Sai Ki Nagariya Jaana Hai Re Bande – Hindi

साई की नगरिया जाना है रे बंदे
जग नाही अपना, जग नाही अपना,
जाना है रे बंदे, जाना है रे बंदे

 Hari Om Sharan

_

Sai Ki Nagariya Jaana Hai Re Bande – Kabir Bhajan


साई की नगरिया जाना है रे बंदे
जाना है रे बंदे

जग नाही अपना, जग नाही अपना,
बेगाना है रे बंदे
जाना है रे बंदे, जाना है रे बंदे

साई की नगरिया, जाना है रे बंदे,
जाना है रे बंदे


पत्ता टूटा डारि से,
ले गयी पवन उड़ाय।
अब के बिछुड़े ना मिलें,
दूर पड़ेंगे जाए॥

माली आवत देखि के
कलियन करी पुकार।
फूले फूले चुन लिए,
काल हमारी बार॥

साई की नगरिया, जाना है रे बंदे,
जाना है रे बंदे


चलती चाकी देखि कै,
दिया कबीरा रोय।
दुइ पाटन के बीच में,
साबुत बचा ना कोय॥

लूट सके तो लूट ले,
सत नाम की लूट।
पाछे फिर पछताओगे,
प्राण जाहिं जब छूट॥

साई की नगरिया, जाना है रे बंदे,
जाना है रे बंदे


माटी कहे कुम्हार से,
तू क्या रौंदे मोय।
एक दिन ऐसा आयेगा,
मैं रौन्धुगी तोय॥

लकड़ी कहे लुहार से,
तू मत जारै मोहि।
एक दिन ऐसा होयगा,
मैं जारुंगी तोहि॥

साई की नगरिया, जाना है रे बंदे,
जाना है रे बंदे


बंदे तू कर बंदगी,
तो पावै दीदार।
अवसर मानुस जन्म का,
बहुरि ना बारंबार॥

कबीरा सोया क्या करै,
जाग ना जपै मुरारि।
एक दिना है सोवना,
लंबे पाँव पसारि॥

साई की नगरिया, जाना है रे बंदे,
जाना है रे बंदे


साई की नगरिया, जाना है रे बंदे,
जाना है रे बंदे


For more bhajans from category, Click -

-
-

_

Kabir ke Dohe and Kabir Bhajans

  • Man Lagyo Mero Yaar Fakiri Mein – Kabir Bhajan – Hindi
    मन लाग्यो मेरो यार, फ़कीरी में
    मन लाग्यो मेरो यार, फ़कीरी में
    जो सुख पाऊँ नाम भजन में
    सो सुख नाहिं अमीरी में
    आखिर यह तन ख़ाक मिलेगा
    कहाँ फिरत मग़रूरी में
  • Guru Mahima – Kabir Dohe – Hindi
    गुरु महिमा - कबीर के दोहे
    - गुरु गोविंद दोऊँ खड़े, काके लागूं पांय।
    - गुरु आज्ञा मानै नहीं, चलै अटपटी चाल।
    - गुरु बिन ज्ञान न उपजै, गुरु बिन मिलै न मोष।
    - सतगुरू की महिमा अनंत, अनंत किया उपकार।
  • Re Dil Gaafil, Gaflat Mat Kar – Kabir Bhajan – Hindi
    रे दिल गाफिल, गफलत मत कर
    रे दिल गाफिल, गफलत मत कर
    एक दिना जम आवेगा॥ टेक॥
    सौदा करने या जग आया।
    पूजी लाया मूल गॅंवाया॥
    सिर पाहन का बोझा लीता।
    आगे कौन छुडावेगा॥
  • Sumiran – Kabir Dohe – Hindi
    सुमिरन - कबीर के दोहे
    - दु:ख में सुमिरन सब करै, सुख में करै न कोय।
    - कबीर सुमिरन सार है, और सकल जंजाल।
    - सांस सांस सुमिरन करो, और जतन कछु नाहिं॥
    - राम नाम सुमिरन करै, सतगुरु पद निज ध्यान।
  • Maati Kahe Kumhar Se – Kabir Bhajan – Hindi
    माटी कहे कुम्हार से
    दुर्बल को ना सतायिये,
    जाकी मोटी हाय।
    बिना जीब के हाय से,
    लोहा भस्म हो जाए॥
  • Beet Gaye Din Bhajan Bina Re – Kabir Bhajan – Hindi
    बीत गये दिन भजन बिना रे - कबीर भजन
    बीत गये दिन भजन बिना रे।
    भजन बिना रे, भजन बिना रे॥
    बाल अवस्था खेल गवांयो।
    जब यौवन तब मान घना रे॥
  • Tune Raat Gawai Soi Ke – Kabir Bhajan – Hindi
    तूने रात गँवायी सोय के - कबीर भजन
    तूने रात गँवायी सोय के,
    दिवस गँवाया खाय के।
    हीरा जनम अमोल था,
    कौड़ी बदले जाय॥
  • Jhini Jhini Bini Chadariya – Kabir ke Bhajan – Hindi
    झीनी झीनी बीनी चदरिया
    झीनी झीनी बीनी चदरिया
    काहे का ताना काहे की भरनी।
    कौन तार से बीनी चदरिया॥
    इदा पिङ्गला ताना भरनी।
    सुषुम्ना तार से बीनी चदरिया॥
  • Man ka Pher – Kabir Dohe – Hindi
    मन का फेर - कबीर के दोहे
    - माला फेरत जुग गया, मिटा न मन का फेर।
    - माया मरी न मन मरा, मर मर गये शरीर।
    - न्हाये धोये क्या हुआ, जो मन का मैल न जाय।
    - मीन सदा जल में रहै, धोये बास न जाय॥
  • Ram Binu Tan Ko Taap Na Jayee – Kabir Bhajan – Hindi
    राम बिनु तन को ताप न जाई
    राम बिनु तन को ताप न जाई
    जल में अगन रही अधिकाई।
    राम बिनु तन को ताप न जाई॥
    राम बिनु तन को ताप न जाई॥
_

Bhajan List

Kabir Bhajans
Kabir ke Dohe
Bhajan, Aarti, Chalisa, Dohe – List

_
_

Kabir Bhajan Lyrics

  • Naiya Padi Majhdhar – Kabir Bhajan – Hindi
    नैया पड़ी मंझधार
    नैया पड़ी मंझधार,
    गुरु बिन कैसे लागे पार।
    अन्तर्यामी एक तुम्ही हो,
    जीवन के आधार।
    जो तुम छोड़ो हाथ प्रभु जी, कौन उतारे पार॥
  • Bhakti – Kabir Dohe – Hindi
    भक्ति - कबीर के दोहे
    - कामी क्रोधी लालची, इनसे भक्ति ना होय।
    - भक्ति बिन नहिं निस्तरे, लाख करे जो कोय।
    - भक्ति भक्ति सब कोई कहै, भक्ति न जाने भेद।
    - भक्ति जु सीढ़ी मुक्ति की, चढ़े भक्त हरषाय।
  • Beet Gaye Din Bhajan Bina Re – Kabir Bhajan – Hindi
    बीत गये दिन भजन बिना रे - कबीर भजन
    बीत गये दिन भजन बिना रे।
    भजन बिना रे, भजन बिना रे॥
    बाल अवस्था खेल गवांयो।
    जब यौवन तब मान घना रे॥
  • Sangati – Kabir Dohe – Hindi
    संगति - कबीर के दोहे
    कबीर संगत साधु की, नित प्रति कीजै जाय।
    कबीर संगत साधु की, जौ की भूसी खाय।
    संगत कीजै साधु की, कभी न निष्फल होय।
    संगति सों सुख्या ऊपजे, कुसंगति सो दुख होय।
_
_

Bhajans and Aarti

  • Aaj Mangalwar Hai, Mahaveer Ka Vaar Hai
    आज मंगलवार है, महावीर का वार है
    Aaj mangalwar hai, Mahaveer ka vaar hai,
    yeh sachcha darbaar hai
    Sachche man se jo koi dhyaave,
    Uska beda paar hai
  • Itni Shakti Hame Dena Data – Hindi
    इतनी शक्ति हमें देना दाता
    इतनी शक्ति हमें देना दाता
    मन का विश्वास कमजोर हो ना।
    हम चले नेक रस्ते पे हमसे
    भूलकर भी कोई भूल हो ना॥
  • Jai Ganesh Jai Ganesh Deva
    श्री गणेश आरती - जय गणेश जय गणेश देवा
    Jai Ganesh, Jai Ganesh, Jai Ganesh Deva.
    Mata jaki Parvati, pita Mahadeva.
    Ek dant dayaavant, chaar bhuja dhaari.
    Maathe par tilak sohe, moose ki savaari.
  • Ab Saup Diya Is Jeevan Ka Sab Bhar – Hindi
    अब सौंप दिया इस जीवन का सब भार
    अब सौंप दिया इस जीवन का,
    सब भार तुम्हारे हाथों में
    है जीत तुम्हारे हाथों में,
    और हार तुम्हारे हाथों में
  • Madhurashtakam – Adharam Madhuram – Meaning
    मधुराष्टकम - अर्थ साहित - अधरं मधुरं वदनं मधुरं
    अधरं मधुरं वदनं मधुरं,
    नयनं मधुरं हसितं मधुरम्।
    हृदयं मधुरं गमनं मधुरं,
    मधुराधिपतेरखिलं मधुरम्॥
    अधरं मधुरं - श्री कृष्ण के होंठ मधुर हैं
    वदनं मधुरं - मुख मधुर है
    नयनं मधुरं - नेत्र (ऑंखें) मधुर हैं
    हसितं मधुरम् - मुस्कान मधुर है
  • Jai Ambe Gauri – Maa Durga Aarti
    जय अम्बे गौरी - माँ दुर्गा आरती
    Jai Ambe Gauri,
    Maiya Jai Shyama Gauri
    Tumako nishdin dhyavat,
    Hari Brahma Shivari
    Maiya Jai Ambe Gauri
  • Hey Dukh Bhanjan Maruti Nandan
    हे दुःख भन्जन, मारुती नंदन
    Hey dukh bhanjan Maruti Nandan,
    sun lo meri pukaar
    Pawansut vinti barambar
    Pawansut vinti barambar
  • Ya Devi Sarvabhuteshu – Durga Devi Mantra – Hindi Meaning
    या देवी सर्वभूतेषु मंत्र - दुर्गा मंत्र - अर्थ सहित
    या देवी सर्वभूतेषु शक्ति-रूपेण संस्थिता।
    नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥
    = जो देवी सब प्राणियों में शक्ति रूप में स्थित हैं,
    उनको नमस्कार, नमस्कार, बारंबार नमस्कार है।
  • Tere Man Mein Ram, Tan Mein Ram – Hindi
    तेरे मन में राम
    तेरे मन में राम, तन में राम,
    रोम रोम में राम रे।
    राम सुमीर ले, ध्यान लगाले,
    छोड़ जगत के काम रे॥
    बोलो राम, बोलो राम, बोलो राम राम राम।
  • Sukhkarta Dukhharta – Jai Dev Jai Mangal Murti
    श्री गणेश आरती - सुखकर्ता दुखहर्ता - जय देव, जय मंगलमूर्ती
    Sukhkarta Dukhharta Varta Vighnachi.
    Nurvi Purvi Prem Kripa Jayachi.
    Jai Dev, Jai Dev, Jai Mangal Murti.
    Darshan-maatre Man Kaamanaa-purti.
    Jai Dev, Jai Dev
_
_

Bhakti Geet Lyrics

  • Mera Aapki Kripa Se Sab Kaam Ho Raha Hai
    मेरा आपकी कृपा से, सब काम हो रहा है
    Mera aapki kripa se,
    sab kaam ho raha hai.
    Karte ho tum Kanhaiya,
    mera naam ho raha hai.
    Teri prerana se hi sab
    ye kamaal ho raha hain.
  • Suraj Ki Garmi Se Jalte Huye Tan Ko – Hindi
    सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को
    सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को
    मिल जाये तरुवर की छाया।
    ऐसा ही सुख मेरे मन को मिला है,
    मैं जब से शरण तेरी आया, मेरे राम॥
  • Mere Data Ke Darbar Me – Hindi
    मेरे दाता के दरबार में
    मेरे दाता के दरबार में, सब लोगो का खाता।
    जो कोई जैसी करनी करता, वैसा ही फल पाता॥
    क्या साधू क्या संत गृहस्थी, क्या राजा क्या रानी।
    प्रभू की पुस्तक में लिक्खी है, सबकी कर्म कहानी।
    अन्तर्यामी अन्दर बैठा, सबका हिसाब लगाता॥
  • Mangal Ki Seva Sun Meri Deva – Kali Maa Aarti – Hindi
    कालीमाता की आरती - मंगल की सेवा
    मंगल की सेवा सुन मेरी देवा,
    हाथ जोड तेरे द्वार खडे।
    पान सुपारी ध्वजा नारियल
    ले ज्वाला तेरी भेट धरे॥
  • Om Jai Shiv Omkara – Shiv Aarti – Hindi
    शिव आरती - ओम जय शिव ओंकारा
    जय शिव ओंकारा, ओम जय शिव ओंकारा।
    ब्रह्मा, विष्णु, सदाशिव, अर्द्धांगी धारा॥
    ॥ओम जय शिव ओंकारा॥

Sai Ki Nagariya Jaana Hai Re Bande

साई की नगरिया जाना है रे बंदे, जाना है रे बंदे
जग नाही अपना, जग नाही अपना, बेगाना है रे बंदे
पत्ता टूटा डारि से, ले गयी पवन उड़ाय।
अब के बिछुड़े ना मिलें, दूर पड़ेंगे जाए॥

_