Ram Naam Ati Meetha Hai – Hindi

राम नाम अति मीठा है

राम नाम अति मीठा है,
कोई गा के देख ले
आ जाते है राम,
कोई बुला के देख ले

Anup Jalota

Sharad Gupta

_

Ram Naam Ati Meetha Hai


राम नाम अति मीठा है,
कोई गा के देख ले
आ जाते है राम,
कोई बुला के देख ले

राम नाम अति मीठा है,
कोई गा के देख ले
आ जाते है राम,
कोई बुला के देख ले
राम नाम अति मीठा है


जिस घर में अंधकार,
वहां मेहमान कहां से आए।
जिस मन में अभिमान,
वहां भगवान कहा से आए॥

अपने मन मंदिर में,
ज्योत जलाके देख ले।
आ जाते है राम,
कोई बुला के देख ले॥

राम नाम अति मीठा है,
कोई गा के देख ले।
आ जाते है राम,
कोई बुला के देख ले॥


आधे नाम पे आ जाते,
हो कोई बुलाने वाला।
बिक जाते है राम,
कोई हो मोल चुकाने वाला॥

कोई शबरी झूठे बेर
खिलाके देख ले।
आ जाते है राम,
कोई बुला के देख ले॥

राम नाम अति मीठा है,
कोई गा के देख ले।
आ जाते है राम,
कोई बुला के देख ले॥


मन भगवान् का मन्दिर है,
जहाँ मैल न आने देना।
हीरा जन्म अनमोल मिला है,
इसे व्यर्थ गँवा न देना॥

शीश झुके हरि मिलते हैं,
झुकाके देख ले।
आ जाते है राम,
कोई बुला के देख ले॥

राम नाम अति मीठा है,
कोई गा के देख ले।
आ जाते है राम,
कोई बुला के देख ले॥


Tags:

-
-

_

Ram Bhajans

  • सुंदरकाण्ड - चौपाई और दोहे - Audio (1 to 60) - List
    हनुमानजी का सीता शोध के लिए लंका प्रस्थान
    हनुमानजी और विभीषण का संवाद - श्रीराम की महिमा
    हनुमान ने सीताजीको रामचन्द्रजीका सन्देश दिया
    लंका दहन - हनुमानजी ने लंका जलाई
    प्रभु श्री रामचंद्रजी की महिमा
  • सुंदरकाण्ड - 9
    पूँछहीन बानर तहँ जाइहि।
    तब सठ निज नाथहि लइ आइहि॥
    जिन्ह कै कीन्हिसि बहुत बड़ाई।
    देखउ मैं तिन्ह कै प्रभुताई॥
    जब यह वानर पूंछहीन होकर अपने मालिकके पास जायेगा, तब अपने स्वामीको यह ले आएगा॥
  • उठ नाम सिमर, मत सोए रहो
    उठ नाम सिमर, मत सोए रहो,
    मन अंत समय पछतायेगा।
    जब चिडियों ने चुग खेत लिया,
    फिर हाथ कुछ ना आयेगा॥
    उठ नाम सिमर, मत सोए रहो
  • पायो जी मैंने राम रतन धन पायो
    पायो जी मैंने राम रतन धन पायो।
    वस्तु अमोलक दी मेरे सतगुरु
    किरपा कर अपनायो
    जनम जनम की पूंजी पाई
    जग में सभी खोवायो
  • सुंदरकाण्ड - 15
    ऐहि बिधि करत सप्रेम बिचारा।
    आयउ सपदि सिंदु एहिं पारा॥
    कपिन्ह बिभीषनु आवत देखा।
    जाना कोउ रिपु दूत बिसेषा॥
    यिभीषण इस प्रकार प्रेमसहित अनेक प्रकारके विचार करते हुए तुरंत समुद्रके इस पार आए॥
  • महिमा वरणी ना जाये
    Lyrics
  • महिमा वरणी ना जाये,
    दशरथ नंदन राम की।
    जै बोलो श्रीराम की,
    जै बोलो प्रभु राम की॥

  • सुंदरकाण्ड - 5
    तब देखी मुद्रिका मनोहर।
    राम नाम अंकित अति सुंदर॥
    चकित चितव मुदरी पहिचानी।
    हरष बिषाद हृदयँ अकुलानी॥
    फिर सीताजीने उस मुद्रिकाको देखा तो वह सुन्दर मुद्रिका रामचन्द्रजीके मनोहर नामसे अंकित हो रही थी अर्थात उसपर श्री राम का नाम खुदा हुआ था॥
  • शान्ताकारं भुजगशयनं पद्मनाभं सुरेशं - अर्थ सहित
    शान्ताकारं भुजगशयनं
    पद्मनाभं सुरेशं
    विश्वाधारं गगनसदृशं
    मेघवर्ण शुभाङ्गम्।
  • भजन बिना, चैन न आये राम
    Lyrics
  • भजन बिना, चैन न आये राम।
    कोई न जाने, कब हो जाये,
    इस जीवन की शाम॥
    मोह माया की आस तो पगले,होगी कभी ना पूरी

_

Bhajan List

Ram Bhajans – Hindi
krishna Bhajan – Hindi
Bhajan, Aarti, Chalisa, Dohe – List

_
_

Ram Bhajan Lyrics

  • श्री राम आरती - श्रीरामचन्द्र कृपालु भजु मन - अर्थ सहित
    श्रीरामचन्द्र कृपालु भजु मन
    हरण भवभय दारुणम्।
    नवकंज-लोचन कंज-मुख
    कर-कंज पद-कंजारुणम्॥
    श्रीरामचन्द्र कृपालु भजु मन - हे मन, कृपालु (कृपा करनेवाले, दया करनेवाले) भगवान श्रीरामचंद्रजी का भजन कर
  • कभी राम बनके, कभी श्याम बनके
    कभी राम बनके, कभी श्याम बनके,
    चले आना, प्रभुजी चले आना,
    तुम राम रूप में आना
    सीता साथ लेके, धनुष हाथ लेके,
    चले आना, प्रभुजी चले आना
  • सुंदरकाण्ड - चौपाई और दोहे - Audio (1 to 60) - List
    हनुमानजी का सीता शोध के लिए लंका प्रस्थान
    हनुमानजी और विभीषण का संवाद - श्रीराम की महिमा
    हनुमान ने सीताजीको रामचन्द्रजीका सन्देश दिया
    लंका दहन - हनुमानजी ने लंका जलाई
    प्रभु श्री रामचंद्रजी की महिमा
  • मंगल मुरति राम दुलारे - हे बजरंगबली हनुमान
    मंगल मुरति राम दुलारे
    आन पड़ा अब तेरे द्वारे
    हे बजरंगबली हनुमान
    हे महावीर करो कल्याण
  • सुंदरकाण्ड - 16
    अस कहि करत दंडवत देखा।
    तुरत उठे प्रभु हरष बिसेषा॥
    दीन बचन सुनि प्रभु मन भावा।
    भुज बिसाल गहि हृदयँ लगावा॥
    ऐसे कहते हुए बिभीषणको दंडवत करते देखकर प्रभु बड़े अल्हादके साथ तुरंत उठ खड़े हए॥
_
_

Bhajans and Aarti

  • तु गोकुल का रखवाला है
    तु गोकुल का रखवाला है,
    कोई क्या जाने नन्दलाला है॥
    कोई क्या जाने नन्दलाला है॥
  • शिर्डी साईं द्वारकामाई
    साईं राम, राधे श्याम
    मेघ श्याम, सुन्दर नाम
    शिर्डी साईं, द्वारका माई
    सर्वान्तर्यामी साईं राम
  • राधे राधे बोलो, चले आयेंगे बिहारी
    राधे राधे बोलो, चले आयेंगे बिहारी
    आयेंगे बिहारी, चले आयेंगे बिहारी
    राधारानी भोली भली चंचल बिहारी
    राधारानी गोरी गोरी सांवरे बिहारी,
  • तोरा मन दर्पण कहलाये
    तोरा मन दर्पण कहलाये
    भले, बुरे सारे कर्मों को
    देखे और दिखाए
    तोरा मन दर्पण कहलाये
  • दुर्गा आरती - जय अम्बे गौरी
    जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी।
    तुमको निशिदिन ध्यावत, हरि ब्रह्मा शिव री॥
    (श्री) अम्बेजी की आरती, जो कोई नर गावै।
    कहत शिवानंद स्वामी, सुख सम्पत्ति पावै॥
    ॥मैया जय अम्बे गौरी॥
  • श्री शिव चालीसा
    जय गिरिजा पति दीन दयाला।
    सदा करत सन्तन प्रतिपाला॥
    भाल चन्द्रमा सोहत नीके।
    कानन कुण्डल नागफनी के॥
  • आज अंधेरे में है हम इंसान
    आज अंधेरे में है हम इंसान,
    ज्ञान का सूरज चमका दे भगवान
    भटक रहे हमें राह दिखा दे,
    भगवान राह दिखा दे
  • साई की नगरिया जाना है रे बंदे
    साई की नगरिया जाना है रे बंदे
    जाना है रे बंदे
    जग नाही अपना, जग नाही अपना,
    बेगाना है रे बंदे
    जाना है रे बंदे, जाना है रे बंदे
_
_

Bhakti Geet Lyrics

  • मै हूँ आया है तेरे द्वार
    मै हूँ आया है तेरे द्वार,
    ओ जय लक्ष्मी माता
    मेरी सुन ले पुकार हे माँ
    ओ मैया नैया पार लगा
    ओ जय लक्ष्मी माता
  • इतनी शक्ति हमें देना दाता
    इतनी शक्ति हमें देना दाता
    मन का विश्वास कमजोर हो ना।
    हम चले नेक रस्ते पे हमसे
    भूलकर भी कोई भूल हो ना॥
  • चितचोर लियो है कन्हाई
    अरी, चितचोर लियो है कन्हाई
    तन मन की सुध बिसरायी
    मेरो बिसर गयो घर अंगना है
    सजनी अब चैन पडेना है
    मन सांवरी सूरत भाई
    तन मन की सुध बिसरायी
  • शिव तांडव स्तोत्र
    जटाटवीगलज्जल प्रवाह पावितस्थले
    गलेऽवलम्ब्य लम्बितां भुजङ्ग तुङ्ग मालिकाम्।
    डमड्डमड्डमड्डमन्निनाद वड्डमर्वयं
    चकार चण्डताण्डवं तनोतु नः शिवः शिवम्॥
  • श्री गणपति भज प्रगट पार्वती
    श्री गणपति भज प्रगट पार्वती
    अंक विराजत अविनासी।
    ब्रह्मा विष्णु सिवादि सकल सुर,
    करत आरती उल्लासी॥
_