Maati Kahe Kumhar Se – Kabir Bhajan – Hindi

माटी कहे कुम्हार से,
तू क्या रोंदे मोहे।
एक दिन ऐसा आएगा,
मैं रोंदूगी तोहे॥

_

Maati Kahe Kumhar Se – Kabir Bhajan


माटी कहे कुम्हार से,
तू क्या रोंदे मोहे।
एक दिन ऐसा आएगा,
मैं रोंदूगी तोहे॥

माटी कहे कुम्हार से,
तू क्या रोंदे मोहे।
एक दिन ऐसा आएगा,
मैं रोंदूगी तोहे॥


आये हैं तो जायेंगे,
राजा रंक फ़कीर।
एक सिंहासन चडी चले,
एक बंधे जंजीर॥

दुर्बल को ना सतायिये,
जाकी मोटी हाय।
बिना जीब के हाय से,
लोहा भस्म हो जाए॥

माटी कहे कुम्हार से,
तू क्या रोंदे मोहे।
एक दिन ऐसा आएगा,
मैं रोंदूगी तोहे॥


चलती चक्की देख के,
दिया कबीरा रोये।
दो पाटन के बीच में,
बाकी बचा ना कोई॥

दुःख में सुमिरन सब करे,
सुख में करे ना कोई।
जो सुख में सुमिरन करे,
दुःख कहे को होए॥

माटी कहे कुम्हार से,
तू क्या रोंदे मोहे।
एक दिन ऐसा आएगा,
मैं रोंदूगी तोहे॥


पत्ता टूटा डाल से,
ले गयी पवन उडाय।
अबके बिछड़े कब मिलेंगे
दूर पड़ेंगे जाय॥

कबीर आप ठागायिये
और ना ठगिये।
आप ठगे सुख उपजे,
और ठगे दुःख होए॥

माटी कहे कुम्हार से,
तू क्या रोंदे मोहे।
एक दिन ऐसा आएगा,
मैं रोंदूगी तोहे॥


माटी कहे कुम्हार से,
तू क्या रोंदे मोहे।
एक दिन ऐसा आएगा,
मैं रोंदूगी तोहे, मैं रोंदूगी तोहे॥
मैं रोंदूगी तोहे।


For more bhajans from category, Click -

-
-

_
For Hindi Lyrics of Kabir Bhajan: – Beet Gaye Din Bhajan Bina Re – Hindi
_

Kabir ke Dohe and Kabir Bhajans

_

Bhajan List

Kabir Bhajans
Kabir ke Dohe
Bhajan, Aarti, Chalisa, Dohe – List

_
_

Kabir Bhajan Lyrics

  • रे दिल गाफिल, गफलत मत कर
    रे दिल गाफिल, गफलत मत कर
    एक दिना जम आवेगा॥ टेक॥
    सौदा करने या जग आया।
    पूजी लाया मूल गॅंवाया॥
    सिर पाहन का बोझा लीता।
    आगे कौन छुडावेगा॥
  • सुमिरन - कबीर के दोहे
    - दु:ख में सुमिरन सब करै, सुख में करै न कोय।
    - कबीर सुमिरन सार है, और सकल जंजाल।
    - सांस सांस सुमिरन करो, और जतन कछु नाहिं॥
    - राम नाम सुमिरन करै, सतगुरु पद निज ध्यान।
  • झीनी झीनी बीनी चदरिया
    झीनी झीनी बीनी चदरिया
    काहे का ताना काहे की भरनी।
    कौन तार से बीनी चदरिया॥
    इदा पिङ्गला ताना भरनी।
    सुषुम्ना तार से बीनी चदरिया॥
  • भक्ति - कबीर के दोहे
    - कामी क्रोधी लालची, इनसे भक्ति ना होय।
    - भक्ति बिन नहिं निस्तरे, लाख करे जो कोय।
    - भक्ति भक्ति सब कोई कहै, भक्ति न जाने भेद।
    - भक्ति जु सीढ़ी मुक्ति की, चढ़े भक्त हरषाय।
  • संगति - कबीर के दोहे
    कबीर संगत साधु की, नित प्रति कीजै जाय।
    कबीर संगत साधु की, जौ की भूसी खाय।
    संगत कीजै साधु की, कभी न निष्फल होय।
    संगति सों सुख्या ऊपजे, कुसंगति सो दुख होय।
_
_

Bhajans and Aarti

_
_

Bhakti Geet Lyrics

Maati Kahe Kumhar Se

माटी कहे कुम्हार से, तू क्या रोंदे मोहे।
एक दिन ऐसा आएगा, मैं रोंदूगी तोहे॥
दुःख में सुमिरन सब करे, सुख में करे ना कोई।
जो सुख में सुमिरन करे, दुःख कहे को होए॥

_