Agar Shyam Sunder Ka Sahara – Hindi

अगर श्याम सुन्दर का सहारा ना होता

अगर श्याम सुन्दर का सहारा ना होता,
तो दुनिया में कोई हमारा ना होता।
जबसे मिली है दया हमको इनकी,
तो राहें बदल दी मेरी ज़िन्दगी की।

_

Agar Shyam Sunder Ka Sahara Na Hota Lyrics in Hindi


अगर श्याम सुन्दर का सहारा ना होता,
तो दुनिया में कोई हमारा ना होता।

अगर श्याम सुन्दर का सहारा ना होता।


जबसे मिली है दया हमको इनकी,
तो राहें बदल दी मेरी ज़िन्दगी की।
नज़रे करम का इशारा ना होता,
तो दुनिया में कोई हमारा ना होता॥

अगर श्याम सुन्दर का सहारा ना होता।


इन्ही के सहारे जीए जा रहे है,
नाम का अमृत पीए जा रहे हैं।
मेरा बिगड़ा जीवन संवारा ना होता,
तो दुनिया में कोई हमारा ना होता॥

अगर श्याम सुन्दर का सहारा ना होता।


कोई नहीं था दुनिया में अपना,
कन्हैया से मिलना लगता है सपना।
कन्हैया ने हमको जो पुकारा ना होता,
तो दुनिया में कोई हमारा ना होता॥

अगर श्याम सुन्दर का सहारा ना होता।


भंवर में थी नैया, दिया है किनारा,
इन्ही की कृपा से चले है गुजारा।
कृपा भरी दृष्टि से निहारा ना होता,
तो दुनिया में कोई हमारा ना होता॥

अगर श्याम सुन्दर का सहारा ना होता।


अगर श्याम सुन्दर का सहारा ना होता,
तो दुनिया में कोई हमारा ना होता।


Tags:

-
-

_

Bhagwan Krishna Bhajans in Hindi List

  • ओ कान्हा अब तो मुरली की, मधुर सुना दो तान
    ओ कान्हा अब तो मुरली की,
    मधुर सुना दो तान
    में हूँ तेरी प्रेम दीवानी,
    मुझको तू पहचान
    मधुर सुना दो तान
  • ज़री की पगड़ी बाँधे, सुंदर आँखों वाला
    ज़री की पगड़ी बाँधे, सुंदर आँखों वाला।
    कितना सुंदर लागे बिहारी, कितना लागे प्यारा॥
    मुख पे माखन मलता, तू बल घुटने के चलता,
    देख यशोदा भाग्य को, देवों का भी मन जलता।
  • मुझे रास आ गया है, तेरे दर पे सर झुकाना
    मुझे रास आ गया है,
    तेरे दर पे सर झुकाना
    मुझे कौन जानता था,
    तेरी बंदगी से पहले
    तेरी याद ने बना दी,
    मेरी ज़िन्दगी फ़साना
  • पाप की मटकी तूने फोड़ी
    पाप की मटकी तूने फोड़ी,
    पुण्य की मटकी मै ले आऊँ।
    जिस मटकी में भक्ति का माखन,
    वोही मटकी मै चाहूँ॥
  • दिल की हर धड़कन से, तेरा नाम निकलता है
    दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
    तेरे दर्शन को मोहन तेरा दास तरसता है
    जन्मो पे जनम लेकर मै हार गया मोहन
    दर्शन बिन व्यर्थ हुआ हर बार मेरा जीवन
    अब धैर्य नहीं मुझमे इतना तू परखता है
    दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
  • ओ पालनहारे, निर्गुण और न्यारे
    ओ पालनहारे, निर्गुण और न्यारे
    तुम्हरे बिन हमरा कौनो नाहीं
    हमरी उलझन, सुलझाओ भगवन
    तुम्हरे बिन हमरा कौनो नाहीं
  • आप क्या जानो ऐ श्याम सुन्दर
    आप क्या जानो ऐ श्याम सुन्दर,
    कैसे तुम बिन जिए जा रहे है।
    तेरे मिलने की उम्मीद लेकर,
    गम के आँसू पिए जा रहे है॥
    ये जुदाई सहेंगे श्याम कब तक
    बिन दर्शन रहेगे श्याम कब तक।
  • मैं आरती तेरी गाउँ, ओ केशव कुञ्ज बिहारी
    मैं आरती तेरी गाउँ, ओ केशव कुञ्ज बिहारी।
    मैं नित नित शीश नवाऊँ, ओ मोहन कृष्ण मुरारी॥
    जो आए शरण तिहारी, विपदा मिट जाए सारी।
    हम सब पर कृपा रखना, ओ जगत के पालनहारी॥
_

Krishna Bhakti Sangeet

_
_

Hindi Aarti anf Bhajans

  • भजमन राम चरण सुखदाई
    भज मन राम चरण सुखदाई, राम चरण सुखदाई
    जिहि चरननसे निकसी सुरसरि, शंकर जटा समाई।
    जटासंकरी नाम परयो है, त्रिभुवन तारन आई॥
    जिन चरननकी चरनपादूका भरत रह्यो लिव लाई।
  • Quotes (अनमोल वचन)
    [quotcoll paging=true limit_per_page=1] [quotcoll]
  • शेर पे सवार होके आजा शेरावालिये
    शेर पे सवार होके आजा शेरा वालिये
    सोये हुए भाग्य जगा जा शेरावालिये
    शेरा वालिये, माँ ज्योता वालिये
    ज्योत माँ जगा के तेरी आस ये लगाई है
    जिन का ना कोई उनकी, तुही माँ सहाई है
    रौशनी अंधेरो में दिखा जा शेरावालिये
  • नवदुर्गा - माँ दुर्गा का छठवां रूप - कात्यायनी देवी
    माँ दुर्गा का छठवां स्वरूप - माँ कात्यायनी
    नवरात्रि का छठा दिन माँ कात्यायनी की उपासना का दिन होता है।
    इनके पूजन से अद्भुत शक्ति का संचार होता है।
    दुश्मनों का संहार करने में देवी सक्षम बनाती हैं।
  • आओ आज पधारो, पार्वती के प्यारे
    आओ आज पधारो, पार्वती के प्यारे
    हे शिव शंकर के दुलारे।
    हे गणनायक, हे लम्बोदर, सब देवो से न्यारे॥
    प्रथम मनाये आपको, करे तुम्हारी पूजा।
    सब देवो में तुमसा और नहीं कोई दूजा।

  • श्री मृदुल कृष्ण शास्त्री भजन
    मुझे श्याम सुन्दर की दुल्हन बना दो
    यह तो प्रेम की बात है उधो
    बांके बिहारी मुझको देना सहारा
    तेरे संग में रहेंगे, ओ मोहना
  • तू राम भजन कर प्राणी
    काया-माया बादल छाया,
    मूरख मन काहे भरमाया।
    उड़ जायेगा साँसका पंछी,
    फिर क्या है आनी-जानी॥
  • सुंदरकाण्ड - 6
    जौं रघुबीर होति सुधि पाई।
    करते नहिं बिलंबु रघुराई॥
    राम बान रबि उएँ जानकी।
    तम बरुथ कहँ जातुधान की॥
    हे माता! जो रामचन्द्रजीको आपकी खबर मिल जाती तो प्रभु कदापि विलम्ब नहीं करते॥
  • नवदुर्गा - माँ दुर्गा का दूसरा स्वरूप - माँ ब्रह्मचारिणी
    माँ दुर्गा दूसरा स्वरूप ब्रह्मचारिणी का है।
    नवरात्र पर्व के दूसरे दिन माँ ब्रह्मचारिणी की पूजा-अर्चना की जाती है।
    ब्रह्मचारिणी अर्थात तप की चारिणी, तप का आचरण करने वाली।
    देवी की उपासना से मनुष्य में तप, त्याग, सदाचार व संयम की वृद्धि होती है।
  • तुम बसी हो कण कण अन्दर माँ
    तुम बसी हो कण कण अन्दर माँ
    हम ढूंढते रह गये मंदिर में
    तेरी माया को न जान सके
    तुझको न कभी पहचान सके
    हम मोह की निद्रा सोये रहे
    माँ इधर उधर ही खोये रहे
  • माता वैष्णो के आए नवरात्रे
    मालिने बनादे एक सेहरा नी,
    माता वैष्णो के आए नवरात्रे।
    फूल श्रद्धा के होएंगे जब अर्पण,
    शुद्ध होएगा रे मनवा का दर्पण।
_

Bhajans and Prayers

_