Shiv Shankar Ko Jisne Puja – Lyrics in Hindi with Meanings


शिव शंकर को जिसने पूजा

शिव शंकर को जिसने पूजा,
उसका ही उद्धार हुआ
अंत:काल को भवसागर में,
उसका बेडा पार हुआ

भोले शंकर की पूजा करो,
ध्यान चरणों में इसके धरो
हर हर महादेव शिव शम्भू,
हर हर महादेव शिव शम्भू


डमरूवाला है जग में दयालु बड़ा
दीनदुखियो का दाता जगत का पिता
सब पे करता है यह भोला शंकर दया
सब को देता है यह आसरा

इन पावन चरणों में अर्पण,
आकर जो एक बार हुआ
अंत: काल को भवसागर में,
उसका बेडा पार हुआ

ओम नमो शिवाय नमो,
हरी ओम नमो शिवाय नमो
हर हर महादेव शिव शम्भू,
हर हर महादेव शिव शम्भू


नाम ऊँचा है सबसे महादेव का,
वंदना इसकी करते हैं सब देवता
इसकी पूजा से वरदान पाते हैं सब
शक्ति का दान पाते हैं सब

नाग असुर प्राणी सब पर ही,
भोले का उपकार हुआ
अंत काल को भवसागर में,
उसका बेडा पार हुआ


शिव शंकर को जिसने पूजा,
उसका ही उद्धार हुआ
अंत:काल को भवसागर में,
उसका बेडा पार हुआ

भोले शंकर की पूजा करो,
ध्यान चरणों में इसके धरो
हर हर महादेव शिव शम्भू,
हर हर महादेव शिव शम्भू


Shiv Shankar Ko Jisne Puja

Anuradha Paudwal


Shiv Bhajan



शिव शंकर को जिसने पूजा भजन का आध्यात्मिक अर्थ

शिव शंकर को जिसने पूजा एक बहुत ही खूबसूरत भजन है, जिसमे हर पंक्ति भगवान शिव की पूजा करने और उनका आशीर्वाद पाने के महत्व पर प्रकाश डालती हैं।

इस भजन में यह बताया गया है की किस प्रकार भगवान शिव की भक्ति और ध्यान से आध्यात्मिक मुक्ति प्राप्त की जा सकती है, साथ ही उनके दिव्य गुणों के प्रति श्रद्धा और प्रशंसा भी व्यक्त की जा सकती है।

भजन की पंक्तियाँ भगवान शिव के परोपकारी और दयालु स्वभाव को भी उजागर करती हैं, जो सभी प्राणियों के लिए अपनी करुणा प्रदान करते है।


भजन का आध्यात्मिक अर्थ इस प्रकार है –

शिव शंकर को जिसने पूजा, उसका ही उद्धार हुआ:
जो कोई भी भगवान शिव की पूजा करता है, उन्हें मोक्ष की प्राप्ति होती है। यह पंक्ति इस बात पर जोर देती है कि जो लोग भगवान शिव की पूजा और भक्ति में संलग्न होते हैं वे जन्म और मृत्यु के चक्र से मुक्त हो जाते हैं और आध्यात्मिक मुक्ति प्राप्त करते हैं।

अंतकाल को भवसागर में, उसका बेड़ा पार हुआ:
सांसारिक अस्तित्व के सागर में, वे जन्म और मृत्यु के चक्र को पार करने में सक्षम हैं। यह पंक्ति दर्शाती है कि भगवान शिव का आशीर्वाद और कृपा प्राप्त करके, कोई व्यक्ति जीवन और मृत्यु के अंतहीन चक्र को पार कर सकता है और भौतिक संसार से मुक्ति प्राप्त कर सकता है।

भोले शंकर की पूजा करो, ध्यान चरणों में इसके धरो:
भगवान शिव की पूजा करें, उनके चरणों का ध्यान करें। यह पंक्ति भक्तों को भगवान शिव की पूजा और ध्यान में संलग्न होने के लिए प्रोत्साहित करती है, उनका ध्यान उनके दिव्य चरणों पर केंद्रित करती है। यह भक्ति प्रथाओं और भगवान शिव की दिव्य उपस्थिति की तलाश के महत्व पर प्रकाश डालता है।

हर हर महादेव शिव शम्भू:
यह वाक्यांश भगवान शिव के प्रति श्रद्धा और स्तुति का उद्घोष है। “हर हर” एक मंत्र है जो बुरी ताकतों पर जीत का प्रतीक है, “महादेव” महान देवता को संदर्भित करता है, और “शिव शंभू” भगवान शिव के नाम और विशेषण हैं। यह वाक्यांश भगवान शिव की महानता और दिव्य प्रकृति को स्वीकार करते हुए भक्ति की एक उत्कट अभिव्यक्ति है।

डमरू वाला है जग में दयालु बड़ा:
भगवान शिव, जो डमरू (एक छोटा दो तरफा ड्रम) धारण करते हैं, दुनिया में अत्यधिक दयालु हैं। यह पंक्ति भगवान शिव के दयालु स्वभाव और अपने भक्तों पर दया बरसाने की उनकी क्षमता पर प्रकाश डालती है।

दीन दुखियो का दाता जगत का पिता:
भगवान शिव दुखियों को शांति देने वाले और संपूर्ण जगत के पिता हैं। यह पंक्ति भगवान शिव को एक दयालु व्यक्ति और सार्वभौमिक पिता के रूप में चित्रित करती है, जो पीड़ित लोगों को आराम और सहायता प्रदान करते हैं ।

सब पे करता है ये भोला शंकर दया:
भोला शंकर, भगवान शिव का दूसरा नाम, सभी पर अपनी कृपा बरसाते हैं। यह पंक्ति इस बात पर जोर देती है कि भगवान शिव की करुणा सभी प्राणियों पर फैली हुई है, चाहे उनकी पृष्ठभूमि, स्थिति या योग्यता कुछ भी हो।

सबको देता है ये आसरा:
भगवान शिव सभी को अपना आश्रय देते हैं। यह पंक्ति दर्शाती है कि भगवान शिव उन सभी को अपनी सुरक्षा और सहायता प्रदान करते हैं जो उनकी शरण में आते हैं। इसका तात्पर्य यह है कि जो कोई भी ईमानदारी और भक्ति के साथ उनके पास आएगा उसे उसकी सहायता और मार्गदर्शन प्राप्त होगा।

पावन चरणों में अर्पण, आकर जो एक बार हुआ:
इन पवित्र चरणों में समर्पित होकर, यदि कोई एक बार आ जाए। यह पंक्ति भक्तों को भगवान शिव के दिव्य चरणों में खुद को पूरी तरह से समर्पित करने के लिए प्रोत्साहित करती है। यह सुझाव देती है कि भगवान शिव के प्रति स्वयं को पूर्ण समर्पण और भक्ति अर्पित करके, कोई भी उनकी दिव्य कृपा प्राप्त कर सकता है।

अंतकाल को भवसागर में, उसका बेड़ा पार हुआ:
अंत में, वे सांसारिक अस्तित्व के सागर को पार करने में सक्षम होते हैं। यह पंक्ति दर्शाती है कि भगवान शिव का आशीर्वाद और कृपा प्राप्त करके, कोई भी जन्म और मृत्यु के चक्र को पार कर सकता है, जिसे यहां सांसारिक अस्तित्व के विशाल महासागर के रूप में दर्शाया गया है।

नाम ऊँचा है सबसे महादेव का:
भगवान शिव का नाम सबसे ऊंचा है. यह पंक्ति स्वीकार करती है कि देवताओं के सभी नामों और रूपों में भगवान शिव का नाम सबसे अधिक महत्व और शक्ति रखता है।

वंदना इसकी करते हैं सब देवता:
सभी देवी-देवता उन्हें नमस्कार करते हैं। यह पंक्ति दर्शाती है कि अन्य देवता भी भगवान शिव का सम्मान करते हैं और उनकी सर्वोच्च स्थिति और दिव्य गुणों को पहचानते हैं।

इसकी पूजा से वरदान पाते हैं सब:
उनकी आराधना से सभी को आशीर्वाद मिलता है। यह पंक्ति इस बात पर जोर देती है कि भगवान शिव की पूजा और भक्ति में संलग्न होने से व्यक्तियों को दिव्य आशीर्वाद और वरदान प्राप्त होते हैं।

शक्ति का दान पाते हैं सब:
शक्ति का उपहार सभी को प्राप्त होता है। यह पंक्ति बताती है कि भगवान शिव की पूजा करने से भक्तों को दैवीय शक्ति और आंतरिक शक्ति प्राप्त होती है। भगवान शिव को शक्ति और ऊर्जा का दाता माना जाता है।

नाग असुर प्राणी सब पर ही, भोले का उपकार हुआ:
यहां तक कि नाग राक्षसों और सभी प्राणियों को भी भगवान शिव की कृपा प्राप्त होती है। यह पंक्ति बताती है कि भगवान शिव की करुणा, प्राणियों और नकारात्मक शक्तियों सहित सभी प्राणियों पर फैली हुई है। वह सभी को अपना आशीर्वाद और परोपकार प्रदान करते हैं।

अंतकाल को भवसागर में, उसका बेड़ा पार हुआ
अंत में, वे सांसारिक अस्तित्व के सागर को पार करने में सक्षम होते हैं।

कुल मिलाकर ये पंक्तियाँ भगवान शिव की महानता और परोपकारिता को उजागर करती हैं। वे इस बात पर जोर देते हैं कि उनकी पूजा करने और उनके प्रति समर्पण करने से, व्यक्तियों को आशीर्वाद, शक्ति और भौतिक दुनिया को पार करने और मुक्ति प्राप्त करने की क्षमता प्राप्त होती है। यह सभी प्राणियों तक फैली भगवान शिव की कृपा और उनके दिव्य आशीर्वाद की तलाश में भक्ति और समर्पण के महत्व को रेखांकित करती है।


Shiv Bhajan



Shiv Shankar Ko Jisne Puja – Lyrics in English with Meanings


Shiv Shankar Ko Jisne Puja Lyrics

Shiv Shankar ko jisne puja,
uska hi udhhar hua
Antakaal ko bhavsaagar mein,
uska beda paar hua

Bhole Shankar ki puja karo,
dhyaan charano mein iske dharo
Har Har Mahadev Shiv Shambhoo


Damru waala hai jag mein dayaalu bada
Din dukhiyo ka daata jagat ka pita
Sab pe karata hai yah bhola Shankar daya
Sab ko deta hai yah aasara

In paawan charanon mein arpan,
aakar jo ek baar hua
Antkaal ko bhavasaagar mein,
uska beda paar hua

Om Namo Shivaay Namo, Hare
Om Namo Shivaay Namo
Har Har Mahadev Shiv Shambhoo


Naam uncha hai sabase Mahadev ka
Vandana isaki karate hain sab devta
Iski puja se varadaan paate hain sab
Shakti ka daan paate hain sab

Naag asur praani sab par hi,
bhole ka upkaar hua
Ant kaal ko bhavasaagar mein,
uska beda paar hua


Shiv Shankar ko jisne puja,
uska hi udhhar hua
Antakaal ko bhavsaagar mein,
uska beda paar hua

Bhole Shankar ki puja karo,
dhyaan charano mein iske dharo
Har Har Mahadev Shiv Shambhoo


Shiv Shankar Ko Jisne Puja

Anuradha Paudwal


Shiv Bhajan



Shiv Shankar Ko Jisne Puja – Spiritual Meanings

Shiv Shankar Ko Joojee Pooja is a beautiful bhajan, in which each line shows the importance of worshiping Lord Shiva and seeking his blessings.

This bhajan describes how devotion and meditation on Lord Shiva can lead to spiritual liberation, as well as reverence and appreciation of his divine qualities.

The lines of the hymn also highlight the benevolent and compassionate nature of Lord Shiva, who bestows his compassion on all beings.


The spiritual meaning of the bhajan is as follows –

Shiv Shankar ko jisne puja, uska hi udhhar hua:
Whoever worships Lord Shiva, they attain salvation. This line emphasizes that those who engage in the worship and devotion of Lord Shiva are liberated from the cycle of birth and death and attain spiritual liberation.

Antakaal ko bhavsaagar mein, uska beda paar hua:
In the ocean of worldly existence, they are able to cross over the cycle of birth and death. This line signifies that by seeking Lord Shiva’s blessings and grace, one can transcend the endless cycle of life and death and achieve liberation from the material world.

Bhole Shankar ki puja karo, dhyaan charano mein iske dharo:
Worship Lord Shiva, meditate upon His feet. This line encourages devotees to engage in the worship and meditation of Lord Shiva, focusing their attention on His divine feet. It highlights the importance of devotional practices and seeking the divine presence of Lord Shiva.

Har Har Mahadev Shiv Shambhoo:
This phrase is an exclamation of reverence and praise for Lord Shiva. “Har Har” is a chant that signifies victory over evil forces, “Mahadev” refers to the great god, and “Shiv Shambhoo” are names and epithets of Lord Shiva. This phrase is a fervent expression of devotion, acknowledging the greatness and divine nature of Lord Shiva.

Damru waala hai jag mein dayaalu bada:
Lord Shiva, who holds the damru (a small two-sided drum), is exceedingly compassionate in the world. This line highlights Lord Shiva’s compassionate nature and his ability to shower mercy upon his devotees.

Din dukhiyo ka daata jagat ka pita:
Lord Shiva is the giver of solace to the sorrowful and the father of the entire world. This line portrays Lord Shiva as a compassionate figure and the universal father, who provides comfort and support to those who are suffering.

Sab pe karata hai yah bhola Shankar daya:
Bhola Shankar, another name for Lord Shiva, showers his mercy upon everyone. This line emphasizes that Lord Shiva’s compassion extends to all beings, regardless of their background, status, or merits.

Sab ko deta hai yah aasara:
Lord Shiva grants his shelter to everyone. This line signifies that Lord Shiva offers his protection and support to all who seek refuge in him. It implies that anyone who approaches him with sincerity and devotion will receive his assistance and guidance.

In paawan charanon mein arpan, aakar jo ek baar hua:
Surrendering to these sacred feet, if one comes once. This line encourages devotees to surrender themselves completely to the divine feet of Lord Shiva. It suggests that by offering oneself in complete surrender and devotion to Lord Shiva, one can attain His divine grace.

Antkaal ko bhavasaagar mein, uska beda paar hua:
In the end, they are able to cross over the ocean of worldly existence. This line signifies that by seeking Lord Shiva’s blessings and grace, one can transcend the cycle of birth and death, symbolized here as the vast ocean of worldly existence.

Naam uncha hai sabase Mahadev ka:
The name of Lord Shiva is the highest. This line acknowledges that among all the names and forms of deities, Lord Shiva’s name holds the highest significance and power.

Vandana isaki karate hain sab devta:
All the gods and goddesses offer their salutations to Him. This line signifies that even other deities revere and pay homage to Lord Shiva, recognizing His supreme status and divine qualities.

Iski puja se varadaan paate hain sab:
Through His worship, everyone receives blessings. This line emphasizes that by engaging in the worship and devotion of Lord Shiva, individuals are bestowed with divine blessings and boons.

Shakti ka daan paate hain sab:
Everyone attains the gift of power. This line suggests that by worshipping Lord Shiva, devotees gain access to divine power and inner strength. Lord Shiva is considered the bestower of power and energy.

Naag asur praani sab par hi, bhole ka upkaar hua:
Even the serpent demons and all creatures receive Lord Shiva’s grace. This line conveys that Lord Shiva’s compassion extends to all beings, including creatures and negative forces. He grants His blessings and benevolence to everyone.

Overall, these lines highlight the greatness and benevolence of Lord Shiva. They emphasize that by worshiping and surrendering to Him, individuals receive blessings, power, and the ability to transcend the material world and achieve liberation. It underscores the inclusive nature of Lord Shiva’s grace, extending to all beings, and the importance of devotion and surrender in seeking His divine blessings.


Shiv Bhajan



Satyam Shivam Sundaram -Lyrics in Hindi with Meanings


सत्यम शिवम सुन्दरम

ईश्वर सत्य है, सत्य ही शिव है,
शिव ही सुन्दर है
जागो उठ कर देखो,
जीवन ज्योत उजागर है

सत्यम शिवम सुन्दरम,
सत्यम शिवम् सुन्दरम


सत्यम शिवम सुन्दरम, सुन्दरम
सत्यम शिवम सुन्दरम….


राम अवध में, काशी में शिव,
कान्हा वृन्दावन में
दया करो प्रभु, देखू इनको
हर घर के आँगन में,

राधा मोहन शरणम,
सत्यम शिवम सुन्दरम….


एक सूर्य है, एक गगन है,
एक ही धरती माता
दया करो प्रभु, एक बने सब,
सबका एक से नाता

राधा मोहन शरणम,
सत्यम शिवम् सुन्दरम…..


ईश्वर सत्य है, सत्य ही शिव है,
शिव ही सुन्दर है
सत्यम शिवम् सुन्दरम,
सत्यम शिवम् सुन्दरम


For easy Piano Notes for Satyam Shivam Sundaram bhajan as CDE FGAB, please visit –

Satyam Shivam Sundaram Piano Notes

For piano notes in Hindi or Harmonium Notes for Satyam Shivam Sundaram bhajan as सारेग मपधनि, please visit –

Satyam Shivam Sundaram Harmonium Notes


Satyam Shivam Sundaram

Lata Mangeshkar


Shiv Bhajan



सत्यम शिवम सुंदरम – आध्यात्मिक अर्थ

सत्यम शिवम सुंदरम गीत ईश्वर से की गई एक भक्तिपूर्ण प्रार्थना है, जो इस विचार को व्यक्त करता है कि सत्य, सौंदर्य और दिव्यता एक ही हैं। इस गाने को इसकी मधुर धुन, भावपूर्ण आवाज और आध्यात्मिक संदेश के लिए सराहा गया है।

“सत्यम शिवम सुंदरम” के बोल गहन आध्यात्मिक अर्थ बताते हैं।

सत्यम् शिवम् सुन्दरम्, सत्यम् शिवम् सुन्दरम्
ये शब्द पूरे गीत में दोहराए जाते हैं, सच्चाई, अच्छाई और सुंदरता के महत्व और महत्व पर जोर देते हैं।

ईश्वर सत्य है, सत्य ही शिव है, शिव ही सुन्दर है“:
यह पंक्ति बताती है कि भगवान सत्य और अच्छाई का अवतार है, और सत्य भगवान शिव का पर्याय है, जो सुंदरता का भी प्रतीक है।

जागो उठ कर देखो, जीवन ज्योत उजागर है“:
यह पंक्ति व्यक्तियों को जागृत होने और यह महसूस करने के लिए प्रोत्साहित करती है कि जीवन का दिव्य प्रकाश उनके भीतर है। यह उन्हें आंतरिक प्रकाश को समझने और उसे अपने जीवन में प्रसारित करने के लिए प्रेरित करता है।

राम अवध में, काशी में शिव, कान्हा वृन्दावन में“:
यह श्लोक विभिन्न रूपों और स्थानों में देवत्व की उपस्थिति पर प्रकाश डालता है। इसमें अवध में भगवान राम, काशी (वाराणसी) में भगवान शिव और वृन्दावन में भगवान कृष्ण का उल्लेख है, जो हर घर में भगवान की कृपा और आशीर्वाद को आमंत्रित करता है।

दया करो प्रभु, देखू इनको हर घर के आँगन में,“:
इस पंक्ति में भगवान से प्रार्थना है कि वे करुणा और कृपा बरसाएं, जिससे लोगों को हर घर में उनकी दिव्य उपस्थिति महसूस करने का मौका मिले।

एक सूर्य है, एक गगन है, एक ही धरती माता“:
यह श्लोक समस्त सृष्टि की एकता और अंतर्संबंध को व्यक्त करता है। इसमें कहा गया है कि एक सूर्य, एक आकाश और एक धरती माता है, जो सभी प्राणियों के बीच एकता और सद्भाव की आवश्यकता पर बल देती है।

दया करो प्रभु, एक बने सब, सबका एक से नाता“:
समापन पंक्ति सभी के बीच एकता और एकता की भावना को बढ़ावा देने के लिए प्रभु की कृपा और आशीर्वाद का अनुरोध करती है, इस बात पर जोर देती है कि हम सभी जुड़े हुए हैं और हमें एक दूसरे के साथ इसी तरह व्यवहार करना चाहिए।

कुल मिलाकर, “सत्यम शिवम सुंदरम” के बोल हमें अपने भीतर की दिव्य प्रकृति की याद दिलाते हैं और हमें हमारे आस-पास की दुनिया में मौजूद अंतर्निहित सत्य, अच्छाई और सुंदरता को पहचानने के लिए प्रोत्साहित करते हैं। वे हमें अपनी आंतरिक रोशनी को जागृत करने और एकता, करुणा और सद्भाव की भावना को बढ़ावा देने के लिए प्रेरित करते हैं।


सत्यम शिवम सुंदरम 1978 में रिलीज़ हुई इसी नाम की फिल्म, सत्यम शिवम सुंदरम, का एक लोकप्रिय भजन है।

इस भजन को लता मंगेशकर ने गाया था और लक्ष्मीकांत प्यारेलाल ने संगीतबद्ध किया था।

गीत के बोल पंडित नरेंद्र शर्मा ने लिखे थे और यह गाना शशि कपूर और जीनत अमान पर फिल्माया गया था।


Shiv Bhajan



Satyam Shivam Sundaram – Lyrics in English with Meanings


Satyam Shivam Sundaram Lyrics

Ishwar satya hai, satya hi Shiv hai,
Shiv hi sundar hai
Jaago uth kar dekho,
jivan jyot ujaagar hai

Satyam Shivam Sundaram,
Satyam Shivam Sundaram


Satyam Shivam Sundaram, sundaram
Satyam Shivam Sundaram….


Raam Awadh me, Kaashi me Shiv,
Kanha Vrindaavan mein
Daya karo prabhu, dekhu inko
har ghar ke aangan mein

Radha Mohan sharanam,
Satyam Shivam Sundaram….


Ek surya hai, ek gagan hai,
ek hi dharti mata
Daya karo prabhu, ek bane sab,
sabka ek se naata

Radha Mohan sharanam, Satyam
Shivam Sundaram….


Ishwar satya hai, satya hi Shiv hai,
Shiv hi sundar hai
Satyam Shivam Sundaram,
Satyam Shivam Sundaram


For easy Piano Notes for Satyam Shivam Sundaram bhajan as CDE FGAB, please visit –

Satyam Shivam Sundaram Piano Notes

For piano notes in Hindi or Harmonium Notes for Satyam Shivam Sundaram bhajan as सारेग मपधनि, please visit –

Satyam Shivam Sundaram Harmonium Notes


Satyam Shivam Sundaram

Lata Mangeshkar


Shiv Bhajan



Satyam Shivam Sundaram – Spiritual Meanings

Satyam Shivam Sundaram is a devotional prayer to God, expressing the idea that truth, beauty and divinity are one and the same. The song has been praised for its melodious tune, soulful voice and spiritual message.

The lyrics of “Satyam Shivam Sundaram” convey profound spiritual meanings.

Satyam Shivam Sundaram, Satyam Shivam Sundaram“:
These words repeat throughout the song, emphasizing the importance and significance of truth, goodness, and beauty.

Ishwar satya hai, satya hi Shiv hai, Shiv hi sundar hai“:
This line states that God is the embodiment of truth and goodness, and that truth is synonymous with Lord Shiva, who is also the epitome of beauty.

Jaago uth kar dekho, jivan jyot ujaagar hai“:
This line encourages individuals to awaken and realize that the divine light of life is within them. It inspires them to perceive the inner light and radiate it in their lives.

Raam Awadh me, Kaashi me Shiv, Kanha Vrindaavan mein“:
This verse highlights the presence of divinity in various forms and places. It mentions Lord Rama in Awadh, Lord Shiva in Kashi (Varanasi), and Lord Krishna in Vrindavan, inviting the Lord’s grace and blessings into every home.

Daya karo prabhu, dekhu inko har ghar ke aangan mein“:
The plea to the Lord in this line is to shower compassion and grace, allowing people to witness His divine presence in every household.

Ek surya hai, ek gagan hai, ek hi dharti mata“:
This verse expresses the unity and interconnectedness of all creation. It states that there is one sun, one sky, and one Mother Earth, emphasizing the need for unity and harmony among all beings.

Daya karo prabhu, ek bane sab sabka ek se naata“:
The closing line requests the Lord’s grace and blessings to foster a sense of unity and oneness among all, emphasizing that we are all connected and should treat one another as such.

Overall, the lyrics of Satyam Shivam Sundaram remind us of the divine nature within ourselves and encourage us to recognize the inherent truth, goodness, and beauty that exists in the world around us. They inspire us to awaken to our inner light and foster a sense of unity, compassion, and harmony.


Satyam Shivam Sundaram is a popular Hindi song from the movie of the same name, released in 1978.

The song was sung by Lata Mangeshkar and composed by Laxmikant Pyarelal.

The lyrics were written by Pt. Narendra Sharma and the song was picturized on Shashi Kapoor and Zeenat Aman.


Shiv Bhajan



Om Jai Shiv Omkara – Shiv Aarti – Lyrics in Hindi


ओम जय शिव ओंकारा – शिव आरती

ओम जय शिव ओंकारा।
प्रभु हर शिव ओंकारा।
ब्रह्मा, विष्णु, सदाशिव, अर्द्धांगी धारा॥
॥ओम जय शिव ओंकारा॥


एकानन चतुरानन, पंचानन राजे।
स्वामी (शिव) पंचानन राजे।
हंसासन गरूड़ासन, वृषवाहन साजे॥
॥ओम जय शिव ओंकारा॥


दोभुज चार चतुर्भुज, दशभुज अति सोहे।
स्वामी दशभुज अति सोहे।
तीनो रूप निरखते, त्रिभुवन जन मोहे॥
॥ओम जय शिव ओंकारा॥


अक्षमाला वनमाला, मुण्डमाला धारी।
स्वामी मुण्डमाला धारी।
त्रिपुरारी कंसारी, कर माला धारी॥
(चन्दन मृगमद सोहे, भाले शशि धारी॥)
॥ओम जय शिव ओंकारा॥


श्वेतांबर पीतांबर, बाघंबर अंगे।
स्वामी बाघंबर अंगे।
सनकादिक गरुडादिक, भूतादिक संगे॥
॥ओम जय शिव ओंकारा॥


करमध्येन कमंडलु, चक्र त्रिशूलधारी।
स्वामी चक्र त्रिशूलधारी।
सुखकर्ता दुखहर्ता, जग-पालन करता॥
॥ओम जय शिव ओंकारा॥


ब्रह्मा विष्णु सदाशिव, जानत अविवेका।
स्वामी जानत अविवेका।
प्रणवाक्षर ओम मध्ये, ये तीनों एका॥
॥ओम जय शिव ओंकारा॥


काशी में विश्वनाथ विराजत, नन्दो ब्रह्मचारी।
स्वामी नन्दो ब्रह्मचारी।
नित उठ दर्शन पावत, महिमा अति भारी॥
॥ओम जय शिव ओंकारा॥


त्रिगुण स्वामीजी की आरती, जो कोइ नर गावे।
स्वामी जो कोइ नर गावे।
कहत शिवानन्द स्वामी , मन वांछित फल पावे॥
॥ओम जय शिव ओंकारा॥


ओम जय शिव ओंकारा।
प्रभु हर शिव ओंकारा ।
ब्रह्मा, विष्णु, सदाशिव, अर्द्धांगी धारा॥
॥ओम जय शिव ओंकारा॥


For easy Piano Notes for Om Jai Shiv Omkara – Shiv Aarti bhajan as CDE FGAB, please visit –

Om Jai Shiv Omkara – Shiv Aarti Piano Notes

For piano notes in Hindi or Harmonium Notes for Om Jai Shiv Omkara – Shiv Aarti bhajan as सारेग मपधनि, please visit –

Om Jai Shiv Omkara – Shiv Aarti Harmonium Notes


Shiv Bhajan



Om Jai Shiv Omkara – Shiv Aarti

Anuradha Paudwal

लीला अजब तुम्हारी कहते हैं सब ही नर नारी।
बाबा बोल, भोले बोल, दर्शन होगा कि नहीं॥
ॐ नमः शिवाय शम्भो, ॐ नमः शिवाय


बड़ी दूर से आशा लेकर तुम्हारे चरणों में आए हैं।
एक बार तो दर्शन दे दो, पूजन थाल सजाएं हैं॥

तेरे चरणों पर बलिहारी, भोले, तेरे द्वार खड़ा पुजारी।
दुखियों के दुखहारी, प्रभुवर विनती सुनो हमारी॥


जो कोई भी दर पर तेरे आता, हे भोले भंडारी।
मन की मुरादे पूरी होती झोली रहती ना खाली॥

नजरें मेहर तुम्हारी हो तो जर्रा पर्वत बन जाए।
एक झलक दिखला दो शम्भो, मेरी किस्मत खुल जाए॥


अब तो है भक्तों की बारी नैया कर दो पार हमारी।
लीला अजब तुम्हारी शम्भू, कहते हैं सब ही नर नारी॥
ॐ नमः शिवाय शम्भो, ॐ नमः शिवाय


Shiv Bhajan



Om Jai Shiv Omkara – Shiv Aarti – Lyrics in English


Om Jai Shiv Omkara Lyrics – Shiv Aarti

Om Jai Shiva Omkara, Prabhu Har Shiv Omkara
Brahma, Vishnu, Sadashiv, arddhaangi dhaara
Om Jai Shiva Omkara


Ekaanan chaturaanan, panchaanan raaje,
swami panchaanan raaje
Hans-aasan garud-aasan, vrish-vaahan saaje
Om Jai Shiva Omkara

Dobhuj chaar chatur-bhuj, dash-bhuj ati sohe,
swami dashabhuj ati sohe
Tino roop nirakhate, tribhuvan jan mohe
Om Jai Shiva Omkara


Aksh-mala van-mala, mund-mala dhaari,
swami mund-maala dhaari
Chandan mrigmad sohe, bhale shashi dhari
(Tripurari kansari, kar-mala dhari )
Om Jai Shiva Omkara

Shwetambar pitaambar, baaghambar ange,
swami baaghambar ange
Sanakaadik garudaadik, bhootaadik sange
Om Jai Shiva Omkara


Karamadhyen kamandalu, chakra trishul-dhaari,
swami chakra trishool-dhaari
Sukh-karta dukh-harta, jag-paalan karta
Om Jai Shiva Omkara

Brahma Vishnu Sadashiv , jaanat aviveka,
swami jaanat aviveka
Pranava-akshar Om madhye, ye tino eka
Om Jai Shiva Omkara


Kaashi mein Vishwanaath viraajat,
nando brahmachaari,
swami nando brahmachaari
Nit uth darshan paavat, mahima ati bhaari
Om Jai Shiva Omkara


Trigun swamiji ki aarti jo koi nar gaave,
swami jo koi nar gaave
Kahat Shivanand swami ,
man vaanchhit phal paave
Om Jai Shiva Omkara


Om Jai Shiva Omkara,
Prabhu Har Shiv Omkara
Brahma, Vishnu, Sadashiv,
arddhaangi dhaara
Om Jai Shiva Omkara


For easy Piano Notes for Om Jai Shiv Omkara – Shiv Aarti bhajan as CDE FGAB, please visit –

Om Jai Shiv Omkara – Shiv Aarti Piano Notes

For piano notes in Hindi or Harmonium Notes for Om Jai Shiv Omkara – Shiv Aarti bhajan as सारेग मपधनि, please visit –

Om Jai Shiv Omkara – Shiv Aarti Harmonium Notes


Shiv Bhajan



Om Jai Shiv Omkara – Shiv Aarti

Anuradha Paudwal

Shiv Bhakti

Leela ajab tumhari kahate hain sab hi nar naari.
Baba bol, bhole bol, darshan hoga ki nahin.
Om namah shivaay shambho, om namah shivaay

Badi door se aasha lekar tumhaare charanon mein aaye hain.
Ek baar to darshan de do, poojan thaal sajaaye hain.

Tere charano par balihaari, bhole, tere dwar khada pujaari.
Dukhiyon ke dukhahaari, prabhuvar vinati suno hamaari.

Jo koi bhi dar par tere aata, he bhole bhandaari.
Man ki muraade poori hoti jholi rahati na khaali.

Najaren mehar tumhaari ho to jarra parvat ban jaaye.
Ek jhalak dikhala do shambho, meri kismat khul jae.

Ab to hai bhakton ki baari naiya kar do paar hamaari.
Lila ajab tumhaari shambhoo, kahate hain sab hi nar naari.
Om namah shivaay shambho, om namah shivaay

Om jay shiv omkara, prabhu har shiv omkara .
Brahma, vishnu, sadaashiv, arddhaangi dhaara.


Shiv Bhajan



Aisi Subah Na Aaye – Lyrics in Hindi with Meanings


ऐसी सुबह ना आए, आए ना ऐसी शाम

शिव है शक्ति, शिव है भक्ति, शिव है मुक्ति धाम
शिव है ब्रह्मा, शिव है विष्णु, शिव है मेरे राम


ऐसी सुबह ना आए, आए ना ऐसी शाम
जिस दिन जुबा पे मेरी आए ना शिव का नाम

ॐ नमः शिवाय, ॐ नमः शिवाय
ॐ नमः शिवाय, ॐ नमः शिवाय


मन मंदिर में वास है तेरा, तेरी छवि बसाई।
प्यासी आत्मा बनके जोगन, तेरी शरण में आई।
तेरी ही चरणों में पाया, मैंने यह विश्राम॥
ऐसी सुबह ना आए, आए ना ऐसी शाम….


तेरी खोज में ना जाने, कितने युग मेरे बीते।
अंत में काम क्रोध मद हारे, हे भोले तुम जीते।
मुक्त किया तूने प्रभु मुझको, शत शत है प्रणाम॥
ऐसी सुबह ना आए, आए ना ऐसी शाम….


सर्व कला संम्पन तुम्ही हो, हे मेरे परमेश्वर।
दर्शन देकर धन्य करो अब, हे त्रिनेत्र महेश्वर।
भाव सागर से तर जाउंगी, लेकर तेरा नाम॥
ऐसी सुबह ना आए, आए ना ऐसी शाम….


ऐसी सुबह ना आए, आए ना ऐसी शाम
जिस दिन जुबां पे मेरी आएं ना शिव का नाम
ओम नमः शिवाय, ओम नमः शिवाय
ॐ नमः शिवाय, ॐ नमः शिवाय


Aisi Subah Na Aaye, Aaye Na Aisi Shaam


Shiv Bhajan



ऐसी सुबह ना आए, आए ना ऐसी शाम भजन का आध्यात्मिक अर्थ

ऐसी सुबह ना आए, आए ना ऐसी शाम
जिस दिन जुबा पे मेरी आए ना शिव का नाम

न ऐसी सुबह आए, न ऐसी शाम, जब होठों पर भगवान शिव का नाम न आए। यह श्लोक इस इच्छा को व्यक्त करता है कि हर सुबह और शाम भक्त के विचारों और शब्दों में भगवान शिव का ध्यान रहें। भक्त देवता के प्रति निरंतर स्मरण और भक्ति की स्थिति की कामना करता है।

मन मंदिर में वास है तेरा, तेरी छवि बसाई।
मेरे दिल के मंदिर में तेरी मौजूदगी है, तेरी छवि मेरे दिल में बसती है। यहां, भक्त स्वीकार करते हैं कि उनका हृदय वह मंदिर है जहां भगवान शिव की दिव्य उपस्थिति निवास करती है।

प्यासी आत्मा बनके जोगन, तेरी शरण में आई।
प्यासी आत्मा योगी का रूप धारण कर आपकी शरण में आई है। भक्त खुद को आध्यात्मिक संतुष्टि की तलाश करने वाली एक प्यासी आत्मा के रूप में पहचानता है और उसने भगवान शिव की दिव्य सुरक्षा और मार्गदर्शन के प्रति समर्पण कर दिया है।

तेरी ही चरणों में पाया, मैंने यह विश्राम॥
आपके चरणों में ही मुझे यह शांति मिली है। भक्त को भगवान शिव के चरणों में समर्पण करके सांत्वना और आंतरिक शांति मिलती है। दिव्य चरणों की शरण लेने से, भक्त को शांति और सांसारिक परेशानियों से राहत का अनुभव होता है।

तेरी खोज में ना जाने, कितने युग मेरे बीते।
तेरी तलाश में न जाने कितनी उम्र बीत गई। भक्त ईश्वर की खोज की अपनी यात्रा पर विचार करते हैं, यह स्वीकार करते हुए कि उन्होंने इस खोज में अनगिनत युगों का सफर तय किया है।

अंत में काम क्रोध मद हारे, हे भोले तुम जीते।
अंततः इच्छा, क्रोध और अहंकार की पराजय हुई। हे भोलेनाथ, आप विजयी हुए। अंततः, अपनी आध्यात्मिक खोज के अंत में, उन्होंने इन बाधाओं पर भगवान शिव की विजय को पहचानते हुए, अपनी इच्छाओं, क्रोध और अहंकार पर विजय प्राप्त कर ली है।

मुक्त किया तूने प्रभु मुझको, शत शत है प्रणाम॥
हे प्रभु, आपने मुझे मुक्त कर दिया है, आपको मेरा कोटि-कोटि प्रणाम। इस पंक्ति में, भक्त जन्म और मृत्यु के चक्र से मुक्ति या मुक्ति प्रदान करने के लिए भगवान शिव के प्रति आभार व्यक्त करता है। भक्त इस परम आशीर्वाद के लिए परमात्मा को श्रद्धांजलि अर्पित करता है और उन्हें कोटि-कोटि प्रणाम करता है।

सर्व कला संम्पन तुम्ही हो, हे मेरे परमेश्वर।
हे मेरे परम प्रभु, आप सभी कलाओं और कौशलों से सुशोभित हैं। यह पंक्ति भगवान शिव को सभी कलात्मक और कुशल क्षमताओं के स्वामी के रूप में स्वीकार करती है। यह नृत्य (नटराज) और संगीत (डमरू पर बजाया जाने वाला) जैसी विभिन्न कलाओं और विशेषताओं पर भगवान शिव की महारत को मान्यता देता है। भगवान शिव प्रेरणा और रचनात्मकता के परम स्रोत के रूप में पूजनीय हैं।

दर्शन देकर धन्य करो अब, हे त्रिनेत्र महेश्वर।
हे त्रिनेत्र महेश्वर (शिव) मुझे अपने दिव्य स्वरूप का धन्य दर्शन प्रदान करें। भक्त भगवान शिव के दिव्य रूप को देखने का शुभ अवसर पाने की इच्छा व्यक्त करता है। वे भगवान शिव का दिव्य आशीर्वाद चाहते हैं और ज्ञान और ब्रह्मांडीय धारणा के प्रतीक देवता के तीन आंखों वाले रूप के पवित्र दर्शन की इच्छा रखते हैं।

भाव सागर से तर जाउंगी, लेकर तेरा नाम॥
मैं आपका नाम लेकर भवसागर से पार हो जाऊंगा। भक्त संसार के भाव सागर से पार पाने के लिए अपनी भक्ति और दृढ़ संकल्प व्यक्त करते हैं। भगवान शिव का जाप और नाम लेने से, उनका मानना है कि वे जीवन की चुनौतियों और जुड़ावों से पार पाने में सक्षम होंगे और अंततः आध्यात्मिक मुक्ति प्राप्त करेंगे।

कुल मिलाकर, ये भजन गीत भक्तों की भगवान शिव के प्रति अटूट भक्ति की लालसा, उनके भीतर दिव्य उपस्थिति की पहचान और देवता की कृपा के प्रति समर्पण के माध्यम से प्राप्त मुक्ति के लिए उनकी कृतज्ञता को व्यक्त करते हैं।


ऐसी सुबह ना आए, आए ना ऐसी शाम पर आधारित प्रार्थना

यह एक सुन्दर भजन है. निम्नलिखित प्रार्थना इसी भजन, ऐसी सुबह न आये, आये न ऐसी शाम, पर आधारित है –

हे भगवान शिव, मैं आपको शत-शत नमन करता हूँ।

हे मेरे परम प्रभु, आप सभी कलाओं से संपन्न हैं।

आपको ढूंढते-ढूंढते न जाने कितनी उम्र गुजर गई. लेकिन अंत में आपने मुझे काम, क्रोध और अहंकार से मुक्त कर दिया है।

अब, हे त्रिनेत्र, हे महेश्वर, मुझे अपने दर्शन देकर आशीर्वाद दीजिये।

मैं तुम्हारा नाम लेकर भवसागर से पार हो जाऊँगा।

ऐसी सुबह न आये, ऐसी शाम न आये। ऐसा कोई दिन न आये जब मेरी जुबान पर शिव का नाम न आये।

मेरे मन के मंदिर में तुम विराजमान हो, तुम्हारी छवि वहीं अंकित है।

हे प्रभु, मैं आपकी शरण में आया हूं। तेरे चरणों में ही मैंने विश्राम पाया है।

ॐ नमः शिवाय, ॐ नमः शिवाय – ॐ शिवाय नमः, ॐ शिवाय नमः।


शिवजी से प्रार्थना

मेरे भोलेनाथ मुझे, आज है तेरी ही शरण,
पड़ा मझधार में मै, सागर का किनारा दे दे,
अपने हाथों का मुझे, हे नाथ सहारा दे दे॥


मोह माया की घनघोर घटा है छाई।,
और अज्ञान का तूफान उठा है भारी॥
डूबता चला मै इसमें, कैसी मुसीबत आई।
हे भोलेनाथ करो रक्षा दया के धारी॥
अपनी कृपा का मुझे एक इशारा दे दे॥


कौन है तेरे सिवा जिसकी शरण जाऊँ।
मोह माया की दुनिया में भटक रहा हूँ स्वामी॥
ऐसा कोई ना मिला जिसको विपत्ति सुनाऊँ।
दुखहर्ता है तू ही, और दया निधि नामी॥
हे नाथ मुझे अब तो भव का किनारा दे दे॥


तुमने बहुतों को तारा है, हे नाथ निरंजन।
और भवपार किये है लाखो ही अधर्मी॥
महिमा तेरी ये सुनी है संकट मोचन।
चरणों में आन पड़ा दास तेरा अज्ञानी॥
दया दृष्टि का हे भोले अब तो नजारा दे दे॥


Shiv Bhajan



Aisi Subah Na Aaye – Lyrics in English with Meanings


Aisi Subah Na Aaye, Aaye Na Aisi Shaam Lyrics

Shiv hai shakti, Shiv hai bhakti,
Shiv hai mukti dhaam
Shiv hai Brahma, Shiv hai Vishnu,
Shiv hai mera Ram


Aisi subah na aaye, aaye na aisi shaam
Jis din juba pe meri aaye na Shiv ka naam

Om Namah Shivay, Om Namah Shivay
Om Namah Shivay, Om Namah Shivay


Man mandir mein vaas hai tera, teri chhavi basai.
Pyaasi aatma banke jogan, teri sharan mein aai.
Teri hi charano mein paaya, maine yah vishraam.
Aisi subah na aaye, aaye na aisi shaam….


Teri khoj mein na jaane, kitne yug mere bite.
Ant mein kaam krodh mad haare, hey bhole tum jite.
Mukt kiya toone prabhu mujhko, shat shat hai pranaam.
Aisi subah na aaye, aaye na aisi shaam….


Sarv kala sammpann tumhi ho, hey mere parameshvar.
Darshan dekar dhanya karo ab, hey trinetra Maheshwar.
Bhaav saagar se tar jaungi, lekar tera naam.
Aisi subah na aaye, aaye na aisi shaam….


Aisi subah na aaye, aaye na aisi shaam
Jis din jubaan pe meri aaye na Shiv ka naam

Om Namah Shivay, Om Namah Shivay
Om Namah Shivay, Om Namah Shivay


Aisi Subah Na Aaye, Aaye Na Aisi Shaam


Shiv Bhajan



Aisi Subah Na Aaye, Aaye Na Aisi Shaam – Spiritual Meanings

Aisi subah na aaye, aaye na aisi shaam
Jis din juba pe meri aaye na Shiv ka naam

May such a morning not come, nor such an evening, When the name of Lord Shiva does not come upon my lips. This verse expresses the desire that every morning and evening, the devotee’s thoughts and words are filled with the name of Lord Shiva. The devotee wishes for a state of constant remembrance and devotion to the deity.

Man mandir mein vaas hai tera, teri chhavi basai.
Your presence resides in the temple of my heart, your image dwells within. Here, the devotee acknowledges that their heart is the temple where the divine presence of Lord Shiva resides.

Pyaasi aatma banke jogan, teri sharan mein aai.
Thirsty soul, assuming the form of a yogi, has come into your refuge. The devotee identifies themselves as a thirsty soul seeking spiritual fulfillment and has surrendered to the divine protection and guidance of Lord Shiva.

Teri hi charano mein paaya, maine yeh vishraam.
In your feet alone, I have found this peace. The devotee finds solace and inner peace by surrendering to the feet of Lord Shiva. By seeking refuge at the divine feet, the devotee experiences a sense of tranquility and relief from worldly troubles.

Teri khoj mein na jaane, kitne yug mere bite.
In the search for you, I do not know how many ages have passed. The devotee reflects on their journey of seeking the divine, acknowledging that they have traversed countless ages in this pursuit.

Ant mein kaam krodh mad haare, hey bhole tum jite.
In the end, desires, anger, and ego have been defeated. Hey, bholenath, you have emerged victorious. Finally, at the end of their spiritual quest, they have conquered their desires, anger, and ego, recognizing Lord Shiva’s triumph over these obstacles.

Mukt kiya toone prabhu mujhko, shat shat hai pranaam.
You have liberated me, O Lord, my countless salutations to you. In this line, the devotee expresses gratitude to Lord Shiva for granting liberation or freedom from the cycle of birth and death. The devotee pays homage and offers multiple salutations to the divine for this ultimate blessing.

Sarv kala sammpann tumhi ho, hey mere parameshvar.
You are adorned with all arts and skills, O my supreme Lord. This line acknowledges Lord Shiva as the possessor of all artistic and skillful abilities. It recognizes Lord Shiva’s mastery over various arts and attributes, such as dance (Nataraja) and music (played on the damru). Lord Shiva is revered as the ultimate source of inspiration and creativity.

Darshan dekar dhanya karo ab, hey trinetra Maheshwar.
Grant me the blessed vision of your divine form, O three-eyed Maheshwar (Shiva). The devotee expresses a desire to have the auspicious opportunity to behold the divine form of Lord Shiva. They seek the divine blessings of Lord Shiva and long to have a sacred vision of the deity’s three-eyed form, symbolizing wisdom and cosmic perception.

Bhaav saagar se tar jaungi, lekar tera naam.
I will cross the ocean of worldly existence, taking your name. The devotee expresses their devotion and determination to transcend the worldly ocean of existence (bhaav saagar). By chanting and taking the name of Lord Shiva, they believe they will be able to navigate through the challenges and attachments of life and ultimately attain spiritual liberation.

Overall, these bhajan lyrics convey the devotee’s yearning for unwavering devotion to Lord Shiva, their recognition of the divine presence within themselves, and their gratitude for the liberation achieved through surrendering to the deity’s grace.


Aisi Subah Na Aaye, Aaye Na Aisi Shaam Prayer

This is a beautiful bhajan. The following prayer is based on this bhajan Aisi subah na aaye, aaye na aisi shaam –

In search of you, I don’t know how many ages have passed for me.

O Lord Shiva, I bow to you hundreds of times.

You are endowed with all arts, O my supreme Lord.

O Lord, you have liberated me, from lust, anger and pride,

Now, bless me by giving me your darshan, O three-eyed
Maheshwar.

I will cross the ocean of existence, taking your name.

May such a morning not come, may such an evening not come. May such day does not come when Shiv’s name does not come on my tongue.

You reside in the temple of my mind, your image is engraved there.

O Lord, I have come to your refuge. I have found the rest only at your feet.

Om Namah Shivay, Om Namah Shivay – I bow to Shiva, I bow to Shiva.


Shivji se Prarthna

Mere bholenath mujhe, aaj hai teri hee sharan.
Pada majhadhaar mein mai, saagar ka kinaara de de.
Apane haathon ka mujhe, he naath sahaara de de.


Moh maaya ki ghanaghor ghata hai chhai.
Aur agyaan ka toophaan utha hai bhaari.
Doobata chala mai iss mein, kaisi musibat hai aai.
Hey bholenaath karo raksha, daya ke dhaari,
Apani kripa ka mujhe ek ishaara de de.


Kaun hai tere siva jis ki sharan jaoon.
Moh maaya ki duniya mein, bhatak raha hoon swaami.
Aisa koi na mila, jisako vipatti sunaoon.
Dukhaharta hai too hi, aur daya nidhi naami.
Hey naath mujhe ab to, bhav ka kinaara de de.


Tum ne bahuto ko taara hai, he naath niranjan,
Aur bhavapaar kiye hai, laakho hi adharmi.
Mahima teri ye suni hai sankat mochan,
Charano mein aan pada, daas tera agyaani,
Daya drshti ka he prabhoo ab to najaara de de.


Shiv Bhajan



Duniya Chale Na Shri Ram Ke Bina – Lyrics in English


Duniya Chale Na Shri Ram Ke Bina

Duniya chale na Shri Ram ke bina,
Ram ji chale na Hanuman ke bina

Duniya chale na Shri Ram ke bina,
Ram ji chale na Hanuman ke bina


Jab se Ramayan padh li hai,
Ek baat maine samajh li hai

Ravan mare na Shri Ram ke bina,
Lanka jale na Hanuman ke bina

Duniya chale na Shri Ram ke bina,
Ramji chale na Hanuman ke bina


Lakshman ka bachana mushkil tha,
Kaun booti laane ke kaabil tha

Laxman bache na Shri Ram ke bina,
Booti mile na Hanuman ke bina

Duniya chale na Shri Ram ke bina,
Ram ji chale na Hanuman ke bina


Sita haran ki kahaani suno,
Bhakto meri jubaani suno

Wapas mile na Shri Ram ke bina,
Pata chale na Hanuman ke bina

Duniya chale na Shri Ram ke bina,
Ram ji chale na Hanuman ke bina


Baithe sinhaasan pe Shri Ram ji,
Charano mein baithe hain Hanuman ji

Mukti mile na Shri Ram ke bina,
Bhakti mile na Hanuman ke bina

Duniya chale na Shri Ram ke bina,
Ram ji chale na Hanuman ke bina


Duniya chale na Shri Ram ke bina,
Ram ji chale na Hanuman ke bina


For easy Piano Notes for Duniya Chale Na Shri Ram Ke Bina bhajan as CDE FGAB, please visit –

Duniya Chale Na Shri Ram Ke Bina Piano Notes

For piano notes in Hindi or Harmonium Notes for Duniya Chale Na Shri Ram Ke Bina bhajan as सारेग मपधनि, please visit –

Duniya Chale Na Shri Ram Ke Bina Harmonium Notes


Duniya Chale Na Shri Ram Ke Bina


Hanuman Bhajan



Ram Bhajan



What does the bhajan Duniya Chale Na Shri Ram Ke Bina tell us?

Duniya Chale Na Shri Ram Ke Bina” is a devotional Hanuman Bhajan and Ram bhajan.

Devotion to Lord Shree Rama

Duniya Chale Na Shri Ram Ke Bina bhajan emphasizes the belief that without the presence and guidance of Lord Rama, the world cannot function or progress.

The bhajan has become particularly popular among devotees of Lord Rama and is often sung in temples, during religious gatherings, and on special occasions dedicated to Lord Rama, such as Ram Navami, Diwali, etc.

The exact origins and composer of the bhajan may vary, as devotional songs are often passed down through generations and have multiple versions.

Lord Rama – The Source of Wisdom, Happiness, and Salvation

The song’s lyrics convey the message that Lord Rama is the supreme deity and the source of all wisdom, happiness, and salvation.

Duniya Chale Na Shri Ram Ke Bina” has a melodious tune that evokes devotion and reverence towards Lord Rama.

It has been sung and recorded by various artists, both in traditional and contemporary styles.

The bhajan holds deep significance for followers of Lord Rama and serves as a reminder of the divine presence and the importance of devotion in one’s life.

It is cherished for its devotional essence and the feelings of connection and spiritual upliftment it instills in the hearts of devotees.


Hanuman Bhajan



Ram Bhajan



Kailash Ke Nivasi Namo – Lyrics in Hindi with Meanings


कैलाश के निवासी नमो बार बार

कैलाश के निवासी नमो बार बार हूँ, नमो बार बार हूँ
आयो शरण तिहारी भोले तार तार तू
आयो शरण तिहारी शम्भू तार तार तू,
भोले तार तार तू, कैलाश के निवासी…


भक्तो को कभी शिव तुने निराश ना किया
माँगा जिन्हें जो चाहा वरदान दे दिया
बड़ा हैं तेरा दायजा, बड़ा दातार तू,
आयो शरण तिहारी भोले तार तार तू
कैलाश के निवासी नमो बार बार हूँ…


बखान क्या करू मै राखो के ढेर का
चपटी भभूत में हैं खजाना कुबेर का
हैं गंग धार, मुक्ति द्वार, ओंकार तू
आयो शरण तिहारी भोले तार तार तू
कैलाश के निवासी नमो बार बार हूँ….


क्या क्या नहीं दिया, हम क्या प्रमाण दे
बस गए त्रिलोक शम्भू तेरे दान से
ज़हर पिया, जीवन दिया
कितना उदार तू, कितना उदार तू,
आयो शरण तिहारी भोले तार तार तू
कैलाश के निवासी नमो बार बार हूँ….


तेरी कृपा बिना न हिलें एक भी अनु
लेते हैं स्वास तेरी दया से कनु कनु
कहे दास एक बार, मुझको निहार तू
आयो शरण तिहारी भोले तार तार तू
कैलाश के निवासी नमो बार बार हूँ….


कैलाश के निवासी नमो बार बार हूँ, नमो बार बार हूँ
आयो शरण तिहारी भोले तार तार तू
आयो शरण तिहारी शम्भू तार तार तू


Kailash Ke Nivasi Namo Bar Bar

Shri Rameshbhai Oza

Shri Narayan Swami


Shiv Bhajan



कैलाश के निवासी नमो बार बार भजन का आध्यात्मिक अर्थ

“कैलाश के निवासी नमो बार बार हूं, नमो बार बार हूं”:
ये पंक्तियाँ कैलाश पर्वत के निवासी भगवान शिव के प्रति अभिनंदन और श्रद्धा की अभिव्यक्ति हैं। भक्त बार-बार विनम्र अभिवादन करता है और भगवान को प्रणाम करता है।

“आयो शरण तिहारी भोले तार तार तू”
पंक्तियाँ भगवान शिव की शरण लेने की भावना को व्यक्त करती हैं, उन्हें उद्धारकर्ता के रूप में संबोधित करती हैं जो रक्षा करता है और मुक्त करता है। भक्त मानते हैं कि भगवान शिव ही उद्धारकर्ता हैं जो उन्हें संकट से बचाते हैं और मोक्ष प्रदान करते हैं।

“भक्तो को कभी शिव तूने निराश ना किया”:
यह श्लोक आश्वस्त करता है कि भगवान शिव ने अपने भक्तों को कभी निराश नहीं किया है। यह दर्शाता है कि भगवान ने हमेशा अपने भक्तों की इच्छाओं और इच्छाओं को पूरा किया है।

“मांगा जिन्हें जो चाहा वरदान दे दिया”:
यहां, यह कहा गया है कि भगवान शिव उनकी इच्छाएं पूरी करते हैं और उन लोगों को आशीर्वाद देते हैं जो उनका दिव्य हस्तक्षेप चाहते हैं। वह अपने भक्तों की इच्छाओं को पूरा करने के लिए जाने जाते हैं।

“बड़ा हैं तेरा दायजा, बड़ा दातार तू”:
ये पंक्तियाँ भगवान शिव की उदारता को उजागर करती हैं। यह दर्शाती है कि वह परम दाता है, जो अपने भक्तों पर प्रचुर आशीर्वाद और उपहारों की वर्षा करता है।

“बखान क्या करूं मैं राखो के ढेर का,
चपटी भभूत में हैं खजाना कुबेर का”:
ये पंक्तियाँ भक्तों की दुविधा को व्यक्त करती हैं कि वे भगवान शिव के असीम आशीर्वाद के बदले में क्या अर्पित कर सकते हैं। इससे पता चलता है कि धन के देवता भगवान कुबेर का खजाना, भक्त द्वारा दिए गए अल्प चढ़ावे में भी मौजूद होता है।

“है गंग धर, मुक्ति द्वार, ओंकार तू”:
यह श्लोक भगवान शिव को दिव्य नदी गंगा (गंग धार) को धारण करने वाले और मुक्ति का प्रवेश द्वार (मुक्ति द्वार) के रूप में स्वीकार करता है। यह उन्हें पवित्र ध्वनि “ओम” (ओंकार) के अवतार के रूप में भी पहचानता है।

“क्या क्या नहीं दिया, हम क्या प्रमाण दे,
बस गए त्रिलोक शम्भू तेरे दान से”:
ये पंक्तियाँ भगवान शिव द्वारा उन्हें दिए गए अनगिनत आशीर्वादों पर भक्त के चिंतन को व्यक्त करती हैं। भक्त विचार करता है कि जो कुछ उन्हें प्राप्त हुआ है, उसके लिए वे क्या साक्ष्य या प्रमाण प्रदान कर सकते हैं। यह इस धारणा पर प्रकाश डालता है कि संपूर्ण ब्रह्मांड भगवान शिव के दिव्य उपहारों से समृद्ध हुआ है।

“ज़हर पिया, जीवन दिया, कितना उदार तू”:
यहाँ, यह प्रतीकात्मक रूप से व्यक्त किया गया है कि भगवान शिव ने जहर (ज़हर) पी लिया है और जीवन (जीवन) प्रदान किया है। यह भगवान शिव की दिव्य उदारता का प्रतीक है, उनकी असीम करुणा और परोपकार पर जोर देता है।

“तेरी कृपा बिना ना हिले एक भी अनु,
लेते हैं स्वास तेरी दया से कनु कनु”:
ये पंक्तियाँ भक्त की मान्यता को व्यक्त करती हैं कि भगवान शिव की कृपा के बिना एक भी परमाणु नहीं हिलता। यह भक्त की गहरी समझ का प्रतीक है कि उनकी हर सांस भगवान की दया और करुणा से बनी रहती है।

“कहे दास एक बार, मुझको निहार तू”:
यह श्लोक भगवान शिव से भक्त की विनती को व्यक्त करता है, जो उनसे विनम्रतापूर्वक उन पर अपनी दिव्य दृष्टि बरसाने का अनुरोध करता है। यह भक्त की भगवान की कृपा और ध्यान प्राप्त करने की इच्छा को दर्शाता है।

कुल मिलाकर भजन की ये पंक्तियाँ भगवान शिव के प्रति गहरी श्रद्धा और कृतज्ञता व्यक्त करती हैं। भक्त भगवान से प्राप्त अपार आशीर्वाद को स्वीकार करता है और रक्षक, जीवनदाता और अनुग्रह दाता के रूप में उनकी भूमिका को पहचानते हुए उनकी शरण चाहता है। भक्त भगवान शिव की उदारता और दिव्य गुणों को पहचानकर उनकी शरण लेता है।


Shiv Bhajan