Aise Hain Mere Ram – Hindi

ऐसे हैं मेरे राम, ऐसे हैं मेरे राम

ऐसे हैं मेरे राम, ऐसे हैं मेरे राम
विनय भरा ह्रदय करें सदा जिसे प्रणाम
ऐसे हैं मेरे राम, ऐसे हैं मेरे राम

 Kavita Krishnamurti

_

Aise Hain Mere Ram


ऐसे हैं मेरे राम, ऐसे हैं मेरे राम
विनय भरा ह्रदय करें सदा जिसे प्रणाम
ऐसे हैं मेरे राम, ऐसे हैं मेरे राम


ह्रदय कमल, नयन कमल
सुमुख कमल, चरण कमल
कमल के कुञ्ज, तेज कुञ्ज
छवि ललित ललाम

ऐसे हैं मेरे राम
ऐसे हैं मेरे राम


राम सा पुत्र न राम सा भ्राता
राम सा पति नहीं न राम सा त्राता
राम सा मित्र न राम सा दाता

सबसे निभाए सबका नाता
स्वाभाव से उदार शांत,
सब गुणों के खान

ऐसे हैं मेरे राम
ऐसे हैं मेरे राम


सरे जग के प्राण है राम
ऋषि मुनियों का ध्यान है राम
गन्धर्वो का गान है राम

मर्यादा का भान है राम
पतितो का उत्थान है राम
धनुर्धारी धनवान है राम

निश्चित ही विद्वान है राम
सबको लगे भगवन है राम


जनम मरण से मुक्ति हो
जपो जो राम नाम
ऐसे हैं मेरे राम
ऐसे हैं मेरे राम


विनय भरा ह्रदय
करें सदा जिसे प्रणाम
ऐसे हैं मेरे राम
ऐसे हैं मेरे राम


Tags:

-
-

_

Ram Bhajans

  • श्री राम चालीसा - श्री रघुवीर भक्त हितकारी
    श्री रघुवीर भक्त हितकारी।
    सुन लीजै प्रभु अरज हमारी॥
    निशिदिन ध्यान धरै जो कोई।
    ता सम भक्त और नहिं होई॥
  • कभी कभी भगवान को भी
    कभी कभी भगवान को भी
    भक्तों से काम पड़े।
    जाना था गंगा पार,
    प्रभु केवट की नाव चढ़े
  • दुःख सुख दोनो कुछ पल के
    दुःख सुख दोनो कुछ पल के
    कब आये कब जाये
    दुःख है ढलते सूरज जैसा
    शाम ढले ढल जाये
  • भजो रे मन, राम नाम सुखदाई
    भजो रे मन, राम नाम सुखदाई। राम नाम के दो अक्षर में..
    राम को नाम लेत मुख से, भवसागर तर जाई।
    राम नाम भज ले मन मूर्‌ख, बनत बनत बन जाई॥
  • Shri Ram kaho, Ghanshyam kaho
    Lyrics
  • Shri Ram kaho, Ghanshyam kaho,
    Jai bolo Sitaram re,
    Samadarshi hai prabhu ki maaya,
    Na koi usake samaan re

  • भए प्रगट कृपाला, दीनदयाला
    भए प्रगट कृपाला, दीनदयाला,
    कौसल्या हितकारी।
    हरषित महतारी, मुनि मन हारी,
    अद्भुत रूप बिचारी॥
  • सुंदरकाण्ड - 9
    पूँछहीन बानर तहँ जाइहि।
    तब सठ निज नाथहि लइ आइहि॥
    जिन्ह कै कीन्हिसि बहुत बड़ाई।
    देखउ मैं तिन्ह कै प्रभुताई॥
    जब यह वानर पूंछहीन होकर अपने मालिकके पास जायेगा, तब अपने स्वामीको यह ले आएगा॥
  • सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को
    सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को
    मिल जाये तरुवर की छाया।
    ऐसा ही सुख मेरे मन को मिला है,
    मैं जब से शरण तेरी आया, मेरे राम॥
  • ठुमक चलत रामचंद्र बाजत पैंजनियां
    ठुमक चलत रामचंद्र बाजत पैंजनियां।
    किलकि किलकि उठत धाय, गिरत भूमि लटपटाय
    धाय मात गोद लेत, दशरथ की रनियां
    ठुमक चलत रामचंद्र बाजत पैंजनियां
  • सुंदरकाण्ड - 1
    जामवंत के बचन सुहाए।
    सुनि हनुमंत हृदय अति भाए॥
    तब लगि मोहि परिखेहु तुम्ह भाई।
    सहि दुख कंद मूल फल खाई॥
    जाम्बवान के सुहावने वचन सुनकर हनुमानजी को अपने मन में वे वचन बहुत अच्छे लगे॥
_

Bhajan List

Ram Bhajans – Hindi
krishna Bhajan – Hindi
Bhajan, Aarti, Chalisa, Dohe – List

_
_

Ram Bhajan Lyrics

  • रामयण आरती - आरति श्रीरामायनजी की
    आरति श्रीरामायनजी की। कीरति कलित ललित सिय पी की॥
  • सुंदरकाण्ड - 20
    लछिमन बान सरासन आनू।
    सोषौं बारिधि बिसिख कृसानु॥
    सठ सन बिनय कुटिल सन प्रीति।
    सहज कृपन सन सुंदर नीति॥
    हे लक्ष्मण! धनुष बाण लाओ। क्योंकि अब इस समुद्रको बाणकी आगसे सुखाना होगा॥
  • सुंदरकाण्ड - 5
    तब देखी मुद्रिका मनोहर।
    राम नाम अंकित अति सुंदर॥
    चकित चितव मुदरी पहिचानी।
    हरष बिषाद हृदयँ अकुलानी॥
    फिर सीताजीने उस मुद्रिकाको देखा तो वह सुन्दर मुद्रिका रामचन्द्रजीके मनोहर नामसे अंकित हो रही थी अर्थात उसपर श्री राम का नाम खुदा हुआ था॥
  • क्षमा करो तुम मेरे प्रभुजी
    क्षमा करो तुम मेरे प्रभुजी,
    अब तक के सारे अपराध
    धो डालो तन की चादर को,
    लगे है उसमे जो भी दाग
    नारायण अब शरण तुम्हारे,
    तुमसे प्रीत होये निज राग
  • आसरा इस जहाँ का मिले ना मिले
    आसरा इस जहाँ का मिले ना मिले।
    मुझको तेरा सहारा सदा चाहिये॥
    मेरी धीमी है चाल और पथ है विशाल।
    हर कदम पर मुसीबत, अब तू ही संभाल॥
_
_

Bhajans and Aarti

_
_

Bhakti Geet Lyrics

_