Suraj Ki Garmi Se Jalte Huye Tan Ko – Hindi

सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को

जैसे सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को
मिल जाये तरुवर की छाया।
ऐसा ही सुख मेरे मन को मिला है,
मैं जब से शरण तेरी आया, मेरे राम॥

1. Sharma Bandhu – fim: Parinay (1974)

2. Anup Jalota

_

Suraj Ki Garmi Se Jalte Huye Tan Ko – Lyrics


जैसे सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को
मिल जाये तरुवर की छाया।
ऐसा ही सुख मेरे मन को मिला है,
मैं जब से शरण तेरी आया, मेरे राम॥

सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को
मिल जाये तरुवर की छाया।


भटका हुआ मेरा मन था कोई
मिल ना रहा था सहारा।
लहरों से लडती हुई नाव को जैसे,
मिल ना रहा हो किनारा।

उस लडखडाती हुई नाव को जो
किसी ने किनारा दिखाया।
ऐसा ही सुख मेरे मन को मिला है,
मैं जब से शरण तेरी आया, मेरे राम॥

सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को
मिल जाये तरुवर की छाया


शीतल बने आग चन्दन के जैसी
राघव कृपा हो जो तेरी।
उजयाली पूनम की हो जाये राते
जो थी अमावस अँधेरी॥

युग युग से प्यासी मुरुभूमि ने
जैसे सावन का संदेस पाया।
ऐसा ही सुख मेरे मन को मिला है,
मैं जब से शरण तेरी आया, मेरे राम॥

सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को
मिल जाये तरुवर की छाया


जिस राह की मंजिल तेरा मिलन हो
उस पर कदम मैं बढ़ाऊं।
फूलों मे खारों मे, पतझड़ बहारो मे
मैं ना कभी डगमगाऊँ॥

पानी के प्यासे को तकदीर ने
जैसे जी भर के अमृत पिलाया।
ऐसा ही सुख मेरे मन को मिला है,
मैं जब से शरण तेरी आया, मेरे राम॥

सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को
मिल जाये तरुवर की छाया।
ऐसा ही सुख मेरे मन को मिला है,
मैं जब से शरण तेरी आया, मेरे राम॥


Tags:

-
-

_

Ram Bhajans

  • कभी राम बनके, कभी श्याम बनके
    कभी राम बनके, कभी श्याम बनके,
    चले आना, प्रभुजी चले आना,
    तुम राम रूप में आना
    सीता साथ लेके, धनुष हाथ लेके,
    चले आना, प्रभुजी चले आना
  • क्षमा करो तुम मेरे प्रभुजी
    क्षमा करो तुम मेरे प्रभुजी,
    अब तक के सारे अपराध
    धो डालो तन की चादर को,
    लगे है उसमे जो भी दाग
    नारायण अब शरण तुम्हारे,
    तुमसे प्रीत होये निज राग
  • भए प्रगट कृपाला, दीनदयाला
    भए प्रगट कृपाला, दीनदयाला,
    कौसल्या हितकारी।
    हरषित महतारी, मुनि मन हारी,
    अद्भुत रूप बिचारी॥
  • तेरे मन में राम
    तेरे मन में राम, तन में राम,
    रोम रोम में राम रे।
    राम सुमीर ले, ध्यान लगाले,
    छोड़ जगत के काम रे॥
    बोलो राम, बोलो राम, बोलो राम राम राम।
  • तू राम भजन कर प्राणी
    काया-माया बादल छाया,
    मूरख मन काहे भरमाया।
    उड़ जायेगा साँसका पंछी,
    फिर क्या है आनी-जानी॥
  • श्री राम चालीसा - श्री रघुवीर भक्त हितकारी
    श्री रघुवीर भक्त हितकारी।
    सुन लीजै प्रभु अरज हमारी॥
    निशिदिन ध्यान धरै जो कोई।
    ता सम भक्त और नहिं होई॥
  • राम नाम अति मीठा है
    राम नाम अति मीठा है, कोई गा के देख ले
    आ जाते है राम, कोई बुला के देख ले
    जिस घर में अंधकार,
    वहां मेहमान कहां से आए।
    जिस मन में अभिमान,
    वहां भगवान कहा से आए॥
  • सुंदरकाण्ड - 14
    माल्यवंत अति सचिव सयाना।
    तासु बचन सुनि अति सुख माना॥
    तात अनुज तव नीति बिभूषन।
    सो उर धरहु जो कहत बिभीषन॥
    वहां माल्यावान नाम एक सुबुद्धि मंत्री बैठा हुआ था. वह विभीषणके वचन सुनकर. अतिप्रसन्न हुआ ॥
  • सुंदरकाण्ड - चौपाई और दोहे - Audio - 9
    सुनु लंकेस सकल गुन तोरें।
    तातें तुम्ह अतिसय प्रिय मोरें॥
    राम बचन सुनि बानर जूथा।
    सकल कहहिं जय कृपा बरूथा॥
  • Shri Ram kaho, Ghanshyam kaho
    Lyrics
  • Shri Ram kaho, Ghanshyam kaho,
    Jai bolo Sitaram re,
    Samadarshi hai prabhu ki maaya,
    Na koi usake samaan re

_

Bhajan List

Ram Bhajans – Hindi
krishna Bhajan – Hindi
Bhajan, Aarti, Chalisa, Dohe – List

_
_

Ram Bhajan Lyrics

  • दर्शन दे दो प्यारे हो
    Lyrics
  • दर्शन दे दो प्यारे हो,
    अवध के राज दुलारे हो।
    प्राणों के प्रिय प्यारे हो,
    मम नयनन के तारे हो॥

  • दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया
    दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया।
    राम एक देवता, पुजारी सारी दुनिया॥
    नाम का प्रकाश, जब अंदर जगायेगा।
    प्यारे श्री राम का, तू दर्शन पायेगा।
  • राम का सुमिरन किया करो
    राम का सुमिरन किया करो,
    प्रभु के सहारे जिया करो
    जो दुनिया का मालिक है,
    नाम उसी का लिया करो
  • सुंदरकाण्ड - 4
    सीता तैं मम कृत अपमाना।
    कटिहउँ तव सिर कठिन कृपाना॥
    नाहिं त सपदि मानु मम बानी।
    सुमुखि होति न त जीवन हानी॥
    हे सीता! तूने मेरा मान भंग कर दिया है। इस वास्ते इस कठोर खडग (कृपान) से मैं तेरा सिर उड़ा दूंगा॥
  • सुंदरकाण्ड - 19
    ए कपि सब सुग्रीव समाना।
    इन्ह सम कोटिन्ह गनइ को नाना॥
    राम कृपाँ अतुलित बल तिन्हहीं।
    तृन समान त्रैलोकहि गनहीं॥
    ये सब वानर सुग्रीवके समान बलवान हैं। इनके बराबर दूसरे करोड़ों वानर हैं, कौन गिन सकता है? ॥
_
_

Bhajans and Aarti

  • अलका गोयल भजन
    आज खुशियों का दिन आया
    तेरी मुरली की धुन सुनने
    सांवरिया ले चल परली पार
    आओ आज पधारो, पार्वती के प्यारे
  • जय जय संतोषी माता, जय जय माँ
    मैं तो आरती उतारूँ रे,
    संतोषी माता की।
    जय जय संतोषी माता,
    जय जय माँ॥
  • श्री गणेश आरती - आरती गजवदन विनायक की
    आरती गजवदन विनायक की।
    सुर मुनि-पूजित गणनायक की॥
    एकदंत, शशिभाल, गजानन,
    विघ्नविनाशक, शुभगुण कानन,
    दु:खविनाशक, सुखदायक की॥
  • हे री मैं तो प्रेम-दिवानी
    दरद की मारी बन-बन डोलूं
    बैद मिल्या नहिं कोय।
    मीरा की प्रभु पीर मिटेगी
    जद बैद सांवरिया होय॥
  • मैं बालक, तू माता शेरावालिये
    मैं बालक, तू माता शेरावालिये
    है अटूट यह नाता, शेरावालिये
    तेरी ममता मिली है मुझको
    तेरा प्यार मिला है
    तुने बुद्धि, तुने साहस, तुने ज्ञान दिया
  • सन्त कबीर - Sant Kabir
    कवीर के गुरु अपने समय के प्रसिद्ध राम-भक्त रामानन्द जी थे। सूफी फकीर शेख तकी से भी उन्होंने दीक्षा ली थी।
  • प्यारा सजा है तेरा द्वार, भवानी
    प्यारा सजा है तेरा द्वार, भवानी
    तेरे भक्तों की लगी है कतार, भवानी
    पल में भरती झोली खाली
    तेरे खुले दया के भण्डार, भवानी
  • Updated - श्री बद्रीनाथ स्तुति
    पवन मंद सुगंध शीतल,
    हेम मंदिर शोभितम्।
    निकट गंगा बहती निर्मल,
    श्री बद्रीनाथ विश्व्म्भरम्॥
  • मधुराष्टकम - अर्थ साहित - अधरं मधुरं वदनं मधुरं
    अधरं मधुरं वदनं मधुरं,
    नयनं मधुरं हसितं मधुरम्।
    हृदयं मधुरं गमनं मधुरं,
    मधुराधिपतेरखिलं मधुरम्॥
    अधरं मधुरं - श्री कृष्ण के होंठ मधुर हैं
    वदनं मधुरं - मुख मधुर है
    नयनं मधुरं - नेत्र (ऑंखें) मधुर हैं
    हसितं मधुरम् - मुस्कान मधुर है
_
_

Bhakti Geet Lyrics

_