Shyam Mane Chakar Rakho Ji – Hindi

Krishna Bhajan – श्याम मने चाकर राखो जी – Lyrics in Hindi


श्याम मने चाकर राखो जी,
श्याम मने चाकर राखो जी,


चाकर रहसूं बाग लगासूं,
नित उठ दरसण पासूं।
वृन्दावन की कुंजगलिन में
तेरी लीला गासूं॥

श्याम मने चाकर राखो जी


चाकरी में दरसण पाऊं,
सुमिरण पाऊं खरची।
भाव भगति जागीरी पाऊं,
तीनूं बाता सरसी॥

श्याम मने चाकर राखो जी


मोर मुकुट पीतांबर सोहै,
गल बैजंती माला।
वृन्दावन में धेनु चरावे
मोहन मुरलीवाला॥

श्याम मने चाकर राखो जी


हरे हरे नित बाग लगाऊं,
बिच बिच राखूं क्यारी।
सांवरिया के दरसण पाऊं,
पहर कुसुम्मी सारी॥

श्याम मने चाकर राखो जी


जोगी आया जोग करणकूं
तप करणे संन्यासी।
हरी भजनकूं साधू आया
बिंद्राबन के बासी॥

श्याम मने चाकर राखो जी


मीरा के प्रभु गहिर गंभीरा,
सदा रहो जी धीरा।
आधी रात प्रभु दरसन दीन्हें,
प्रेमनदी के तीरा॥

श्याम मने चाकर राखो जी


श्याम मने चाकर राखो जी,
चाकर रहसूं बाग लगासूं,
नित उठ दरसण पासूं।

वृन्दावन की कुंजगलिन में
तेरी लीला गासूं॥

श्याम मने चाकर राखो जी
श्याम मने चाकर राखो जी

_
_