Bhavani Ashtakam – Meaning in Hindi

न तातो न माता न बन्धुर्न दाता
न पुत्रो न पुत्री न भृत्यो न भर्ता।
न जाया न विद्या न वृत्तिर्ममैव
गतिस्त्वं गतिस्त्वं त्वमेका भवानि

Shankar Sahney

Bhavani Ashtakam – भवानी अष्टकम – अर्थ सहित – Lyrics in Hindi


आदि शंकराचार्य रचित भवानी अष्टकम – हिंदी अर्थ सहित

न तातो न माता न बन्धुर्न दाता
न पुत्रो न पुत्री न भृत्यो न भर्ता।
न जाया न विद्या न वृत्तिर्ममैव
गतिस्त्वं गतिस्त्वं त्वमेका भवानि॥१॥

अर्थ (Stotra Meaning in Hindi):

  • न तातो, न माता – न पिता, न माता
  • न बन्धुर्न दाता – ना सम्बन्धी, न भाई बहन, न दाता
  • न पुत्रो, न पुत्री – न पुत्र, न पुत्री
  • न भृत्यो, न भर्ता – ना सेवक, न पति
  • न जाया, न विद्या – न पत्नी, न ज्ञान
  • न वृत्तिर्ममैव – और ना व्यापार ही मेरे हैं
  • गतिस्त्वं – एकमात्र तुम्हीं मेरी गति हो (तुम्हीं मेरा सहारा हो)
  • गतिस्त्वं – तुम्हीं मेरी गति हो (मैं केवल तुम्हारी शरण हूँ)
  • त्वमेका भवानि – हे भवानी

भावार्थ:

हे भवानी! पिता, माता, भाई बहन, दाता, पुत्र, पुत्री, सेवक, स्वामी, पत्नी, विद्या और व्यापार – इनमें से कोई भी मेरा नहीं है, हे भवानी माँ! एकमात्र तुम्हीं मेरी गति हो, मैं केवल आपकी शरण हूँ।


भवाब्धावपारे महादुःखभीरुः
पपात प्रकामी प्रलोभी प्रमत्तः।
कुसंसार-पाश-प्रबद्धः सदाहं
गतिस्त्वं गतिस्त्वं त्वमेका भवानि॥२॥

अर्थ (Stotra Meaning in Hindi):

  • भवाब्धावपारे – मैं अपार भवसागर में पड़ा हुआ हूँ,
  • महादुःखभीरु – महान् दु:खों से भयभीत हूँ;
  • पपात प्रकामी प्रलोभी प्रमत्तः – कामी, लोभी, मतवाला तथा
  • कुसंसारपाश-प्रबद्धः सदाहं – कुसंसारके (घृणायोग्य संसारके) बन्धनों में बँधा हुआ हूँ
  • गतिस्त्वं गतिस्त्वं त्वमेका भवानि – हे भवानी! अब एकमात्र तुम्हीं मेरी गति हो। मैं केवल तुम्हारी शरण हूँ।

भावार्थ:

हे भवानी माँ, मैं जन्म-मरण के इस अपार भवसागर में पड़ा हुआ हूँ, भवसागर के महान् दु:खों से भयभीत हूँ। मैं पाप, लोभ और कामनाओ से भरा हुआ हूँ तथा घृणायोग्य संसारके (कुसंसारके) बन्धनों में बँधा हुआ हूँ। हे भवानी! मैं केवल तुम्हारी शरण हूँ, अब एकमात्र तुम्हीं मेरी गति हो।


न जानामि दानं न च ध्यानयोगं
न जानामि तंत्रं न च स्तोत्र-मन्त्रम्।
न जानामि पूजां न च न्यासयोगम्
गतिस्त्वं गतिस्त्वं त्वमेका भवानि॥३॥

अर्थ (Stotra Meaning in Hindi):

  • न जानामि दानं – मैं न तो दान देना जानता हूँ और
  • न च ध्यानयोगं – न ध्यान-योग का ही मुझे पता है,
  • न जानामि तंत्रं – तन्त्र का मुझे ज्ञान नहीं है और
  • न च स्तोत्र-मन्त्रम् – स्तोत्र-मन्त्रों का भी मुझे ज्ञान नहीं है
  • न जानामि पूजां – न मैं पूजा जानता हूँ
  • न च न्यासयोगम् – ना ही न्यास योग आदि क्रियाओं का मुझे ज्ञान है
  • गतिस्त्वं गतिस्त्वं त्वमेका भवानि – हे देवि! हे भवानी! अब एकमात्र तुम्हीं मेरी गति हो

भावार्थ:

हे भवानी! मैं न तो दान देना जानता हूँ और न ध्यानयोग मार्ग का ही मुझे पता है। तंत्र, मंत्र और स्तोत्र का भी मुझे ज्ञान नहीं है। पूजा तथा न्यास योग आदि की क्रियाओं को भी मै नहीं जानता हूँ। हे देवि! हे माँ भवानी! अब एकमात्र तुम्हीं मेरी गति हो, मुझे केवल तुम्हारा ही आश्रय है।


न जानामि पुण्यं न जानामि तीर्थं
न जानामि मुक्तिं लयं वा कदाचित्।
न जानामि भक्तिं व्रतं वापि मात-
र्गतिस्त्वं गतिस्त्वं त्वमेका भवानि॥४॥

अर्थ (Stotra Meaning in Hindi):

  • न जानामि पुण्यं – न मै पुण्य जानता हूँ
  • न जानामि तीर्थं – न ही तीर्थों को जानता हूँ,
  • न जानामि मुक्तिं – न मुक्ति का ज्ञान है
  • लयं वा कदाचित् – न लय का (ईश्वर के साथ एक होने का ज्ञान)
  • न जानामि भक्तिं – मुझे भक्ति का ज्ञान नहीं है और
  • व्रतं वापि मात – हे माता! व्रत भी मुझे ज्ञात नहीं है
  • र्गतिस्त्वं गतिस्त्वं त्वमेका भवानि – हे भवानी! अब केवल तुम्हीं मेरा सहारा हो, तुम्हीं मेरी गति हो।

भावार्थ:

हे भवानी माता! मै न पुण्य जानता हूँ, ना ही तीर्थों को, न मुक्ति का पता है न लय का। हे मा भवानी! भक्ति और व्रत भी मुझे ज्ञान नहीं है। हे भवानी! एकमात्र तुम्हीं मेरी गति हो, अब केवल तुम्हीं मेरा सहारा हो।


कुकर्मी कुसङ्गी कुबुद्धिः कुदासः
कुलाचारहीनः कदाचारलीनः।
कुदृष्टिः कुवाक्यप्रबन्धः सदाहम्
गतिस्त्वं गतिस्त्वं त्वमेका भवानि॥५॥

अर्थ (Stotra Meaning in Hindi):

  • कुकर्मी कुसङ्गी – मैं कुकर्मी, बुरी संगति में रहने वाला (कुसंगी)
  • कुबुद्धिः कुदासः – दुर्बुद्धि, दुष्टदास
  • कुलाचारहीनः कदाचारलीनः – कुलोचित सदाचार से हीन, दुराचारपरायण (नीच कार्यो में ही प्रवत्त रहता हूँ),
  • कुदृष्टिः – कुदृष्टि (कुत्सित दृष्टि) रखने वाला और
  • कुवाक्यप्रबन्धः सदाहम् – सदा दुर्वचन बोलने वाला हूँ
  • गतिस्त्वं गतिस्त्वं त्वमेका भवानि – हे भवानी! मुझ अधम की एकमात्र तुम्हीं गति हो

भावार्थ:

मैं कुकर्मी, कुसंगी (बुरी संगति में रहने वाला), कुबुद्धि (दुर्बुद्धि), कुदास(दुष्टदास) और नीच कार्यो में ही प्रवत्त रहता हूँ (सदाचार से हीन कार्य), दुराचारपरायण, कुत्सित दृष्टि (कुदृष्टि) रखने वाला और सदा दुर्वचन बोलने वाला हूँ। हे भवानी! मुझ अधम की एकमात्र तुम्हीं गति हो, मुझे केवल तुम्हारा ही आश्रय है।


प्रजेशं रमेशं महेशं सुरेशं
दिनेशं निशीथेश्वरं वा कदाचित्।
न जानामि चान्यत् सदाहं शरण्ये
गतिस्त्वं गतिस्त्वं त्वमेका भवानि॥६॥

अर्थ (Stotra Meaning in Hindi):

  • प्रजेशं रमेशं महेशं सुरेशं – मैं ब्रह्मा, विष्णु, शिव, इन्द्र को नहीं जानता
  • दिनेशं निशीथेश्वरं वा कदाचित् – न मैं सूर्य को और न चन्द्रमा को जानता हूँ,
  • न जानामि चान्यत् – अन्य किसी भी देवता को नहीं जानता
  • सदाहं शरण्ये – हे शरण देनेवाली माता!
  • गतिस्त्वं गतिस्त्वं त्वमेका भवानि – हे भवानी! एकमात्र तुम्हीं मेरी गति हो

भावार्थ:

हे माँ भवानी! मैं ब्रह्मा, विष्णु, शिव, इन्द्र को नहीं जानता हूँ। सूर्य, चन्द्रमा,तथा अन्य किसी भी देवता को भी नहीं जानता हूँ। हे शरण देनेवाली माँ भवानी! तुम्हीं मेरा सहारा हो, मैं केवल तुम्हारी शरण हूँ, एकमात्र तुम्हीं मेरी गति हो।


विवादे विषादे प्रमादे प्रवासे
जले चानले पर्वते शत्रुमध्ये।
अरण्ये शरण्ये सदा मां प्रपाहि
गतिस्त्वं गतिस्त्वं त्वमेका भवानि॥७॥

भावार्थ:

  • हे भवानी! तुम विवाद, विषाद में, प्रमाद, प्रवास में, जल, अनल में (अग्नि में), पर्वतो में, शत्रुओ के मध्य में और वन (अरण्य) में सदा ही मेरी रक्षा करो, हे भवानी माँ! मुझे केवल तुम्हारा ही आश्रय है, एकमात्र तुम्हीं मेरी गति हो।

अनाथो दरिद्रो जरा-रोगयुक्तो
महाक्षीणदीनः सदा जाड्यवक्त्रः।
विपत्तौ प्रविष्टः प्रणष्टः सदाहम्
गतिस्त्वं गतिस्त्वं त्वमेका भवानि ॥८॥

भावार्थ:

  • हे माता! मैं सदा से ही अनाथ, दरिद्र, जरा-जीर्ण, रोगी हूँ। मै अत्यन्त दुर्बल, दीन, गूँगा, विपद्ग्रस्त (विपत्तिओं से घिरा रहने वाला) और नष्ट हूँ। अत: हे भवानी माँ! अब तुम्हीं एकमात्र मेरी गति हो, मैं केवल आपकी ही शरण हूँ, तूम्हीं मेरा सहारा हो।

॥इति श्रीमच्छड़्कराचार्यकृतं भवान्यष्टकं सम्पूर्णम्॥


For more bhajans from category, Click -

-
-

_

Durga Bhajans

  • Navdurga – Maa Chandraghanta
    नवदुर्गा - माँ दुर्गा का तीसरा रूप - माँ चन्द्रघण्टा
    माँ दुर्गाजी का तीसरा स्वरुप - माँ चन्द्रघण्टा
    नवरात्रि का तीसरा दिन माँ चन्द्रघण्टा की उपासना का दिन होता है।
    माँ चंद्रघंटा का स्वरूप परम शान्तिदायक और कल्याणकारी है।
    इनकी कृपासे साधक के समस्त पाप और बाधाएँ नष्ट हो जाती हैं।
  • Sachi Hai Tu Saccha Tera Darbar – Hindi
    सच्ची है तू सच्चा तेरा दरबार
    सच्ची है तू, सच्चा तेरा दरबार, माता रानिये
    करदे दया की एक नज़र एक बार, माता रानिये
    क्या गम है, कैसी उलझन,
    जब सर पे तेरा हाथ है
    हर दुःख में हर संकट में,
    माता तू हमारे साथ है
  • Maiya Main Nihaal Ho Gaya – Hindi
    मैया मै निहाल हो गया
    सब करदी मुरादे पूरी
    मैया मै निहाल हो गया।
    मैया दयावान तूने दिया दोनों हाथो से
    इतना की झोली ना समाया है।
  • Jai Santoshi Mata – Santoshi Mata Aarti
    जय सन्तोषी माता - सन्तोषी माता आरती
    Jai Santoshi Mata,
    Maiya, Santoshi Mata.
    Apane sevak jan ki,
    sukh sampatti daata.
    Jai Santoshi Mata.
  • Durga Hai Meri Maa, Ambe Hai Meri Maa
    दुर्गा है मेरी माँ, अम्बे है मेरी माँ
    Durga hai meri maa,
    Ambe hai meri maa
    Bolo Jai Mata Di, jai ho
    Jo bhi dar pe aaye, jai ho
    Wo khaali na jae, jai ho
  • Dil Wali Palki – Durga Bhajan
    दिल वाली पालकी
    Dil wali palki wich
    tenu maa bithana hai.
    Chal mere naal tenu
    ghar laike jaana ai.
  • Shakti De Maa – Pag Pag Thokar – Hindi
    शक्ति दे माँ, शक्ति दे माँ
    तेरे द्वारे जो भी आया,
    उसने जो माँगा वो पाया
    मैं भी तेरा सवाली,
    शक्तिशाली शेरों वाली, माँ जगदम्बे
  • Man Tera Mandir Aankhen Diya Bati – Hindi
    मन तेरा मंदिर आखेँ दिया बाती
    हे महाकाल महाशक्ती, हमे दे दे ऐसी भक्ती
    हे जगजननी महामाया, है तु ही धूप और छाया
    तू अमर अजर अविनाशी, तु अनमिट पू्र्णमासी
    सब करके दुर अंधेरे, हमे बक्क्षों नये सवेरे
  • Aaj Ashtami Ki Pooja Karwaongi
    आज अष्टमी की पूजा करवाउंगी
    Aaj ashtami ki pooja karwaongi
    Jyot maiya ji ki paavan jalaongi
    He maiya, he maiya, sada ho teri jai maiya
    Man ki muraade main paaungi
  • Navdurga – Maa Shailputri
    नवदुर्गा - माँ दुर्गा का पहला स्वरूप - माँ शैलपुत्री
    देवी शैलपुत्री नव दुर्गाओं में प्रथम दुर्गा हैं।
    शैलपुत्री दुर्गा का महत्त्व और शक्तियाँ अनन्त हैं।
    नवरात्र पूजन में प्रथम दिवस इन्हीं की पूजा और उपासना की जाती है।
_

Bhajan List

Durga Devi Bhajans – Hindi
Devi Aarti – Hindi
Bhajan, Aarti, Chalisa, Dohe – List

_
_

Durga Bhajan Lyrics

  • Hey Maat Meri – Kaisi Yeh Der Lagai Hai Durge
    कैसी यह देर लगाई है दुर्गे
    Hey maat meri, hey maat meri
    Hey maat meri, hey maat meri
    Kaisi yeh der lagai hai Durge
    Hey maat meri, hey maat meri
  • Karti Hu Tumhara Vrat Main – Hindi
    करती हूँ तुम्हारा व्रत मैं - बेडा पार करो माँ
    करती हूँ तुम्हारा व्रत मैं,
    बेडा पार करो माँ,
    कल्याण मेरा हो सकता है,
    माँ आप जो चाहें
    हे माँ संतोषी, माँ संतोषी
  • Brahmacharini Stuti – Jai Maa Brahmacharini
    ब्रह्मचारिणी स्तुति - जय माँ ब्रह्मचारिणी
    Jai Maa Brahmacharini,
    Brahma ko diya gyan.
    Navaratri ke dusre din
    saare karate dhyan.
  • Kabhi Fursat Ho To Jagdambe – Hindi
    कभी फुर्सत हो तो जगदम्बे
    कभी फुर्सत हो तो जगदम्बे,
    निर्धन के घर भी आ जाना
    इस श्रद्धा की रख लो लाज हे माँ,
    इस अर्जी को ना ठुकरा जाना
  • Mata Rani Ka Dhyan Dhariye – Hindi
    माता रानी का ध्यान धरिये
    माता रानी का ध्यान धरिये
    काम जब भी कोई करिए
    कोई मुश्किल हो पल में टलेगी,
    हर जगह पे सफलता मिलेगी
_
_

Bhajans and Aarti

  • Aarti – List
    आरती - Aarti - List
    Krishna Aarti - Aarti Kunj Bihari Ki
    Shri Ramacandra kripalu bhaj man
    Maa Durga Aarti - Jai Ambe Gauri
    Jai Ganesh, Jai Ganesh Deva
  • Kshama Karo Tum Mere Prabhuji – Hindi
    क्षमा करो तुम मेरे प्रभुजी
    क्षमा करो तुम मेरे प्रभुजी,
    अब तक के सारे अपराध
    धो डालो तन की चादर को,
    लगे है उसमे जो भी दाग
    नारायण अब शरण तुम्हारे,
    तुमसे प्रीत होये निज राग
  • Jiski Lagi Re Lagan Bhagwan Mein – Hindi
    जिसकी लागी रे लगन भगवान में
    जिसकी लागी रे लगन भगवान में,
    उसका दिया रे जलेगा तूफ़ान में
    अनहोनी को होनी करदे
    उसका नाम है राम रे
  • Chhote Chhote Pairan Mein – Hindi
    छोटे छोटे पैरन में बाजे रे पायलिया
    छोटे छोटे पैरन में बाजे रे पायलिया
    माँ यशोदा के आँगन घुटवन चले
    कौन सो तप कियो माता यशोदा
    कौन सो दान पुण्य कियो भले
    त्रिलोकी जैसे पूत मिले
  • Sunderkand – Audio + Chaupai -04
    सुंदरकाण्ड - चौपाई और दोहे - Audio - 4
    सुनि सुत बध लंकेस रिसाना।
    पठएसि मेघनाद बलवाना॥
    मारसि जनि सुत बाँधेसु ताही।
    देखिअ कपिहि कहाँ कर आही॥
  • Hey Gopal Krishna Karu Aarti Teri – Hindi
    हे गोपाल कृष्ण, करूँ आरती तेरी
    हे गोपाल कृष्ण, करूँ आरती तेरी
    हे प्रिया पति, मैं करूँ आरती तेरी
    तुझपे ओ कान्हा बलि बलि जाऊं
    सांज सवेरे तेरे गुण गाउँ
  • रहीम के दोहे – १ | Rahim ke Dohe – 1

    एकै साधे सब सधै, सब साधे सब जाय। रहिमन मूलहिं सींचिबो, फूलै फलै अघाय॥ छिमा बड़न को चाहिए, छोटेन को … Continue reading रहीम के दोहे – १ | Rahim ke Dohe – 1
  • Kailash Ke Nivasi Namo – Hindi
    कैलाश के निवासी नमो बार बार
    कैलाश के निवासी नमो बार बार हूँ,
    आयो शरण तिहारी भोले तार तार तू
    भक्तो को कभी शिव तुने निराश ना किया
    माँगा जिन्हें जो चाहा वरदान दे दिया
  • Mera Man Panchi Ye Bole
    मेरा मन पंछी ये बोले उड़ वृन्दावन जाऊँ
    Mera man panchi ye bole,
    ud Vrindavan jau
    Braj ki lata pata mein mai
    Radhe Radhe gaoon
  • Om Namah Shivay Har Har Bhole Namah Shivay – Hindi
    ओम नमः शिवाय, हर हर भोले
    ॐ नमः शिवाय ॐ नमः शिवाय
    हर हर भोले नमः शिवाय
    रामेश्वराय शिव रामेश्वराय
    हर हर भोले नमः शिवाय
_
_

Bhakti Geet Lyrics

  • Mere to Girdhar Gopal – Hindi
    मेरे तो गिरधर गोपाल
    जाके सिर मोर मुकुट, मेरो पति सोई।
    तात मात भ्रात बंधु, आपनो न कोई॥
    कोई कहे कारो, कोई कहे गोरो
    लियो है अँखियाँ खोल
  • Sant Kabir ke Dohe – 3 – Hindi
    संत कबीर के दोहे - 3
    [kdh] <<< (संत कबीर के दोहे – भाग 2) <<< (Sant Kabir ke Dohe – Page 2) संत कबीर के … Continue reading Sant Kabir ke Dohe – 3 – Hindi
  • Ram Ka Sumiran Kiya Karo – Hindi
    राम का सुमिरन किया करो
    राम का सुमिरन किया करो,
    प्रभु के सहारे जिया करो
    जो दुनिया का मालिक है,
    नाम उसी का लिया करो
  • Meri Lagi Shyam Sang Preet
    मेरी लगी श्याम संग प्रीत
    Meri lagi Shyam sang preet,
    ye duniya kya jane
    Mujhe mil gaya man ka mit,
    ye duniya kya jaane
    Kya jaane koi kya jane
  • Sainath Tere Hazaron Haath – Hindi
    साईनाथ तेरे हजारों हाथ
    राम नाम की है तू माला
    गौतम वाला तुझ में उजाला
    तेरा दर है दया का सागर
    सब मज़हब भरते है गागर
_