Home – Index


दुर्गा सप्तशती – अर्थ सहित

सुन्दरकाण्ड – सरल अर्थ सहित

सुंदरकांड पाठ – सम्पूर्ण सुन्दरकाण्ड


कबीर के दोहे – अर्थ सहित


स्तोत्र – अर्थ सहित

भगवद गीता – अर्थ सहित



Durga Bhajan
Krishna Bhajan
Ganesh Bhajan
Ram Bhajan
Shiv Bhajan
Prayer Songs
Hanuman Bhajan
Sai Bhajan
Kabir Dohe
Aarti
Meera Bhajan
Bhajan from Films
Bhajan Download
Janmashtami Bhajan

Bhajan Lyrics

Anup Jalota Bhajan
Hari Om Sharan Bhajan
Sudhanshu Maharaj Bhajan
Shri Mridul Krishna Shastri Bhajan
Vinod Agarwal Bhajans
Gaurav Krishna Goswami Bhajan
Rameshbhai Oza Bhajans
Prembhushan ji Maharaj Bhajan
Narendra Chanchal Bhajan
Lakha Bhajans
Alka Goyal Bhajan
Kumar Vishu Bhajans

Krishna Bhajans

Durga Bhajan List

भागवत पुराण – द्वितीय स्कन्ध – अध्याय – 1


<< भागवत पुराण – Index

<< भागवत पुराण – प्रथम स्कन्ध – अध्याय – 19

ध्यान-विधि और भगवान्‌के विराट्स्वरूपका वर्णन

श्रीशुकदेवजीने कहा – परीक्षित्! तुम्हारा लोकहितके लिये किया हुआ यह प्रश्न बहुत ही उत्तम है।

मनुष्योंके लिये जितनी भी बातें सुनने, स्मरण करने या कीर्तन करनेकी हैं, उन सबमें यह श्रेष्ठ है।

आत्मज्ञानी महापुरुष ऐसे प्रश्नका बड़ा आदर करते हैं।।१।।

राजेन्द्र! जो गृहस्थ घरके काम-धंधोंमें उलझे हुए हैं, अपने स्वरूपको नहीं जानते, उनके लिये हजारों बातें कहने-सुनने एवं सोचने, करनेकी रहती हैं।।२।।

उनकी सारी उम्र यों ही बीत जाती है।

उनकी रात नींद या स्त्री-प्रसंगसे कटती है और दिन धनकी हाय-हाय या कुटुम्बियोंके भरण-पोषणमें समाप्त हो जाता है।।३।।

संसारमें जिन्हें अपना अत्यन्त घनिष्ठ सम्बन्धी कहा जाता है, वे शरीर, पुत्र, स्त्री आदि कुछ नहीं हैं, असत् हैं; परन्तु जीव उनके मोहमें ऐसा पागल-सा हो जाता है कि रात-दिन उनको मृत्युका ग्रास होते देखकर भी चेतता नहीं।।४।।

इसलिये परीक्षित्! जो अभय पदको प्राप्त करना चाहता है, उसे तो सर्वात्मा, सर्वशक्तिमान् भगवान् श्रीकृष्णकी ही लीलाओंका श्रवण, कीर्तन और स्मरण करना चाहिये।।५।।

मनुष्य-जन्मका यही – इतना ही लाभ है कि चाहे जैसे हो – ज्ञानसे, भक्तिसे अथवा अपने धर्मकी निष्ठासे जीवनको ऐसा बना लिया जाय कि मृत्युके समय भगवान् की स्मृति अवश्य बनी रहे।।६।।

परीक्षित्! जो निर्गुण स्वरूपमें स्थित हैं एवं विधि-निषेधकी मर्यादाको लाँघ चुके हैं, वे बड़े-बड़े ऋषि-मुनि भी प्रायः भगवान् के अनन्त कल्याणमय गुणगणोंके वर्णनमें रमे रहते हैं।।७।।

द्वापरके अन्तमें इस भगवद् रूप अथवा वेदतुल्य श्रीमद् भागवत नामके महापुराणका अपने पिता श्रीकृष्णद्वैपायनसे मैंने अध्ययन किया था।।८।।

राजर्षे! मेरी निर्गुणस्वरूप परमात्मामें पूर्ण निष्ठा है।

फिर भी भगवान् श्रीकृष्णकी मधुर लीलाओंने बलात् मेरे हृदयको अपनी ओर आकर्षित कर लिया।

यही कारण है कि मैंने इस पुराणका अध्ययन किया।।९।।

तुम भगवान् के परमभक्त हो, इसलिये तुम्हें मैं इसे सुनाऊँगा।

जो इसके प्रति श्रद्धा रखते हैं, उनकी शुद्ध चित्तवृत्ति भगवान् श्रीकृष्णके चरणोंमें अनन्यप्रेमके साथ बहुत शीघ्र लग जाती है।।१०।।

जो लोग लोक या परलोककी किसी भी वस्तुकी इच्छा रखते हैं या इसके विपरीत संसारमें दुःखका अनुभव करके जो उससे विरक्त हो गये हैं और निर्भय मोक्षपदको प्राप्त करना चाहते हैं, उन साधकोंके लिये तथा योगसम्पन्न सिद्ध ज्ञानियोंके लिये भी समस्त शास्त्रोंका यही निर्णय है कि वे भगवान् के नामोंका प्रेमसे संकीर्तन करें।।११।।

अपने कल्याण-साधनकी ओरसे असावधान रहनेवाले पुरुषकी वर्षों लम्बी आयु भी अनजानमें ही व्यर्थ बीत जाती है।

उससे क्या लाभ! सावधानीसे ज्ञानपूर्वक बितायी हुई घड़ी, दो घड़ी भी श्रेष्ठ है; क्योंकि उसके द्वारा अपने कल्याणकी चेष्टा तो की जा सकती है।।१२।।

राजर्षि खट् वांग अपनी आयुकी समाप्तिका समय जानकर दो घड़ीमें ही सब कुछ त्यागकर भगवान् के अभयपदको प्राप्त हो गये।।१३।।

परीक्षित्! अभी तो तुम्हारे जीवनकी अवधि सात दिनकी है।

इस बीचमें ही तुम अपने परम कल्याणके लिये जो कुछ करना चाहिये, सब कर लो।।१४।।

मृत्युका समय आनेपर मनुष्य घबराये नहीं।

उसे चाहिये कि वह वैराग्यके शस्त्रसे शरीर और उससे सम्बन्ध रखनेवालोंके प्रति ममताको काट डाले।।१५।।

धैर्यके साथ घरसे निकलकर पवित्र तीर्थके जलमें स्नान करे और पवित्र तथा एकान्त स्थानमें विधिपूर्वक आसन लगाकर बैठ जाय।।१६।।

तत्पश्चात् परम पवित्र ‘अ उ म्’ इन तीन मात्राओंसे युक्त प्रणवका मन-ही-मन जप करे।

प्राणवायुको वशमें करके मनका दमन करे और एक क्षणके लिये भी प्रणवको न भूले।।१७।।

बुद्धिकी सहायतासे मनके द्वारा इन्द्रियोंको उनके विषयोंसे हटा ले और कर्मकी वासनाओंसे चंचल हुए मनको विचारके द्वारा रोककर भगवान् के मंगलमय रूपमें लगाये।।१८।।

स्थिर चित्तसे भगवान् के श्रीविग्रहमेंसे किसी एक अंगका ध्यान करे।

इस प्रकार एक-एक अंगका ध्यान करते-करते विषय-वासनासे रहित मनको पूर्णरूपसे भगवान् में ऐसा तल्लीन कर दे कि फिर और किसी विषयका चिन्तन ही न हो।

वही भगवान् विष्णुका परमपद है, जिसे प्राप्त करके मन भगवत्प्रेमरूप आनन्दसे भर जाता है।।१९।।

यदि भगवान् का ध्यान करते समय मन रजोगुणसे विक्षिप्त या तमोगुणसे मूढ़ हो जाय तो घबराये नहीं।

धैर्यके साथ योगधारणाके द्वारा उसे वशमें करना चाहिये; क्योंकि धारणा उक्त दोनों गुणोंके दोषोंको मिटा देती है।।२०।।

धारणा स्थिर हो जानेपर ध्यानमें जब योगी अपने परम मंगलमय आश्रय (भगवान्)-को देखता है तब उसे तुरंत ही भक्तियोगकी प्राप्ति हो जाती है।।२१।।

परीक्षित् ने पूछा – ब्रह्मन्! धारणा किस साधनसे किस वस्तुमें किस प्रकार की जाती है और उसका क्या स्वरूप माना गया है, जो शीघ्र ही मनुष्यके मनका मैल मिटा देती है?।।२२।।

श्रीशुकदेवजीने कहा – परीक्षित्! आसन, श्वास, आसक्ति और इन्द्रियोंपर विजय प्राप्त करके फिर बुद्धिके द्वारा मनको भगवान् के स्थूलरूपमें लगाना चाहिये।।२३।।

यह कार्यरूप सम्पूर्ण विश्व जो कुछ कभी था, है या होगा – सब-का-सब जिसमें दीख पड़ता है वही भगवान् का स्थूल-से-स्थूल और विराट् शरीर है।।२४।।

जल, अग्नि, वायु, आकाश, अहंकार, महत्तत्त्व और प्रकृति – इन सात आवरणोंसे घिरे हुए इस ब्रह्माण्डशरीरमें जो विराट् पुरुष भगवान् हैं, वे ही धारणाके आश्रय हैं, उन्हींकी धारणा की जाती है।।२५।।

तत्त्वज्ञ पुरुष उनका इस प्रकार वर्णन करते हैं – पाताल विराट् पुरुषके तलवे हैं, उनकी एड़ियाँ और पंजे रसातल हैं, दोनों गुल्फ – एड़ीके ऊपरकी गाँठें महातल हैं, उनके पैरके पिंडे तलातल हैं,।।२६।।

विश्व-मूर्तिभगवान् के दोनों घुटने सुतल हैं, जाँघें वितल और अतल हैं, पेड़ू भूतल है और परीक्षित्! उनके नाभिरूप सरोवरको ही आकाश कहते हैं।।२७।।

आदिपुरुष परमात्माकी छातीको स्वर्गलोक, गलेको महर्लोक, मुखको जनलोक और ललाटको तपोलोक कहते हैं।

उन सहस्र सिरवाले भगवान् का मस्तकसमूह ही सत्यलोक है।।२८।।

इन्द्रादि देवता उनकी भुजाएँ हैं।

दिशाएँ कान और शब्द श्रवणेन्द्रिय हैं।

दोनों अश्विनीकुमार उनकी नासिकाके छिद्र हैं; गन्ध घ्राणेन्द्रिय है और धधकती हुई आग उनका मुख है।।२९।।

भगवान् विष्णुके नेत्र अन्तरिक्ष हैं, उनमें देखनेकी शक्ति सूर्य है, दोनों पलकें रात और दिन हैं, उनका भ्रूविलास ब्रह्मलोक है।

तालु जल है और जिह्वा रस।।३०।।

वेदोंको भगवान् का ब्रह्मरन्ध्र कहते हैं और यमको दाढ़ें।

सब प्रकारके स्नेह दाँत हैं और उनकी जगन्मोहिनी मायाको ही उनकी मुसकान कहते हैं।

यह अनन्त सृष्टि उसी मायाका कटाक्ष-विक्षेप है।।३१।।

लज्जा ऊपरका होठ और लोभ नीचेका होठ है।

धर्म स्तन और अधर्म पीठ है।

प्रजापति उनके मूत्रेन्द्रिय हैं, मित्रावरुण अण्डकोश हैं, समुद्र कोख है और बड़े-बड़े पर्वत उनकी हड्डियाँ हैं।।३२।।

राजन्! विश्वमूर्ति विराट् पुरुषकी नाड़ियाँ नदियाँ हैं।

वृक्ष रोम हैं।

परम प्रबल वायु श्वास है।

काल उनकी चाल है और गुणोंका चक्कर चलाते रहना ही उनका कर्म है।।३।।

परीक्षित्! बादलोंको उनके केश मानते हैं।

सन्ध्या उन अनन्तका वस्त्र है।

महात्माओंने अव्यक्त (मूलप्रकृति)-को ही उनका हृदय बतलाया है और सब विकारोंका खजाना उनका मन चन्द्रमा कहा गया है।।३४।।

महत्तत्त्वको सर्वात्मा भगवान् का चित्त कहते हैं और रुद्र उनके अहंकार कहे गये हैं।

घोड़े, खच्चर, ऊँट और हाथी उनके नख हैं।

वनमें रहनेवाले सारे मृग और पशु उनके कटिप्रेदशमें स्थित हैं।।३५।।

तरह-तरहके पक्षी उनके अद् भुत रचना-कौशल हैं।

स्वायम्भुव मनु उनकी बुद्धि हैं और मनुकी सन्तान मनुष्य उनके निवासस्थान हैं।

गन्धर्व, विद्याधर, चारण और अप्सराएँ उनके षड्ज आदि स्वरोंकी स्मृति हैं।

दैत्य उनके वीर्य हैं।।३६।।

ब्राह्मण मुख, क्षत्रिय भुजाएँ, वैश्य जंघाएँ और शूद्र उन विराट् पुरुषके चरण हैं।

विविध देवताओंके नामसे जो बड़े-बड़े द्रव्यमय यज्ञ किये जाते हैं, वे उनके कर्म हैं।।३७।।

परीक्षित्! विराट्भगवान् के स्थूलशरीरका यही स्वरूप है, सो मैंने तुम्हें सुना दिया।

इसीमें मुमुक्षु पुरुष बुद्धिके द्वारा मनको स्थिर करते हैं; क्योंकि इससे भिन्न और कोई वस्तु नहीं है।।३८।।

जैसे स्वप्न देखनेवाला स्वप्नावस्थामें अपने-आपको ही विविध पदार्थोंके रूपमें देखता है, वैसे ही सबकी बुद्धि-वृत्तियोंके द्वारा सब कुछ अनुभव करनेवाला सर्वान्तर्यामी परमात्मा भी एक ही है।

उन सत्यस्वरूप आनन्दनिधि भगवान् का ही भजन करना चाहिये, अन्य किसी भी वस्तुमें आसक्ति नहीं करनी चाहिये।

क्योंकि यह आसक्ति जीवके अधःपतनका हेतु है।।३९।।

इति श्रीमद् भागवते महापुराणे पारमहंस्यां संहितायां द्वितीयस्कन्धे महापुरुषसंस्थानुवर्णने प्रथमोऽध्यायः।।१।।


Next.. आगे पढें….. >> भागवत पुराण – द्वितीय स्कन्ध – अध्याय – 2

भागवत पुराण – द्वितीय स्कन्ध का अगला पेज पढ़ने के लिए क्लिक करें >>

भागवत पुराण – द्वितीय स्कन्ध – अध्याय – 2


Krishna Bhajan, Aarti, Chalisa

Krishna Bhajan