Jahan Le Chaloge, Wahi Mai Chalunga – Hindi

जहाँ ले चलोगे, वहीं मैं चलूँगा

जहाँ ले चलोगे, वहीं मैं चलूँगा।
जहां नाथ रख लोगे, वहीं मैं रहूँगा॥
यह जीवन समर्पित, चरण में तुम्हारे।
तुम्ही मेरे सर्वस्व, तुम्ही प्राण प्यारे।

Sudhanshu ji Maharaj

Shri Vinod Agarwal

_

Jahan Le Chaloge, Wahi Mai Chalunga


जहाँ ले चलोगे, वहीं मैं चलूँगा।
जहां नाथ रख लोगे, वहीं मैं रहूँगा॥

जहाँ ले चलोगे, वहीं मैं चलूँगा।
जहां नाथ रख लोगे, वहीं मैं रहूँगा॥
जहाँ ले चलोगे, वहीं मैं चलूँगा


यह जीवन समर्पित, चरण में तुम्हारे।
तुम्ही मेरे सर्वस्व, तुम्ही प्राण प्यारे।
तुम्हे छोड़ कर नाथ किससे कहूँगा॥

जहाँ ले चलोगे वहीं मैं चलूँगा।
जहां नाथ रख लोगे, वहीं मैं रहूँगा॥
जहाँ ले चलोगे, वहीं मैं चलूँगा


ना कोई उलाहना, ना कोई अर्जी।
करलो करालो, जो है तेरी मर्जी।
कहना भी होगा तो, तुम्ही से कहूँगा॥

जहाँ ले चलोगे, वहीं मैं चलूँगा।
जहां नाथ रख लोगे, वहीं मैं रहूँगा॥
जहाँ ले चलोगे, वहीं मैं चलूँगा


दयानाथ दयनीय मेरी अवस्था।
तेरे हाथ है अब मेरी सारी व्यवस्था।
जो भी कहोगे तुम, वही मैं करूँगा॥

जहाँ ले चलोगे वहीं मैं चलूँगा।
जहां नाथ रख लोगे, वहीं मैं रहूँगा॥
जहाँ ले चलोगे, वहीं मैं चलूँगा


जहाँ ले चलोगे, वहीं मैं चलूँगा।
जहां नाथ रख लोगे, वहीं मैं रहूँगा॥


Tags:

-
-

_

Prayers

  • जहाँ ले चलोगे, वहीं मैं चलूँगा
    जहाँ ले चलोगे, वहीं मैं चलूँगा।
    जहां नाथ रख लोगे, वहीं मैं रहूँगा॥
    यह जीवन समर्पित, चरण में तुम्हारे।
    तुम्ही मेरे सर्वस्व, तुम्ही प्राण प्यारे।
  • आसरा इस जहाँ का मिले ना मिले
    आसरा इस जहाँ का मिले ना मिले।
    मुझको तेरा सहारा सदा चाहिये॥
    मेरी धीमी है चाल और पथ है विशाल।
    हर कदम पर मुसीबत, अब तू ही संभाल॥
  • इतनी शक्ति हमें देना दाता
    इतनी शक्ति हमें देना दाता
    मन का विश्वास कमजोर हो ना।
    हम चले नेक रस्ते पे हमसे
    भूलकर भी कोई भूल हो ना॥
  • दे माँ, निज चरणों का प्यार (Prayer)
    तुझ को जानूँ, तुझ को मानूँ,
    तुझ पर ही निज जीवन वारूँ।
    ध्यान रहे तेरा ही निस-दिन,
    दे भक्ति का उपहार॥
  • या देवी सर्वभूतेषु मंत्र - दुर्गा मंत्र - अर्थ सहित
    या देवी सर्वभूतेषु शक्ति-रूपेण संस्थिता।
    नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥
    या देवी सर्वभूतेषु दया-रूपेण संस्थिता।
    नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥
  • प्रभु हम पे कृपा करना
    प्रभु हम पे कृपा करना,
    प्रभु हम पे दया करना
    बैकुंठ तो यही है,
    हृदय में रहा करना
  • सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को
    सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को
    मिल जाये तरुवर की छाया।
    ऐसा ही सुख मेरे मन को मिला है,
    मैं जब से शरण तेरी आया, मेरे राम॥
  • रघुपति राघव राजाराम
    रघुपति राघव राजाराम, पतित पावन सीताराम॥
    ईश्वर अल्लाह तेरो नाम, सब को सन्मति दे भगवान
    जय रघुनंदन जय सिया राम, जानकी वल्लभ सीताराम
    रघुपति राघव राजाराम, पतित पावन सीताराम॥
  • अब सौंप दिया इस जीवन का सब भार
    अब सौंप दिया इस जीवन का,
    सब भार तुम्हारे हाथों में
    है जीत तुम्हारे हाथों में,
    और हार तुम्हारे हाथों में
  • दया कर, दान भक्ति का
    दया कर, दान भक्ति का, हमें परमात्मा देना।
    दया करना, हमारी आत्मा को शुद्धता देना॥
    हमारे ध्यान में आओ, प्रभु आँखों में बस जाओ।
    अंधेरे दिल में आकर के परम ज्योति जगा देना॥
_

Bhajan List

Prayers
Krishna Bhajans – Hindi
Bhajan, Aarti, Chalisa, Dohe – List

_
_

Prayers Lyrics

_
_

Bhajans and Aarti

  • Updated - श्री बद्रीनाथ स्तुति
    पवन मंद सुगंध शीतल,
    हेम मंदिर शोभितम्।
    निकट गंगा बहती निर्मल,
    श्री बद्रीनाथ विश्व्म्भरम्॥
  • श्री गणेश आरती - गणपति की सेवा मंगल मेवा
    गणपति की सेवा मंगल मेवा,
    सेवा से सब विध्न टरें।
    तीन लोक तैतिस देवता,
    द्वार खड़े सब अर्ज करे॥
    (तीन लोक के सकल देवता,
    द्वार खड़े नित अर्ज करें॥)
  • श्री राधे गोविंदा, मन भज ले हरी का प्यारा नाम है
    श्री राधे गोविंदा, मन भज ले
    हरी का प्यारा नाम है
    गोपाला हरी का प्यारा नाम है,
    नंदलाला हरी का प्यारा नाम है
    जय नंदलाला, जय गोपाला
  • सुमिरन - कबीर के दोहे
    - दु:ख में सुमिरन सब करै, सुख में करै न कोय।
    - कबीर सुमिरन सार है, और सकल जंजाल।
    - सांस सांस सुमिरन करो, और जतन कछु नाहिं॥
    - राम नाम सुमिरन करै, सतगुरु पद निज ध्यान।
  • शिवजी के १०८ नाम - अर्थ सहित
    शिव - कल्याण स्वरूप
    शंकर - सबका कल्याण करने वाले
    शम्भू - आनंद स्वरूप वाले
    महादेव - देवों के भी देव
    मृत्युंजय - मृत्यु को जीतने वाले
  • कैलाश के निवासी नमो बार बार
    कैलाश के निवासी नमो बार बार हूँ,
    आयो शरण तिहारी भोले तार तार तू
    भक्तो को कभी शिव तुने निराश ना किया
    माँगा जिन्हें जो चाहा वरदान दे दिया
  • करता रहूँ गुणगान, मुझे दो ऐसा वरदान
    करता रहूँ गुणगान,
    मुझे दो ऐसा वरदान।
    तेरा नाम ही जपते जपते,
    इस तन से निकले प्राण॥
  • अम्बे तू है जगदम्बे काली
    अम्बे तू है जगदम्बे काली,
    जय दुर्गे खप्पर वाली।
    तेरे ही गुण गायें भारती,
    नहीं मांगते धन और दौलत,
    ना चाँदी, ना सोना।
    हम तो मांगे माँ तेरे मन में,
    इक छोटा सा कोना॥
  • सिद्धि विनायक मङ्गल दाता
    सिद्धि विनायक मङ्गल दाता,
    मङ्गल कर दो काज
    आये हैं हम शरण तुम्हारी,
    शरण तुम्हारी आज
  • सिद्धिविनायक जय गणपति
    सिद्धिविनायक जय गणपति,
    गाएं सदा तेरी आरती
    त्रिकाल ज्ञाता, मंगल के दाता,
    संकट विघन दूर करना सभी
_
_

Bhakti Geet Lyrics

_