Categories
Krishna Bhajan

Aarti Kunj Bihari Ki – Krishna Aarti

Aarti Kunj Bihari ki,
Shri Girdhar Krishna Murari ki
Gale mein baijanti mala
Bajaave murli madhur balaa
Radhika Raman Bihari ki
Shri Girdhar Krishna Murari ki.

Krishna Bhajan

आरती कुंज बिहारी की – श्री कृष्ण आरती

आरती कुंज बिहारी की
श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की।

आरती कुंज बिहारी की
श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की।


गले में बैजंती माला
बजावे मुरली मधुर बाला
श्रवण में कुंडल झलकाला

नन्द के नन्द, श्री आनंद कंद,
मोहन बृज चंद

राधिका रमण बिहारी की
श्री गिरीधर कृष्ण मुरारी की

आरती कुंज बिहारी की
श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की


गगन सम अंग कांति काली
राधिका चमक रही आली
लतन में ठाढ़े बनमाली

भ्रमर सी अलक, कस्तूरी तिलक,
चंद्र सी झलक

ललित छवि श्यामा प्यारी की
श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की

आरती कुंज बिहारी की
श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की


कनकमय मोर मुकुट बिलसे
देवता दर्शन को तरसे
गगन सों सुमन रसी बरसे

बजे मुरचंग, मधुर मिरदंग,
ग्वालिन संग

अतुल रति गोप कुमारी की
श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की

आरती कुंज बिहारी की
श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की


जहां ते प्रकट भई गंगा
कलुष कलि हारिणि श्री गंगा
(Or – सकल मल हारिणि श्री गंगा)
स्मरन ते होत मोह भंगा

बसी शिव शीष, जटा के बीच,
हरै अघ कीच

चरन छवि श्री बनवारी की
श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की

आरती कुंज बिहारी की
श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की


चमकती उज्ज्वल तट रेनू
बज रही वृंदावन बेनू
चहुं दिशी गोपि ग्वाल धेनू

हंसत मृदु मंद, चांदनी चंद,
कटत भव फंद

टेर सुन दीन भिखारी की
श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की

आरती कुंज बिहारी की
श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की

आरती कुंज बिहारी की
श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की

Aarti Kunj Bihari Ki Download + Print

Shri Krishna Aarti – Aarti kunj bihari ki, shri girdhar krishna murari ki download as

PDF – [download id=”27416″ template=”pdf” version=”1″]

Image – [download id=”27416″ template=”image” version=”2″]

(For download – Krishna Bhajan Download 1)

For Print – PDF | Image

Krishna Bhajans

Aarti Kunj Bihari Ki – Krishna Aarti

कृष्ण भक्ति

आरती कुंज बिहारी की
श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की।


शीश मुकुट और मोर पंख, गल वैजन्तीमाल।
यह छबि मन में बस रही, यशोदा के गोपाल॥

तेरी मेरे सांवरे, युग युग की है प्रीत।
मैं चरणों का दास हूँ, तू मेरे मन का मीत॥

रोग शोक संकट हरे, बाधा निकट न आये।
है प्रताप हरी नाम में, जो लेवे तर जाये॥ 

राम वही है, कृष्ण वही, लक्ष्मण वही  बलराम।
त्रेता द्वापर की छबि, है ये चारों धाम॥

गीध, गणिका और अजामिल को तुमने तारा है।
गज को मुक्ति दिलाई, ग्राह को जा मारा है॥

शबरी भीलनी औरअहिल्या को, तूने ही तो उबारा है।
लाज द्रौपदी की बचाई, तू ही तो रखवारा है॥

आरती कुंज बिहारी की
श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की।


मनुष्यों के लिए सर्वश्रेष्ठ धर्म वही है, जिससे भगवान श्रीकृष्ण के प्रति हृदय में भक्ति अंकुरित हो। भक्ति के अंकुरित होते ही, निष्काम ज्ञान और वैराग्य प्रकट हो जाता है। श्रद्धालु भक्तजन ज्ञान और वैराग्ययुक भक्ति से अपने हृदय में उस परमतत्व परमात्मा का साक्षात् अनुभव करते हैं। इसलिए एकाग्रमन से भकवत्सल भगवान का ही नित्य निरंतर श्रवण, कीर्तन, ध्यान और आराधना करना चाहिए।


आरती कुंज बिहारी की
श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की।
गले में बैजंती माला
बजावे मुरली मधुर बाला
श्रवण में कुंडल झलकाला
राधिका रमण बिहारी की
श्री गिरीधर कृष्ण मुरारी की

Aarti Kunj Bihari Ki Lyrics

Aarti Kunj Bihari ki,
Shri Girdhar Krishna Murari ki

Aarti Kunj Bihari ki,
Shri Girdhar Krishna Murari ki


Gale mein baijanti mala
Bajaave murli madhur balaa
Shravan mein kundal jhalakala,

Nand ke Nand, Shri Anand kand,
Mohan Brij chand

Radhika Raman Bihari ki
Shri Girdhar Krishna Murari ki

Aarti Kunj Bihari ki
Shri Girdhar Krishna Murari ki


Gagan sam ang kanti kali
Radhika chamak rahi aali
latan mein thadhe banmali

Bhramar si alak, kasturi tilak,
chandra si jhalak

Lalit chhavi Shyamaa pyari ki
Shri Giradhar Krishna Murari ki

Aarti Kunj Bihari ki,
Shri Girdhar Krishna Murari ki


Kanakmay mor mukut bilse
Devta darshan ko tarase
Gagan so suman rasi barse

Baje murchang, madhur mirdang,
gwaalin sang

Atul rati gop kumaari ki
Shri Giradhar Krishna Murari ki

Aarti Kunj Bihari ki,
Shri Girdhar Krishna Murari ki


Jahaa se pragat bhayi Ganga
Kalush kali haarini Shri Ganga (Or – Sakal mal haarini Shri Ganga)
Smaran se hot moh bhangaa

Basi Shiv sheesh, jataa ke beech,
haraye agh keech

Charan chhavi Shri Banwari ki.
Shri Giradhar Krishna Murari ki

Aarti Kunj Bihari ki,
Shri Girdhar Krishna Murari ki


Chamakti ujjawal tat renu
Baj rahi Vrindavan benu
Chahu disi gopi gwaal dhenu

Hansat mridu mand, chandani chand,
katat bhav phand

Ter sun din bhikhaari ki,
Shree Girdhar Krishna Murari ki

Aarti Kunj Bihari ki,
Shri Girdhar Krishna Murari ki

Aarti Kunj Bihari ki,
Shri Girdhar Krishna Murari ki

Krishna Bhajans


Krishna Bhakti

Aarti Kunj Bihari ki,
Shri Girdhar Krishna Murari ki


Shish mukut aur mor pankh, gal vaijanti maal.
Yah chhabi man mein bas rahi, yashoda ke gopaal.

Teri mere saanvre, yug yug ki hai preet.
Main charanon ka daas hoon, too mere man ka meet.

Rog shok sankat hare, baadha nikat na aaye.
Hai prataap hari naam mein, jo leve tar jaaye.

Raam vahi hai, krishna vahi, lakshman vahi balaraam.
Treta dvaapar ki chhabi, hai ye chaaro dhaam.

Gidh, ganika aur ajaamil ko tum ne taara hai.
Gaj ko mukti dilai, graah ko ja maara hai.

Shabari bhilani aur ahilya ko toone hi to ubaara hai.
Laaj draupadi ki bachaayi, too hi to rakhwara hai.


Aarti Kunj Bihari ki,
Shri Girdhar Krishna Murari ki
Gale mein baijanti mala
Bajaave murli madhur balaa
Shravan mein kundal jhalakala,
Radhika Raman Bihari ki
Shri Girdhar Krishna Murari ki