Duniya Chale Na Shri Ram Ke Bina – Hindi

दुनिया चले ना श्री राम के बिना

दुनिया चले ना श्री राम के बिना,
राम जी चले ना हनुमान के बिना।
रावण मरे ना श्री राम के बिना,
लंका जले ना हनुमान के बिना॥

_

Duniya Chale Na Shri Ram Ke Bina


दुनिया चले ना श्री राम के बिना।
राम जी चले ना हनुमान के बिना॥

दुनिया चले ना श्री राम के बिना।
राम जी चले ना हनुमान के बिना॥


जब से रामायण पढ़ ली है,
एक बात मैंने समझ ली है।
रावण मरे ना श्री राम के बिना,
लंका जले ना हनुमान के बिना॥

दुनिया चले ना श्री राम के बिना,
राम जी चले ना हनुमान के बिना


लक्ष्मण का बचना मुश्किल था,
कौन बूटी लाने के काबिल था।
लक्ष्मण बचे ना श्री राम के बिना,
बूटी मिले ना हनुमान के बिना॥

दुनिया चले ना श्री राम के बिना,
राम जी चले ना हनुमान के बिना


सीता हरण की कहानी सुनो,
बनवारी मेरी जुबानी सुनो।
(भक्तो मेरी जुबानी सुनो)
वापस मिले ना श्री राम के बिना,
पता चले ना हनुमान के बिना॥

दुनिया चले ना श्री राम के बिना,
राम जी चले ना हनुमान के बिना


बैठे सिंहासन पे श्री राम जी,
चरणों में बैठे हैं हनुमान जी।
मुक्ति मिले ना श्री राम के बिना,
भक्ति मिले ना हनुमान के बिना॥

दुनिया चले ना श्री राम के बिना,
राम जी चले ना हनुमान के बिना


दुनिया चले ना श्री राम के बिना।
राम जी चले ना हनुमान के बिना॥

_

Hanuman Bhajans

_

Bhajan List

Hanuman Bhajans – Hindi
Ram Bhajan – Hindi
Bhajan, Aarti, Chalisa, Dohe – List

_
_

Hanuman Bhajan Lyrics

  • जिनके मन में बसे श्री राम जी
    जिनके मन में बसे श्री राम जी
    उनकी रक्षा करें हनुमान जी।
    जब भक्तों पर विपदा आई,
    तब आये हनुमंत गोसाई।
  • सुंदरकाण्ड - Sunderkand in Hindi - Index
    हनुमानजी का सीता शोध के लिए लंका प्रस्थान
    सिताजीने हनुमानको आशीर्वाद दिया
    हनुमानजी ने श्रीराम को सीताजी का सन्देश दिया
    भगवान् श्री राम की महिमा
    समुद्र की श्री राम से विनती
  • भरत भाई, कपि से उरिन हम नाहीं
    भरत भाई, कपि से उरिन हम नाहीं
    सौ योजन, मर्याद समुद्र की
    ये कूदी गयो छन माहीं।
    लंका जारी, सिया सुधि लायो
    पर गर्व नहीं मन माहीं॥
  • जय जय जय हनुमान गोसाईं
    जय जय जय हनुमान गोसाईं, कृपा करो महाराज।
    तन मे तुम्हरे शक्ति विराजे, मन भक्ति से भीना।
    जो जन तुम्हरी शरण मे आये,
    दुःख दरद हर लीना।
  • बजरंग बाण - जय हनुमंत संत हितकारी
    जय हनुमंत संत हितकारी।
    सुन लीजै प्रभु अरज हमारी॥
    जन के काज बिलंब न कीजै।
    आतुर दौरि महा सुख दीजै॥
_
_

Bhajans and Aarti

  • राम नाम अति मीठा है
    राम नाम अति मीठा है, कोई गा के देख ले
    आ जाते है राम, कोई बुला के देख ले
    जिस घर में अंधकार,
    वहां मेहमान कहां से आए।
    जिस मन में अभिमान,
    वहां भगवान कहा से आए॥
  • श्री गणेश आरती - जय गणेश जय गणेश देवा
    जय गणेश, जय गणेश, जय गणेश देवा।
    माता जाकी पार्वती, पिता महादेवा॥
    एक दन्त दयावंत, चार भुजा धारी।
    माथे पर तिलक सोहे, मुसे की सवारी॥
  • दुर्गा आरती - जय अम्बे गौरी
    जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी।
    तुमको निशिदिन ध्यावत, हरि ब्रह्मा शिव री॥
    (श्री) अम्बेजी की आरती, जो कोई नर गावै।
    कहत शिवानंद स्वामी, सुख सम्पत्ति पावै॥
    ॥मैया जय अम्बे गौरी॥
  • आरती जगजननी मैं तेरी गाऊं
    आरती जगजननी मैं तेरी गाऊं।
    तुम बिन कौन सुने वरदाती।
    किस को जाकर विनय सुनाऊं॥
    आरती जगजननी मैं तेरी गाऊं
  • रघुपति राघव राजाराम
    रघुपति राघव राजाराम, पतित पावन सीताराम॥
    ईश्वर अल्लाह तेरो नाम, सब को सन्मति दे भगवान
    जय रघुनंदन जय सिया राम, जानकी वल्लभ सीताराम
    रघुपति राघव राजाराम, पतित पावन सीताराम॥
  • भए प्रगट कृपाला, दीनदयाला
    भए प्रगट कृपाला, दीनदयाला,
    कौसल्या हितकारी।
    हरषित महतारी, मुनि मन हारी,
    अद्भुत रूप बिचारी॥
  • नवदुर्गा - माँ दुर्गा के नौ रुप
    नवरात्रि में दुर्गा पूजा के अवसर पर माँ के नौ रूपों की पूजा-उपासना की जाती है। इन नव दुर्गा को पापों के विनाशिनी कहा जाता है।
    शैलपुत्री (Shailaputri)
    व्रह्मचारणी (Brahmacharini)
    चन्द्रघन्टा (Candraghanta)
    कूष्माण्डा (Kusamanda)
    स्कन्दमाता (Skandamata)
  • गुरु महिमा - 1 - कबीर के दोहे
    - गुरु गोविंद दोऊँ खड़े, काके लागूं पांय।
    - गुरु आज्ञा मानै नहीं, चलै अटपटी चाल।
    - गुरु बिन ज्ञान न उपजै, गुरु बिन मिलै न मोष।
    - सतगुरू की महिमा अनंत, अनंत किया उपकार।
  • माँ दुर्गा के 108 नाम - अर्थसहित
    अनन्ता: जिनके स्वरूप का कहीं अन्त नहीं
    अभव्या : जिससे बढ़कर भव्य कुछ नहीं
    महिषासुर-मर्दिनि: महिषासुर का वध करने वाली
    सर्वासुरविनाशा: सभी राक्षसों का नाश करने वाली
    माहेश्वरी: प्रभु शिव की शक्ति
  • श्री गणेश आरती - गणपति की सेवा मंगल मेवा
    गणपति की सेवा मंगल मेवा,
    सेवा से सब विध्न टरें।
    तीन लोक तैतिस देवता,
    द्वार खड़े सब अर्ज करे॥
    (तीन लोक के सकल देवता,
    द्वार खड़े नित अर्ज करें॥)
_
_

Bhakti Geet Lyrics

_