Achyutam Keshavam Krishna Damodaram – Hindi

अच्युतम केशवं कृष्ण दामोदरं

अच्युतम – (अर्थ) – अविनाशी, जिसका नाश न हो सके, अमर, अमिट – indestructible, imperishable, immortal


अच्युतम केशवं कृष्ण दामोदरं,
राम नारायणं जानकी वल्लभं॥
कौन कहता है भगवान आते नहीं,
तुम मीरा के जैसे बुलाते नहीं।

_

Achyutam Keshavam Krishna Damodaram – Lyrics


अच्युतम केशवं कृष्ण दामोदरं,
राम नारायणं, जानकी वल्लभं

  • अच्युतम – (अर्थ) –
    • अविनाशी, अमर, जिसका नाश न हो सके, अमिट
    • indestructible, imperishable, immortal

कौन कहता है भगवान आते नहीं,
तुम मीरा के जैसे बुलाते नहीं।

Meera Krishna Bhakti

अच्युतम केशवं कृष्ण दामोदरं,
राम नारायणं जानकी वल्लभं॥


कौन कहता है भगवान खाते नहीं,
बेर शबरी के जैसे खिलाते नहीं।

Shabri Shree Ram Bhakti

अच्युतम केशवं कृष्ण दामोदरं,
राम नारायणं जानकी वल्लभं॥


कौन कहता है भगवान सोते नहीं,
माँ यशोदा के जैसे सुलाते नहीं।

Maa Yashoda Bal Gopal

अच्युतम केशवं कृष्ण दामोदरं,
राम नारायणं जानकी वल्लभं॥


कौन कहता है भगवान नाचते नहीं,
तुम गोपी के जैसे नचाते नहीं।

अच्युतम केशवं कृष्ण दामोदरं,
राम नारायणं जानकी वल्लभं॥


कौन कहता है भगवान नचाते नहीं,
गोपियों की तरह तुम नाचते नहीं।

Krishna Gopiyaa Raa Leela

अच्युतम केशवं कृष्ण दामोदरं,
राम नारायणं जानकी वल्लभं॥

अच्युतम केशवं राम नारायणं
कृष्ण दामोदरं वासुदेवं हरे॥

श्रीधरम माधवम गोपिका वल्लभं
जानकी नायकम, रामचन्द्रम हरे॥

_

नाम जपते चलो, काम करते चलो
हर समय कृष्ण का ध्यान करते चलो

अच्युतम केशवं कृष्ण दामोदरं,
राम नारायणं जानकी वल्लभं॥


याद आएगी उनको कभी ना कभी
कृष्ण दर्शन तो देंगे कभी ना कभी

अच्युतम केशवं कृष्ण दामोदरं,
राम नारायणं जानकी वल्लभं॥


अच्युतम केशवं राम नारायणं
कृष्ण दामोदरं वासुदेवं हरे॥

श्रीधरम माधवम गोपिका वल्लभं
जानकी नायकम, रामचन्द्रम हरे॥


Tags:

-
-

_

Krishna Bhajans

  • मधुराष्टकम - अर्थ साहित - अधरं मधुरं वदनं मधुरं
    अधरं मधुरं वदनं मधुरं,
    नयनं मधुरं हसितं मधुरम्।
    हृदयं मधुरं गमनं मधुरं,
    मधुराधिपतेरखिलं मधुरम्॥
    अधरं मधुरं - श्री कृष्ण के होंठ मधुर हैं
    वदनं मधुरं - मुख मधुर है
    नयनं मधुरं - नेत्र (ऑंखें) मधुर हैं
    हसितं मधुरम् - मुस्कान मधुर है
  • जगत के रंग क्या देखूँ, तेरा दीदार काफी है
    जगत के रंग क्या देखूँ,
    तेरा दीदार काफी है।
    करूँ मैं प्यार किस किस से,
    तेरा एक प्यार काफी है॥
    मेरी आँखों में हों हरदम,
    तेरा चमकार काफी है॥
  • फूलो में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन बिहारी
    फूलो में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन बिहारी।
    और साथ सज रही हैं, वृषभान की दुलारी॥
    टेढ़ा सा मुकुट सर पर, रखा है किस अदा से।
    करुणा बरस रही है, करुणा भरी निगाह से।
  • नन्द के आनंद भयो, जय कन्हैया लाल की
    आनंद उमंग भयो, जय हो नन्द लाल की।
    नन्द के आनंद भयो, जय कन्हैया लाल की॥
    बृज में आनंद भयो, जय यशोदा लाल की।
    हाथी घोडा पालकी, जय कन्हैया लाल की॥
    जय हो नंदलाल की, जय यशोदा लाल की।
    हाथी घोडा पालकी, जय कन्हैया लाल की॥
  • कान्हा रे थोडा सा प्यार दे
    कान्हा रे थोडा सा प्यार दे,
    चरणों में बैठा के तार दे
    ओ गोरी, घूंघट उतर दे,
    प्रेम की भिक्षा झोली में डार (डाल) दे
  • मैं आरती तेरी गाउँ, ओ केशव कुञ्ज बिहारी
    मैं आरती तेरी गाउँ, ओ केशव कुञ्ज बिहारी।
    मैं नित नित शीश नवाऊँ, ओ मोहन कृष्ण मुरारी॥
    जो आए शरण तिहारी, विपदा मिट जाए सारी।
    हम सब पर कृपा रखना, ओ जगत के पालनहारी॥
  • ज़री की पगड़ी बाँधे, सुंदर आँखों वाला
    ज़री की पगड़ी बाँधे, सुंदर आँखों वाला।
    कितना सुंदर लागे बिहारी, कितना लागे प्यारा॥
    मुख पे माखन मलता, तू बल घुटने के चलता,
    देख यशोदा भाग्य को, देवों का भी मन जलता।
  • अरे द्वारपालों, कन्हैया से कह दो
    अरे द्वारपालों, कन्हैया से कह दो,
    के दर पे सुदामा गरीब आ गया है
    भटकते भटकते न जाने कहां से
    तुम्हारे महल के करीब आ गया है
    सुनते ही दौड़े चले आये मोहन
    लगाया गले से सुदामा को मोहन
  • ओ पालनहारे, निर्गुण और न्यारे
    ओ पालनहारे, निर्गुण और न्यारे
    तुम्हरे बिन हमरा कौनो नाहीं
    हमरी उलझन, सुलझाओ भगवन
    तुम्हरे बिन हमरा कौनो नाहीं
  • ऐसी लागी लगन, मीरा हो गयी मगन
    ऐसी लागी लगन, मीरा हो गयी मगन।
    वो तो गली गली, हरी गुण गाने लगी॥
    महलों में पली, बन के जोगन चली।
    मीरा रानी दीवानी कहाने लगी॥
    कोई रोके नहीं, कोई टोके नहीं,
    मीरा गोविन्द गोपाल गाने लगी।
_

श्रद्धा सुमन

Achyutam Keshavam Krishna Damodaram

(अच्युतम, केशवं, कृष्ण, दामोदरं, वासुदेवं, माधवम, श्रीधरम, गोपिका वल्लभं,
रामचन्द्रम, जानकी नायकम, जानकी वल्लभं, राम नारायणम)


हम लाये है सुमन स्नेह के,
चरणों में अर्पित करने।
और हमारे भाव दिलों के,
तुमको समर्पित करने॥

आस लगाए बैठे है हम,
दर्शन हमको नित्य मिले।
और आपके आशीषों का,
हमें सदा वरदान मिलें॥


अच्युतम केशवं कृष्ण दामोदरं,
राम नारायणं जानकी वल्लभं॥

अच्युतम केशवं राम नारायणं
कृष्ण दामोदरं वासुदेवं हरे॥

श्रीधरम माधवम गोपिका वल्लभं
जानकी नायकम, रामचन्द्रम हरे॥

_

Bhajan List

Krishna Bhajans – Hindi
Ram Bhajans – Hindi
Bhajan, Aarti, Chalisa, Dohe – Hindi List

_
_

Krishna Bhajan Lyrics

  • छोटी छोटी गैया, छोटे छोटे ग्वाल
    छोटी छोटी गैया, छोटे छोटे ग्वाल
    छोटो सो मेरो मदन गोपाल
    कारी कारी गैया, गोरे गोरे ग्वाल।
    श्याम वरण मेरो मदन गोपाल॥
    छोटी छोटी लकुटी, छोले छोटे हाथ।
    बंसी बजावे मेरो मदन गोपाल॥
  • हे गोपाल कृष्ण, करूँ आरती तेरी
    हे गोपाल कृष्ण, करूँ आरती तेरी
    हे प्रिया पति, मैं करूँ आरती तेरी
    तुझपे ओ कान्हा बलि बलि जाऊं
    सांज सवेरे तेरे गुण गाउँ
  • जग में सुन्दर है दो नाम, चाहे कृष्ण कहो या राम
    जग में सुन्दर है दो नाम,
    चाहे कृष्ण कहो या राम
    बोलो राम राम राम,
    बोलो श्याम श्याम श्याम
  • बांके बिहारी मुझको देना सहारा
    बांके बिहारी मुझको देना सहारा।
    कही छूट जाये ना दामन तुम्हारा॥
    तेरे सिवा दिल में समाएं ना कोई,
    लगन का ये दीपक बुझायें ना कोई।
    तू ही मेरी कश्ती, तू ही है किनारा,
    कही छूट जाये ना दामन तुम्हारा॥
  • मेरा आपकी कृपा से, सब काम हो रहा है
    मेरा आपकी कृपा से, सब काम हो रहा है।
    करते हो तुम कन्हैया, मेरा नाम हो रहा है॥
    हैरान है ज़माना, मंजिल भी मिल रही है।
    करता नहीं मैं कुछ भी, सब काम हो रहा है॥
_

भक्ति भाव

हे जगदीश्वर, हे भगवान,
बहुत निराली तेरी शान।

मंगलजनक (मंगलकारी) अमंगलहारी
कष्ट-विदारक पर-उपकारी।
दिन-दयाकर कृपा निधान
बहुत निराली तेरी शान॥


अच्युतम केशवं कृष्ण दामोदरं,
राम नारायणं जानकी वल्लभं॥


अच्युतम केशवं राम नारायणं
कृष्ण दामोदरं वासुदेवं हरे॥

श्रीधरम माधवम गोपिका वल्लभं
जानकी नायकम, रामचन्द्रम हरे॥

_
_

Bhajans and Aarti

  • श्री गणेश आरती - सुखकर्ता दुखहर्ता - जय देव, जय मंगलमूर्ती
    सुखकर्ता दुखहर्ता वार्ता विघ्नाची।
    नुरवी पुरवी प्रेम कृपा जयाची॥
    जय देव, जय देव, जय मंगलमूर्ती
    दर्शनमात्रे मन कामनापु्र्ती
    जय देव, जय देव
  • नवदुर्गा - माँ दुर्गा के नौ रुप
    नवरात्रि में दुर्गा पूजा के अवसर पर माँ के नौ रूपों की पूजा-उपासना की जाती है। इन नव दुर्गा को पापों के विनाशिनी कहा जाता है।
    शैलपुत्री (Shailaputri)
    व्रह्मचारणी (Brahmacharini)
    चन्द्रघन्टा (Candraghanta)
    कूष्माण्डा (Kusamanda)
    स्कन्दमाता (Skandamata)
  • या देवी सर्वभूतेषु मंत्र - दुर्गा मंत्र - अर्थ सहित
    या देवी सर्वभूतेषु शक्ति-रूपेण संस्थिता।
    नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥
    या देवी सर्वभूतेषु दया-रूपेण संस्थिता।
    नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥
  • दुर्गा आरती - जय अम्बे गौरी
    जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी।
    तुमको निशिदिन ध्यावत, हरि ब्रह्मा शिव री॥
    (श्री) अम्बेजी की आरती, जो कोई नर गावै।
    कहत शिवानंद स्वामी, सुख सम्पत्ति पावै॥
    ॥मैया जय अम्बे गौरी॥
  • आज मंगलवार है, महावीर का वार है
    आज मंगलवार है, महावीर का वार है,
    यह सच्चा दरबार है।
    सच्चे मन से जो कोई ध्यावे,
    उसका बेडा पार है॥
    राम नाम आधार है,
    महावीर का वार है।
  • इतनी शक्ति हमें देना दाता
    इतनी शक्ति हमें देना दाता
    मन का विश्वास कमजोर हो ना।
    हम चले नेक रस्ते पे हमसे
    भूलकर भी कोई भूल हो ना॥
  • तेरे मन में राम
    तेरे मन में राम, तन में राम,
    रोम रोम में राम रे।
    राम सुमीर ले, ध्यान लगाले,
    छोड़ जगत के काम रे॥
    बोलो राम, बोलो राम, बोलो राम राम राम।
  • चलो बुलावा आया है, माता ने बुलाया है
    चलो बुलावा आया है,
    माता ने बुलाया है।
    वैष्णो देवी के मन्दिर मे,
    लोग मुरादे पाते है।
    रोते रोते आते है,
    हँसते हँसते जाते है।
  • दया कर, दान भक्ति का
    दया कर, दान भक्ति का, हमें परमात्मा देना।
    दया करना, हमारी आत्मा को शुद्धता देना॥
    हमारे ध्यान में आओ, प्रभु आँखों में बस जाओ।
    अंधेरे दिल में आकर के परम ज्योति जगा देना॥
  • हनुमान चालीसा - जय हनुमान ज्ञान गुन सागर
    जय हनुमान ज्ञान गुन सागर।
    जय कपीस तिहुँ लोक उजागर॥
    राम दूत अतुलित बल धामा।
    अंजनि पुत्र पवनसुत नामा॥
  • सुंदरकाण्ड - 1
    जामवंत के बचन सुहाए।
    सुनि हनुमंत हृदय अति भाए॥
    तब लगि मोहि परिखेहु तुम्ह भाई।
    सहि दुख कंद मूल फल खाई॥
    जाम्बवान के सुहावने वचन सुनकर हनुमानजी को अपने मन में वे वचन बहुत अच्छे लगे॥
_
_

Bhakti Geet Lyrics

  • अब सौंप दिया इस जीवन का सब भार
    अब सौंप दिया इस जीवन का,
    सब भार तुम्हारे हाथों में
    है जीत तुम्हारे हाथों में,
    और हार तुम्हारे हाथों में
  • गुरु महिमा - 1 - कबीर के दोहे
    - गुरु गोविंद दोऊँ खड़े, काके लागूं पांय।
    - गुरु आज्ञा मानै नहीं, चलै अटपटी चाल।
    - गुरु बिन ज्ञान न उपजै, गुरु बिन मिलै न मोष।
    - सतगुरू की महिमा अनंत, अनंत किया उपकार।
  • कालीमाता की आरती - मंगल की सेवा
    मंगल की सेवा सुन मेरी देवा,
    हाथ जोड तेरे द्वार खडे।
    पान सुपारी ध्वजा नारियल
    ले ज्वाला तेरी भेट धरे॥
  • सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को
    सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को
    मिल जाये तरुवर की छाया।
    ऐसा ही सुख मेरे मन को मिला है,
    मैं जब से शरण तेरी आया, मेरे राम॥
  • जगजननी जय जय माँ
    जगजननी जय जय माँ, जगजननी जय जय।
    भयहारिणी, भवतारिणी, भवभामिनि जय जय॥
    तू ही सत्-चित्-सुखमय, शुद्ध ब्रह्मरूपा।
    सत्य सनातन, सुन्दर, पर-शिव सुर-भूपा॥

Achyutam Keshavam Krishn Damodaram

अच्युतम केशवं कृष्ण दामोदरं,
राम नारायणं जानकी वल्लभं॥
कौन कहता है भगवान आते नहीं,
तुम मीरा के जैसे बुलाते नहीं।

_