन्तु भीतर के ज्ञान के चक्षु से ही निराकार परमात्मा को देख सकता है।
सब धरती कागद करूँ,
लिखनी सब बनराय।
सात समुद्र की मसि करूँ,
गुरु गुण लिखा न जाय॥
  • सब धरती कागद करूं – सारी धरती को कागज बना लिया जाए
  • लिखनी सब बनराय – सब वनों की (जंगलो की) लकडियो को कलम बना ली जाए
  • सात समुद्र का मसि करूं – सात समुद्रों को स्याही बना ली जाए
  • गुरु गुण लिखा न जाय – तो भी गुरु के गुण लिखे नहीं जा सकते (गुरु की महिमा का वर्णन नहीं किया जा सकता)। क्योंकि, गुरु की महिमा अपरंपार है।

Sant Kabir Dohe – Guru Mahima

गुरु सों ज्ञान जु लीजिए,
सीस दीजिए दान।
बहुतक भोंदू बह गए,
राखि जीव अभिमान॥
  • गुरु सों ज्ञान जु लीजिए – गुरु से ज्ञान पाने के लिए
  • सीस दीजिए दान – तन और मन पूर्ण श्रद्धा से गुरु के चरणों में समर्पित कर दो।
  • राखि जीव अभिमान – जो अपने तन, मन और धन का अभिमान नहीं छोड़ पाते है
  • बहुतक भोंदु बहि गये – ऐसे कितने ही मूर्ख (भोंदु) और अभिमानी लोग संसार के माया के प्रवाह में बह जाते है। वे संसार के माया जाल में उलझ कर रह जाते है और उद्धार से वंचित रह जाते है।
गुरु मूरति गति चंद्रमा,
सेवक नैन चकोर।
आठ पहर निरखत रहे,
गुरु मूरति की ओर॥
  • गुरु मूरति गति चंद्रमा – गुरु की मूर्ति जैसे चन्द्रमा और
  • सेवक नैन चकोर – शिष्य के नेत्र जैसे चकोर पक्षी। (चकोर पक्षी चन्द्रमा को निरंतर निहारता रहता है, वैसे ही हमें)
  • गुरु मूरति की ओर – गुरु ध्यान में और गुरु भक्ति में
  • आठ पहर निरखत रहे – आठो पहर रत रहना चाहिए।
    (निरखत, निरखना – ध्यान से देखना)
कबीर ते नर अन्ध हैं,
गुरु को कहते और।
हरि के रुठे ठौर है,
गुरु रुठे नहिं ठौर॥
  • कबीर ते नर अन्ध हैं – संत कबीर कहते है की वे मनुष्य नेत्रहीन (अन्ध) के समान है
  • गुरु को कहते और – जो गुरु के महत्व को नहीं जानते
  • हरि के रुठे ठौर है – भगवान के रूठने पर मनुष्य को स्थान (ठौर) मिल सकता है
  • गुरु रुठे नहिं ठौर – लेकिन, गुरु के रूठने पर कही स्थान नहीं मिल सकता

आछे दिन पाछे गए,
गुरु सों किया न हेत।
अब पछतावा क्या करै,
चिड़ियाँ चुग गईं खेत॥
  • आछे दिन पाछे गये – अच्छे दिन बीत गए
    • मनुष्य सुख के दिन सिर्फ मौज मस्ती में बिता देता है
  • गुरु सों किया न हेत – गुरु की भक्ति नहीं की, गुरु के वचन नहीं सुने
  • अब पछितावा क्या करे – अब पछताने से क्या होगा
  • चिड़िया चुग गई खेत – जब चिड़ियाँ खेत चुग गई (जब अवसर चला गया)

Satguru Bhajans

Kabir Dohe and Bhajans

Kabirdas ke Dohe – Guru Mahima

गुरु मुरति आगे खडी,
दुतिया भेद कछु नाहि।
उन्ही कूं परनाम करि,
सकल तिमिर मिटी जाहिं॥


गुरु की आज्ञा आवै,
गुरु की आज्ञा जाय।
कहैं कबीर सो संत हैं,
आवागमन नशाय॥


भक्ति पदारथ तब मिलै,
जब गुरु होय सहाय।
प्रेम प्रीति की भक्ति जो,
पूरण भाग मिलाय॥


गुरु को सिर राखिये,
चलिये आज्ञा माहिं।
कहैं कबीर ता दास को,
तीन लोक भय नहिं॥


गुरुमुख गुरु चितवत रहे,
जैसे मणिहिं भुवंग।
कहैं कबीर बिसरें नहीं,
यह गुरुमुख को अंग॥


कबीर ते नर अंध है,
गुरु को कहते और।
हरि के रूठे ठौर है,
गुरु रूठे नहिं ठौर॥


भक्ति-भक्ति सब कोई कहै,
भक्ति न जाने भेद।
पूरण भक्ति जब मिलै,
कृपा करे गुरुदेव॥


गुरु बिन माला फेरते,
गुरु बिन देते दान।
गुरु बिन सब निष्फल गया,
पूछौ वेद पुरान॥


कबीर गुरु की भक्ति बिन,
धिक जीवन संसार।
धुवाँ का सा धौरहरा,
बिनसत लगै न बार॥


कबीर गुरु की भक्ति करु,
तज निषय रस चौंज।
बार-बार नहिं पाइए,
मानुष जनम की मौज॥


काम क्रोध तृष्णा तजै,
तजै मान अपमान।
सतगुरु दाया जाहि पर,
जम सिर मरदे मान॥


कबीर गुरु के देश में,
बसि जानै जो कोय।
कागा ते हंसा बनै,
जाति वरन कुल खोय॥


आछे दिन पाछे गए,
गुरु सों किया न हेत।
अब पछतावा क्या करै,
चिड़ियाँ चुग गईं खेत॥


अमृत पीवै ते जना,
सतगुरु लागा कान।
वस्तु अगोचर मिलि गई,
मन नहिं आवा आन॥


बलिहारी गुरु आपनो,
घड़ी-घड़ी सौ सौ बार।
मानुष से देवत किया,
करत न लागी बार॥


गुरु आज्ञा लै आवही,
गुरु आज्ञा लै जाय।
कहै कबीर सो सन्त प्रिय,
बहु विधि अमृत पाय॥


भूले थे संसार में,
माया के साँग आय।
सतगुरु राह बताइया,
फेरि मिलै तिहि जाय॥


बिना सीस का मिरग है,
चहूँ दिस चरने जाय।
बांधि लाओ गुरुज्ञान सूं,
राखो तत्व लगाय॥


गुरु नारायन रूप है,
गुरु ज्ञान को घाट।
सतगुरु बचन प्रताप सों,
मन के मिटे उचाट॥


गुरु समरथ सिर पर खड़े,
कहा कमी तोहि दास।
रिद्धि सिद्धि सेवा करै,
मुक्ति न छोड़े पास॥

Kabir Bhajan and Dohe

Sant Kabir ke Dohe – Sumiran + Meaning


कबीर के दोहे – सुमिरन + अर्थसहित

Sumiran – Kabir ke Dohe – (Arth sahit)


दु:ख में सुमिरन सब करै,
सुख में करै न कोय।
जो सुख में सुमिरन करै,
तो दु:ख काहे को होय॥

अर्थ (Meaning in Hindi):

  • दु:ख में सुमिरन सब करै – आमतौर पर मनुष्य ईश्वर को दुःख में याद करता है।
  • सुख में करै न कोय – सुख में ईश्वर को भूल जाते है
  • जो सुख में सुमिरन करै – यदि सुख में भी इश्वर को याद करे
  • तो दु:ख काहे को होय – तो दुःख निकट आएगा ही नहीं

काह भरोसा देह का,
बिनसी जाय छिन मांहि।
सांस सांस सुमिरन करो
और जतन कछु नाहिं॥

अर्थ (Meaning in Hindi):

  • कहा भरोसा देह का – इस शरीर का क्या भरोसा है
  • बिनसी जाय छिन मांहि – किसी भी क्षण यह (शरीर) हमसे छीन सकता है (1), इसलिए
  • सांस सांस सुमिरन करो – हर साँस में ईश्वर को याद करो
  • और जतन कछु नाहिं – इसके अलावा मुक्ति का कोई दूसरा मार्ग नहीं है

कबीर सुमिरन सार है,
और सकल जंजाल।
आदि अंत मधि सोधिया,
दूजा देखा काल॥

अर्थ (Meaning in Hindi):

  • कबीर सुमिरन सार है – कबीरदासजी कहते हैं कि सुमिरन (ईश्वर का ध्यान) ही मुख्य है,
  • और सकल जंजाल – बाकी सब मोह माया का जंजाल है
  • आदि अंत मधि सोधिया – शुरू में, अंत में और मध्य में जांच परखकर देखा है,
  • दूजा देखा काल – सुमिरन के अलावा बाकी सब काल (दुःख) है
    (सार – essence – सारांश, तत्त्व, मूलतत्त्व)

राम नाम सुमिरन करै,
सतगुरु पद निज ध्यान।
आतम पूजा जीव दया,
लहै सो मुक्ति अमान॥

अर्थ (Meaning in Hindi):

  • राम नाम सुमिरन करै – जो मनुष्य राम नाम का सुमिरन करता है (इश्वर को याद करता है)
  • सतगुरु पद निज ध्यान – सतगुरु के चरणों का निरंतर ध्यान करता है
  • आतम पूजा – अंतर्मन से ईश्वर को पूजता है
  • जीव दया – सभी जीवो पर दया करता है
  • लहै सो मुक्ति अमान – वह इस संसार से मुक्ति (मोक्ष) पाता है।

सुमिरण मारग सहज का,
सतगुरु दिया बताय।
सांस सांस सुमिरण करूं,
इक दिन मिलसी आय॥

अर्थ (Meaning in Hindi):

  • सुमिरण मारग सहज का – सुमिरण का मार्ग बहुत ही सहज और सरल है
  • सतगुरु दिया बताय – जो मुझे सतगुरु ने बता दिया है
  • सांस सांस सुमिरण करूं – अब मै हर साँस में प्रभु को याद करता हूँ
  • इक दिन मिलसी आय – एक दिन निश्चित ही मुझे ईश्वर के दर्शन होंगे

सुमिरण की सुधि यौ करो,
जैसे कामी काम।
एक पल बिसरै नहीं,
निश दिन आठौ जाम॥

अर्थ (Meaning in Hindi):

  • सुमिरण की सुधि यौ करो – ईश्वर को याद इस प्रकार करो
  • जैसे कामी काम – जैसे कामी पुरुष हर समय विषयो के बारे में सोचता है
  • एक पल बिसरै नहीं – एक पल भी व्यर्थ मत गवाओ
  • निश दिन आठौ जाम – रात, दिन, आठों पहर प्रभु परमेश्वर को याद करो

बिना साँच सुमिरन नहीं,
बिन भेदी भक्ति न सोय।
पारस में परदा रहा,
कस लोहा कंचन होय॥

अर्थ (Meaning in Hindi):

  • बिना सांच सुमिरन नहीं – बिना ज्ञान के प्रभु का स्मरण (सुमिरन) नहीं हो सकता और
  • बिन भेदी भक्ति न सोय – भक्ति का भेद जाने बिना सच्ची भक्ति नहीं हो सकती
  • पारस में परदा रहा – जैसे पारस में थोडा सा भी खोट हो
  • कस लोहा कंचन होय – तो वह लोहे को सोना नहीं बना सकता.
    • यदि मन में विकारों का खोट हो तो मनुष्य सच्चे मन से सुमिरन नहीं कर सकता

दर्शन को तो साधु हैं,
सुमिरन को गुरु नाम।
तरने को आधीनता,
डूबन को अभिमान॥

अर्थ (Meaning in Hindi):

  • दर्शन को तो साधु हैं – दर्शन के लिए सन्तों का दर्शन श्रेष्ठ हैं और
  • सुमिरन को गुरु नाम – सुमिरन के लिए (चिन्तन के लिए) गुरु व्दारा बताये गये नाम एवं गुरु के वचन उत्तम है
  • तरने को आधीनता – भवसागर (संसार रूपी भव) से पार उतरने के लिए आधीनता अर्थात विनम्र होना अति आवश्यक है
  • डूबन को अभिमान – लेकिन डूबने के लिए तो अभिमान, अहंकार ही पर्याप्त है (अर्थात अहंकार नहीं करना चाहिए)

लूट सके तो लूट ले,
राम नाम की लूट।
पाछे फिर पछ्ताओगे,
प्राण जाहिं जब छूट॥

अर्थ (Meaning in Hindi):

  • लूट सके तो लूट ले – अगर लूट सको तो लूट लो
  • राम नाम की लूट – अभी राम नाम की लूट है,
    • अभी समय है, तुम भगवान का जितना नाम लेना चाहते हो ले लो
  • पाछे फिर पछ्ताओगे – यदि नहीं लुटे तो बाद में पछताना पड़ेगा
  • प्राण जाहिं जब छूट – जब प्राण छुट जायेंगे

आदि नाम पारस अहै,
मन है मैला लोह।
परसत ही कंचन भया,
छूटा बंधन मोह॥

अर्थ (Meaning in Hindi):

  • आदि नाम पारस अहै – ईश्वर का स्मरण पारस के समान है
  • मन है मैला लोह – विकारों से भरा मन (मैला मन) लोहे के समान है
  • परसत ही कंचन भया – पारस के संपर्क से लोहा कंचन (सोना) बन जाता है
    • ईश्वर के नाम से मन शुद्ध हो जाता है
  • छूटा बंधन मोह – और मनुष्य मोह माया के बन्धनों से छूट जाता है

कबीरा सोया क्या करे,
उठि न भजे भगवान।
जम जब घर ले जायेंगे,
पड़ी रहेगी म्यान॥


पाँच पहर धन्धे गया,
तीन पहर गया सोय।
एक पहर हरि नाम बिन,
मुक्ति कैसे होय॥


नींद निशानी मौत की,
उठ कबीरा जाग।
और रसायन छांड़ि के,
नाम रसायन लाग॥


रात गंवाई सोय के,
दिवस गंवाया खाय।
हीरा जन्म अमोल था,
कोड़ी बदले जाय॥

Sant Kabir Bhajans and Dohe

Sant Kabir ke Dohe – Sumiran

BSINGER

VIDURL

Sant Kabir ke Dohe – Sumiran

Dukh mein sumiran sab karai,
sukh mein karai na koy.
Jo sukh mein sumiran karai,
to dukh kaahe ko hoy.


Kaah bharosa deh ka,
binasi jaay chhin maanhi.
Saans saans sumiran karo
Aur jatan kachhu naahin.


Kabir sumiran saar hai,
aur sakal janjaal.
Aadi ant madhi sodhiya,
dooja dekha kaal.


Raam naam sumiran karai,
satguru pad nij dhyaan.
Aatam pooja jiv daya,
lahai so mukti amaan.


Sumiran maarag sahaj ka,
satguru diya bataay.
Saans saans sumiran karoon,
ik din milasi aay.


Sumiran ki sudhi yau karo,
jaise kaami kaam.
Ek pal bisarai nahin,
nish din aathau yaam.


Bina saanch sumiran nahi,
bin bhedi bhakti na soy.
Paaras mein pardaa rahaa,
kas loha kanchan hoy.


Darshan ko to saadhu hain,
sumiran ko guru naam.
Tarne ko aadhinta,
dooban ko abhimaan.


Loot sake to loot le,
Ram naam ki loot.
Paachhe phir pachhtaoge,
praan jaahi jab chhoot.


Aadi naam paaras ahai,
man hai maila loh.
Parasat hi kanchan bhaya,
chhoota bandhan moh.


Kabira soya kya kare,
uthi na bhaje bhagavaan.
Jam jab ghar le jaayenge,
padi rahegi myaan.


Paanch pahar dhandhe gaya,
tin pahar gaya soy.
Ek pahar hari naam bin,
mukti kaise hoy.


Nind nishaani maut ki,
uth kabira jaag.
Aur rasaayan chhaandi ke,
naam rasaayan laag.


Raat ganvai soy ke,
divas ganvaaya khaay.
Hira janm amol tha,
kodi badale jaay.

Sant Kabir ke Dohe – Bhakti + Meaning in Hindi


संत कबीर के दोहे – भक्ति – अर्थ सहित

Bhakti – Kabir ke Dohe – (Arth sahit)


कामी क्रोधी लालची,
इनसे भक्ति ना होय।
भक्ति करै कोई सूरमा,
जाति बरन कुल खोय॥

अर्थ (Meaning in Hindi):

  • कामी क्रोधी लालची – कामी (विषय वासनाओ में लिप्त रहता है), क्रोधी (दुसरो से द्वेष करता है) और लालची (निरंतर संग्रह करने में व्यस्त रहता है)
  • इनते भक्ति न होय – इन लोगो से भक्ति नहीं हो सकती
  • भक्ति करै कोई सूरमा – भक्ति तो कोई पुरुषार्थी, शूरवीर ही कर सकता है, जो
  • जादि बरन कुल खोय – जाति, वर्ण, कुल और अहंकार का त्याग कर सकता है

भक्ति बिन नहिं निस्तरे,
लाख करे जो कोय।
शब्द सनेही होय रहे,
घर को पहुँचे सोय॥

अर्थ (Meaning in Hindi):

  • भक्ति बिन नहिं निस्तरे – भक्ति के बिना मुक्ति संभव नहीं है
  • लाख करे जो कोय – चाहे कोई लाख प्रयत्न कर ले
  • शब्द सनेही होय रहे – जो सतगुरु के वचनों को (शब्दों को) ध्यान से सुनता है और उनके बताये मार्ग पर चलता है
  • घर को पहुँचे सोय – वे ही अपने लक्ष्य को प्राप्त कर सकते है

भक्ति भक्ति सब कोई कहै,
भक्ति न जाने भेद।
पूरण भक्ति जब मिलै,
कृपा करे गुरुदेव॥

अर्थ (Meaning in Hindi):

  • भक्ति भक्ति सब कोई कहै – भक्ति भक्ति हर कोई कहता है (सभी सभी लोग भक्ति करना चाहते हैं), लेकिन
  • भक्ति न जाने भेद – भक्ति कैसे की जाए यह भेद नहीं जानते
  • पूरण भक्ति जब मिलै – पूर्ण भक्ति (सच्ची भक्ति) तभी हो सकती है
  • कृपा करे गुरुदेव – जब सतगुरु की कृपा होती है (1)

भक्ति जु सीढ़ी मुक्ति की,
चढ़े भक्त हरषाय।
और न कोई चढ़ि सकै,
निज मन समझो आय॥

अर्थ (Meaning in Hindi):

  • भक्ति जु सिढी मुक्ति की – भक्ति मुक्ति वह सीढी है
  • चढ़े भक्त हरषाय – जिस पर चढ़कर भक्त को अपार ख़ुशी मिलती है
  • और न कोई चढ़ी सकै – दूसरा कोई (जो मनुष्य सच्ची भक्ति नहीं कर सकता) इस पर नहीं चढ़ सकता है
  • निज मन समझो आय – यह समझ लेना चाहिए

भक्ति महल बहु ऊँच है,
दूरहि ते दरशाय।
जो कोई जन भक्ति करे,
शोभा बरनि न जाय॥


जब लग नाता जगत का,
तब लग भक्ति न होय।
नाता तोड़े हरि भजे,
भगत कहावें सोय॥


भक्ति भक्ति सब कोइ कहै,
भक्ति न जाने मेव।
पूरण भक्ति जब मिलै,
कृपा करे गुरुदेव॥


बिना साँच सुमिरन नहीं,
बिन भेदी भक्ति न सोय।
पारस में परदा रहा,
कस लोहा कंचन होय॥

अर्थ (Meaning in Hindi):

  • बिना सांच सुमिरन नहीं – बिना ज्ञान के प्रभु का स्मरण (सुमिरन) नहीं हो सकता और
  • बिन भेदी भक्ति न सोय – भक्ति का भेद जाने बिना सच्ची भक्ति नहीं हो सकती
  • पारस में परदा रहा – जैसे पारस में थोडा सा भी खोट हो
  • कस लोहा कंचन होय – तो वह लोहे को सोना नहीं बना सकता.
    • यदि मन में विकारों का खोट हो (जैसे अहंकार, आसक्ति, द्वेष), तो सच्चे मन से भक्ति नहीं हो सकती

और कर्म सब कर्म है,
भक्ति कर्म निहकर्म।
कहैं कबीर पुकारि के,
भक्ति करो तजि भर्म॥


भक्ति दुहेली गुरुन की,
नहिं कायर का काम।
सीस उतारे हाथ सों,
ताहि मिलै निज धाम॥


गुरु भक्ति अति कठिन है,
ज्यों खाड़े की धार।
बिना साँच पहुँचे नहीं,
महा कठिन व्यवहार॥


आरत है गुरु भक्ति करूँ,
सब कारज सिध होय।
करम जाल भौजाल में,
भक्त फँसे नहिं कोय॥


भाव बिना नहिं भक्ति जग,
भक्ति बिना नहीं भाव।
भक्ति भाव इक रूप है,
दोऊ एक सुभाव॥


भक्ति भाव भादौं नदी,
सबै चली घहराय।
सरिता सोई सराहिये,
जेठ मास ठहराय॥

Sant Kabir Bhajans and Dohe

Bhakti – Kabir ke Dohe

Kaami krodhi lallchi,
inase bhakti na hoy.
Bhakti karai koi soorama,
jaati baran kul khoy.


Bhakti bin nahi nistare,
laakh kare jo koy.
Shabd sanehi hoy rahe,
ghar ko pahunche soy.


Bhakti bhakti sab koi kahai,
bhakti na jaane bhed.
Pooran bhakti jab milai,
kripa kare gurudev.


Bhakti ju sidhi mukti ki,
chadhe bhakt harashaay.
Aur na koi chadhi sakai,
nij man samajho aay.


Bhakti mahal bahu oonch hai,
doorahi te darashaay.
Jo koi jan bhakti kare,
shobha barani na jaay.


Jab lag naata jagat ka,
tab lag bhakti na hoy.
Naata tode Hari bhaje,
bhagat kahaaven soy.


Bina saanch sumiran nahin,
bin bhedi bhakti na soy.
Paaras mein parada raha,
kas loha kanchan hoy.


Aur karm sab karm hai,
bhakti karm nihakarm.
Kahai Kabir pukaari ke,
bhakti karo taji bharm.


Bhakti duheli guru ki,
nahi kaayar ka kaam.
Sis utaare haath so,
taahi milai nij dhaam.


Guru bhakti ati kathin hai,
jyon khaade ki dhaar.
Bina saanch pahunche nahin,
maha kathin vyavahaar.


Aarat hai Guru bhakti karoo,
sab kaaraj sidh hoy.
Karam jaal bhaujaal mein,
bhakt phanse nahi koy.


Bhaav bina nahi bhakti jag,
bhakti bina nahi bhaav.
Bhakti bhaav ik roop hai,
dooo ek subhaav.


Bhakti bhaav bhaado nadi,
sabai chali ghaharaay.
Sarita soi saraahiye,
jeth maas thaharaay.

Sangati – Kabir Dohe – Hindi


कबीर संगत साधु की, नित प्रति कीजै जाय।
कबीर संगत साधु की, जौ की भूसी खाय।
संगत कीजै साधु की, कभी न निष्फल होय।
संगति सों सुख्या ऊपजे, कुसंगति सो दुख होय।

Sangati – Kabir Dohe


कबीर संगत साधु की,
नित प्रति कीजै जाय।
दुरमति दूर बहावसी,
देसी सुमति बताय॥

अर्थ (Doha in Hindi):

  • कबीर संगत साधु की – संत कबीर कहते हैं कि, सज्जन लोगों की संगत
  • नित प्रति कीजै जाय – प्रतिदिन करनी चाहिए,
    • ज्ञानी सज्जनों की संगत में प्रतिदिन जाना चाहिए
  • दुरमति दूर बहावसी – इससे दुर्बुद्धि (दुरमति) दूर हो जाती है
    • मन के विकार नष्ट हो जाते है और
  • देसी सुमति बताय – सदबुद्धि (सुमति) आती है

कबीर संगत साधु की,
जौ की भूसी खाय।
खीर खांड भोजन मिले,
साकट संग न जाए॥

अर्थ (Doha in Hindi):

  • कबिर संगति साधु की – कबीरदासजी कहते हैं कि, साधु की संगत में रहकर यदि
  • जो कि भूसी खाय – स्वादहीन भोजन (जौ की भूसी का भोजन) भी मिले तो भी उसे प्रेम से ग्रहण करना चाहिए
  • खीर खांड भोजन मिले – लेकिन दुष्ट के साथ यदि खीर और मिष्ठान आदि स्वादिष्ट भोजन भी मिले
  • साकत संग न जाय – तो भी उसके साथ (दुष्ट स्वभाव वाले के साथ) नहीं जाना चाहिए।

संगत कीजै साधु की,
कभी न निष्फल होय।
लोहा पारस परसते,
सो भी कंचन होय॥

अर्थ (Doha in Hindi):

  • संगत कीजै साधु की – संत कबीर कहते है की, सन्तो की संगत करना चाहिए क्योंकि वह
  • कभी न निष्फल होय – कभी निष्फल नहीं होती
    • (संतो की संगति का फल अवश्य प्राप्त होता है)
  • लोहा पारस परसते – जैसे पारस के स्पर्श से लोहा भी
  • सो भी कंचन होय – सोना बन जाता है।
    • वैसे ही संतो के वचनों को ध्यानपूर्वक सुनने और उन का पालन करने से मनुष्य के मन के विकार नष्ट हो जाते है और वह भी सज्जन बन जाता है

संगति सों सुख्या ऊपजे,
कुसंगति सो दुख होय।
कह कबीर तहँ जाइये,
साधु संग जहँ होय॥


कबीरा मन पँछी भया,
भये ते बाहर जाय।
जो जैसे संगति करै,
सो तैसा फल पाय॥


सज्जन सों सज्जन मिले,
होवे दो दो बात।
गहदा सो गहदा मिले,
खावे दो दो लात॥


मन दिया कहुँ और ही,
तन साधुन के संग।
कहैं कबीर कोरी गजी,
कैसे लागै रंग॥


साधु संग गुरु भक्ति अरू,
बढ़त बढ़त बढ़ि जाय।
ओछी संगत खर शब्द रू,
घटत-घटत घटि जाय॥


साखी शब्द बहुतै सुना,
मिटा न मन का दाग।
संगति सो सुधरा नहीं,
ताका बड़ा अभाग॥


साधुन के सतसंग से,
थर-थर काँपे देह।
कबहुँ भाव कुभाव ते,
जनि मिटि जाय सनेह॥


हरि संगत शीतल भया,
मिटी मोह की ताप।
निशिवासर सुख निधि,
लहा अन्न प्रगटा आप॥


जा सुख को मुनिवर रटैं,
सुर नर करैं विलाप।
जो सुख सहजै पाईया,
सन्तों संगति आप॥


कबीरा कलह अरु कल्पना,
सतसंगति से जाय।
दुख बासे भागा फिरै,
सुख में रहै समाय॥


संगत कीजै साधु की,
होवे दिन-दिन हेत।
साकुट काली कामली,
धोते होय न सेत॥


सन्त सुरसरी गंगा जल,
आनि पखारा अंग।
मैले से निरमल भये,
साधू जन को संग॥


For more bhajans from category, Click -

Kabir ke Dohe and Kabir Bhajans

Bhajan List

Kabir Bhajans
Kabir ke Dohe
Bhajan, Aarti, Chalisa, Dohe – List

Kabir Bhajan Lyrics


Bhajans and Aarti


Bhakti Geet Lyrics

Satguru – Kabir Dohe – Hindi


– सतगुरु सम कोई नहीं, सात दीप नौ खण्ड।
– सतगुरु तो सतभाव है, जो अस भेद बताय।
– तीरथ गये ते एक फल, सन्त मिले फल चार।
– सतगुरु खोजो सन्त, जोव काज को चाहहु।

Satguru – Kabir Dohe


सतगुरु सम कोई नहीं,
सात दीप नौ खण्ड।
तीन लोक न पाइये,
अरु इक्कीस ब्रह्म्ण्ड॥


कबीर माया मोहिनी,
जैसी मीठी खांड़।
सतगुरु की कृपा भई,
नहीं तौ करती भांड़॥


सतगुरु तो सतभाव है,
जो अस भेद बताय।
धन्य शीष धन भाग तिहि,
जो ऐसी सुधि पाय॥


तीरथ गये ते एक फल,
सन्त मिले फल चार।
सतगुरु मिले अनेक फल,
कहें कबीर विचार॥


सतगुरु खोजो सन्त,
जोव काज को चाहहु।
मिटे भव को अंक,
आवा गवन निवारहु॥


सतगुरु शब्द उलंघ के,
जो सेवक कहूँ जाय।
जहाँ जाय तहँ काल है,
कहैं कबीर समझाय॥


सतगुरु को माने नही,
अपनी कहै बनाय।
कहै कबीर क्या कीजिये,
और मता मन जाय॥


सतगुरु मिला जु जानिये,
ज्ञान उजाला होय।
भ्रम का भांड तोड़ि करि,
रहै निराला होय॥


सतगुरु मिले जु सब मिले,
न तो मिला न कोय।
माता-पिता सुत बाँधवा,
ये तो घर घर होय॥


चौंसठ दीवा जोय के,
चौदह चन्दा माहिं।
तेहि घर किसका चाँदना,
जिहि घर सतगुरु नाहिं॥


सुख दुख सिर ऊपर सहै,
कबहु न छोड़े संग।
रंग न लागै का,
व्यापै सतगुरु रंग॥


यह सतगुरु उपदेश है,
जो मन माने परतीत।
करम भरम सब त्यागि के,
चलै सो भव जल जीत॥


जाति बरन कुल खोय के,
भक्ति करै चितलाय।
कहैं कबीर सतगुरु मिलै,
आवागमन नशाय॥


जेहि खोजत ब्रह्मा थके,
सुर नर मुनि अरु देव।
कहै कबीर सुन साधवा,
करु सतगुरु की सेव॥


For more bhajans from category, Click -

Kabir ke Dohe and Kabir Bhajans

Bhajan List

Kabir Bhajans
Kabir ke Dohe
Bhajan, Aarti, Chalisa, Dohe – List

Kabir Bhajan Lyrics


Bhajans and Aarti


Bhakti Geet Lyrics

Sangati – Kabir Dohe


– Kabir sangat saadhu ki, nit prati kijai jaay.
– Kabir sangat saadhu ki, jau ki bhoosi khaay.
– Sangat kijai saadhu ki,kabhi na nishphal hoy.
– Sangati so sukhya upje, kusangati so dukh hoy.

Sangati – Kabir Dohe


Kabir sangat saadhu ki,
nit prati kijai jaay.
Duramati door bahaavasi,
desi sumati bataay.


Kabir sangat saadhu ki,
jau ki bhoosi khaay.
Khir khaand bhojan mile,
saakat sang na jae.


Sangat kijai saadhu ki,
kabhi na nishphal hoy.
Loha paaras parasate,
so bhi kanchan hoy.


Sangati so sukhya oopje,
kusangati so dukh hoy.
Kah Kabir taha jaiye,
saadhu sang jaha hoy.


Kabira man panchhi bhaya,
bhaye te baahar jaay.
Jo jaise sangati karai,
so taisa phal paay.


Sajjan son sajjan mile,
hove do do baat.
Gahada so gahada mile,
khaave do do laat.


Man diya kahun aur hi,
tan saadhun ke sang.
Kahain Kabir kori gaji,
kaise laagai rang.


Saadhu sang guru bhakti aroo,
badhat badhat badhi jaay.
Ochhi sangat khar shabd roo,
ghatat-ghatat ghati jaay.


Saakhi shabd bahutai suna,
mita na man ka daag.
Sangati so sudhara nahin,
taaka bada abhaag.


Saadhu ke satsang se,
thar-thar kaanpe deh.
Kabahun bhaav kubhaav te,
jani miti jaay saneh.


Hari sangat shital bhaya,
miti moh ki taap.
Nishivaasar sukh nidhi,
laha ann pragata aap.


Ja sukh ko munivar ratain,
sur nar karain vilaap.
Jo sukh sahajai paiya,
santo sangati aap.


Kabira kalah aru kalpana,
sat-sangati se jaay.
Dukh baase bhaaga phirai,
sukh mein rahai samaay.


Sangat kijai saadhu ki,
hove din-din het.
Saakut kaali kaamali,
dhote hoy na set.


Sant sur-sari ganga jal,
aani pakhaara ang.
Maile se niramal bhaye,
saadhoo jan ko sang.


For more bhajans from category, Click -

For Hindi Lyrics of Kabir Dohe Bhajan: – Sangati – Sant Kabir Dohe – Hindi

Kabir ke Dohe and Kabir Bhajans

Bhajan List

Kabir Bhajans
Kabir Dohe
Bhajan, Aarti, Chalisa, Dohe – List

Kabir Bhajan Lyrics


Bhajans and Aarti


Bhakti Geet Lyrics

Satguru – Kabir Dohe


– Satguru sam koi nahi, saat dip nau khand.
– Satguru to satbhaav hai, jo as bhed bataaye.
– Tirath gaye te ek phal, sant mile phal chaar.
– Satguru mil gaya ju jaaniye, gyaan ujaala hoye.

Satguru – Kabir Dohe


Satguru sam koi nahi,
saat dip nau khand.
Tin lok na paiye,
aru ikkis brahmand


Kabir maaya mohini,
jaisi mithi khaand.
Satguru ki kripa bhayee,
nahi to karti bhaand.


Satguru to satbhaav hai,
jo as bhed bataaye.
Dhanya sheesh dhan bhaag tehi,
jo aisi sudhi paay.


Tirath gaye te ek phal,
sant mile phal chaar.
Satguru mile kai phal,
kahe Kabir vichaar.


Satguru khojo sant,
jov kaaj ko chah-hu.
Mito bhav ko ank,
aave gavan nivaar-hu.


Satguru shabd ulaangh ki,
jo sevak kahoo jaay.
Jahaan jaay tahan kaal hai,
kahain Kabir samajhaay.


Satguru ko maane nahin,
apani kahai banaaye.
Kahai Kabir kya kijiye,
aur mataa man jaay.


Satguru mil gaya ju jaaniye,
gyaan ujaala hoye.
Bhram ka bhaand todi kari,
rahai niraala hoye.


Satguru mile ju sab mila,
na to mila naa koy.
Maata-pita sut baandhava,
ye to ghar ghar hoye.


Chaunsat diva joy ke,
chaudah chanda maahi.
Tehi ghar kiska chaandana,
jihi ghar Satguru naahi.


Sukh dukh sir oopar sahai,
kabahu na chhoda sang.
Rang na lagai ka,
vyapai Satguru rang.


Yah Satguru upadesh hai,
jo man mane partit.
Karam bharaam sab taygi ke,
chalai so bhav jal jit.


Jaati baran kul khoy ke,
bhakti karai chitalaay.
Kahain Kabir Satguru milai,
aavaagaman nashaay.


Jehi khojat Brahma thake,
sur nar muni aru dev.
Kahai Kabir sun saadhava,
karo Satguru ki sev.


For more bhajans from category, Click -

For Hindi Lyrics of Kabir Dohe: – Satguru – Kabir Dohe – Hindi

Kabir ke Dohe and Kabir Bhajans

Bhajan List

Kabir Bhajans
Kabir Dohe
Bhajan, Aarti, Chalisa, Dohe – List

Kabir Bhajan Lyrics


Bhajans and Aarti


Bhakti Geet Lyrics

Man ka Pher – Kabir Dohe


– Maala pherat jug gaya, mita na man ka pher.
– Maya mari na man mara, mar mar gaye sharir.
– Nhaaye dhoye kya hua, jo man ka mail na jaaye.
– Jag mein bairi koy nahi, jo man shital hoye.

Man ka Pher – Kabir Dohe


Maala pherat jug gaya,
mita na man ka pher.
Kar ke man-ka daari de,
man ka man-ka pher.


Maya mari na man mara,
mar mar gaye sharir.
Aasha trishnaa naa mari,
kah gaye daas Kabir.


Nhaaye dhoye kya hua,
jo man ka mail na jaaye.
Min sada jal mein rahe,
dhoye baas naa jaaye


Jag mein bairi koy nahi,
jo man shital hoye.
Ya aapa ko daari de,
daya karo sab koy.


Tan ko jogi sab karai,
man ko karai naa koy.
Sahajai sab vidhi paaiye,
jo man jogi hoye.


Bura jo dekhan main chala,
bura na miliya koy.
Jo man dekha aapana,
mujh se bura naa koy.


AIsi vaani boliye,
man ka aapa khoye.
Auran ko shital kare,
aapahun shital hoye.


Phal kaaran seva kare,
kar na man se kaam.
Kahe Kabir sevak nahi,
chaahe chauguna daam.


Man dina kachhu aur hi,
tan saadhoon ke saath.
Kahe Kabir kaari dari,
kaise laage rang.


Sumiran man mein laie,
jaise naad kurang.
Kahe Kabira bisar nahi,
praan taaje se hi saath.


Kabir man panchhi bhay,
vahe te baahar jaane.
Jo jaisa sangat karai,
so taisa phal paaye.


Dhire-dhire re mana,
dhire sab kuchh hoy.
Maali siche sau ghaada,
ritu aaye phal hoy.


For more bhajans from category, Click -

For Hindi Lyrics of Kabir Dohe with Meaning: – Man ka Pher – Kabir Dohe – Hindi

Kabir ke Dohe and Kabir Bhajans

Bhajan List

Kabir Bhajans
Kabir Dohe
Bhajan, Aarti, Chalisa, Dohe – List

Kabir Bhajan Lyrics


Bhajans and Aarti


Bhakti Geet Lyrics

Sant Kabir Dohe – Guru Mahima


Sant Kabir ke Dohe – Guru Mahima

Kabir ke Dohe - Guru ka Mahatva

For Sant Kabir Dohe on Guru Mahima with Meaning in Hindi:
गुरु गोविंद दोऊँ खड़े, काके लागूं पाय।
बलिहारी गुरु आपने, गोविंद दियो बताय॥
कबीर दोहे (अर्थ सहित) हिंदी में पढ़ने के लिए बटन पर क्लिक करे >>


Guru Govind dou khade,
kaake laagoon paay.
Balihaari Guru aapne,
Ggovind diyo bataay.


Guru aagya maanai nahin,
chalai atapati chaal.
Lok ved dono gaye,
aaye sir par kaal.


Guru bin gyaan na upajai,
Guru bin milai na mosh.
Guru bin lakhai na satya ko,
Guru bin mite na dosh.


Guru kumhaar shish kumbh hai,
gadhi gadhi kaadhe khot.
Antar haath sahaar dai,
baahar baahai chot.


Guru paaras ko antaro,
jaanat hain sab sant.
Vah loha kanchan kare,
ye kari ley mahant.


Guru samaan daata nahin,
yaachak sish samaan.
Tin lok ki sampada,
so Guru dinhi daan.


Guru sharanagati chhaadi ke,
karai bharosa aur.
Sukh sampati ko kah chali,
nahin narak mein thaur.


Kabir maaya mohini,
jaisi mithi khaand.
Sataguru ki kirapa bhi,
nahin tau karati bhaand.


Yah tan vish ki belari,
Guru amrt ki khaan.
Sis diye jo Guru milai,
to bhi sasta jaan.


Satguru ki mahima anant,
anant kiya upakaar.
Lochan anant ughaadiya,
anant dikhaawanhaar.


Sab dharati kaagad karoon,
likhani sab banaraay.
Saat samudra ki masi karoon,
Guru gun likha na jaay.

For Hindi Meaning of Sant Kabir ke Dohe
गुरु गोविंद दोऊँ खड़े, काके लागूं पाय।
बलिहारी गुरु आपने, गोविंद दियो बताय॥
कबीर दोहे (अर्थ सहित) हिंदी में पढ़ने के लिए बटन पर क्लिक करे >>

For more bhajans from category, Click -

Kabir ke Dohe and Kabir Bhajans

Bhajan List

Kabir Bhajans
Kabir Dohe
Bhajan, Aarti, Chalisa, Dohe – List

Kabir Bhajan Lyrics


Bhajans and Aarti


Bhakti Geet Lyrics

Sant Kabir ke Dohe – 1 – Hindi


कबीरदास के दोहे (Kabir ke Dohe)

Kabir ke Dohe

For Guru Mahima Dohe (गुरु महिमा दोहे):
गुरु आज्ञा मानै नहीं,
चलै अटपटी चाल।
गुरु महिमा दोहे पढ़ने के लिए बटन पर क्लिक करे >>


दु:ख में सुमिरन सब करै,
सुख में करै न कोय।
जो सुख में सुमिरन करै,
तो दु:ख काहे को होय॥

अर्थ (Meaning in Hindi):

  • दु:ख में सुमिरन सब करै – मनुष्य ईश्वर को दुःख में याद करता है।
  • सुख में करै न कोय – सुख में ईश्वर को भूल जाते है
  • जो सुख में सुमिरन करै – यदि सुख में भी इश्वर को याद करे
  • तो दु:ख काहे को होय – तो दुःख निकट आएगा ही नहीं

गुरु गोविंद दोऊँ खड़े,
काके लागूं पाँय।
बलिहारी गुरु आपने,
गोविंद दियो बताय॥

अर्थ (Meaning in Hindi):

  • गुरु गोविंद दोऊ खड़े – गुरु और गोविन्द (भगवान) दोनों एक साथ खड़े है
  • काके लागूं पाँय – पहले किसके चरण-स्पर्श करें (प्रणाम करे)?
  • बलिहारी गुरु – कबीरदासजी कहते है, पहले गुरु को प्रणाम करूँगा
  • आपने गोविन्द दियो बताय – क्योंकि, आपने (गुरु ने) गोविंद तक पहुचने का मार्ग बताया है।

लूट सके तो लूट ले,
राम नाम की लूट।
पाछे फिर पछ्ताओगे,
प्राण जाहिं जब छूट॥

अर्थ (Meaning in Hindi):

  • लूट सके तो लूट ले – अगर लूट सको तो लूट लो
  • राम नाम की लूट – अभी राम नाम की लूट है,
    • अभी समय है, तुम भगवान का जितना नाम लेना चाहते हो ले लो
  • पाछे फिर पछ्ताओगे – यदि नहीं लुटे तो बाद में पछताना पड़ेगा
  • प्राण जाहिं जब छूट – जब प्राण छुट जायेंगे

सतगुरू की महिमा अनंत,
अनंत किया उपकार।
लोचन अनंत उघाडिया,
अनंत दिखावणहार॥

अर्थ (Meaning in Hindi):

  • सतगुरु महिमा अनंत है – सतगुरु की महिमा अनंत हैं
  • अनंत किया उपकार – उन्होंने मुझ पर अनंत उपकार किये है
  • लोचन अनंत उघारिया – उन्होंने मेरे ज्ञान के चक्षु (अनन्त लोचन) खोल दिए
  • अनंत दिखावन हार – और मुझे अनंत (ईश्वर) के दर्शन करा दिए। (1)

कामी क्रोधी लालची,
इनसे भक्ति ना होय।
भक्ति करै कोई सूरमा,
जादि बरन कुल खोय॥

अर्थ (Meaning in Hindi):

  • कामी क्रोधी लालची
    • कामी – विषय वासनाओ में लिप्त रहता है,
    • क्रोधी – दुसरो से द्वेष करता है
    • लालची – निरंतर संग्रह करने में व्यस्त रहता है
  • इनते भक्ति न होय – इन लोगो से भक्ति नहीं हो सकती
  • भक्ति करै कोई सूरमा – भक्ति तो कोई शूरवीर (सुरमा) ही कर सकता है,
  • जादि बरन कुल खोय – जो जाति, वर्ण, कुल और अहंकार का त्याग कर सकता है

कहैं कबीर देय तू,
जब लग तेरी देह।
देह खेह हो जायगी,
कौन कहेगा देह॥

अर्थ (Meaning in Hindi):

  • कहैं कबीर देय तू – कबीर कहते हैं, दान-पुण्य करते रहो,
  • जब लग तेरी देह – जब तक शरीर (देह) में प्राण हैं
  • देह खेह हो जायगी – जब यह शरीर धुल में मिल जाएगा (मृत्यु के बाद पंच तत्व में मिल जाएगा)
    • खेह – धूल, राख, धूल मिट्टी
  • कौन कहेगा देह – तब दान का अवसर नहीं मिलेगा
    • इसलिए मनुष्य ने जब तक शरीर में प्राण है तब तक दान अवश्य करना चाहिए

माया मरी न मन मरा,
मर मर गये शरीर।
आशा तृष्णा ना मरी,
कह गये दास कबीर॥

अर्थ (Meaning in Hindi):

  • माया मरी न मन मरा – न माया मरी और ना मन मरा
  • मर मर गये शरीर – सिर्फ शरीर ही बार बार जन्म लेता है और मरता है
  • आशा तृष्णा ना मरी – क्योंकि मनुष्य की आशा और तृष्णा नष्ट नहीं होती
    • तृष्णा – craving, greed – लालच, लोभ, तीव्र इच्छा
  • कह गये दास कबीर – कबीर दास जी कहते हैं
    • आशा और तृष्णा जैसे विकारों से मुक्त हुए बिना मनुष्य को जन्म-मृत्यु के चक्र से छुटकारा नहीं मिल सकता

माला फेरत जुग गया,
मिटा न मन का फेर।
कर का मनका डारि दे,
मन का मनका फेर॥

अर्थ (Meaning in Hindi):

  • माला फेरत जुग गया – कबीरदासजी कहते है की तुमने हाथ में माला लेकर फेरते हुए कई वर्ष बिता दिए
  • मिटा न मन का फेर – फिर भी मन को शांत न कर सके
    • संसार के विषयो के प्रति मोह और आसक्ति को ना मिटा सके
  • कर का मनका डारि दे – इसलिए हाथ (कर) की माला (मनका) को छोड़कर
  • मन का मनका फेर – मन को ईश्वर के ध्यान में लगाओ.
    • मन का मनका – मन में इश्वर के नाम की माला, मन से ईश्वर को याद करना

कबीर ते नर अन्ध हैं,
गुरु को कहते और।
हरि के रुठे ठौर है,
गुरु रुठे नहिं ठौर॥

अर्थ (Meaning in Hindi):

  • कबीर ते नर अन्ध हैं – संत कबीर कहते है की वे मनुष्य नेत्रहीन (अन्ध) के समान है
  • गुरु को कहते और – जो गुरु के महत्व को नहीं जानते
  • हरि के रुठे ठौर है – भगवान के रूठने पर मनुष्य को स्थान (ठौर) मिल सकता है
  • गुरु रुठे नहिं ठौर – लेकिन, गुरु के रूठने पर कही स्थान नहीं मिल सकता

दरशन कीजै साधु का,
दिन में कइ कइ बार।
आसोजा का भेह ज्यों,
बहुत करे उपकार॥

अर्थ (Meaning in Hindi):

  • दरशन कीजै साधु का – संतो के दर्शन
  • दिन में कइ कइ बार – दिन में बार-बार करो
    • जब भी अवसर मिले, साधू-संतो के दर्शन करे
  • आसोजा का भेह ज्यों – जैसे आश्विन महीने की वर्षा
  • बहुत करे उपकार – फसल के लिए फायदेमंद है
    • वैसे ही संतो के दर्शन मनुष्य के लिए बहुत ही हितकारी है

बार-बार नहिं करि सके,
पाख-पाख करि लेय।
कहैं कबीर सो भक्त जन,
जन्म सुफल करि लेय॥

अर्थ (Meaning in Hindi):

  • बार-बार नहिं करि सके – यदि साधू-संतो के दर्शन बार बार न हो पाते हो, तो
  • पाख-पाख करिलेय – पंद्रह दिन में एक बार अवश्य कर ले
  • कहैं कबीर सो भक्त जन – कबीरदासजी कहते है की, ऐसे भक्तजन
    • जो नित्य संतो के दर्शन करता है और उनकी वाणी सुनता है
  • जन्म सुफल करि लेय – भक्ति मार्ग पर आगे बढ़ता हुआ अपना जन्म सफल कर लेता है

कबीर के दोहे – 2 (Kabir ke Dohe – 2)

For more bhajans from category, Click -

Notes

1.
  • ज्ञान चक्षु खुलने पर ही मनुष्य को इश्वर के दर्शन हो सकते है। मनुष्य आंखों से नहीं परन्तु भीतर के ज्ञान के चक्षु से ही निराकार परमात्मा को देख सकता है।
  • दोहा – Back to Doha
2.