Shree Ganesh Chalisa – Hindi

श्री गणेश चालीसा

जय जय जय गणपति गणराजू।
मंगल भरण करण शुभ काजू॥
जय गजबदन सदन सुखदाता।
विश्व-विनायक बुद्घि विधाता॥

_

Shree Ganesh Chalisa


दोहा:

जय गणपति सदगुणसदन,
कविवर बदन कृपाल।
विघ्न हरण मंगल करण,
जय जय गिरिजालाल॥


Shri Ganesh Chalisa:

जय जय जय गणपति गणराजू।
मंगल भरण करण शुभ काजू॥

जय गजबदन सदन सुखदाता।
विश्व-विनायक बुद्घि विधाता॥

वक्र तुण्ड शुचि शुण्ड सुहावन।
तिलक त्रिपुण्ड भाल मन भावन॥

राजत मणि मुक्तन उर माला।
स्वर्ण मुकुट शिर नयन विशाला॥


पुस्तक पाणि कुठार त्रिशूलं।
मोदक भोग सुगन्धित फूलं॥

सुन्दर पीताम्बर तन साजित।
चरण पादुका मुनि मन राजित॥

धनि शिवसुवन षडानन भ्राता।
गौरी ललन विश्व-विख्याता॥

ऋद्घि-सिद्घि तव चंवर सुधारे।
मूषक वाहन सोहत द्वारे॥


कहौ जन्म शुभ-कथा तुम्हारी।
अति शुचि पावन मंगलकारी॥

एक समय गिरिराज कुमारी।
पुत्र हेतु तप कीन्हो भारी॥

भयो यज्ञ जब पूर्ण अनूपा।
तब पहूँच्यो तुम धरि द्विज रुपा॥

अतिथि जानि कै गौरि सुखारी।
बहुविधि सेवा करी तुम्हारी॥


अति प्रसन्न है तुम वर दीन्हा।
मातु पुत्र हित जो तप कीन्हा॥

मिलहि पुत्र तुहि, बुद्घि विशाला।
बिना गर्भ धारण, यहि काला॥

गणनायक, गुण ज्ञान निधाना।
पूजित प्रथम, रुप भगवाना॥

अस कहि अन्तर्धान रुप है।
पलना पर बालक स्वरुप है॥


बनि शिशु, रुदन जबहिं तुम ठाना।
लखि मुख सुख नहिं गौरि समाना॥

सकल मगन, सुखमंगल गावहिं।
नभ ते सुरन, सुमन वर्षावहिं॥

शम्भु, उमा, बहु दान लुटावहिं।
सुर मुनिजन, सुत देखन आवहिं॥

लखि अति आनन्द मंगल साजा।
देखन भी आये शनि राजा॥


निज अवगुण गुनि शनि मन माहीं।
बालक, देखन चाहत नाहीं॥

गिरिजा कछु मन भेद बढ़ायो।
उत्सव मोर, न शनि तुहि भायो॥

कहन लगे शनि, मन सकुचाई।
का करिहौ, शिशु मोहि दिखाई॥

नहिं विश्वास, उमा उर भयऊ।
शनि सों बालक देखन कहाऊ॥


पडतहिं, शनि दृगकोण प्रकाशा।
बालक सिर उड़ि गयो अकाशा॥

गिरिजा गिरीं विकल है धरणी।
सो दुख दशा गयो नहीं वरणी॥

हाहाकार मच्यो कैलाशा।
शनि कीन्हो लखि सुत को नाशा॥

तुरत गरुड़ चढ़ि विष्णु सिधायो।
काटि चक्र सो गजशिर लाये॥


बालक के धड़ ऊपर धारयो।
प्राण, मन्त्र पढ़ि शंकर डारयो॥

नाम गणेश शम्भु तब कीन्हे।
प्रथम पूज्य बुद्घि निधि, वर दीन्हे॥

बुद्घि परीक्षा जब शिव कीन्हा।
पृथ्वी कर प्रदक्षिणा लीन्हा॥

चले षडानन, भरमि भुलाई।
रचे बैठ तुम बुद्घि उपाई॥


धनि गणेश कहि शिव हिय हरषे।
नभ ते सुरन सुमन बहु बरसे॥

चरण मातु-पितु के धर लीन्हें।
तिनके सात प्रदक्षिण कीन्हें॥

तुम्हरी महिमा बुद्घि बड़ाई।
शेष सहसमुख सके न गाई॥

मैं मतिहीन मलीन दुखारी।
करहुं कौन विधि विनय तुम्हारी॥


भजत रामसुन्दर प्रभुदासा।
जग प्रयाग, ककरा, दुर्वासा॥

अब प्रभु दया दीन पर कीजै।
अपनी भक्ति शक्ति कछु दीजै॥

श्री गणेश यह चालीसा।
पाठ करै धर ध्यान॥

नित नव मंगल गृह बसै।
लहै जगत सन्मान॥


दोहा:

सम्बन्ध अपने सहस्त्र दश,
ऋषि पंचमी दिनेश।
पूरण चालीसा भयो,
मंगल मूर्ति गणेश॥


Tags:

-
-

_

Ganesh Bhajans

  • श्री गणेश आरती - जय गणेश जय गणेश देवा
    जय गणेश, जय गणेश, जय गणेश देवा।
    माता जाकी पार्वती, पिता महादेवा॥
    एक दन्त दयावंत, चार भुजा धारी।
    माथे पर तिलक सोहे, मुसे की सवारी॥
  • गणेश आरती - List
    जय गणेश, जय गणेश देवा
    सुखकर्ता दुखहर्ता वार्ता विघ्नाची
    जय देव, जय देव, जय मंगलमूर्ती
    गणपति की सेवा मंगल मेवा
  • मेरे मन मंदिर में
    गणपती बाप्पा मोरया,
    अगले बरस तू जल्दी आ
    मेरे मन मंदिर में तुम भगवान रहे
    मेरे दुःख से तुम कैसे अनजान रहे
  • श्री गणेश प्रार्थना - मराठी
    घालिन लोटांगण, वंदिन चरण।
    डोळ्यांनी पाहिन रूप तुझे।
    प्रेमे आलिंगीन आनंदे पुजिन।
    भावें ओवाळिन म्हणे नामा॥
  • श्री गणेश चालीसा
    जय जय जय गणपति गणराजू।
    मंगल भरण करण शुभ काजू॥
    जय गजबदन सदन सुखदाता।
    विश्व-विनायक बुद्घि विधाता॥
_

Bhajan List

Ganesh Bhajans – Hindi
Ganesh Aarti – Hindi
Bhajan, Aarti, Chalisa, Dohe – Hindi List

_
_

Ganesh Bhajan Lyrics

  • गजानन पधारो गजानन पधारो
    गजानन पधारो, गजानन पधारो
    हम भक्तो का स्नेह निमंत्रण,
    श्रद्धा भाव से तुम्हे आमंत्रण,
    हे देवा स्वीकारो
  • देवा श्री गणेशा, देवा श्री गणेशा
    देवा श्री गणेशा, देवा श्री गणेशा
    देवा श्री गणेशा, देवा श्री गणेशा
    ज्वाला सी जलती है आँखो मे जिसके भी
    दिल मे तेरा नाम है
    परवाह ही क्या उसका आरंभ कैसा है
    और कैसा परिणाम है
  • हे गजवदना, गौरी नंदना - प्रार्थना
    हे गजवदना, गौरी नंदना
    रक्षा करो सबकी
    मंगलमय हो जीवन सारा
    धारा बहे सुख की
  • सिद्धिविनायक जय गणपति
    सिद्धिविनायक जय गणपति,
    गाएं सदा तेरी आरती
    त्रिकाल ज्ञाता, मंगल के दाता,
    संकट विघन दूर करना सभी
  • आओ आज पधारो, पार्वती के प्यारे
    आओ आज पधारो, पार्वती के प्यारे
    हे शिव शंकर के दुलारे।
    हे गणनायक, हे लम्बोदर, सब देवो से न्यारे॥
    प्रथम मनाये आपको, करे तुम्हारी पूजा।
    सब देवो में तुमसा और नहीं कोई दूजा।

_
_

Bhajans and Aarti

  • सांवरिया ले चल परली पार
    सांवरिया ले चल परली पार
    कन्हैया ले चल परली पार
    सांवरिया ले चल परली पार
    जहा विराजे राधा रानी,
    अलबेली सरकार
  • मीरा के भजन
    मीरा के भजन - प्रार्थना
    पायो जी मैंने राम रतन धन पायो
    श्याम मने चाकर राखो जी
    मेरे तो गिरधर गोपाल
    ऐसी लागी लगन
  • तन तो मंदिर है, हृदय है वृन्दावन
    तन तो मंदिर है,
    हृदय है वृन्दावन
    वृन्दावन में है बसे,
    राधिका कृष्ण (किशन)
  • पाप की मटकी तूने फोड़ी
    पाप की मटकी तूने फोड़ी,
    पुण्य की मटकी मै ले आऊँ।
    जिस मटकी में भक्ति का माखन,
    वोही मटकी मै चाहूँ॥
  • सुंदरकाण्ड - चौपाई और दोहे - Audio (1 to 60) - List
    हनुमानजी का सीता शोध के लिए लंका प्रस्थान
    हनुमानजी और विभीषण का संवाद - श्रीराम की महिमा
    हनुमान ने सीताजीको रामचन्द्रजीका सन्देश दिया
    लंका दहन - हनुमानजी ने लंका जलाई
    प्रभु श्री रामचंद्रजी की महिमा
  • श्री विष्णु सहस्त्रनाम
    Vishnu Sahasranamam Lyrics ॐ विश्वं विष्णु: वषट्कारो भूत-भव्य-भवत-प्रभुः। भूत-कृत भूत-भृत भावो भूतात्मा भूतभावनः॥ Sri Vishnu Sahasranamam in Hindi ॐ नमो … Continue reading Sri Vishnu Sahasranamam – Hindi
  • कैसी यह देर लगाई है दुर्गे
    कैसी यह देर लगाई है दुर्गे
    हे मात मेरी, हे मात मेरी।
    शरण पड़े हैं हम तुम्हारी
    करो यह नैया पार हमारी।
  • Hindi Bhajans - Vividh Bhajans
    अब सौंप दिया इस जीवन का
    दया कर, दान भक्ति का
    मुझे तुमने दाता बहुत कुछ दिया है
    मेरे दाता के दरबार में
  • दिलबर की अदा निराली है
    दिलबर की अदा निराली है
    दिल छीन लिया उसने मेरा
    प्यारे की सूरत प्यारी है
    दिन रात तड़पता रहता हु
    घनश्याम तुम्हारी यादो में
    हे सर्वेश्वर, हे कृष्णा प्रिय
    आकर के बाह पकड़ मेरी
    माया ने मुझको घेरा है
  • समता – भगवद्‍ गीता|Bhagavad Gita Quotes

    समता – भगवद्‍गीता अध्याय – २ मात्रास्पर्शास्तु कौन्तेय शीतोष्णसुखदुःखदाः। आगमापायिनोऽनित्या: तांस्तितिक्षस्व भारत॥१४॥ सर्दी-गर्मी और सुख-दुःख को देने वाले इन्द्रिय और … Continue reading समता – भगवद्‍ गीता|Bhagavad Gita Quotes
_
_

Bhakti Geet Lyrics

  • ना मैं धन चाहूँ, ना रतन चाहूँ
    ना मैं धन चाहूँ, ना रतन चाहूँ
    तेरे चरणों की धूल मिल जाए,
    तो मैं तर जाऊँ, श्याम तर जाऊँ,
    हे राम तर जाऊँ
  • सुंदरकाण्ड - 15
    ऐहि बिधि करत सप्रेम बिचारा।
    आयउ सपदि सिंदु एहिं पारा॥
    कपिन्ह बिभीषनु आवत देखा।
    जाना कोउ रिपु दूत बिसेषा॥
    यिभीषण इस प्रकार प्रेमसहित अनेक प्रकारके विचार करते हुए तुरंत समुद्रके इस पार आए॥
  • सुबह सुबह ले शिव का नाम
    सुबह सुबह ले शिव का नाम,
    कर ले बन्दे यह शुभ काम
    ओम नमः शिवाय, ओम नमः शिवाय
    ओम नमः शिवाय, ओम नमः शिवाय
  • भज ले प्राणी रे अज्ञानी
    Video - प्रेमभूषणजी महाराज (Prembhushan Maharaj)
  • भज ले प्राणी रे अज्ञानी, दो दिन की जिंदगानी।
    रे कहाँ तू भटक रहा है, यहाँ क्यों भटक रहा है

  • सतगुरु - कबीर के दोहे
    - सतगुरु सम कोई नहीं, सात दीप नौ खण्ड।
    - सतगुरु तो सतभाव है, जो अस भेद बताय।
    - तीरथ गये ते एक फल, सन्त मिले फल चार।
    - सतगुरु खोजो सन्त, जोव काज को चाहहु।
_