Ab Saup Diya Is Jeevan Ka Sab Bhar

Ishwar se Prarthna – ईश्वर से प्रार्थना

हे ईश्वर, मुझे सद्‌बुद्धि दो हे प्रभु, मेरे मन को शुद्ध कर दो, पवित्र कर दो हे ईश्वर, मेरे मन को शांत कर दो हे प्रभु, मुझे पवित्र कर दो
हे ईश्वर, हमें सद्‌बुद्धि दो हे प्रभु, सब सुखी हों हे ईश्वर, सब ओर शान्ति ही शान्ति हो हे प्रभु, हमें सब बन्धनों से मुक्त कर दो हे ईश्वर, हमारे सब दु:ख और दुर्गुण दूर कर दो
_

अब सौंप दिया इस जीवन का, सब भार तुम्हारे हाथों में


अब सौंप दिया इस जीवन का,
सब भार तुम्हारे हाथों में

है जीत तुम्हारे हाथों में,
और हार तुम्हारे हाथों में

अब सौंप दिया इस जीवन का,
सब भार तुम्हारे हाथों में
है जीत तुम्हारे हाथों में,
और हार तुम्हारे हाथों में

अब सौंप दिया इस जीवन का,
सब भार तुम्हारे हाथों में

मेरा निश्चय बस एक यही,
एक बार तुम्हे मैं पा जाऊं

अर्पण कर दूँ दुनिया भर का,
सब प्यार तुम्हारे हाथों में

अब सौंप दिया इस जीवन का,
सब भार तुम्हारे हाथों में
है जीत तुम्हारे हाथों में,
और हार तुम्हारे हाथों में

Meera ke Bhajan -Prarthna
एक बार तुम्हे मैं पा जाऊं

जो जग में रहूँ, तो ऐसे रहूँ,
ज्यों जल में कमल का फूल रहे

मेरे गुण दोष समर्पित हों,
भगवान तुम्हारे हाथों में

अब सौंप दिया इस जीवन का,
सब भार तुम्हारे हाथों में
है जीत तुम्हारे हाथों में,
और हार तुम्हारे हाथों में


यदि मानुष का मुझे जनम मिले,
तव चरणों का मै पुजारी बनू

इस पूजक की एक एक रग का,
सब तार तुम्हारे हाथों में

अब सौंप दिया इस जीवन का,
सब भार तुम्हारे हाथों में
है जीत तुम्हारे हाथों में,
और हार तुम्हारे हाथों में

तव चरणों का मै पुजारी बनू

जब जब संसार का कैदी बनू,
निष्काम भाव से कर्म करूँ

फिर अंत समय में प्राण तजू,
निराकार तुम्हारे हाथों में

अब सौंप दिया इस जीवन का,
सब भार तुम्हारे हाथों में
है जीत तुम्हारे हाथों में,
और हार तुम्हारे हाथों में


मुझ में तुझ में बस भेद यही,
मैं नर हूँ, आप नारायण हो

मैं हूँ संसार के हाथों में,
संसार तुम्हारे हाथों में

अब सौंप दिया इस जीवन का,
सब भार तुम्हारे हाथों में
है जीत तुम्हारे हाथों में,
और हार तुम्हारे हाथों में

मैं नर हूँ, आप नारायण हो

अब सौंप दिया इस जीवन का,
सब भार तुम्हारे हाथों में
है जीत तुम्हारे हाथों में,
और हार तुम्हारे हाथों में


(For download – Prayer Song Download 2)

_

Prayers – Prayer Songs

_
_

उपासना और भक्ति – ईश्वर प्राप्ति के सरल साधन

भक्तियोगकी सहायतासे मन अपने-आप ही शान्त हो जाता है। परमात्माके साक्षात्कारके द्वारा मायाका बन्धन छिन्न हो जाता है, मन शान्त हो जाता है और कर्मबन्धन शिथिल हो जाता है। अपनी शक्तिके अनुसार भक्ति करना सबके लिये सहज है।

सर्वदा भगवान्‌का चिन्तन, ध्यान, स्मरण और भगवान्‌में अनन्य विश्वास का नाम उपासना है।

अनवरत तैलधाराके समान मन की तरंगे जब भगवान्‌के नामस्मरण या ध्यानमें लग जाती है. तब परमात्मा प्रत्यक्षवत् हो जाते है, तथा जीवात्मा अपने पृथक् अस्तित्वको खो देता है, और परमात्माके साथ एक हो जाता है। इसीको उपासना कहते हें।

उपासनाकी सफलताके लिये भगवान्‌के प्रति असीम प्रेम होना आवश्यक है। हृदयके अनुरागके बिना केवल योग, जप, तप, ध्यान आदिके द्वारा भगवानकी प्राप्ति नहीं हो सकती। भगवान्‌के चरणोंमें अन्त:करणको लगा देनेका नाम ही योग है।

उपासनामें भगवत्प्रेमकी अत्यन्त आवश्यकता है। क्योंकि हम जिससे सर्वाधिक प्यार करते हैं, रात-दिन जिसका ध्यान-स्मरण हमको अच्छा लगता है, उसीमे हमको आनन्दकी अनुभूति होती है।

भगवान्‌के साथ यदि हम हृदयसे प्रेम करेंगे तो उनका ध्यान हमारे मनसे कभी नहीं छूटेगा। भगवान्‌के ध्यान और स्मरणमें हमको आनन्दकी प्राप्ति होगी।

_

Ab Saup Diya Is Jeevan Ka Sab Bhar

Shri Rameshbhai Ojha

_

Ab Saup Diya Is Jeevan Ka Sab Bhar Lyrics

Ab saup diya is jeevan ka,
sab bhar tumhare hatho me

Hai jeet tumhaare haatho mein,
aur haar tumhaare haatho mein

Ab saup diya is jeevan ka,
sab bhar tumhare hatho me
Hai jeet tumhaare haatho mein,
aur haar tumhaare haatho mein


Mera nishchay bas ek yahi,
Ek baar tumhe main pa jaoon

Arpan kar doon duniya bhar ka,
Sab pyar tumhaare haatho mein

Ab saunp diya is jeevan ka,
sab bhar tumhare hatho me
Hai jeet tumhaare haatho mein,
aur haar tumhaare haatho mein


Jo jag mein rahoon, to aise rahoon,
jyon jal mein kamal ka phool rahe

Mere goon dosh samarpit hon,
Bhagwaan tumhaare haatho mein

Ab saup diya is jeevan ka,
sab bhar tumhare hatho me
Hai jeet tumhaare haatho mein,
aur haar tumhaare haatho mein


Yadi maanush ka mujhe janam mile,
tav charano ka mai pujaari banoo

Is poojak ki ek ek rag ka,
sab taar tumhaare haatho mein

Ab saup diya is jeevan ka,
sab bhar tumhare hatho me
Hai jeet tumhaare haatho mein,
aur haar tumhaare haatho mein


Jab jab sansaar ka kaidi banoo,
nishkaam bhaav se karm karoon

Phir ant samay mein praan tajoo,
niraakaar tumhaare haatho mein

Ab saup diya is jeevan ka,
sab bhar tumhare hatho me
Hai jeet tumhaare haatho mein,
aur haar tumhaare haatho mein


Mujh mein tujh mein bas bhed yahi,
main nar hoon aap naaraayan ho

Main hoon sansaar ke haatho mein,
sansaar tumhaare haatho mein

Ab saup diya is jeevan ka,
sab bhar tumhare hatho me
Hai jit tumhaare haatho mein,
aur haar tumhaare haatho mein

_