Meera ke Bhajan – List – Hindi

मीरा के भजन

Meera Krishna Bhakti

_

Meerabai ke Bhajan

  • मीरा के भजन - प्रार्थना
    हरि तुम हरो जन की भीर
    तुम सुणौ दयाल म्हारी अरजी
    प्रभुजी मैं अरज करूँ
    मीराको प्रभु साँची दासी बनाओ
    मैं तो तेरी सरण परी रे
    हरि बिन कूण गती मेरी
    अब मैं सरण तिहारी जी
  • मीरा के भजन - दर्शनानन्द (दर्शन-आनंद)
    मैं तो साँवरेके रंग राची
    पग घुँघरू बाँध मीरा नाची रे
    मेरे तो गिरधर गोपाल दूसरो न कोई
    माई री मैं तो लियो गोबिंदो मोल
    या मोहनके मैं रूप लुभानी
  • मीरा के भजन - विरह
    हे री मैं तो प्रेम दिवानी
    गली तो चारों बंद हुई
    आली रे मेरे नैणा बाण पडी
    घडी एक नहिं आवडे
  • मेरे तो गिरधर गोपाल
    जाके सिर मोर मुकुट, मेरो पति सोई।
    तात मात भ्रात बंधु, आपनो न कोई॥
    कोई कहे कारो, कोई कहे गोरो
    लियो है अँखियाँ खोल
  • पायो जी मैंने राम रतन धन पायो
    पायो जी मैंने राम रतन धन पायो।
    वस्तु अमोलक दी मेरे सतगुरु
    किरपा कर अपनायो
    जनम जनम की पूंजी पाई
    जग में सभी खोवायो
  • श्याम मने चाकर राखो जी - मीरा भजन - अर्थसहित
    श्याम मने चाकर राखो जी,
    चाकर रहसूं बाग लगासूं,
    नित उठ दरसण पासूं।
    वृन्दावन की कुंजगलिन में
    तेरी लीला गासूं॥
_
_

Meera ke Bhajans

Tags:

-
-

_

Meera ke Bhajan – List

_