Phoolon Me Saj Rahe Hai – Shri Vrindavan Bihari

Krishna Mantra Jaap (श्री कृष्ण मंत्र जाप)

ॐ नमो भगवते वासुदेवाय हरे राम – हरे कृष्ण श्री कृष्ण शरणम ममः
हरे कृष्ण हरे कृष्ण – कृष्ण कृष्ण हरे हरे – हरे राम हरे राम – राम राम हरे हरे

Krishna Bhajan

_

फूलो में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन बिहारी


फूलो में सज रहे हैं,
श्री वृन्दावन बिहारी
और साथ सज रही हैं,
वृषभान की दुलारी


टेढ़ा सा मुकुट सर पर,
रखा है किस अदा से।
करुणा बरस रही है,
करुणा भरी निगाह से।

बिन मोल बिक गयी हूँ,
जब से छवि निहारी

फूलो में सज रहे हैं,
श्री वृन्दावन बिहारी।
और साथ सज रही हैं,
वृषभान की दुलारी॥


बैंयां गले में डाले,
जब दोनों मुस्कराते।
सबको ही प्यारे लगते,
सबके ही मन को भाते।

इन दोनों पे मैं सदके,
इन दोनों पे मैं वारी॥

फूलो में सज रहे हैं,
श्री वृन्दावन बिहारी।
और साथ सज रही हैं,
वृषभान की दुलारी॥

Phoolon me saj rahe hai, Shri Vrindavan Bihari
फूलो में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन बिहारी।

श्रृंगार तेरा प्यारे,
शोभा कहूँ क्या उसकी।
श्रृंगार तेरा प्यारे,
शोभा कहूँ क्या उसकी।

इतपे गुलाबी पटका,
उतपे गुलाबी साड़ी॥

फूलो में सज रहे हैं,
श्री वृन्दावन बिहारी।
और साथ सज रही हैं,
वृषभान की दुलारी॥


नीलम से सोहे मोहन,
स्वर्णिम सी सोहे राधा
नीलम से सोहे मोहन,
स्वर्णिम सी सोहे राधा।

इत नन्द का है छोरा,
उत भानु की दुलारी॥

फूलो में सज रहे हैं,
श्री वृन्दावन बिहारी।
और साथ सज रही हैं,
वृषभान की दुलारी॥


चुन चुन के कलियाँ जिसने,
बंगला तेरा बनाया।
दिव्य आभूषणों से,
जिसने तुझे सजाया।

उन हाथों पे मैं सदके,
उन हाथों पे मैं वारी॥

फूलो में सज रहे हैं,
श्री वृन्दावन बिहारी।
और साथ सज रही हैं,
वृषभान की दुलारी॥


फूलो सें सज रहे हैं,
श्री वृन्दावन बिहारी।
और साथ सज रही हैं,
वृषभान की दुलारी॥

_

श्रद्धा सुमन

तुझे फूलों में देखूं, बहारों में देखूं
तुझे चाँद में देखूं, सितारों में देखूं
कण कण में बसा नाम तेरा
जहां देखूं प्रभु तेरा काम देखूं

_

Krishna Bhajans

_
_

Phoolon Me Saj Rahe Hai – Shri Vrindavan Bihari

Vinod Agarwal

_

Phoolon Me Saj Rahe Hai – Shri Vrindavan Bihari

Phoolon me saj rahe hai,
Shri Vrindavan Bihari.
Aur saath saj rahi hain,
Vrishabhan ki dulaari.

Tedha sa mukut sar par,
rakha hai kis adaa se.
Karuna baras rahi hai,
karuna bhari nigaah se.

Bin mol bik gayi hoon,
jab se chhavi nihaari.

Phoolon me saj rahe hai,
Shri Vrindavan Bihari.
Aur saath saj rahi hain,
Vrishabhan ki dulaari.


Bainyaan gale mein daale,
jab dono muskuraate.
Sabko hi pyaare lagate,
sabke hi man ko bhaate.

In dono pe main sadake,
in dono pe main vaari.

Phoolon me saj rahe hai,
Shri Vrindavan Bihari.
Aur saath saj rahi hain,
Vrishabhan ki dulaari.

Phoolon me saj rahe hai, Shri Vrindavan Bihari
Phoolon me saj rahe hai, Shri Vrindavan Bihari

Shringaar tera pyaare,
shobha kahu kya uski.
Shringaar tera pyaare,
shobha kahu kya uski.

Itpe gulaabi pataka,
utpe gulaabi sari.

Phoolon me saj rahe hai,
Shri Vrindavan Bihari.
Aur saath saj rahi hain,
Vrishabhan ki dulaari.


Nilam se sohe Mohan,
svarnim si sohe Radha.
Nilam se sohe Mohan,
svarnim si sohe Raadha.

It Nand ka hai chhora,
ut Bhaanu ki dulaari.

Phoolon me saj rahe hai,
Shri Vrindavan Bihari.
Aur saath saj rahi hain,
Vrishabhan ki dulaari.


Chun chun ke kaliyaan jisane,
bangala tera banaaya.
Divya abhushano se,
jisne tujhe sajaaya.

Un haathon pe main sadake,
un haathon pe main vaari.

Phoolon me saj rahe hai,
Shri Vrindavan Bihari.
Aur saath saj rahi hain,
Vrishabhan ki dulaari.


Phoolon se saj rahe hain,
Shri Vrindavan Bihari.
Aur saath saj rahi hain,
Vrishabhan ki dulaari.

_

Phoolon Me Saj Rahe Hai - Radha Krishna Bhajan
Bhajan:
Phoolon Me Saj Rahe Hai - Radha Krishna Bhajan
Bhajan Lyrics:
Phoolon me saj rahe hai, Shri Vrindavan Bihari. Aur saath saj rahi hain, Vrishabhan ki dulaari.
Category:
Website:
Bhajan Sandhya
-