M

मुकुंदा मुकुंदा, कृष्णा मुकुंदा मुकुंदा - कृष्णा भक्ति गीत

मुकुंदा मुकुंदा, कृष्णा मुकुंदा मुकुंदा
मुझे दान में दे वृंदा, विरिन्दा विरिन्दा।
मटकी से माखन फिर से चुरा,
गोपियों का विरह तू आके मिटा॥

read more ....

मधुराष्टकम - अर्थ साहित - अधरं मधुरं वदनं मधुरं

अधरं मधुरं वदनं मधुरं,
नयनं मधुरं हसितं मधुरम्।
हृदयं मधुरं गमनं मधुरं,
मधुराधिपतेरखिलं मधुरम्॥
अधरं मधुरं – श्री कृष्ण के होंठ मधुर हैं
वदनं मधुरं – मुख मधुर है
नयनं मधुरं – नेत्र (ऑंखें) मधुर हैं
हसितं मधुरम् – मुस्कान मधुर है

read more ....

माँ दुर्गा के 108 नाम - अर्थसहित

अनन्ता: जिनके स्वरूप का कहीं अन्त नहीं
अभव्या : जिससे बढ़कर भव्य कुछ नहीं
महिषासुर-मर्दिनि: महिषासुर का वध करने वाली
सर्वासुरविनाशा: सभी राक्षसों का नाश करने वाली
माहेश्वरी: प्रभु शिव की शक्ति

read more ....

मैया मै निहाल हो गया

सब करदी मुरादे पूरी
मैया मै निहाल हो गया।
मैया दयावान तूने दिया दोनों हाथो से
इतना की झोली ना समाया है।

read more ....