Hum Ramji Ke, Ramji Hamare Hai – Hindi

हम राम जी के, रामजी हमारे हैं

हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
मेरे नयनो के तारे है
सारे जग के रखवाले है

Prembhushan ji Maharaj

_

Hum Ramji Ke, Ramji Hamare Hai


हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं


मेरे नयनो के तारे है
सारे जग के रखवाले है

हम रामजी के, रामजी हमारे हैं
हम रामजी के, रामजी हमारे हैं


एक भरोसो एक बल, एक आस विश्वास
एक राम घनश्याम हित, जातक तुलसी दास

हम रामजी के, रामजी हमारे हैं
हम रामजी के, रामजी हमारे हैं


जो लाखो पापियों को तारे है
जो अधमन को उद्धारे है
हम उनकी शरण पधारे है

हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं


शरणागत आर्त निवारे है
हम इनके सदा सहारे है

हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं


गणिका और गिद्ध उद्धारे है
हम खड़े उन्हीके के द्वारे है

हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं


Tags:

-
-

_

Shree Ram Bhajans

  • तेरे फूलों से भी प्यार
    तेरे फूलों से भी प्यार, तेरे काँटों से भी प्यार
    दाता किसी भी दिशा में ले चल जिंदगी की नाव
    चाहे ख़ुशी भरा संसार, चाहे आंसुओ की धार
    दाता किसी भी दिशा में ले चल जिंदगी की नाव
  • सुंदरकाण्ड - 6
    जौं रघुबीर होति सुधि पाई।
    करते नहिं बिलंबु रघुराई॥
    राम बान रबि उएँ जानकी।
    तम बरुथ कहँ जातुधान की॥
    हे माता! जो रामचन्द्रजीको आपकी खबर मिल जाती तो प्रभु कदापि विलम्ब नहीं करते॥
  • सुंदरकाण्ड - 11
    चलत मोहि चूड़ामनि दीन्ही।
    रघुपति हृदयँ लाइ सोइ लीन्ही॥
    नाथ जुगल लोचन भरि बारी।
    बचन कहे कछु जनककुमारी॥
    और चलते समय मुझको यह चूड़ामणि दिया हे. ऐसे कह कर हनुमानजीने वह चूड़ामणि रामचन्द्रजीको दे दिया। तब रामचन्द्रजीने उस रत्नको लेकर अपनी छातीसे लगाया॥
  • सुंदरकाण्ड - 17
    सुनु लंकेस सकल गुन तोरें।
    तातें तुम्ह अतिसय प्रिय मोरें॥
    राम बचन सुनि बानर जूथा।
    सकल कहहिं जय कृपा बरूथा॥
    हे लंकेश (लंकापति)! सुनो, आपमें सब गुण है और इसीसे आप मुझको अतिशय प्यारें लगते हो॥
  • ना मैं धन चाहूँ, ना रतन चाहूँ
    ना मैं धन चाहूँ, ना रतन चाहूँ
    तेरे चरणों की धूल मिल जाए,
    तो मैं तर जाऊँ, श्याम तर जाऊँ,
    हे राम तर जाऊँ
  • श्री राम आरती - श्रीरामचन्द्र कृपालु भजु मन - अर्थ सहित
    श्रीरामचन्द्र कृपालु भजु मन
    हरण भवभय दारुणम्।
    नवकंज-लोचन कंज-मुख
    कर-कंज पद-कंजारुणम्॥
    श्रीरामचन्द्र कृपालु भजु मन - हे मन, कृपालु (कृपा करनेवाले, दया करनेवाले) भगवान श्रीरामचंद्रजी का भजन कर
  • ऐसें मेरे मन में विराजिये
    ऐसें मेरे मन में विराजिये
    की मै भूल जाऊं काम धाम
    गाऊं बस तेरा नाम
    सीता राम सीता राम
  • उठे तो बोले राम, बैठे तो बोले राम
    उठे तो बोले राम,
    बैठे तो बोले राम।
    यो तो रामभक्त हनुमान,
    बोले राम राम राम॥
  • जहाँ ले चलोगे, वहीं मैं चलूँगा
    जहाँ ले चलोगे, वहीं मैं चलूँगा।
    जहां नाथ रख लोगे, वहीं मैं रहूँगा॥
    यह जीवन समर्पित, चरण में तुम्हारे।
    तुम्ही मेरे सर्वस्व, तुम्ही प्राण प्यारे।
  • हम राम जी के, रामजी हमारे हैं
    हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
    हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
    जो लाखो पापियों को तारे है
    जो अधमन को उद्धारे है
    हम उनकी शरण पधारे है
    हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
_

Bhajan List

Ram Bhajans – Hindi
krishna Bhajan – Hindi
Bhajan, Aarti, Chalisa, Dohe – List

_
_

Ram Bhajan Lyrics

  • सुंदरकाण्ड - 4
    सीता तैं मम कृत अपमाना।
    कटिहउँ तव सिर कठिन कृपाना॥
    नाहिं त सपदि मानु मम बानी।
    सुमुखि होति न त जीवन हानी॥
    हे सीता! तूने मेरा मान भंग कर दिया है। इस वास्ते इस कठोर खडग (कृपान) से मैं तेरा सिर उड़ा दूंगा॥
  • बोले बोले हनुमान बोलो भक्तो सिया राम
    बोले बोले हनुमान बोलो भक्तो सिया राम।
    श्री राम के चरणों में बनते बिगड़े काम।
    उसकी शोभा है विष्णु में, उसकी शोभा है मोहन सी।
    तुलसी ने जब शीश झुकाया, धनुष बनी कान्हा की बंसी।
  • सुंदरकाण्ड - चौपाई और दोहे - Audio (1 to 60) - List
    हनुमानजी का सीता शोध के लिए लंका प्रस्थान
    हनुमानजी और विभीषण का संवाद - श्रीराम की महिमा
    हनुमान ने सीताजीको रामचन्द्रजीका सन्देश दिया
    लंका दहन - हनुमानजी ने लंका जलाई
    प्रभु श्री रामचंद्रजी की महिमा
  • राम नाम के हीरे मोती - 1
    राम नाम के हीरे मोती,
    मैं बिखराऊँ गली गली
    ले लो रे कोई राम का प्यारा,
    शोर मचाऊँ गली गली
    क्यूँ करता है तेरी मेरी,
    छोड़ दे अभिमान को
  • सुंदरकाण्ड - 1
    जामवंत के बचन सुहाए।
    सुनि हनुमंत हृदय अति भाए॥
    तब लगि मोहि परिखेहु तुम्ह भाई।
    सहि दुख कंद मूल फल खाई॥
    जाम्बवान के सुहावने वचन सुनकर हनुमानजी को अपने मन में वे वचन बहुत अच्छे लगे॥
_
_

Bhajans and Aarti

_
_

Bhakti Geet Lyrics

  • श्री गणेश आरती - सुखकर्ता दुखहर्ता - जय देव, जय मंगलमूर्ती
    सुखकर्ता दुखहर्ता वार्ता विघ्नाची।
    नुरवी पुरवी प्रेम कृपा जयाची॥
    जय देव, जय देव, जय मंगलमूर्ती
    दर्शनमात्रे मन कामनापु्र्ती
    जय देव, जय देव
  • ऐसी सुबह ना आए
    ऐसी सुबह ना आए, आए ना ऐसी शाम।
    जिस दिन जुबा पे मेरी आए ना शिव का नाम॥
    मन मंदिर में वास है तेरा, तेरी छवि बसाई।
    प्यासी आत्मा बनके जोगन, तेरी शरण में आई।
    ॐ नमः शिवाय, ॐ नमः शिवाय
  • बंसी वाले बतला, तेरा कहा ठिकाना है
    बंसी वाले बतला,
    तेरा कहा ठिकाना है।
    किस राह पे चलना है,
    किस राह पे जाना है॥
    बन सारथि अर्जुन का,
    रथ तूने चलाया था।
    आ फिर से धरती पर,
    तूने पाप मिटाना है॥
  • आज मंगलवार है, महावीर का वार है
    आज मंगलवार है, महावीर का वार है,
    यह सच्चा दरबार है।
    सच्चे मन से जो कोई ध्यावे,
    उसका बेडा पार है॥
    राम नाम आधार है,
    महावीर का वार है।
_