Gajanan Padharo Gajanan Padhaaro – Hindi

गजानन पधारो, गजानन पधारो
गजानन पधारो, गजानन पधारो
हम भक्तो का स्नेह निमंत्रण,
श्रद्धा भाव से तुम्हे आमंत्रण,
हे देवा स्वीकारो

Jagjit Singh

_

Gajanan Padharo Gajanan Padhaaro


गजानन पधारो, गजानन पधारो
गजानन पधारो, गजानन पधारो

हम भक्तो का स्नेह निमंत्रण,
श्रद्धा भाव से तुम्हे आमंत्रण,
हे देवा स्वीकारो

गजानन पधारो, गजानन पधारो
गजानन पधारो, गजानन पधारो


आज पधारो गणपति, रखो हमारी लाज
मंगल दाता गणपति, मंगल कर दो काज

भक्तो के रखवारे प्रभुवर,
सारे काज सँवारो

गजानन पधारो, गजानन पधारो
गजानन पधारो, गजानन पधारो


रिद्धि सिद्धि के तुम हो दाता
तुम हमारे भाग्य विधाता

गौरी नंदन सबके दुलारे
तू सभी के काज सवारे
मगल कलश पे हाथ धरो और
सारे विघ्न निवारो

गजानन पधारो, गजानन पधारो
गजानन पधारो, गजानन पधारो


प्रथम पूज्य हे गणपति,
सफल करो सब काज

आये है हम गणपति,
शरण तुम्हारी आज
कृपा सिन्धु कृपा करो और,
नैय्या पार उतारो

गजानन पधारो, गजानन पधारो
गजानन पधारो, गजानन पधारो


हम भक्तो का स्नेह निमंत्रण,
श्रद्धा भाव से तुम्हे आमंत्रण,
हे देवा स्वीकारो

गजानन पधारो, गजानन पधारो
गजानन पधारो, गजानन पधारो


For more bhajans from category, Click -

-
-

_

Ganesh Bhajans

_

Bhajan List

Ganesh Bhajans – Hindi
Ganesh Aarti – Hindi
Bhajan, Aarti, Chalisa, Dohe – Hindi List

_
_

Shree Ganesh Bhajan Lyrics

_
_

Bhajans and Aarti

_
_

Popular Bhakti Song Lyrics

  • ऐसें मेरे मन में विराजिये
    Aise mere man mein virajiye
    ki mai bhool jaoon kaam dhaam
    Gaoon bas tera naam
    Sita Ram Sitaram,
    Sita Ram Sitaram
  • बंसी वाले बतला, तेरा कहा ठिकाना है
    बंसी वाले बतला,
    तेरा कहा ठिकाना है।
    किस राह पे चलना है,
    किस राह पे जाना है॥
    बन सारथि अर्जुन का,
    रथ तूने चलाया था।
    आ फिर से धरती पर,
    तूने पाप मिटाना है॥
  • जनम तेरा बातों ही बीत गयो
    जनम तेरा बातों ही बीत गयो,
    रे तुने कबहू ना कृष्ण कह्यो
    पाँच बरस को भोला भाला,
    अब तो बीस भयो।
    मकर पचीसी माया कारण,
    देश विदेश गयो।
    पर तुने कबहू ना कृष्ण कह्यो
  • Jai Laxmi Ramana - Hindi
    जय लक्ष्मीरमणा,
    श्री लक्ष्मी रमणा।
    सत्यनारायण स्वामी,
    सत्यनारायण स्वामी,
    जन पातक हरणा॥
    ॐ जय लक्ष्मी रमणा॥
  • सुंदरकाण्ड - सरल हिंदी में (1)
    जामवंत के बचन सुहाए।
    सुनि हनुमंत हृदय अति भाए॥
    तब लगि मोहि परिखेहु तुम्ह भाई।
    सहि दुख कंद मूल फल खाई॥
    जाम्बवान के सुहावने वचन सुनकर हनुमानजी को अपने मन में वे वचन बहुत अच्छे लगे॥
_