Door Nagari Badi Door Nagari – Hindi

दूर नगरी, बड़ी दूर नगरी

दूर नगरी, बड़ी दूर नगरी
कैसे आऊं मैं कन्हैया, तेरी गोकुल नगरी
बड़ी दूर नगरी
कान्हा दूर नगरी, बड़ी दूर नगरी

_

दूर नगरी बड़ी दूर नगरी


दूर नगरी, बड़ी दूर नगरी
कैसे आऊं मैं कन्हैया, तेरी गोकुल नगरी
कैसे आऊं मैं कन्हाई, तेरी गोकुल नगरी
बड़ी दूर नगरी

कान्हा दूर नगरी, बड़ी दूर नगरी
कान्हा दूर नगरी, बड़ी दूर नगरी


रात में आऊं तो कान्हा, डर मोहे लागे
दिन में आऊं तो, देखे सारी नगरी
बड़ी दूर नगरी

कान्हा दूर नगरी, बड़ी दूर नगरी
कैसे आऊं मैं कन्हाई, तेरी गोकुल नगरी
बड़ी दूर नगरी


सखी संग आऊं कान्हा, शर्म मोहे लागे
अकेली आऊं तो भूल जाऊ डगरी
बड़ी दूर नगरी

कान्हा दूर नगरी, बड़ी दूर नगरी
कैसे आऊं मैं कन्हाई, तेरी गोकुल नगरी
बड़ी दूर नगरी


धीरे धीरे चालूँ कान्हा, कमर मोरी लचके
झटपट चालूँ तो छलकाए गगरी
बड़ी दूर नगरी

कान्हा दूर नगरी, बड़ी दूर नगरी
कैसे आऊं मैं कन्हाई, तेरी गोकुल नगरी
बड़ी दूर नगरी


कान्हा दूर नगरी, बड़ी दूर नगरी
कैसे आऊं मैं कन्हाई, तेरी गोकुल नगरी
बड़ी दूर नगरी


Tags:

-
-

_

Shree Krishna Bhajans

  • गोविंदा आला रे आला - Janmashtami Song
    गोविंदा आला रे आला
    ज़रा मटकी संभाल बृजबाला
    अरे एक दो और तीन चार
    संग पाँच छः सात हैं ग्वाला
  • राधे राधे जपा करो, कृष्ण नाम रस पिया करो
    राधे राधे जपा करो,
    कृष्ण नाम रस पिया करो
    राधा देगी तुमको शक्ति,
    मिलेगी तुमको कृष्ण की भक्ति
  • आज खुशियों का दिन आया
    आज खुशियों का दिन आया,
    नाचेंगे जी भर के
    मेरे श्याम का दरबार रंगीला
    होती है यहाँ नित नयी लीला
    भक्तो ने खूब सजाया, नाचेंगे जी भर के
    मंद मुस्कान गले फूलो की माला
    मेरा श्याम सारे जग से निराला
  • वृंदावन का मोर बनू, गाऊ मैं तो राधे राधे
    वृंदावन का मोर बनू,
    गाऊ मैं तो राधे राधे
    गाऊ मैं तो श्यामा श्यामा
    गाऊ मैं तो राधे राधे
  • दर्शन दो घनश्याम नाथ
    दर्शन दो घनश्याम नाथ,
    मोरी अंखियाँ प्यासी रे
    मन मंदिर की ज्योत जगा दो,
    घट घट वासी रे
    मंदिर मंदिर मूरत तेरी,
    फिर भी न दिखे सूरत तेरी
  • प्रीत मोहन से की, इस भरोसे पे की
    प्रीत मोहन से की, इस भरोसे पे की
    चार दिन जिंदगी के, गुजर जायेंगे
    क्या भरोसा था, ये वक़्त भी आएगा
    वादा करके वो, हमसे मुकर जायेंगे
  • जैसे वीराने में कोई बस्ती
    जैसे वीराने में कोई बस्ती
    सूनी महफ़िल में आ जाये मस्ती
    जैसे पतझड़ में फूल खिल गया
    मेरा सांवरा मुझे मिल गया
  • चितचोर लियो है कन्हाई
    अरी, चितचोर लियो है कन्हाई
    तन मन की सुध बिसरायी
    मेरो बिसर गयो घर अंगना है
    सजनी अब चैन पडेना है
    मन सांवरी सूरत भाई
    तन मन की सुध बिसरायी
  • ऐसी लागी लगन, मीरा हो गयी मगन
    ऐसी लागी लगन, मीरा हो गयी मगन।
    वो तो गली गली, हरी गुण गाने लगी॥
    महलों में पली, बन के जोगन चली।
    मीरा रानी दीवानी कहाने लगी॥
    कोई रोके नहीं, कोई टोके नहीं,
    मीरा गोविन्द गोपाल गाने लगी।
_

Bhajan List

Krishna Bhajans – Hindi
Ram Bhajans – Hindi
Bhajan, Aarti, Chalisa, Dohe – Hindi List

_
_

Krishna Bhajan Lyrics

  • मेरा छोटा सा संसार, हरी आ जाओ एक बार
    मेरा छोटा सा संसार,
    हरी आ जाओ एक बार
    हरी आ जाओ, हरी आ जाओ
    योगी का भेस बना कर के
    इस तन पर भसम रमा कर के
    मैं अलख जगाऊं द्वार
    हरी आ जाओ एक बार
  • दूर नगरी, बड़ी दूर नगरी
    दूर नगरी, बड़ी दूर नगरी
    कैसे आऊं मैं कन्हैया, तेरी गोकुल नगरी
    कान्हा दूर नगरी, बड़ी दूर नगरी रात में आऊं तो कान्हा, डर मोहे लागे
    दिन में आऊं तो, देखे सारी नगरी
    बड़ी दूर नगरी
  • कोई कहे गोविंदा, कोई गोपाला
    कोई कहे गोविंदा, कोई गोपाला।
    मैं तो कहुँ सांवरिया बाँसुरिया वाला॥
    राधाने श्याम कहा, मीरा ने गिरधर।
    कृष्णा ने कृष्ण कहा, कुब्जा ने नटवर॥
  • मेरा गोपाल गिरधारी ज़माने से निराला है
    मेरा गोपाल गिरधारी
    ज़माने से निराला है
    ना गोरा है ना काला है,
    वो मोहन मुरली वाला है
  • हे गोपाल कृष्ण, करूँ आरती तेरी
    हे गोपाल कृष्ण, करूँ आरती तेरी
    हे प्रिया पति, मैं करूँ आरती तेरी
    तुझपे ओ कान्हा बलि बलि जाऊं
    सांज सवेरे तेरे गुण गाउँ
_
_

Bhajans and Aarti

  • जगजननी जय जय माँ
    जगजननी जय जय माँ, जगजननी जय जय।
    भयहारिणी, भवतारिणी, भवभामिनि जय जय॥
    तू ही सत्-चित्-सुखमय, शुद्ध ब्रह्मरूपा।
    सत्य सनातन, सुन्दर, पर-शिव सुर-भूपा॥
  • देते है भक्तो को भक्ति का मेवा
    देते है भक्तो को भक्ति का मेवा
    बोलो जय जय गणेश, जय गणेश देवा
    प्रथम पूज्य है गणेश, छवि उनकी न्यारी
    पहचान है जिनकी मूषक सवारी
  • सुंदरकाण्ड - 19
    ए कपि सब सुग्रीव समाना।
    इन्ह सम कोटिन्ह गनइ को नाना॥
    राम कृपाँ अतुलित बल तिन्हहीं।
    तृन समान त्रैलोकहि गनहीं॥
    ये सब वानर सुग्रीवके समान बलवान हैं। इनके बराबर दूसरे करोड़ों वानर हैं, कौन गिन सकता है? ॥
  • श्री कृष्ण भजन - List - 2
    कन्हैया कन्हैया पुकारा करेंगे
    करता रहमत की बरसात है
    कान्हा आन पड़ी मैं तेरे द्वार
    किस से नज़र मिलाऊँ
  • खुशहाल करती, माला माल करती
    खुशहाल करती, माला माल करती
    शेरावाली, अपने भक्तो को निहाल करती
    अम्बे रानी वरदानी देती, खोल के भंडारे
    झोली ले गया भराके, आया चल के जो द्वारे
    माँ के नाम वाला अमृत, जो पिलो एक बार
    होगा बाल ना बांका, चाहे बैरी हो संसार
  • दुर्गा आरती - जय अम्बे गौरी
    जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी।
    तुमको निशिदिन ध्यावत, हरि ब्रह्मा शिव री॥
    (श्री) अम्बेजी की आरती, जो कोई नर गावै।
    कहत शिवानंद स्वामी, सुख सम्पत्ति पावै॥
    ॥मैया जय अम्बे गौरी॥
  • शिव तांडव स्तोत्र
    जटाटवीगलज्जल प्रवाह पावितस्थले
    गलेऽवलम्ब्य लम्बितां भुजङ्ग तुङ्ग मालिकाम्।
    डमड्डमड्डमड्डमन्निनाद वड्डमर्वयं
    चकार चण्डताण्डवं तनोतु नः शिवः शिवम्॥
  • तेरे दरबार में मैया ख़ुशी मिलती है
    तेरे दरबार में मैया ख़ुशी मिलती है।
    जिंदगी मिलती है,
    रोतो को हंसी मिलती है।
    रोता हुआ आये जो, हंसता हुआ जाता है
    मन की मुरादों को, वो पाता हुआ जाता है
  • हे शारदे माँ, हे शारदे माँ
    हे शारदे माँ, हे शारदे माँ
    अज्ञानता से हमें तारदे माँ
    तू स्वर की देवी, ये संगीत तुझसे
    हर शब्द तेरा है, हर गीत तुझसे
  • बहुरि नहिं आवना या देस
    बहुरि नहिं आवना या देस॥
    जो जो ग बहुरि नहि
    आ पठवत नाहिं सेंस।
    सुर नर मुनि अरु पीर औलिया
    देवी देव गनेस॥
_
_

Bhakti Geet Lyrics

  • सुंदरकाण्ड - 2
    मसक समान रूप कपि धरी।
    लंकहि चलेउ सुमिरि नरहरी॥
    नाम लंकिनी एक निसिचरी।
    सो कह चलेसि मोहि निंदरी॥
    हनुमानजी मच्छर के समान, छोटा-सा रूप धारण कर, प्रभु श्री रामचन्द्रजी के नाम का सुमिरन करते हुए लंका में प्रवेश करते है॥
  • सुंदरकाण्ड - 6
    जौं रघुबीर होति सुधि पाई।
    करते नहिं बिलंबु रघुराई॥
    राम बान रबि उएँ जानकी।
    तम बरुथ कहँ जातुधान की॥
    हे माता! जो रामचन्द्रजीको आपकी खबर मिल जाती तो प्रभु कदापि विलम्ब नहीं करते॥
  • संगति - कबीर के दोहे
    कबीर संगत साधु की, नित प्रति कीजै जाय।
    कबीर संगत साधु की, जौ की भूसी खाय।
    संगत कीजै साधु की, कभी न निष्फल होय।
    संगति सों सुख्या ऊपजे, कुसंगति सो दुख होय।
  • जागो बंसीवारे - मीरा भजन
    जागो बंसीवारे ललना,
    जागो मोरे प्यारे॥
    रजनी बीती भोर भयो है
    घर घर खुले किवारे |
  • ओम् जय श्री कृष्ण हरे - श्री कृष्ण आरती
    श्री कृष्ण आरती ओम् जय श्री कृष्ण हरे, प्रभु जय श्री कृष्ण हरे | भक्तन के दुख सारे पल में … Continue reading Krishna Aarti – Hindi
_