Prabhu More Avagun – Hindi

Prabhu More Avagun Chit Na Dharo – Lyrics in Hindi


प्रभु मोरे अवगुण चित ना धरो
प्रभु मोरे अवगुण चित ना धरो
समदरसी है नाम तिहारो
चाहे तो पार करो


एक लोहा पूजा में राखत
एक घर बधिक परो
पारस गुण अवगुण नही चितवत
कंचन करत खरो

अवगुण चित ना धरो
प्रभु मोरे अवगुण चित ना धरो


एक नदिया एक नाल कहावत
मैलो ही नीर भरो
जब दोउ मिलकर एक बरन भाई
सुरसरी नाम परो

अवगुण चित ना धरो
प्रभु मोरे अवगुण चित ना धरो


एक जिव एक ब्रह्मा कहावे
सुर श्याम झगरो
अबके बेर मोहे पार उतारो,
नही पण जात तारो

अवगुण चित ना धरो
प्रभु मोरे अवगुण चित ना धरो


प्रभु मोरे अवगुण चित ना धरो
प्रभु मोरे अवगुण चित ना धरो
समदरसी है नाम तिहारो

चाहे तो पार करो
प्रभु मोरे अवगुण चित ना धरो


For more bhajans from category, Click -

-
-

_