Dena ho to Dijiye Janam Janam ka Saath – Hindi

देना हो तो दीजिए, जनम जनम का साथ

देना हो तो दीजिए, जनम जनम का साथ।
मेरे सर पर रख गिरधारी, अपने दोनों ये हाथ॥
देना हो तो दीजिए, जनम जनम का साथ।
अब तो कृपा कर दीजिए, जनम जनम का साथ

_

Dena Ho To Dijiye Janam ka Saath


देना हो तो दीजिए, जनम जनम का साथ।
मेरे सर पर रख बनवारी
मेरे सर पर रख गिरधारी, अपने दोनों ये हाथ॥

देना हो तो दीजिए, जनम जनम का साथ।
अब तो कृपा कर दीजिए, जनम जनम का साथ


देने वाले श्याम प्रभु से, धन और दौलत क्या मांगे।
श्याम प्रभु से मांगे तो फिर, नाम और इज्ज़त क्या मांगे।
मेरे जीवन में अब कर दे, तू कृपा की बरसात॥

देना हो तो दीजिए, जनम जनम का साथ।
मेरे सर पर रख बनवारी, अपने दोनों ये हाथ॥


श्याम तेरे चरणों की धूलि, धन दौलत से महंगी है।
एक नज़र कृपा की बाबा, नाम इज्ज़त से महंगी है।
मेरे दिल की तमन्ना यही है, करूँ सेवा तेरी दिन रात॥

देना हो तो दीजिए, जनम जनम का साथ।
मेरे सर पर रख गिरधारी, अपने दोनों ये हाथ॥


झुलस रहें है गम की धुप में, प्यार की छाया कर दे तू।
बिन मांझी के नाव चले ना, अब पतवार पकड़ ले तू।
मेरा रस्ता रौशन कर दे, छाई अंधियारी रात॥

देना हो तो दीजिए, जनम जनम का साथ।
मेरे सर पर रख बनवारी, अपने दोनों ये हाथ॥


सुना है हमने शरणागत को, अपने गले लगाते हो।
ऐसा हमने क्या माँगा, जो देने से घबराते हो।
चाहे जैसे रख बनवारी, बस होती रहे मुलाक़ात॥

देना हो तो दीजिए जनम जनम का साथ।
मेरे सर पर रख गिरधारी, अपने दोनों ये हाथ॥


मेरे सर पर रख बनवारी
मेरे सर पर रख गिरधारी, अपने दोनों यह हाथ।
देना हो तो दीजिए, जनम जनम का साथ।


Tags:

-
-

_

Shri Krishna Bhajans

  • बृज के नंदलाला राधा के सांवरिया
    बृज के नंदलाला राधा के सांवरिया
    सभी दुःख दूर हुए, जब तेरा नाम लिया
    मीरा पुकारी जब गिरिधर गोपाला
    ढल गया अमृत में विष का भरा प्याला
    कौन मिटाए उसे, जिसे तू राखे पिया
    सभी दुःख दूर हुए, जब तेरा नाम लिया
  • श्याम तेरी बन्सी पुकारे राधा नाम
    श्याम तेरी बन्सी पुकारे राधा नाम
    लोग करे मीरा को यूँ ही बदनाम
    साँवरे की बन्सी को बजने से काम
    राधा का भी श्याम, वो तो मीरा का भी श्याम
  • गोविंदा आला रे आला - Janmashtami Song
    गोविंदा आला रे आला
    ज़रा मटकी संभाल बृजबाला
    अरे एक दो और तीन चार
    संग पाँच छः सात हैं ग्वाला
  • है कण कण में झांकी भगवान की
    है कण कण में झांकी भगवान् की।
    किसी सूझ वाली आँख ने पहचान की॥
    निगाह मीरा की निराली, पीली जहर की प्याली,
    ऐसा गिरधर बसाया हर श्वास में।
  • वो काला एक बांसुरी वाला
    वो काला एक बांसुरी वाला,
    सुध बिसरा गया मोरी रे।
    माखन चोर जो, नंदकिशोर वो,
    कर गयो मन की चोरी रे॥
    सुध बिसरा गया मोरी
  • तेरे चरण मेरे मथुरा काशी
    तेरे चरण मेरे मथुरा काशी
    बनवारी ब्रज के वासी
    अँखियाँ दर्शन की मतवारी
    मनमोहन मन के वासी
  • राधे राधे बोलो, चले आयेंगे बिहारी
    राधे राधे बोलो, चले आयेंगे बिहारी
    आयेंगे बिहारी, चले आयेंगे बिहारी
    राधारानी भोली भली चंचल बिहारी
    राधारानी गोरी गोरी सांवरे बिहारी,
  • श्याम तेरे मिलने का सत्संग बहाना है
    श्याम तेरे मिलने का
    सत्संग बहाना है
    जब से तेरी लगन लगी
    दिल हुआ दीवाना है
_

Bhajan List

Krishna Bhajans – Hindi
Ram Bhajans – Hindi
Bhajan, Aarti, Chalisa, Dohe – Hindi List

_
_

Krishna Bhajan Lyrics in Hindi

  • पाप की मटकी तूने फोड़ी
    पाप की मटकी तूने फोड़ी,
    पुण्य की मटकी मै ले आऊँ।
    जिस मटकी में भक्ति का माखन,
    वोही मटकी मै चाहूँ॥
  • आज खुशियों का दिन आया
    आज खुशियों का दिन आया,
    नाचेंगे जी भर के
    मेरे श्याम का दरबार रंगीला
    होती है यहाँ नित नयी लीला
    भक्तो ने खूब सजाया, नाचेंगे जी भर के
    मंद मुस्कान गले फूलो की माला
    मेरा श्याम सारे जग से निराला
  • रंग दे चुनरिया, श्याम पिया मोरी रंग दे चुनरिया
    रंग दे चुनरिया
    श्याम पिया मोरी रंग दे चुनरिया
    ऐसी रंग दे के रंग नाही छूटे
    धोबिया धोए चाहे ये सारी उमरिया
_
_

Bhajans and Aarti

  • मेरी झोली छोटी पड़ गयी रे
    मेरी झोली छोटी पड़ गयी रे,
    इतना दिया मेरी माता
    उपकार करे, भव पार करे
    सपने सब के साकार करे
    ना देर करे, माँ मेहर करे
    भक्तो के सदा भंडार भरे
  • आज मंगलवार है, महावीर का वार है
    आज मंगलवार है, महावीर का वार है,
    यह सच्चा दरबार है।
    सच्चे मन से जो कोई ध्यावे,
    उसका बेडा पार है॥
    राम नाम आधार है,
    महावीर का वार है।
  • नवदुर्गा - माँ दुर्गा का दूसरा स्वरूप - माँ ब्रह्मचारिणी
    माँ दुर्गा दूसरा स्वरूप ब्रह्मचारिणी का है।
    नवरात्र पर्व के दूसरे दिन माँ ब्रह्मचारिणी की पूजा-अर्चना की जाती है।
    ब्रह्मचारिणी अर्थात तप की चारिणी, तप का आचरण करने वाली।
    देवी की उपासना से मनुष्य में तप, त्याग, सदाचार व संयम की वृद्धि होती है।
  • तुम बसी हो कण कण अन्दर माँ
    तुम बसी हो कण कण अन्दर माँ
    हम ढूंढते रह गये मंदिर में
    तेरी माया को न जान सके
    तुझको न कभी पहचान सके
    हम मोह की निद्रा सोये रहे
    माँ इधर उधर ही खोये रहे
  • नवदुर्गा - माँ दुर्गा का तीसरा रूप - माँ चन्द्रघण्टा
    माँ दुर्गाजी का तीसरा स्वरुप - माँ चन्द्रघण्टा
    नवरात्रि का तीसरा दिन माँ चन्द्रघण्टा की उपासना का दिन होता है।
    माँ चंद्रघंटा का स्वरूप परम शान्तिदायक और कल्याणकारी है।
    इनकी कृपासे साधक के समस्त पाप और बाधाएँ नष्ट हो जाती हैं।
  • चलो शिव शंकर के मंदिर में भक्तो
    चलो शिव शंकर के मंदिर में भक्तो शिव जी के चरणों में सर को झुकाए। करें अपने तन मन को गंगा सा पावन जपें नाम शिव का भजन इनके गाएं॥
  • शिर्डी साईं द्वारकामाई
    साईं राम, राधे श्याम
    मेघ श्याम, सुन्दर नाम
    शिर्डी साईं, द्वारका माई
    सर्वान्तर्यामी साईं राम
  • जय हो गणपती, जय हो गणपती
    जय हो गणपती, जय हो गणपती
    पूजे तुम्हे देवता सभी
    शिव के दुलारे, जग से न्यारे
    पार्वती माँ के अंखियो के तारे
  • रघुपति राघव राजाराम
    रघुपति राघव राजाराम, पतित पावन सीताराम॥
    ईश्वर अल्लाह तेरो नाम, सब को सन्मति दे भगवान
    जय रघुनंदन जय सिया राम, जानकी वल्लभ सीताराम
    रघुपति राघव राजाराम, पतित पावन सीताराम॥
  • श्री गणेश आरती - सुखकर्ता दुखहर्ता - जय देव, जय मंगलमूर्ती
    सुखकर्ता दुखहर्ता वार्ता विघ्नाची।
    नुरवी पुरवी प्रेम कृपा जयाची॥
    जय देव, जय देव, जय मंगलमूर्ती
    दर्शनमात्रे मन कामनापु्र्ती
    जय देव, जय देव
_
_

Bhakti Geet Lyrics

  • श्री गणेश भजन - List
    जय गणेश जय गणेश देवा
    गणपति की सेवा मंगल मेवा
    सुखकर्ता दुखहर्ता वार्ता विघ्नाची।
    रख लाज मेरी गणपति, अपनी शरण में लीजिए।
    तुझको फिर से जलवा दिखाना ही होगा
  • तेरी बिगड़ी बना देगी चरण रज राधा
    Video - देवकीनंदन ठाकुर(Devkinandan Thakur)
  • तेरी बिगड़ी बना देगी,
    चरण रज राधा प्यारी की।
    तू बस एक बार श्रद्धा से,
    लगा कर देख मस्तक पर

  • सुंदरकाण्ड - चौपाई और दोहे - Audio - 3
    तब देखी मुद्रिका मनोहर।
    राम नाम अंकित अति सुंदर॥
    चकित चितव मुदरी पहिचानी।
    हरष बिषाद हृदयँ अकुलानी॥
  • ऐसें मेरे मन में विराजिये
    ऐसें मेरे मन में विराजिये
    की मै भूल जाऊं काम धाम
    गाऊं बस तेरा नाम
    सीता राम सीता राम
  • आ लौट के आजा हनुमान
    आ लौट के आजा हनुमान,
    तुम्हे श्री राम बुलाते हैं।
    जानकी के बसे तुममे प्राण,
    तुम्हे श्री राम बुलाते हैं॥
_