Phoolon Me Saj Rahe Hai – Shri Vrindavan Bihari

Krishna Mantra Jaap (श्री कृष्ण मंत्र जाप)

ॐ नमो भगवते वासुदेवाय हरे राम – हरे कृष्ण श्री कृष्ण शरणम ममः
हरे कृष्ण हरे कृष्ण – कृष्ण कृष्ण हरे हरे – हरे राम हरे राम – राम राम हरे हरे
_

फूलो में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन बिहारी


फूलो में सज रहे हैं,
श्री वृन्दावन बिहारी
और साथ सज रही हैं,
वृषभानु की दुलारी॥

Phoolon me saj rahe hai, Shri Vrindavan Bihari
फूलो में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन बिहारी

टेढ़ा सा मुकुट सर पर,
रखा है किस अदा से।
करुणा बरस रही है,
करुणा भरी निगाह से।

बिन मोल बिक गयी हूँ,
जब से छवि निहारी

फूलो में सज रहे हैं,
श्री वृन्दावन बिहारी।
और साथ सज रही हैं,
वृषभानु की दुलारी॥

करुणा बरस रही है, करुणा भरी निगाह से

बैंयां गले में डाले,
जब दोनों मुस्कराते।
सबको ही प्यारे लगते,
सबके ही मन को भाते।

इन दोनों पे मैं सदके,
इन दोनों पे मैं वारी॥

फूलो में सज रहे हैं,
श्री वृन्दावन बिहारी।
और साथ सज रही हैं,
वृषभानु की दुलारी॥

सबको ही प्यारे लगते, सबके ही मन को भाते

श्रृंगार तेरा प्यारे,
शोभा कहूँ क्या उसकी।
श्रृंगार तेरा प्यारे,
शोभा कहूँ क्या उसकी।

इतपे गुलाबी पटका,
उतपे गुलाबी साड़ी॥

फूलो में सज रहे हैं,
श्री वृन्दावन बिहारी।
और साथ सज रही हैं,
वृषभान की दुलारी॥

श्रृंगार तेरा प्यारे, शोभा कहूँ क्या उसकी

नीलम से सोहे मोहन,
स्वर्णिम सी सोहे राधा
नीलम से सोहे मोहन,
स्वर्णिम सी सोहे राधा।

इत नन्द का है छोरा,
उत भानु की दुलारी॥

फूलो में सज रहे हैं,
श्री वृन्दावन बिहारी।
और साथ सज रही हैं,
वृषभानु की दुलारी॥

नीलम से सोहे मोहन, स्वर्णिम सी सोहे राधा

चुन चुन के कलियाँ जिसने,
बंगला तेरा बनाया।
दिव्य आभूषणों से,
जिसने तुझे सजाया।

उन हाथों पे मैं सदके,
उन हाथों पे मैं वारी॥

फूलो में सज रहे हैं,
श्री वृन्दावन बिहारी।
और साथ सज रही हैं,
वृषभानु की दुलारी॥

दिव्य आभूषणों से, जिसने तुझे सजाया

फूलो सें सज रहे हैं,
श्री वृन्दावन बिहारी।
और साथ सज रही हैं,
वृषभानु की दुलारी॥

_

Phoolon Me Saj Rahe Hai Download


Phoolon me saj rahe hai shri vrindavan bihari download as

PDF Phoolon Me Saj Rahe Hai Download


Image Phoolon Me Saj Rahe Hai Download


For Print – PDF | Image

_

New Bhajans

या देवी सर्वभूतेषु मंत्र – दुर्गा मंत्र – अर्थ सहित
शिव शंकर डमरू वाले - है धन्य तेरी माया जग में
_

Krishna Bhajans

_
_

कृष्ण चरणों में श्रद्धा के फूल

फूलो में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन बिहारी

फूलो में सज रहे हैं,
श्री वृन्दावन बिहारी।
और साथ सज रही हैं,
वृषभानु की दुलारी॥

हंस हंस झूलते घनश्याम,
राधा संग जोड़ी प्यारी।
युगल छवि सोहती अनुपम,
राधा कृष्णा श्याम बलिहारी॥

साथ सज रही हैं, वृषभान की दुलारी

गुलाबी पटका, गले कण्ठी,
रतन हीरा जड़े कंकन।
अधर लाली मुकुट कुण्डल,
हाथमें फूल गुलजारी॥

कान्ति मुख चन्द्रकी देखे,
सूर्यका भान होता हैं।
कमल नेत्रोंमें मन मोह,
रूपकी झांकी है न्यारी॥

कृष्ण है संसारके मालिक,
न शोभा उनकी वरणी जाएं।
धरूं मैं ध्यान राधाकृष्ण का,
जगतमें जो है हितकारी॥

हिंडोला पुष्पका सुन्दर,
नरम रेशमकी रस्सी है।
युगल छवि लूटते आनंद,
बृज के धन्य नर नारी॥

युगल-जोडीको स्मरण कर,
भक्त कहता कर जोड़ी।
लगाओ प्रेमकी डोरी,
विपत्ती दूर हो जाए सारी॥


तुझे फूलों में देखूं, बहारों में देखूं
तुझे चाँद में देखूं, सितारों में देखूं
कण कण में बसा नाम तेरा
जहां देखूं प्रभु तेरा काम देखूं


फूलो में सज रहे हैं,
श्री वृन्दावन बिहारी।

और साथ सज रही हैं,
वृषभान की दुलारी॥

_

Phoolon Me Saj Rahe Hai – Shri Vrindavan Bihari

Vinod Agarwal

_

Phoolon Me Saj Rahe Hai – Shri Vrindavan Bihari


Phoolon me saj rahe hai,
Shri Vrindavan Bihari.
Aur saath saj rahi hain,
Vrishabhanu ki dulaari.

Tedha sa mukut sar par,
rakha hai kis adaa se.
Karuna baras rahi hai,
karuna bhari nigaah se.

Bin mol bik gayi hoon,
jab se chhavi nihaari.

Phoolon me saj rahe hai,
Shri Vrindavan Bihari.
Aur saath saj rahi hain,
Vrishabhanu ki dulaari.


Bainyaan gale mein daale,
jab dono muskuraate.
Sabko hi pyaare lagate,
sabke hi man ko bhaate.

In dono pe main sadake,
in dono pe main vaari.

Phoolon me saj rahe hai,
Shri Vrindavan Bihari.
Aur saath saj rahi hain,
Vrishabhan ki dulaari.

Phoolon me saj rahe hai, Shri Vrindavan Bihari
Phoolon me saj rahe hai, Shri Vrindavan Bihari

Shringaar tera pyaare,
shobha kahu kya uski.
Shringaar tera pyaare,
shobha kahu kya uski.

Itpe gulaabi pataka,
utpe gulaabi sari.

Phoolon me saj rahe hai,
Shri Vrindavan Bihari.
Aur saath saj rahi hain,
Vrishabhanu ki dulaari.


Nilam se sohe Mohan,
svarnim si sohe Radha.
Nilam se sohe Mohan,
svarnim si sohe Raadha.

It Nand ka hai chhora,
ut Bhaanu ki dulaari.

Phoolon me saj rahe hai,
Shri Vrindavan Bihari.
Aur saath saj rahi hain,
Vrishabhanu ki dulaari.


Chun chun ke kaliyaan jisane,
bangala tera banaaya.
Divya abhushano se,
jisne tujhe sajaaya.

Un haathon pe main sadake,
un haathon pe main vaari.

Phoolon me saj rahe hai,
Shri Vrindavan Bihari.
Aur saath saj rahi hain,
Vrishabhan ki dulaari.


Phoolon se saj rahe hain,
Shri Vrindavan Bihari.
Aur saath saj rahi hain,
Vrishabhanu ki dulaari.

_

Krishna Bhajans

_

Krishna Charno Emin Shraddha ke Phool

Phoolon Me Saj Rahe Hai – Shri Vrindavan Bihari

Phoolon se saj rahe hain,
Shri Vrindavan Bihari.
Aur saath saj rahi hain,
Vrishabhan ki dulaari.


Hans hans jhoolate ghanshyam,
radha sang jodi pyaari.
Yugal chhavi sohati anupam,
raadha krishna shyaam balihaari.

Gulaabi pataka, gale kanthi,
ratan hira jade kankan.
Adhar laali mukut kundal,
haathamen phool gulajaari.

Kaanti mukh chandraki dekhe,
sooryaka bhaan hota hain.
Kamal netrommen man moh,
roopaki jhaanki hai nyaari.

Krishna hai sansaar ke maalik,
na shobha unaki varani jaen.
Dharoon main dhyaan radhakrishna ka,
jagat mein jo hai hitakaari.

Hindola pushpaka sundar,
naram reshamaki rassi hai.
Yugal chhavi lootate aanand,
brij ke dhanya nar naari.

Yugal-jodiko smaran kar,
bhakt kahata kar jodi.
Lagao premaki dori,
vipatti door ho jaaye saari.


Tujhe phoolon mein dekhoon,
bahaaron mein dekhoon.
Tujhe chaand mein dekhoon,
sitaaron mein dekhoon.
Kan kan mein basa naam tera
Jahaa dekhoon prabhu tera kaam dekhoon


Phoolon se saj rahe hain,
Shri Vrindavan Bihari.

Aur saath saj rahi hain,
Vrishabhanu ki dulaari.

_
Phoolon Me Saj Rahe Hai - Radha Krishna Bhajan
Bhajan:
Phoolon Me Saj Rahe Hai - Radha Krishna Bhajan
Bhajan Lyrics:
Phoolon me saj rahe hai, Shri Vrindavan Bihari. Aur saath saj rahi hain, Vrishabhan ki dulaari.
Category:
Website:
Bhajan Sandhya
-