Hari Naam Sumar Sukhdham – Hindi

भजन – हरी नाम सुमर सुखधाम – Lyrics in Hindi


हरी नाम सुमर सुखधाम,
जगत में जीवन दो दिन का

हरी नाम सुमर सुखधाम,
जगत में जीवन दो दिन का


सुन्दर काया देख लुभाया,
गर्व करे तन का।
(रे प्राणी गर्व करे तन का)

गिर गई देह बिखर गई काया,
ज्यूँ माला मनका॥

हरी नाम सुमर सुखधाम,
जगत में जीवन दो दिन का


काम क्रोध में उलझ के प्राणी,
मौज करे मनका।
(रे प्राणी मौज करे मनका)

काल बली का लगा तमाचा,
भूल जाय ठनका॥

हरी नाम सुमर सुखधाम,
जगत में जीवन दो दिन का


झूठ कपट कर माया जोड़ी,
गर्व करे धन का।
(रे प्राणी गर्व करे धन का)

सब ही छोड़कर चला मुसाफिर,
बास हुआ बन का॥

हरी नाम सुमर सुखधाम,
जगत में जीवन दो दिन का


यो संसार स्वपन (स्वप्न) की माया,
मेला पल छिन का।
(रे प्राणी मेला पल छिन का)

ब्रह्मानन्द भजन कर बन्दे,
नाथ निरंजन का॥

हरी नाम सुमर सुखधाम,
जगत में जीवन दो दिन का


हरी नाम सुमर सुखधाम,
जगत में जीवन दो दिन का

हरी नाम सुमर
हरी नाम सुमर

_

For more bhajans from category, Click -

-
-

_