Meaning

श्री राम आरती - श्रीरामचन्द्र कृपालु भज मन - अर्थ सहित

श्रीरामचन्द्र कृपालु भज मन
हरण भवभय दारुणम्।
नवकंज-लोचन कंज-मुख
कर-कंज पद-कंजारुणम्॥
श्रीरामचन्द्र कृपालु भज मन – हे मन, कृपालु (कृपा करनेवाले, दया करनेवाले) भगवान श्रीरामचंद्रजी का भजन कर

read more ....

शिव तांडव स्तोत्र - अर्थसहित

जटाटवीगलज्जल प्रवाह पावितस्थले
गलेऽवलम्ब्य लम्बितां भुजङ्ग तुङ्ग मालिकाम्।
जो शिव जी डम-डम डमरू बजा कर प्रचण्ड ताण्डव करते हैं,
वे शिवजी हमारा कल्यान करें

read more ....

दुर्गा सप्तशती - प्रथम अध्याय

मेधा ऋषि का – राजा सुरथ और समाधि को – भगवती की महिमा बताते हुए – मधु और कैटभ वध का प्रसंग सुनाना।
महाकाली जी का ध्यान मन्त्र
ॐ नमश्चण्डिकायै – ॐ चण्डीदेवीको नमस्कार है।

read more ....

दुर्गा सप्तशती - द्वितीय अध्याय

दुर्गा सप्तशती (द्वितीय अध्याय) – अर्थ सहित
देवताओं के तेज से – देवी दुर्गा का प्रादुर्भाव और – महिषासुर की सेना का वध
महिषासुर-मर्दिनी भगवती महालक्ष्मीका का ध्यान मन्त्र

read more ....

दुर्गा सप्तशती - तृतीय अध्याय

दुर्गा सप्तशती (तृतीय अध्याय) – अर्थ सहित
सेनापतियोंसहित महिषासुर का वध
उनके मस्तकपर चन्द्रमाके साथ ही रत्नमय मुकुट बँधा है तथा वे कमलके आसन पर विराजमान हैं। ऐसी देवीको मैं भक्तिपूर्वक प्रणाम करता हूँ।

read more ....

दुर्गा सप्तशती - चौथा अध्याय

श्री दुर्गा सप्तशती (चौथा अध्याय) – अर्थ सहित
इन्द्रादि देवताओं द्वारा देवीकी स्तुति
चण्डिके! पूर्व, पश्चिम और दक्षिण दिशामें आप हमारी रक्षा करें तथा
ईश्वरि! अपने त्रिशूलको घुमाकर आप उत्तर दिशामें भी हमारी रक्षा करें।

read more ....

दुर्गा सप्तशती - पाँचवाँ अध्याय

पाँचवाँ अध्याय (श्री दुर्गा सप्तशती) – अर्थ सहित
देवताओंद्वारा देवीकी स्तुति,
या देवी सर्वभूतेषु बुद्धिरूपेण संस्थिता।
नमस्तस्यै, नमस्तस्यै, नमस्तस्यै नमो नमः

read more ....

दुर्गा सप्तशती - छठा अध्याय

छठा अध्याय (श्री दुर्गा सप्तशती) – अर्थ सहित
धूम्रलोचन-वध
देवीने धूम्रलोचन असुरको मार डाला तथा उसके सिंहने सारी सेनाका सफाया कर डाला

read more ....