Ram Ka Sumiran Kiya Karo – Hindi

राम का सुमिरन किया करो,
प्रभु के सहारे जिया करो
जो दुनिया का मालिक है,
नाम उसी का लिया करो

Sudhanshu ji Maharaj

_

Ram Ka Sumiran Kiya Karo


राम का सुमिरन किया करो,
प्रभु के सहारे जिया करो

जो दुनिया का मालिक है,
नाम उसी का लिया करो

राम का सुमिरन किया करो,
प्रभु के सहारे जिया करो
जो दुनिया का मालिक है,
नाम उसी का लिया करो


सुर दुर्लभ मानव तन तूने,
बड़े भाग्य से पाया है

विषयों में फंसकर के बन्दे,
हीरा जनम गवाया है

दुष्ट संग ना किया करो,
सज्जनों से गुण लिया करो

जो दुनिया का मालिक है,
नाम उसी का लिया करो

राम का सुमिरन किया करो,
प्रभु के सहारे जिया करो
जो दुनिया का मालिक है,
नाम उसी का लिया करो


राम का सुमिरन किया करो,
प्रभु के सहारे जिया करो

जो दुनिया का मालिक है,
नाम उसी का लिया करो


For more bhajans from category, Click -

-
-

_

Ram Bhajans

  • श्री राम स्तुति - श्रीरामचन्द्र कृपालु भजु मन
    Shri Ramchandra kripalu bhajman,
    haran bhav bhaya darunam
    Nav-kanj-lochan kanj-mukh,
    kar-kanj pad-kanjarunam
  • सुंदरकाण्ड - चौपाई और दोहे - Audio - 8
    ऐहि बिधि करत सप्रेम बिचारा।
    आयउ सपदि सिंदु एहिं पारा॥
    कपिन्ह बिभीषनु आवत देखा।
    जाना कोउ रिपु दूत बिसेषा॥
  • आसरा इस जहाँ का मिले ना मिले
    आसरा इस जहाँ का मिले ना मिले।
    मुझको तेरा सहारा सदा चाहिये॥
    मेरी धीमी है चाल और पथ है विशाल।
    हर कदम पर मुसीबत, अब तू ही संभाल॥
  • सुंदरकाण्ड - 18
    प्रगट बखानहिं राम सुभाऊ।
    अति सप्रेम गा बिसरि दुराऊ॥
    रिपु के दूत कपिन्ह तब जाने।
    सकल बाँधि कपीस पहिं आने॥
    और देखते देखते प्रेम ऐसा बढ़ गया कि वह (रावणदूत शुक) छिपाना भूल कर रामचन्द्रजीके स्वभावकी प्रकटमें प्रशंसा करने लगा॥
  • सुंदरकाण्ड - 4
    सीता तैं मम कृत अपमाना।
    कटिहउँ तव सिर कठिन कृपाना॥
    नाहिं त सपदि मानु मम बानी।
    सुमुखि होति न त जीवन हानी॥
    हे सीता! तूने मेरा मान भंग कर दिया है। इस वास्ते इस कठोर खडग (कृपान) से मैं तेरा सिर उड़ा दूंगा॥
  • सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को
    सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को
    मिल जाये तरुवर की छाया।
    ऐसा ही सुख मेरे मन को मिला है,
    मैं जब से शरण तेरी आया, मेरे राम॥
  • तेरे मन में राम
    तेरे मन में राम, तन में राम,
    रोम रोम में राम रे।
    राम सुमीर ले, ध्यान लगाले,
    छोड़ जगत के काम रे॥
    बोलो राम, बोलो राम, बोलो राम राम राम।
  • तेरा राम जी करेंगे बेडा पार
    तेरा राम जी करेंगे बेडा पार
    उदासी मन काहे को करे रे
    काहे को डरे रे, काहे को डरे
    नैय्या तेरी राम हवाले,
    लहर लहर हरी आप संभाले।
  • प्रभु मोरे अवगुण चित ना धरो
    प्रभु मोरे अवगुण चित ना धरो।
    समदरसी है नाम तिहारो, चाहे तो पार करो.
    एक लोहा पूजा में राखत
    एक घर बधिक परो
    पारस गुण अवगुण नही चितवत
    कंचन करत खरो
  • राम नाम अति मीठा है
    राम नाम अति मीठा है, कोई गा के देख ले
    आ जाते है राम, कोई बुला के देख ले
    जिस घर में अंधकार,
    वहां मेहमान कहां से आए।
    जिस मन में अभिमान,
    वहां भगवान कहा से आए॥
_

Bhajan List

Ram Bhajans – Hindi
krishna Bhajan – Hindi
Bhajan, Aarti, Chalisa, Dohe – List

_
_

Ram Bhajan Lyrics

_
_

Bhajans and Aarti

_
_

Bhakti Geet Lyrics

_