Hamare Saath Shri Raghunath – Hindi

हमारे साथ श्री रघुनाथ तो किस बात की चिंता

हमारे साथ श्री रघुनाथ तो
किस बात की चिंता
शरण में रख दिया जब माथ तो
किस बात की चिंता

Prembhushan ji Maharaj

_

Hamare Saath Shri Raghunath


हमारे साथ श्री रघुनाथ तो किस बात की चिंता
शरण में रख दिया जब माथ तो किस बात की चिंता
शरण में रख दिया जब माथा तो किस बात की चिंता

किया करते हो तुम दिन रात क्यों बिन बात की चिंता
किया करते हो तुम दिन रात क्यों बिन बात की चिंता

किया करते हो तुम दिन रात क्यों बिन बात की चिंता
किया करते हो तुम दिन रात क्यों बिन बात की चिंता

तेरे स्वामी,
तेरे स्वामी को रहती है, तेरे हर बात की चिंता
तेरे स्वामी को रहती है, तेरे हर बात की चिंता

हमारे साथ श्री रघुनाथ तो किस बात की चिंता
हमारे साथ श्री रघुनाथ तो किस बात की चिंता


न खाने की, न पीने की, न मरने की, न जीने की
न खाने की, न पीने की, न मरने की, न जीने की
न खाने की, न पीने की, न मरने की, न जीने की

रहे हर स्वास
रहे हर स्वास में भगवान के प्रिय नाम की चिंता
रहे हर स्वास में भगवान के प्रिय नाम की चिंता

हमारे साथ श्री रघुनाथ तो किस बात की चिंता
हमारे साथ श्री रघुनाथ तो किस बात की चिंता


विभीषण को अभय वर दे किया लंकेश पल भर में
विभीषण को अभय वर दे किया लंकेश पल भर में
विभीषण को अभय वर दे किया लंकेश पल भर में

उन्ही का हा, उन्ही का हा
उन्ही का हा कर रहे गुण गान तो किस बात की चिंता
उन्ही का हा कर रहे गुण गान तो किस बात की चिंता

हमारे साथ श्री रघुनाथ तो किस बात की चिंता
हमारे साथ श्री रघुनाथ तो किस बात की चिंता


हुई भक्त पर किरपा बनाया दास प्रभु अपना
हुई भक्त पर किरपा बनाया दास प्रभु अपना
हुई भक्त पर किरपा बनाया दास प्रभु अपना

उन्ही के हाथ,
उन्ही के हाथ में अब हाथ तो किस बात की चिंता
उन्ही के हाथ में अब हाथ तो किस बात की चिंता

हमारे साथ श्री रघुनाथ तो किस बात की चिंता
हमारे साथ श्री रघुनाथ तो किस बात की चिंता


शरण में रख दिया जब माथ तो किस बात की चिंता
शरण में रख दिया जब माथ तो किस बात की चिंता

किस बात की चिंता, अरे किस बात की चिंता
किस बात की चिंता, किस बात की चिंता


Tags:

-
-

_

Shree Ram Bhajans

  • जिस भजन में राम का नाम ना हो
    जिस माँ ने हम को जनम दिया,
    दिल उसका दुखाना ना चाहिए।
    जिस पिता ने हम को पाला है,
    उसे कभी रुलाना ना चाहिए॥
  • Sri Vishnu Sahasranamam - 2 - Hindi
    Vishnu Sahasranamam Lyrics – 2 Sri Vishnu Sahasranamam in Hindi <<< From Vishnu Sahasranama Lyrics -1 धर्मगुब धर्मकृद धर्मी सदसत्क्षरं-अक्षरं। … Continue reading Sri Vishnu Sahasranamam – 2 – Hindi
  • शान्ताकारं भुजगशयनं पद्मनाभं सुरेशं - अर्थ सहित
    शान्ताकारं भुजगशयनं
    पद्मनाभं सुरेशं
    विश्वाधारं गगनसदृशं
    मेघवर्ण शुभाङ्गम्।
  • सुंदरकाण्ड - चौपाई और दोहे - Audio - 5
    पूँछहीन बानर तहँ जाइहि।
    तब सठ निज नाथहि लइ आइहि॥
    जिन्ह कै कीन्हिसि बहुत बड़ाई।
    देखउ मैं तिन्ह कै प्रभुताई॥
  • श्री राम चालीसा - श्री रघुवीर भक्त हितकारी
    श्री रघुवीर भक्त हितकारी।
    सुन लीजै प्रभु अरज हमारी॥
    निशिदिन ध्यान धरै जो कोई।
    ता सम भक्त और नहिं होई॥
  • सुंदरकाण्ड - 13
    श्रवन सुनी सठ ता करि बानी।
    बिहसा जगत बिदित अभिमानी॥
    सभय सुभाउ नारि कर साचा।
    मंगल महुँ भय मन अति काचा॥
    कवि कहता है कि वो शठ मन्दोदरीकी यह वाणी सुनकर हँसा, क्योंकि उसके अभिमानकौ तमाम संसार जानता है॥
  • सुंदरकाण्ड - चौपाई और दोहे - Audio - 7
    श्रवन सुनी सठ ता करि बानी।
    बिहसा जगत बिदित अभिमानी॥
    सभय सुभाउ नारि कर साचा।
    मंगल महुँ भय मन अति काचा॥
  • सुंदरकाण्ड - 20
    लछिमन बान सरासन आनू।
    सोषौं बारिधि बिसिख कृसानु॥
    सठ सन बिनय कुटिल सन प्रीति।
    सहज कृपन सन सुंदर नीति॥
    हे लक्ष्मण! धनुष बाण लाओ। क्योंकि अब इस समुद्रको बाणकी आगसे सुखाना होगा॥
  • तेरे मन में राम
    तेरे मन में राम, तन में राम,
    रोम रोम में राम रे।
    राम सुमीर ले, ध्यान लगाले,
    छोड़ जगत के काम रे॥
    बोलो राम, बोलो राम, बोलो राम राम राम।
  • उठ नाम सिमर, मत सोए रहो
    उठ नाम सिमर, मत सोए रहो,
    मन अंत समय पछतायेगा।
    जब चिडियों ने चुग खेत लिया,
    फिर हाथ कुछ ना आयेगा॥
    उठ नाम सिमर, मत सोए रहो
_

Bhajan List

Ram Bhajans – Hindi
krishna Bhajan – Hindi
Bhajan, Aarti, Chalisa, Dohe – List

_
_

Ram Bhajan Lyrics

  • Shri Ram kaho, Ghanshyam kaho
    Lyrics
  • Shri Ram kaho, Ghanshyam kaho,
    Jai bolo Sitaram re,
    Samadarshi hai prabhu ki maaya,
    Na koi usake samaan re

  • गणपति आज पधारो, श्री रामजी की धुन में
    गणपति आज पधारो,
    श्री रामजी की धुन में
    मोदक भोग लगाओ,
    श्री रामजी की धुन में
  • सुंदरकाण्ड - 19
    ए कपि सब सुग्रीव समाना।
    इन्ह सम कोटिन्ह गनइ को नाना॥
    राम कृपाँ अतुलित बल तिन्हहीं।
    तृन समान त्रैलोकहि गनहीं॥
    ये सब वानर सुग्रीवके समान बलवान हैं। इनके बराबर दूसरे करोड़ों वानर हैं, कौन गिन सकता है? ॥
  • भजन बिना, चैन न आये राम
    Lyrics
  • भजन बिना, चैन न आये राम।
    कोई न जाने, कब हो जाये,
    इस जीवन की शाम॥
    मोह माया की आस तो पगले,होगी कभी ना पूरी

  • भए प्रगट कृपाला, दीनदयाला
    भए प्रगट कृपाला, दीनदयाला,
    कौसल्या हितकारी।
    हरषित महतारी, मुनि मन हारी,
    अद्भुत रूप बिचारी॥
_
_

Bhajans and Aarti

_
_

Bhakti Geet Lyrics

_