Prem Mudit Man Se Kaho – Hindi

प्रेम मुदित मन से कहो, राम राम राम
श्री राम राम राम, श्री राम राम राम,
पाप कटें दुःख मिटें, लेत राम नाम।
भव समुद्र सुखद नाव, एक राम नाम॥

Anup Jalota

_

Prem Mudit Man Se Kaho Ram Ram


प्रेम मुदित मन से कहो, राम राम राम
श्री राम राम राम, श्री राम राम राम,
श्री राम राम राम


पाप कटें दुःख मिटें, लेत राम नाम।
भव समुद्र सुखद नाव, एक राम नाम॥

श्री राम राम राम, श्री राम राम राम,
श्री राम राम राम, श्री राम राम राम


परम शांति सुख निधान, नित्य राम नाम।
निराधार को आधार, एक राम नाम॥

श्री राम राम राम, श्री राम राम राम,
श्री राम राम राम, श्री राम राम राम


परम गोप्य परम इष्ट, मंत्र राम नाम।
संत हृदय सदा बसत, एक राम नाम॥

श्री राम राम राम, श्री राम राम राम,
श्री राम राम राम, श्री राम राम राम


महादेव सतत जपत, दिव्य राम नाम।
कासी मरत मुक्ति करत, कहत राम नाम॥

श्री राम राम राम, श्री राम राम राम,
श्री राम राम राम, श्री राम राम राम


मात पिता बंधु सखा, सब ही राम नाम।
भक्त जनन जीवन धन, एक राम नाम॥

श्री राम राम राम, श्री राम राम राम,
श्री राम राम राम, श्री राम राम राम


प्रेम मुदित मन से कहो, राम राम राम
श्री राम राम राम, श्री राम राम राम,
श्री राम राम राम


For more bhajans from category, Click -

-
-

_

Ram Bhajans

_

Bhajan List

Ram Bhajans – Hindi
krishna Bhajan – Hindi
Bhajan, Aarti, Chalisa, Dohe – List

_
_

Ram Bhajan Lyrics

  • कभी कभी भगवान को भी
    कभी कभी भगवान को भी
    भक्तों से काम पड़े।
    जाना था गंगा पार,
    प्रभु केवट की नाव चढ़े
  • Shri Ram kaho, Ghanshyam kaho
    Lyrics
  • Shri Ram kaho, Ghanshyam kaho,
    Jai bolo Sitaram re,
    Samadarshi hai prabhu ki maaya,
    Na koi usake samaan re

  • सुंदरकाण्ड - 17
    सुनु लंकेस सकल गुन तोरें।
    तातें तुम्ह अतिसय प्रिय मोरें॥
    राम बचन सुनि बानर जूथा।
    सकल कहहिं जय कृपा बरूथा॥
    हे लंकेश (लंकापति)! सुनो, आपमें सब गुण है और इसीसे आप मुझको अतिशय प्यारें लगते हो॥
  • भजो रे मन, राम नाम सुखदाई
    Bhajo re man, Ram naam sukhdai.
    Ram naam ke do akshar mein.
    Sab sukh shaanti samai.
    Bhajo re man, Ram naam sukhdai.
  • सुंदरकाण्ड - 10
    चलत महाधुनि गर्जेसि भारी।
    गर्भ स्रवहिं सुनि निसिचर नारी॥
    नाघि सिंधु एहि पारहि आवा।
    सबद किलिकिला कपिन्ह सुनावा॥
    जाते समय हनुमानजीने ऐसी भारी गर्जना की, कि जिसको सुनकर राक्षसियोंके गर्भ गिर गये॥
_
_

Bhajans and Aarti

_
_

Bhakti Geet Lyrics

_