Sitaram Sitaram Kahiye – Hindi

सीताराम सीताराम सीताराम कहिये,
जाहि विधि राखे राम,
ताहि विधि रहिये॥

Anuradha Paudwal

Ravindra Jain

_

Sitaram Sitaram Kahiye


सीताराम सीताराम सीताराम कहिये,
जाहि विधि राखे राम,
ताहि विधि रहिये॥
सीताराम सीताराम सीताराम कहिये


मुख में हो राम नाम, राम सेवा हाथ में,
तू अकेला नहिं प्यारे, राम तेरे साथ में।
विधि का विधान जान हानि लाभ सहिये
जाहि विधि राखे राम ताहि विधि रहिये॥

सीताराम सीताराम सीताराम कहिये,
जाहि विधि राखे राम, ताहि विधि रहिये।


किया अभिमान तो फिर मान नहीं पायेगा,
होगा प्यारे वही जो, रामजी को भायेगा।
फल आशा त्याग शुभ कर्म करते रहिये,
जाहि विधि राखे राम, ताहि विधि रहिये॥

सीताराम सीताराम सीताराम कहिये
जाहि विधि राखे राम, ताहि विधि रहिये


ज़िन्दगी की डोर सौंप हाथ दीनानाथ के,
महलों मे राखे चाहे झोंपड़ी मे वास दे।
धन्यवाद निर्विवाद राम कहते रहिये,
जाहि विधि राखे राम ताहि विधि रहिये॥

सीताराम सीताराम सीताराम कहिये
जाहि विधि राखे राम, ताहि विधि रहिये


आशा एक रामजी से, दूजी आशा छोड़ दे,
नाता एक रामजी से, दूजे नाते तोड़ दे।
साधु संग राम रंग अंग अंग रंगिये,
काम रस त्याग प्यारे, राम रस पगिये॥

सीताराम सीताराम सीताराम कहिये
जाहि विधि राखे राम ताहि विधि रहिये


For more bhajans from category, Click -

-
-

_

Ram Bhajans

  • कभी कभी भगवान को भी
    कभी कभी भगवान को भी
    भक्तों से काम पड़े।
    जाना था गंगा पार,
    प्रभु केवट की नाव चढ़े
  • श्रीराम कहो, घनश्याम कहो
    Lyrics
  • श्रीराम कहो, घनश्याम कहो,
    जै बोलो सीताराम रे,
    समदर्शी है प्रभु की माया,
    ना कोई उसके समान रे॥

  • उठ नाम सिमर, मत सोए रहो
    उठ नाम सिमर, मत सोए रहो,
    मन अंत समय पछतायेगा।
    जब चिडियों ने चुग खेत लिया,
    फिर हाथ कुछ ना आयेगा॥
    उठ नाम सिमर, मत सोए रहो
  • सुंदरकाण्ड - चौपाई और दोहे - Audio - 9
    सुनु लंकेस सकल गुन तोरें।
    तातें तुम्ह अतिसय प्रिय मोरें॥
    राम बचन सुनि बानर जूथा।
    सकल कहहिं जय कृपा बरूथा॥
  • जिसकी लागी रे लगन भगवान में
    जिसकी लागी रे लगन भगवान में,
    उसका दिया रे जलेगा तूफ़ान में
    अनहोनी को होनी करदे
    उसका नाम है राम रे
  • प्रभु जी, तुम चंदन हम पानी
    प्रभु जी, तुम चंदन हम पानी
    जाकी अंग-अंग बास समानी
    प्रभु जी, तुम घन बन हम मोरा
    जैसे चितवत चंद चकोरा
    प्रभु जी, तुम चंदन हम पानी
  • रामा रामा रटते रटते
    श्याम सलोनी मोहिनी मूरत,
    नैयनो बीच बसाऊंगी।
    सुबह शाम नित उठकर मै तो,
    तेरा ध्यान लगाऊँगी।
  • सुंदरकाण्ड - चौपाई और दोहे - Audio - 5
    पूँछहीन बानर तहँ जाइहि।
    तब सठ निज नाथहि लइ आइहि॥
    जिन्ह कै कीन्हिसि बहुत बड़ाई।
    देखउ मैं तिन्ह कै प्रभुताई॥
  • सुंदरकाण्ड - 2
    मसक समान रूप कपि धरी।
    लंकहि चलेउ सुमिरि नरहरी॥
    नाम लंकिनी एक निसिचरी।
    सो कह चलेसि मोहि निंदरी॥
    हनुमानजी मच्छर के समान, छोटा-सा रूप धारण कर, प्रभु श्री रामचन्द्रजी के नाम का सुमिरन करते हुए लंका में प्रवेश करते है॥
  • सुंदरकाण्ड - 3
    सुनहु पवनसुत रहनि हमारी।
    जिमि दसनन्हि महुँ जीभ बिचारी॥
    तात कबहुँ मोहि जानि अनाथा।
    करिहहिं कृपा भानुकुल नाथा॥
    विभीषण कहते है की हे हनुमानजी! हमारी रहनी हम कहते है सो सुनो। जैसे दांतों के बिचमें बिचारी जीभ रहती है, ऐसे हम इन राक्षसोंके बिच में रहते है॥
_

Bhajan List

Ram Bhajans – Hindi
krishna Bhajan – Hindi
Bhajan, Aarti, Chalisa, Dohe – List

_
_

Ram Bhajan Lyrics

  • सुंदरकाण्ड - 8
    जानउँ मैं तुम्हारि प्रभुताई।
    सहसबाहु सन परी लराई॥
    समर बालि सन करि जसु पावा।
    सुनि कपि बचन बिहसि बिहरावा॥
    हे रावण! आपकी प्रभुता तो मैंने तभीसे जान ली है कि जब आपको सहस्रबाहुके साथ युद्ध करनेका काम पड़ा था॥
  • तेरे फूलों से भी प्यार
    तेरे फूलों से भी प्यार, तेरे काँटों से भी प्यार
    दाता किसी भी दिशा में ले चल जिंदगी की नाव
    चाहे ख़ुशी भरा संसार, चाहे आंसुओ की धार
    दाता किसी भी दिशा में ले चल जिंदगी की नाव
  • सुंदरकाण्ड - चौपाई और दोहे - Audio - 4
    सुनि सुत बध लंकेस रिसाना।
    पठएसि मेघनाद बलवाना॥
    मारसि जनि सुत बाँधेसु ताही।
    देखिअ कपिहि कहाँ कर आही॥
  • श्रीराम कहो, घनश्याम कहो
    Lyrics
  • श्रीराम कहो, घनश्याम कहो,
    जै बोलो सीताराम रे,
    समदर्शी है प्रभु की माया,
    ना कोई उसके समान रे॥

  • जिस भजन में राम का नाम ना हो
    जिस माँ ने हम को जनम दिया,
    दिल उसका दुखाना ना चाहिए।
    जिस पिता ने हम को पाला है,
    उसे कभी रुलाना ना चाहिए॥
_
_

Bhajans and Aarti

_
_

Bhakti Geet Lyrics

_