Rakh Laaj Meri Ganpati – Hindi

रख लाज मेरी गणपति

रख लाज मेरी गणपति,
अपनी शरण में लीजिए।
कर आज मंगल गणपति,
अपनी कृपा अब कीजिए॥

Hariom Sharan

_

Rakh Laaj Meri Ganpati


रख लाज मेरी गणपति,
अपनी शरण में लीजिए।
कर आज मंगल गणपति,
अपनी कृपा अब कीजिए॥

रख लाज मेरी गणपति
रख लाज मेरी गणपति


सिद्धि विनायक दुःख हरण,
संताप हारी सुख करण।

करूँ प्रार्थना मैं नित्त प्रति,
वरदान मंगल दीजिए॥

रख लाज मेरी गणपति,
अपनी शरण में लीजिए।
कर आज मंगल गणपति,
अपनी कृपा अब कीजिए॥
रख लाज मेरी गणपति


तेरी दया, तेरी कृपा,
हे नाथ हम मांगे सदा।

तेरे ध्यान में खोवे मति,
प्रणाम मम अब लीजिए॥

रख लाज मेरी गणपति,
अपनी शरण में लीजिए।
कर आज मंगल गणपति,
अपनी कृपा अब कीजिए॥
रख लाज मेरी गणपति


करते प्रथम तव वंदना,
तेरा नाम है दुःख भंजना।

करना प्रभु मेरी शुभ गति,
अब तो शरण मे लीजिए॥

रख लाज मेरी गणपति,
अपनी शरण में लीजिए।
कर आज मंगल गणपति,
अपनी कृपा अब कीजिए॥


रख लाज मेरी गणपति
रख लाज मेरी गणपति


For more bhajans from category, Click -

-
-

_

Ganpati Bhajans

  • सिद्धि विनायक मङ्गल दाता
    सिद्धि विनायक मङ्गल दाता,
    मङ्गल कर दो काज
    आये हैं हम शरण तुम्हारी,
    शरण तुम्हारी आज
  • मेरे मन मंदिर में
    गणपती बाप्पा मोरया,
    अगले बरस तू जल्दी आ
    मेरे मन मंदिर में तुम भगवान रहे
    मेरे दुःख से तुम कैसे अनजान रहे
  • श्री गणेश आरती - जय गणेश जय गणेश देवा
    जय गणेश, जय गणेश, जय गणेश देवा।
    माता जाकी पार्वती, पिता महादेवा॥
    एक दन्त दयावंत, चार भुजा धारी।
    माथे पर तिलक सोहे, मुसे की सवारी॥
  • देवा श्री गणेशा, देवा श्री गणेशा
    देवा श्री गणेशा, देवा श्री गणेशा
    देवा श्री गणेशा, देवा श्री गणेशा
    ज्वाला सी जलती है आँखो मे जिसके भी
    दिल मे तेरा नाम है
    परवाह ही क्या उसका आरंभ कैसा है
    और कैसा परिणाम है
  • मेरे लाडले गणेश प्यारे प्यारे
    मेरे लाडले गणेश प्यारे प्यारे
    भोले बाबा जी की आँखों के तारे
    प्रभु सभा बीच में आ जाना, आ जाना
    मेरे लाडले गणेश प्यारे प्यारे
_

Bhajan List

Ganesh Bhajans – Hindi
Ganesh Aarti – Hindi
Bhajan, Aarti, Chalisa, Dohe – Hindi List

_
_

Ganesh Bhajan Lyrics

  • देवा हो देवा, गणपति देवा
    बिन मांगे पूरी हो जाए,
    जो भी इच्छा हो मन की
    माँगने सब आते हैं
    पहले सच्चा भक्त ही है पाता
  • श्री गणेश आरती - सुखकर्ता दुखहर्ता - जय देव, जय मंगलमूर्ती
    सुखकर्ता दुखहर्ता वार्ता विघ्नाची।
    नुरवी पुरवी प्रेम कृपा जयाची॥
    जय देव, जय देव, जय मंगलमूर्ती
    दर्शनमात्रे मन कामनापु्र्ती
    जय देव, जय देव
  • गाइये गणपति जगवंदन
    गाइये गणपति जगवंदन
    शंकर सुवन भवानी नंदन
    सिद्धि सदन गजवदन विनायक
    कृपा सिंधु सुंदर सब नायक
  • सिद्धिविनायक जय गणपति
    सिद्धिविनायक जय गणपति,
    गाएं सदा तेरी आरती
    त्रिकाल ज्ञाता, मंगल के दाता,
    संकट विघन दूर करना सभी
  • श्री गणेश भजन - List
    जय गणेश जय गणेश देवा
    गणपति की सेवा मंगल मेवा
    सुखकर्ता दुखहर्ता वार्ता विघ्नाची।
    रख लाज मेरी गणपति, अपनी शरण में लीजिए।
    तुझको फिर से जलवा दिखाना ही होगा
_
_

Bhajans and Aarti

  • जय हो जय हो तुम्हारी जी बजरंगबली
    जय हो जय हो तुम्हारी जी बजरंगबली
    ले के शिव रूप आना गज़ब हो गया।
    त्रेता युग में थे, तुम आये द्वापर में भी
    तेरा कलयुग में आना गज़ब हो गया॥
  • हे शिव शंकर नटराजा
    हे शिव शंकर नटराजा,
    मैं तो जनम-जनम का दास तेरा
    निसदिन मैं नाम जपू तेरा
    शिव शिव, शिव शिव, गुंजत मन मेंरा
  • एक फकीरा आया शिर्डी गाँव मे
    कोई कहे संत लगता है,
    कोई पीर फ़क़ीर बताये।
    कभी अल्लाह अल्लाह बोले,
    कभी राम नाम गुण गाये।
  • ले के पूजा की थाली, ज्योत मन की जगाली
    ले के पूजा की थाली, ज्योत मन की जगाली,
    तेरी आरती उतारूँ, भोली माँ।
    सफल हुआ यह जनम,
    के मैं था जन्मो से कंगाल।
    तुने भक्ति का धन देके,
    कर दिया मालामाल।
  • आरती - Aarti - List
    कृष्ण आरती - आरती कुंज बिहारी की
    श्रीरामचन्द्र कृपालु भजु मन
    दुर्गा आरती - जय अम्बे गौरी
    जय गणेश, जय गणेश देवा
  • हरी नाम सुमर सुखधाम
    झूठ कपट कर माया जोड़ी,
    गर्व करे धन का।
    गिर गई देह बिखर गई काया,
    ज्यूँ माला मनका॥
  • भक्ति - कबीर के दोहे
    - कामी क्रोधी लालची, इनसे भक्ति ना होय।
    - भक्ति बिन नहिं निस्तरे, लाख करे जो कोय।
    - भक्ति भक्ति सब कोई कहै, भक्ति न जाने भेद।
    - भक्ति जु सीढ़ी मुक्ति की, चढ़े भक्त हरषाय।
  • मन लाग्यो मेरो यार, फ़कीरी में
    मन लाग्यो मेरो यार, फ़कीरी में
    जो सुख पाऊँ नाम भजन में
    सो सुख नाहिं अमीरी में
    आखिर यह तन ख़ाक मिलेगा
    कहाँ फिरत मग़रूरी में
  • पुरब से जब सुरज निकले
    पुरब से जब सुरज निकले,
    सिंदूरी घन छाये
    पवन के पग में नुपुर बाजे,
    मयुर मन मेरा गाये
  • हे शारदे माँ, हे शारदे माँ
    हे शारदे माँ, हे शारदे माँ
    अज्ञानता से हमें तारदे माँ
    तू स्वर की देवी, ये संगीत तुझसे
    हर शब्द तेरा है, हर गीत तुझसे
_
_

Bhakti Geet Lyrics

  • ऐसो चटक मटक सो ठाकुर
    ऐसो चटक मटक सो ठाकुर
    तीनों लोकन हूँ में नाय
    बड़े बड़े असूरन को मारयो
    नाग कालिया पकड़ पछाड़ो
    सात दिना तक गिरिवर धारयो
  • कोई कहे गोविंदा, कोई गोपाला
    कोई कहे गोविंदा, कोई गोपाला।
    मैं तो कहुँ सांवरिया बाँसुरिया वाला॥
    राधाने श्याम कहा, मीरा ने गिरधर।
    कृष्णा ने कृष्ण कहा, कुब्जा ने नटवर॥
  • ओ पालनहारे, निर्गुण और न्यारे
    ओ पालनहारे, निर्गुण और न्यारे
    तुम्हरे बिन हमरा कौनो नाहीं
    हमरी उलझन, सुलझाओ भगवन
    तुम्हरे बिन हमरा कौनो नाहीं
  • श्री रमेश भाई ओझा भजन
    दूर नगरी बड़ी दूर नगरी
    कैलाश के निवासी नमो बार बार
    देना हो तो दीजिए जनम
    शिव रुद्राष्टकम - अर्थ सहित
_