Aise Mere Man Mein – Hindi

ऐसें मेरे मन में विराजिये

ऐसें मेरे मन में विराजिये
की मै भूल जाऊं काम धाम
गाऊं बस तेरा नाम
सीता राम सीता राम,
सीता राम सीता राम

_

Aise Mere Man Mein Virajiye


ऐसें मेरे मन में विराजिये
ऐसें मेरे मन में विराजिये
की मै भूल जाऊं काम धाम
गाऊं बस तेरा नाम
भूल जाऊं काम धाम
गाऊं बस तेरा नाम
सीता राम सीता राम, सीता राम सीता राम
सीता राम सीता राम, सीता राम सीता राम

ऐसें मेरे मन में विराजिये
ऐसें मेरे मन में


तू चंदा हम है चकोर,
दर्शन को मचाते है शोर
तू चंदा हम है चकोर,
दर्शन को मचाते है शोर

तेरी कृपा की नज़र,
अब हो जाये अपनी भी ओर
तेरी कृपा की नज़र,
अब हो जाये अपनी भी ओर

करुणा करिये मत लाजिए
करुणा करिये मत लाजिए
की मै भूल जाऊं काम धाम
गाऊं बस तेरा नाम
भूल जाऊं काम धाम
गाऊं बस तेरा नाम
सीता राम सीता राम, सीता राम सीता राम
सीता राम सीता राम, सीता राम सीता राम

ऐसें मेरे मन मैं विराजिये
मेरे मनन में


प्रीती का सच्चा सुरूर,
जिन्हें तुमने दिया है हुज़ूर
प्रीती का सच्चा सुरूर,
जिन्हें तुमने दिया है हुज़ूर

भक्ति की गहराईयाँ
पा लेंगे वो प्रेमी जरूर
भक्ति की गहराईयाँ
पा लेंगे वो प्रेमी जरूर

चरण कमल चित साजिए
चरण कमल चित साजिए
की मै भूल जाऊं काम धाम
गाऊं बस तेरा नाम
भूल जाऊं काम धाम
गाऊं बस तेरा नाम
सीता राम सीता राम, सीता राम सीता राम
सीता राम सीता राम, सीता राम सीता राम

ऐसें मेरे मान मैं विराजिये
ऐसें मेरे मन में


जीने का एक फल यही,
जिसने जाना है ज्ञानी वही
जीने का एक फल यही,
जिसने जाना है ज्ञानी वही

प्रीतम हृदय में बसे
बात संतो ने इतनी कही
प्रीतम हृदय में बसे
बात संतो ने इतनी कही

सिया संग प्यारी छवि छाजिये
सिया संग प्यारी छवि छाजिये
की मै भूल जाऊं काम धाम
गाऊं बस तेरा नाम
भूल जाऊं काम धाम
गाऊं बस तेरा नाम
सीता राम सीता राम, सीता राम सीता राम
सीता राम सीता राम, सीता राम सीता राम


ऐसें मेरे मन मैं विराजिये
ऐसें मेरे मन में विराजिये
की मै भूल जाऊं काम धाम
गाऊं बस तेरा नाम
भूल जाऊं काम धाम
गाऊं बस तेरा नाम

सीता राम सीता राम सीता राम
सीता राम सीता राम सीता राम
सीता राम सीता राम सीता राम


 

Tags:

-
-

_

Shri Ram Bhajans and Aarti

  • श्री राम स्तुति - श्रीरामचन्द्र कृपालु भजु मन
    श्रीरामचन्द्र कृपालु भजु मन
    हरण भवभय दारुणम्।
    नवकंज-लोचन कंज-मुख
    कर-कंज पद-कंजारुणम्॥
  • मंगल मुरति राम दुलारे - हे बजरंगबली हनुमान
    मंगल मुरति राम दुलारे
    आन पड़ा अब तेरे द्वारे
    हे बजरंगबली हनुमान
    हे महावीर करो कल्याण
  • सुंदरकाण्ड - 12
    नाथ भगति अति सुखदायनी।
    देहु कृपा करि अनपायनी॥
    सुनि प्रभु परम सरल कपि बानी।
    एवमस्तु तब कहेउ भवानी॥
    रामचन्द्रजीके ये वचन सुनकर हनुमानजीने कहा कि हे नाथ! मुझे तो कृपा करके आपकी अनपायिनी (जिसमें कभी विच्छेद नहीं पडे ऐसी, निश्चल) कल्याणकारी और सुखदायी भक्ति दो॥
  • सुंदरकाण्ड - 7
    ब्रह्मबान कपि कहुँ तेहिं मारा।
    परतिहुँ बार कटकु संघारा॥
    तेहिं देखा कपि मुरुछित भयऊ।
    नागपास बाँधेसि लै गयऊ॥
    मेघनादने हनुमानजीपर ब्रम्हास्त्र चलाया, उस ब्रम्हास्त्रसे हनुमानजी गिरने लगे तो गिरते समय भी उन्होंने अपने शरीरसे बहुतसे राक्षसोंका संहार कर डाला॥
  • सुंदरकाण्ड - 15
    ऐहि बिधि करत सप्रेम बिचारा।
    आयउ सपदि सिंदु एहिं पारा॥
    कपिन्ह बिभीषनु आवत देखा।
    जाना कोउ रिपु दूत बिसेषा॥
    यिभीषण इस प्रकार प्रेमसहित अनेक प्रकारके विचार करते हुए तुरंत समुद्रके इस पार आए॥
  • सुंदरकाण्ड - चौपाई और दोहे - Audio - 3
    तब देखी मुद्रिका मनोहर।
    राम नाम अंकित अति सुंदर॥
    चकित चितव मुदरी पहिचानी।
    हरष बिषाद हृदयँ अकुलानी॥
  • श्री विष्णु चालीसा
    नमो विष्णु भगवान खरारी।
    कष्ट नशावन अखिल बिहारी॥
    प्रबल जगत में शक्ति तुम्हारी।
    त्रिभुवन फैल रही उजियारी॥
  • गणपति आज पधारो, श्री रामजी की धुन में
    गणपति आज पधारो,
    श्री रामजी की धुन में
    मोदक भोग लगाओ,
    श्री रामजी की धुन में
  • सुंदरकाण्ड - चौपाई और दोहे - Audio - 4
    सुनि सुत बध लंकेस रिसाना।
    पठएसि मेघनाद बलवाना॥
    मारसि जनि सुत बाँधेसु ताही।
    देखिअ कपिहि कहाँ कर आही॥
  • ऐसें मेरे मन में विराजिये
    ऐसें मेरे मन में विराजिये
    की मै भूल जाऊं काम धाम
    गाऊं बस तेरा नाम
    सीता राम सीता राम
_

Bhajan List

Ram Bhajans – Hindi
krishna Bhajan – Hindi
Bhajan, Aarti, Chalisa, Dohe – List

_
_

Ram Bhajan Lyrics

  • प्रेम मुदित मन से कहो
    रेम मुदित मन से कहो, राम राम राम
    श्री राम राम राम, श्री राम राम राम..
    पाप कटें दुःख मिटें, लेत राम नाम।
    भव समुद्र सुखद नाव, एक राम नाम॥
  • सीताराम सीताराम सीताराम कहिये
    सीताराम सीताराम सीताराम कहिये,
    जाहि विधि राखे राम, ताहि विधि रहिये।
    मुख में हो राम नाम, राम सेवा हाथ में,
    तू अकेला नहिं प्यारे, राम तेरे साथ में।
  • सुंदरकाण्ड - 10
    चलत महाधुनि गर्जेसि भारी।
    गर्भ स्रवहिं सुनि निसिचर नारी॥
    नाघि सिंधु एहि पारहि आवा।
    सबद किलिकिला कपिन्ह सुनावा॥
    जाते समय हनुमानजीने ऐसी भारी गर्जना की, कि जिसको सुनकर राक्षसियोंके गर्भ गिर गये॥
  • ना मैं धन चाहूँ, ना रतन चाहूँ
    ना मैं धन चाहूँ, ना रतन चाहूँ
    तेरे चरणों की धूल मिल जाए,
    तो मैं तर जाऊँ, श्याम तर जाऊँ,
    हे राम तर जाऊँ
  • दुनिया चले ना श्री राम के बिना
    दुनिया चले ना श्री राम के बिना।
    राम जी चले ना हनुमान के बिना॥
    जब से रामायण पढ़ ली है,
    एक बात मैंने समझ ली है।
    रावण मरे ना श्री राम के बिना,
    लंका जले ना हनुमान के बिना॥
_
_

Bhajans and Aarti

  • करता रहमत की बरसात है
    करता रहमत की बरसात है
    मुरली वाले की क्या बात है
    मेरे प्यारे की क्या बात है
    मेरे छलिये की, मेरे साँवरे की
    मेरे साजन की क्या बात है
  • लखबीर सिंह लक्खा भजन - List
    अरे द्वारपालों कन्हैया से कह दो
    प्यारा सजा है तेरा द्वार, भवानी
    चरणों में रखना, मैया जी
    मेरी मैया की चुनरी कमाल है
  • आओ आज पधारो, पार्वती के प्यारे
    आओ आज पधारो, पार्वती के प्यारे
    हे शिव शंकर के दुलारे।
    हे गणनायक, हे लम्बोदर, सब देवो से न्यारे॥
    प्रथम मनाये आपको, करे तुम्हारी पूजा।
    सब देवो में तुमसा और नहीं कोई दूजा।

  • है कण कण में झांकी भगवान की
    है कण कण में झांकी भगवान् की।
    किसी सूझ वाली आँख ने पहचान की॥
    निगाह मीरा की निराली, पीली जहर की प्याली,
    ऐसा गिरधर बसाया हर श्वास में।
  • ऐसी लागी लगन, मीरा हो गयी मगन
    ऐसी लागी लगन, मीरा हो गयी मगन।
    वो तो गली गली, हरी गुण गाने लगी॥
    महलों में पली, बन के जोगन चली।
    मीरा रानी दीवानी कहाने लगी॥
    कोई रोके नहीं, कोई टोके नहीं,
    मीरा गोविन्द गोपाल गाने लगी।
  • गायत्री चालीसा
    गायत्री चालीसा ॐ भूर्भुवः स्वः तत्सवितुर्वरेण्यं भर्गो देवस्य धीमहि धियो यो नः प्रचोदयात् || ह्रीं, श्रीं, क्लीं, मेधा प्रभा, जीवन … Continue reading Gayatri Chalisa – Hindi
  • नवदुर्गा - माँ दुर्गा का पहला स्वरूप - माँ शैलपुत्री
    देवी शैलपुत्री नव दुर्गाओं में प्रथम दुर्गा हैं।
    शैलपुत्री दुर्गा का महत्त्व और शक्तियाँ अनन्त हैं।
    नवरात्र पूजन में प्रथम दिवस इन्हीं की पूजा और उपासना की जाती है।
  • गुरु महिमा - 1 - कबीर के दोहे
    - गुरु गोविंद दोऊँ खड़े, काके लागूं पांय।
    - गुरु आज्ञा मानै नहीं, चलै अटपटी चाल।
    - गुरु बिन ज्ञान न उपजै, गुरु बिन मिलै न मोष।
    - सतगुरू की महिमा अनंत, अनंत किया उपकार।
  • शिव मानस पूजा - अर्थ सहित
    रत्नैः कल्पितमासनं हिमजलैः
    स्नानं च दिव्याम्बरं
    स्तोत्राणि सर्वा गिरो – सम्पूर्ण शब्द आपके स्तोत्र हैं
    यत्कर्म करोमि तत्तदखिलं – इस प्रकार मैं जो-जो कार्य करता हूँ,
    शम्भो तवाराधनम् – हे शम्भो, वह सब आपकी आराधना ही है
_
_

Bhakti Geet Lyrics

_