M

मुकुंदा मुकुंदा, कृष्णा मुकुंदा मुकुंदा - कृष्णा भक्ति गीत

मुकुंदा मुकुंदा, कृष्णा मुकुंदा मुकुंदा
मुझे दान में दे वृंदा, विरिन्दा विरिन्दा।
मटकी से माखन फिर से चुरा,
गोपियों का विरह तू आके मिटा॥

read more ....

मधुराष्टकम - अर्थ साहित - अधरं मधुरं वदनं मधुरं

अधरं मधुरं वदनं मधुरं,
नयनं मधुरं हसितं मधुरम्।
हृदयं मधुरं गमनं मधुरं,
मधुराधिपतेरखिलं मधुरम्॥
अधरं मधुरं – श्री कृष्ण के होंठ मधुर हैं
वदनं मधुरं – मुख मधुर है
नयनं मधुरं – नेत्र (ऑंखें) मधुर हैं
हसितं मधुरम् – मुस्कान मधुर है

read more ....