Maati Ke Putle Tujhe Kitna Guman Hai

_

माटी के पुतले तुझे कितना गुमान है


माटी के पुतले तुझे कितना गुमान है,
तेरी औकात क्या, तेरी क्या शान है॥

माटी के पुतले तुझे कितना गुमान है॥


चार दिन की है ये जिंदगानी तेरी,
रहने वाली नहीं नौजवानी तेरी,
खाक हो जाएगी हर निशानी तेरी,
खत्म हो जाएगी ये कहानी तेरी,
चार दिन का तेरा मान सम्मान है,
माटी के पुतले तुझे कितना गुमान है॥


राज हस्ती का अब तक ना समझा कोई,
है पराया यहाँ पर ना अपना कोई,
हश्र तक जीने वाला ना देखा कोई,
मौत से आजतक बच ना पाया कोई,
कुछ समझता नही कैसा इंसान है,
माटी के पुतले तुझे कितना गुमान है॥


ये जो दुनिया नजर आ रही है हसी,
चाट जाये ना इमां को तेरे कही,
गोद में तुझको लेलेगी एक दिन जमीं,
तुझको ये बात मालूम है के नही,
अपने ही घर में तू एक मेहमान है,
माटी के पुतले तुझे कितना गुमान है॥


अपनी करनी की नादाँ सजा पायेगा,
वक्त है और ना पास वर्ना पछतायेगा,
मौत के वक्त कुछ भी ना काम आएगा,
ये खजाना यही तेरा रह जायेगा,
माल दौलत का बेकार अरमान है,
माटी के पुतले तुझे कितना गुमान है॥


महकदे खाक है खाक हो जायेगा,
तू अँधेरे में एक रोज खो जायेगा,
अपनी हस्ती को गम में डुबो जायेगा,
कब्र की गोद में जाके सो जायेगा,
तू मगर सारी बातो से अनजान है,
माटी के पुतले तुझे कितना गुमान है॥


ग़म के मझधार में एक किनारा बने,
या जबीने वफ़ा का सितारा बने,
सबका अच्छा बने, सबका प्यारा बने,
आदमी आदमी का सहारा बने,
बस यही आदमियत की पहचान है,
माटी के पुतले तुझे कितना गुमान है॥


चार दिन की कहानी है ये जिंदगी,
मौत की नौकरानी है ये जिंदगी,
मय्यते जिंदगानी है ये जिंदगी,
देख नादान फानी है ये जिंदगी,
जिंदगी के लिए क्यों परेशान है,
माटी के पुतले तुझे कितना गुमान है॥


कोई चंगेज खा और ना हिटलर रहा,
कोई मुफ़लिस ना कोई तवंगर रहा,
कोई बदतर रहा और ना बेहतर रहा,
कोई दारा ना कोई सिकंदर रहा,
जीते जी सब तेरी आन है शान है,
माटी के पुतले तुझे कितना गुमान है॥


ये कुटुंब ये कबीले ना काम आएंगे,
ये तेरे बेटा बेटी ना काम आएंगे,
जो भी है तेरे अपने ना काम आएंगे,
ये महल और दुमहले ना काम आएंगे,
मोह माया में तेरी फंसी जान है,
माटी के पुतले तुझे कितना गुमान है॥


इस जमी को कुचलके जो चलता है तू,
इस तरह से उछलके जो चलता है तू,
यार मेरे मचलके जो चलता है तू,
यूँ ततबूर में ढलके जो चलता है तू,
मौत को भूल बैठा है, नादान है,
माटी के पुतले तुझे कितना गुमान है॥


झूठी अजमत पे इतना अकड़ता है क्यों,
माल ओ दौलत पे इतना अकड़ता है क्यों,
अच्छी हालत पे इतना अकड़ता है क्यों,
अपनी ताकत पे इतना अकड़ता है क्यों,
बुलबुले से भी नाजुक तेरी जान है,
माटी के पूतले तुझे कितना गुमान है॥


तेरा सबकुछ है बस जिंदगी के लिए,
ये जो है जिंदगी की अदा छोड़ दे,
क्यों ना केसर बुरा तुझको दुनिया कहे,
एक पल की खबर भी नही है तुझे,
सौ बरस का मगर घर में सामान है,
माटी के पूतले तुझे कितना गुमान है॥


माटी के पुतले तुझे कितना गुमान है,
तेरी औकात क्या, तेरी क्या शान है,
माटी के पुतले तुझे कितना गुमान है॥

_

Bhajan and Prayers

_
_

Maati Ke Putle Tujhe Kitna Guman Hai

Asad Irfan Sabri

_

Maati Ke Putle Tujhe Kitna Guman Hai


Maati ke putle tujhe kitna guman hai,
teri aukaat kya, teri kya shaan hai.

Maati ke putle tujhe kitna guman hai.

Chaar din ki hai ye jindagaani teri,
rahane wali nahin naujavaani teri,
khaak ho jaayegi har nishaani teri,
khatm ho jaayegi ye kahaani teri,
chaar din ka tera maan sammaan hai,
maati ke putle tujhe kitna guman hai.

Raaj hasti ka ab tak na samajha koi,
hai paraaya yahaan par na apana koi,
hashra tak jine vaala na dekha koi,
maut se aaj tak bach na paaya koi,
kuchh samajhata nahi kaisa insaan hai,
maati ke putle tujhe kitna guman hai.

Ye jo duniya najar aa rahi hai hasi,
chaat jaaye na imaan ko tere kahi,
god mein tujh ko lelegi ek din jamin,
tujh ko ye baat maaloom hai ke nahi,
apane hi ghar mein too ek mehamaan hai,
maati ke putle tujhe kitna guman hai.

Apani karani ki naadaan saja paayega,
vakt hai aur na paas varna pachhataayega,
maut ke vakt kuchh bhi na kaam aaega,
ye khajaana yahi tera rah jaayega,
maal daulat ka bekaar aramaan hai,
maati ke putle tujhe kitna guman hai.

Mahakade khaak hai khaak ho jaayega,
too andhere mein ek roj kho jaayega,
apani hasti ko gam mein dubo jaayega,
kabr ki god mein jaake so jaayega,
too magar saari baato se anajaan hai,
maati ke putle tujhe kitna guman hai.

Gam ke majhadhaar mein ek kinaara bane,
ya jabine vafa ka sitaara bane,
sab ka achchha bane, sab ka pyaara bane,
aadami aadami ka sahaara bane,
bas yahi aadamiyat ki pahachaan hai,
maati ke putle tujhe kitna guman hai.

Chaar din ki kahaani hai ye jindagi,
maut ki naukaraani hai ye jindagi,
mayyate jindagaani hai ye jindagi,
dekh naadaan phaani hai ye jindagi,
jindagi ke liye kyon pareshaan hai,
maati ke putle tujhe kitna guman hai.

Koi changej kha aur na hitlar raha,
koi mufalis na koi tavangar raha,
koi badtar raha aur na behtar raha,
koi daara na koi sikandar raha,
jite jee sab teri aan hai shaan hai,
maati ke putle tujhe kitna guman hai.

Ye kutumb ye kabile na kaam aayenge,
ye tere beta beti na kaam aayenge,
jo bhi hai tere apane na kaam aayenge,
ye mahal aur dumahale na kaam aayenge,
moh maaya mein teri phansi jaan hai,
maati ke putle tujhe kitna guman hai.

Is jami ko kuchalake jo chalata hai too,
is tarah se uchhalake jo chalata hai too,
yaar mere machalake jo chalata hai too,
yoon tataboor mein dhalake jo chalata hai too,
maut ko bhool baitha hai, naadaan hai,
maati ke putle tujhe kitna guman hai.

Jhoothi ajamat pe itanaa akadata hai kyon,
maal o daulat pe itana akadata hai kyon,
achchhi haalat pe itana akadata hai kyon,
apani taakat pe itana akadata hai kyon,
bulabule se bhi naajuk teri jaan hai,
maati ke pootale tujhe kitana gumaan hai.

Tera sabakuchh hai bas jindagi ke lie,
ye jo hai jindagi ki ada chhod de,
kyon na kesar bura tujh ko duniya kahe,
ek pal ki khabar bhi nahi hai tujhe,
sau baras ka magar ghar mein saamaan hai,
maati ke pootale tujhe kitana gumaan hai.

Maati ke putle tujhe kitna guman hai,
teri aukaat kya, teri kya shaan hai,
maati ke putle tujhe kitna guman hai.

_

Bhajan and Prayers

_