Mukut Sir Mor Ka Mere Chit Chor Ka

Krishna Mantra Jaap (श्री कृष्ण मंत्र जाप)

ॐ नमो भगवते वासुदेवाय हरे राम – हरे कृष्ण श्री कृष्ण शरणम ममः
हरे कृष्ण हरे कृष्ण – कृष्ण कृष्ण हरे हरे – हरे राम हरे राम – राम राम हरे हरे
Krishna Bhajan
_

मुकुट सिर मोर का, मेरे चित चोर का – 1


मुकुट सिर मोर का,
मेरे चित चोर का।

मुकुट सिर मोर का,
मेरे चित चोर का।
दो नैना सरकार के,
कटीले है कटार से॥

मुकुट सिर मोर का, मेरे चित चोर का

कमल लज्जाये
तेरे नैनो को देख के।
भूली घटाए
तेरी कजरे की रेख पे।

यह मुखड़ा निहार के,
सो चाँद गए हार के।
दो नैना सरकार के,
कटीले हैं कटार से॥

मुकुट सिर मोर का,
मेरे चित चोर का।
दो नैना सरकार के,
कटीले हैं कटार से॥

दो नैना सरकार के, कटीले हैं कटार से

बलिहारि जाऊं,
तेरी बांकी अदाओं पे।
कुर्बान जाऊं,
तेरी बांकी अदाओं पे।
आ पास आजा तुझे,
भर लूँ मैं बाहों में।

जमाने को विसार के,
दिलो जान तुझ पे वार के,
दो नैना सरकार के,
कटीले हैं कटार से॥

मुकुट सिर मोर का,
मेरे चित चोर का।
दो नैना सरकार के,
कटीले हैं कटार से॥

आ पास आजा तुझे, भर लूँ मैं बाहों में

बांके बिहारी नहीं
तुलना तुम्हारी।
तुम सा ना पहले कोई
ना होगा अगाडी।

दीवानों ने विचार के,
कहा यह पुकार के,
दो नैना सरकार के,
कटीले है कटार से ॥

मुकुट सिर मोर का,
मेरे चित चोर का।
दो नैना सरकार के,
कटीले है कटार से॥

बांके बिहारी नहीं तुलना तुम्हारी
_

मुकुट सिर मोर का – दो नैना घनश्याम के – 2

मुकुट सिर मोर का,
मेरे चित चोर का।
दो नैना नैना नैना,
दो नैना नैना नैना।
दो नैना घनश्याम के,
कटीले हैं कटार से॥

दो नैना घनश्याम के, कटीले हैं कटार से

आजा के भरलु तुझे,
अपनी बाहो में।
आजा छिपा लु तुझे,
अपनी निगाहो में॥

दीवानों ने विचार के,
कहा ये पुकार के।
दो नैना घनश्याम के,
कटीले हैं कटार से॥

आजा छिपा लु तुझे, अपनी निगाहो में

रास बिहारी नहीं,
तुलना तुम्हारी।
तुमसा ना देखा कोई,
पहले अगाडी॥

के नुनराए वार के,
हा नजरे उतार के।
दो नैना घनश्याम के,
कटीले है कटार से॥

रास बिहारी नहीं, तुलना तुम्हारी

प्रेम लजाये तेरी,
बाँकी अदाओं पर।
फुल घटाए तेरी,
तिरछी निगाहो पर॥

सौ चाँद वार के,
दीवाने गए हार के,
दो नैना घनश्याम के,
कटीले हैं कटार से॥

प्रेम लजाये तेरी, बाँकी अदाओं पर

मुकुट सिर मोर का,
मेरे चित चोर का।
दो नैना नैना नैना,
दो नैना नैना नैना।
दो नैना घनश्याम के,
कटीले हैं कटार से॥

Mukut Sir Mor Ka Mere Chit Chor Ka
Mukut Sir Mor Ka Mere Chit Chor Ka

मुकुट सिर मोर का,
मेरे चित चोर का।
दो नैना सरकार के,
कटीले है कटार से॥

_

Krishna Bhajans

_
_

Mukut Sir Mor Ka Mere Chit Chor Ka

Shri Devkinandan Thakur Ji

Sadhvi Purnima Ji (Poonam Didi)


Mukut Sir Mor Ka – Do Naina Ghanshyam Ke

_

Mukut Sir Mor Ka Mere Chit Chor Ka


Mukut sir mor ka,
mere chit chor ka.
Do naina sarkar ke,
katile hai kataar se.

Kamal lajjaaye
tere naino ko dekh ke.
Bhooli ghataaye
teri kajare ki rekh pe.

Yah mukhada nihaar ke,
so chaand gaye haar ke.
Do naina sarakaar ke,
katile hain kataar se.

Mukut sir mor ka,
mere chit chor ka.
Do naina sarakaar ke,
katile hain kataar se.

Balihaari jaoon,
teri baanki adaon pe.
Kurbaan jaoon,
teri baanki adaon pe.
Aa paas aaja tujhe,
bhar loon main baahon mein.

Jamaane ko visaar ke,
dilo jaan tujh pe vaar ke,
do naina sarkaar ke,
katile hain katar se.

Mukut sir mor ka,
mere chit chor ka.
Do naina sarakaar ke,
katile hain kataar se.

Baanke bihaari nahin
tulana tumhaari.
Tum sa na pahale koi
na hoga agaadi.

Deewano ne vichaar ke,
kaha yah pukaar ke,
do naina sarakaar ke,
katile hai kataar se .

Mukut sir mor ka,
mere chit chor ka.
Do naina sarakaar ke,
katile hai kataar se.

_

Mukut Sir Mor Ka – Do Naina Ghanshyam Ke

Mukut sir mor ka,
mere chit chor ka.
Do naina naina naina,
do naina naina naina.
Do naina ghanshyam ke,
kateele hai kataar se.

Aaja ke bharalu tujhe,
apni baaho mein.
Aaja chhipa lu tujhe,
apni nigaaho mein.

Deevaano ne vichaar ke,
kaha ye pukaar ke.
Do naina ghanshyaam ke,
katile hain kataar se.

Raas bihaari nahi,
tulana tumhaari.
Tumasa na dekha koyee,
pahale agaadi.

Ke nunarae vaar ke,
ha najare utaar ke.
Do naina ghanshyaam ke,
kateele hai kataar se.

Prem lajaaye teri,
baanki adaon par.
Phul ghatae teri,
tirachhi nigaaho par.

Sau chaand vaar ke,
deevaane gaye haar ke,
do naina ghanshyam ke,
kateele hain kataar se.

Mukut sir mor ka,
mere chit chor ka.
Do naina naina naina,
do naina naina naina.
Do naina ghanashyaam ke,
kateele hain kataar se.

Mukut Sir Mor Ka Mere Chit Chor Ka
Mukut Sir Mor Ka Mere Chit Chor Ka

Mukut sir mor ka,
mere chit chor ka.
Do naina sarakaar ke,
katile hai kataar se.

_

Krishna Bhajans

_