Narendra Chanchal Bhajans – List – Hindi

Narendra Chanchal was born to a religious Punjabi family in Namak Mandi, Amritsar. Hence since childhood he grew up in religious atmosphere which inspired him to start singing bhajans and aartis. Narendra Chanchal took music lessons from Sri Prem Tikha, Amritsar. (1)
1. Narendrea Chanchal – Wikipedia

Narendra Chanchal

_

Narendra Chanchal Bhajans


  • जागो हे जगदम्बे, जागो हे ज्वाला
    जागो हे जगदम्बे, जागो हे ज्वाला
    जागो हे दुर्गे माँ, जागो प्रितपाला।
    जागो दिलों के अन्धकार को मिटा दो
    भटके हुए को माँ रौशनी दिखा दो।
  • तेरे भाग्य के चमकेंगे तारे
    तेरे भाग्य के चमकेंगे तारे,
    भरोसा रख माता रानी पे।
    क्यूँ डरता है देख के अँधेरा,
    आ जायेगा रे ख़ुशी का सवेरा
    भरोसा रख माता रानी पे।
  • माता वैष्णो के आए नवरात्रे
    मालिने बनादे एक सेहरा नी,
    माता वैष्णो के आए नवरात्रे।
    फूल श्रद्धा के होएंगे जब अर्पण,
    शुद्ध होएगा रे मनवा का दर्पण।
  • भए प्रगट कृपाला, दीनदयाला
    भए प्रगट कृपाला, दीनदयाला,
    कौसल्या हितकारी।
    हरषित महतारी, मुनि मन हारी,
    अद्भुत रूप बिचारी॥
  • दिल वाली पालकी
    दिल वाली पालकी विच
    तेनू माँ बिठाणा ऐ।
    दिल वाला हाल असाँ,
    तेनू ही सुनाना ऐ।
  • हेल्लो हाय छोड़िए, जय माता दी बोलिए
    हेल्लो हाय छोड़िए,
    जय माता दी बोलिए।
    एक बार जो सच्चे मन से
    माँ का नाम ध्यायेगा।
    भोली भाली मैया से वो
    मन चाहा फल पायेगा॥
  • मेरी झोली छोटी पड़ गयी रे
    मेरी झोली छोटी पड़ गयी रे,
    इतना दिया मेरी माता
    उपकार करे, भव पार करे
    सपने सब के साकार करे
    ना देर करे, माँ मेहर करे
    भक्तो के सदा भंडार भरे
  • कैसी यह देर लगाई है दुर्गे
    कैसी यह देर लगाई है दुर्गे
    हे मात मेरी, हे मात मेरी।
    शरण पड़े हैं हम तुम्हारी
    करो यह नैया पार हमारी।
  • शक्ति दे माँ, शक्ति दे माँ
    तेरे द्वारे जो भी आया,
    उसने जो माँगा वो पाया
    मैं भी तेरा सवाली,
    शक्तिशाली शेरों वाली, माँ जगदम्बे
  • कालीमाता की आरती - मंगल की सेवा
    मंगल की सेवा सुन मेरी देवा,
    हाथ जोड तेरे द्वार खडे।
    पान सुपारी ध्वजा नारियल
    ले ज्वाला तेरी भेट धरे॥
  • सच्ची है तू सच्चा तेरा दरबार
    सच्ची है तू, सच्चा तेरा दरबार, माता रानिये
    करदे दया की एक नज़र एक बार, माता रानिये
    क्या गम है, कैसी उलझन,
    जब सर पे तेरा हाथ है
    हर दुःख में हर संकट में,
    माता तू हमारे साथ है
  • माँ मुरादे पूरी करदे हलवा बाटूंगी
    माँ मुरादे पूरी करदे हलवा बाटूंगी
    ज्योत जगा के, सर को झुका के
    मैं मनाऊंगी, दर पे आउंगी,
    संतो महंतो को बुला के
    घर में कराऊं जगराता
    सुनती है सब की फ़रियादे,
    मेरी भी सुन लेगी माता
  • नरेंद्र चंचल भजन - List
    दुर्गा आरती - जय अम्बे गौरी
    अम्बे तू है जगदम्बे काली
    आरती जगजननी मैं तेरी गाऊं
    चलो बुलावा आया है, माता ने बुलाया है
  • चलो बुलावा आया है, माता ने बुलाया है
    चलो बुलावा आया है,
    माता ने बुलाया है।
    वैष्णो देवी के मन्दिर मे,
    लोग मुरादे पाते है।
    रोते रोते आते है,
    हँसते हँसते जाते है।
  • अम्बे तू है जगदम्बे काली
    अम्बे तू है जगदम्बे काली,
    जय दुर्गे खप्पर वाली।
    तेरे ही गुण गायें भारती,
    नहीं मांगते धन और दौलत,
    ना चाँदी, ना सोना।
    हम तो मांगे माँ तेरे मन में,
    इक छोटा सा कोना॥
  • बेटा जो बुलाए, माँ को आना चाहिए
    मैया जी के चरणों मे ठिकाना चाहिए
    बेटा जो बुलाए, माँ को आना चाहिए
    बिगड़े काम संवारे, भव से वो सब को तारे
    श्रद्धा और प्रेम से ध्याना चाहिए
    बेटा जो बुलाए, माँ को आना चाहिए
  • हे माँ मुझको ऐसा घर दे
    हे माँ मुझको ऐसा घर दे,
    जिसमे तुम्हारा मंदिर हो।
    छोटे बड़े का माँ उस घर में,
    एक सामान ही आदर हो।
    ज्योत जगे दिन रैन तुम्हारी,
    तुम मंदिर के अन्दर हो॥
  • भोर भई दिन चढ़ गया - माँ वैष्णो देवी आरती
    भोर भई दिन चढ़ गया, मेरी अम्बे
    हो रही जय जय कार मंदिर विच
    आरती जय माँ
    हे दरबारा वाली, आरती जय माँ
  • तुने मुझे बुलाया, शेरावालिये
    तुने मुझे बुलाया, शेरावालिये
    मैं आया, मैं आया, शेरावालिये
    सारा जग है इक बंजारा
    सब की मंजिल तेरा द्वारा
    ऊँचे परबत, लंबा रास्ता
    पर मैं रह ना पाया, शेरा वालिये
  • आरती जगजननी मैं तेरी गाऊं
    आरती जगजननी मैं तेरी गाऊं।
    तुम बिन कौन सुने वरदाती।
    किस को जाकर विनय सुनाऊं॥
    आरती जगजननी मैं तेरी गाऊं
  • दुर्गा चालीसा - नमो नमो दुर्गे सुख करनी
    नमो नमो दुर्गे सुख करनी।
    नमो नमो अम्बे दुःख हरनी॥
    निरंकार है ज्योति तुम्हारी।
    तिहूँ लोक फैली उजियारी॥
  • दुर्गा आरती - जय अम्बे गौरी
    जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी।
    तुमको निशिदिन ध्यावत, हरि ब्रह्मा शिव री॥
    (श्री) अम्बेजी की आरती, जो कोई नर गावै।
    कहत शिवानंद स्वामी, सुख सम्पत्ति पावै॥
    ॥मैया जय अम्बे गौरी॥
_
_

Tags:

-
-

_

Narendra Chanchal Navratri Bhajans List

_