Ganesh Bhajans – List – Hindi

जय गणेश जय गणेश देवा
गणपति की सेवा मंगल मेवा
सुखकर्ता दुखहर्ता वार्ता विघ्नाची।
गणपति की सेवा मंगल मेवा
-
-
-

श्री गणेश भजन – आरती – चालीसा (Ganesh Bhajans) – Hindi

Ganesh

_

Shri Ganesh Bhajans


गणपति आरती – जय गणेश, जय गणेश देवा
जय गणेश, जय गणेश,
जय गणेश देवा।
माता जाकी पार्वती,
पिता महादेवा॥

एक दन्त दयावंत,
चार भुजा धारी।
माथे पर तिलक सोहे,
मुसे की सवारी॥


सुखकर्ता दुखहर्ता – जय देव, जय मंगलमूर्ती
सुखकर्ता दुखहर्ता वार्ता विघ्नाची।
नुरवी पुरवी प्रेम कृपा जयाची॥
सर्वांगी सुंदर उटी शेंदुराची।
कंठी झळके माळ मुक्ताफळांची॥
जय देव, जय देव

जय देव, जय देव,
जय मंगलमूर्ती, हो श्री मंगलमूर्ती
दर्शनमात्रे मन कामनापु्र्ती
जय देव, जय देव


गणेश आरती – गणपति की सेवा मंगल मेवा
गणपति की सेवा मंगल मेवा,
सेवा से सब विध्न टरें।
तीन लोक तैतिस देवता,
द्वार खड़े सब अर्ज करे॥
(तीन लोक के सकल देवता,
द्वार खड़े नित अर्ज करैं॥)

ऋद्धि-सिद्धि दक्षिण वाम विराजे,
अरु आनन्द सों चवर करे।
धूप दीप और लिए आरती,
भक्त खड़े जयकार करे॥


श्री गणेश मंत्र
ॐ गं गणपतये नमो नमः
श्री वक्रतुण्ड महाकाय
श्री गणेश गायत्री मंत्र
श्री गणेश शुभ लाभ मंत्र


रख लाज मेरी गणपति
रख लाज मेरी गणपति,
अपनी शरण में लीजिए।
कर आज मंगल गणपति,
अपनी कृपा अब कीजिए॥

सिद्धि विनायक दुःख हरण,
संताप हारी सुख करण।
करूँ प्रार्थना मैं नित्त प्रति,
वरदान मंगल दीजिए॥


श्री गणेश चालीसा
जय जय जय गणपति गणराजू।
मंगल भरण करण शुभ काजू॥
जय गजबदन सदन सुखदाता।
विश्व-विनायक बुद्घि विधाता॥

वक्र तुण्ड शुचि शुण्ड सुहावन।
तिलक त्रिपुण्ड भाल मन भावन॥
राजत मणि मुक्तन उर माला।
स्वर्ण मुकुट शिर नयन विशाला॥


श्री गणेश प्रार्थना – मराठी
घालिन लोटांगण, वंदिन चरण।
डोळ्यांनी पाहिन रूप तुझे।
प्रेमे आलिंगीन आनंदे पुजिन।
भावें ओवाळिन म्हणे नामा॥

त्वमेव माता च पिता त्वमेव,
त्वमेव बंधुश्च सखा त्वमेव॥
त्वमेव विद्या द्रविणं त्वमेव,
त्वमेव सर्व मम देवदेव॥


आरती गजवदन विनायक की
आरती गजवदन विनायक की।
सुर मुनि-पूजित गणनायक की॥

एकदंत, शशिभाल, गजानन,
विघ्नविनाशक, शुभगुण कानन,
शिवसुत, वन्द्यमान-चतुरानन,
दु:खविनाशक, सुखदायक की॥


श्री गणेश 108 नाम
ॐ विनायकाय नमः।
ॐ गौरी-पुत्राय नमः।
ॐ गजाननाय नमः।
ॐ एकदन्ताय नमः।

ॐ लम्बोदराय नमः।
ॐ सर्वसिद्धि-प्रदाय नमः।
ॐ शुद्धाय नमः।
ॐ वाणी-प्रदाय नमः।


श्री गणपति भज प्रगट पार्वती
श्री गणपति भज प्रगट पार्वती,
अंक विराजत अविनासी।
ब्रह्मा विष्णु सिवादि सकल सुर,
करत आरती उल्लासी॥

त्रिशूल धर को भाग्य मानिकै,
सब जुरि आये कैलासी।
करत ध्यान, गन्धर्व गान-रत,
पुष्पन की हो वर्षा-सी॥


श्री सिद्धिविनायक देवा
श्री सिद्धिविनायक देवा
जय जय गणनायक देवा
साष्टांग कोटि प्रणाम
श्री सिद्धिविनायक देवा

देवा प्रगटे प्रभादेवी
रिद्धि सिद्धि संग है सेवी
प्रभु पावन मंदिर धाम
श्री सिद्धिविनायक देवा
जय जय गणनायक देवा


आओ आज पधारो, पार्वती के प्यारे
आओ आज पधारो, पार्वती के प्यारे
हे शिव शंकर के दुलारे
हे गणनायक, हे लम्बोदर,
सब देवो से न्यारे

प्रथम मनाये आपको, करे तुम्हारी पूजा।
सब देवो में तुमसा और नहीं कोई दूजा।
सफल बनाओ आकर के तुम बिगड़े कम हमारे॥
आओ आज पधारो, पार्वती के प्यारे
हे शिव शंकर के दुलारे


देवा श्री गणेशा, देवा श्री गणेशा
देवा श्री गणेशा, देवा श्री गणेशा
देवा श्री गणेशा, देवा श्री गणेशा
धरती अंबर सितारे, उसकी नज़रे उतारे
डर भी उससे डरा रे, जिसकी रखवालिया रे,
करता साया तेरा हे देवा, श्री गणेशा

तेरी भक्ति तो वरदान है,
जो कमाए वो धनवान है
बिन किनारे की कश्ती है वो,
देवा तुझसे जो अनजान है


तुझको फिर से जलवा दिखाना ही होगा
तुझको फिर से जलवा दिखाना ही होगा
अगले बरस आना है, आना ही होगा
देखेंगी तेरी राहे, प्यासी प्यासी निगाहे
तो मान ले, तू मान भी ले, तू कहना मेरा

लौट के तुझे आना है,
सुन ले कहता दीवाना है
जब तेरा दर्शन पाएंगे,
चैन तब हमको पाना है
मोरया मोरया, मोरया रे
बाप्पा मोरया, मोरया मोरया रे


देवा हो देवा, गणपति देवा
देवा हो देवा, गणपति देवा, तुमसे बढ़कर कौन
स्वामी तुमसे बढ़कर कौन
और तुम्हारे भक्तजनों में, हमसे बढ़कर कौन
हमसे बढ़कर कौन

अद्भुत रूप ये काया भारी
महिमा बड़ी है दर्शन की
प्रभु महिमा बड़ी है दर्शन की
बिन मांगे पूरी हो जाए,
जो भी इच्छा हो मन की
प्रभु जो भी इच्छा हो मन की


गजानन पधारो गजानन पधारो
गजानन पधारो, गजानन पधारो
गजानन पधारो, गजानन पधारो
हम भक्तो का स्नेह निमंत्रण,
श्रद्धा भाव से तुम्हे आमंत्रण,
हे देवा स्वीकारो

आज पधारो गणपति, रखो हमारी लाज
मंगल दाता गणपति, मंगल कर दो काज
भक्तो के रखवारे प्रभुवर,
सारे काज सँवारो


गणपती बाप्पा मोरया – मेरे मन मंदिर में
गणपती बाप्पा मोरया,
पुढच्या वर्षी लवकर या
गणपती बाप्पा मोरया,
अगले बरस तू जल्दी आ

मेरे मन मंदिर में तुम भगवान रहे
मेरे दुःख से तुम कैसे अनजान रहे
मेरे घर में कितने दिन मेहमान रहे
मेरे दुःख से तुम कैसे अनजान रहे


हे गजवदना, गौरी नंदना – प्रार्थना
हे गजवदना, गौरी नंदना
रक्षा करो सबकी।
मंगलमय हो जीवन सारा
धारा बहे सुख की॥

रिद्धि सिद्धि के दाता,
तुम हो विद्या के स्वामी।
विघ्न विनाशक एकदंत हो
तुम अन्तर्यामी।


_
_

Shri Ganesha Bhajans

मेरे लाडले गणेश प्यारे प्यारे
मेरे लाडले गणेश प्यारे प्यारे
भोले बाबा जी की आँखों के तारे
प्रभु सभा बीच में आ जाना, आ जाना

तेरी काया कंचन कंचन,
किरणों का है जिसमे बसेरा
तेरी सूंड सुंडाली मूरत,
तेरी आँखों मे खुशियों का डेरा
तेरी महिमा अपरंपार, तुझको पूजे ये संसार
प्रभु अमृत रस बरसा जाना, आ जाना


जय जय गणपति, जय श्री गणेश
जय जय गणपति, जय श्री गणेश
सिद्धि विनायक, जय करुणेश
पूजा होती प्रथम तुम्हारी
देव दनुज सब तुम से हारे

जयति गजानन, जय परमेश
जय जय मंगल मूर्ति गणेश
लाभ और शुभ के तुम हो दाता
तुम हो विद्या बुद्धि विधाता


सिद्धि विनायक मङ्गल दाता
सिद्धि विनायक मङ्गल दाता,
मङ्गल कर दो काज
आये हैं हम शरण तुम्हारी,
शरण तुम्हारी आज

अष्ट विनायक गणपती,
विघ्न हरो हे गणपती,
करुणामय तुम गणपती,
मङ्गलमय तुम गणपती


सिद्धिविनायक जय गणपति
सिद्धिविनायक जय गणपति,
गाएं सदा तेरी आरती
त्रिकाल ज्ञाता, मंगल के दाता,
संकट विघन दूर करना सभी

शंकर सुवन दाता, पार्वती नंदन
हे गणराय, महाकाय गजानन
संग में विराजत रिधि सिद्धि
गाएं सदा तेरी आरती


गाइये गणपति जगवंदन
गाइये गणपति जगवंदन
शंकर सुवन भवानी नंदन
सिद्धि सदन गजवदन विनायक
कृपा सिंधु सुंदर सब नायक

मोदक प्रिय मुद मंगल दाता
विद्या वारिधि बुद्धि विधाता
गाइये गणपति जगवंदन
शंकर सुवन भवानी नंदन


देते है भक्तो को भक्ति का मेवा
देते है भक्तो को भक्ति का मेवा
बोलो जय जय गणेश, जय गणेश देवा

प्रथम पूज्य है गणेश, छवि उनकी न्यारी
पहचान है जिनकी मूषक सवारी
है ज्ञान के चक्षु, सुधि सबकी लेवा
बोलो जय जय गणेश, जय गणेश देवा


मेरे गणपति बेडा पार करो
मेरे गणपति बेडा पार करो,
रस भक्ति का हर बार भरो
मन मंदिर पावन हो जाये
मुझे मे ऐसा ही ज्ञान भरो
ओम गजाननाम, ओम गजाननाम

तुमने ही सृष्टि सजाई है
जन जन की कलि खिलाई है
सुख दुःख में तुम्ही सहायक हो
विघ्नेश तुम्ही विनायक हो
मै जय जयकार करूँ तेरी,
पथ मेरा कुछ आसान करो


जय हो गणपती, जय हो गणपती
जय हो गणपती, जय हो गणपती
पूजे तुम्हे देवता सभी
जय हो गणपती, जय हो गणपती

शिव के दुलारे, जग से न्यारे
पार्वती माँ के अंखियो के तारे
हम तेरी उतारे आरती
जय हो गणपती, जय हो गणपती


_

Shree Ganpati Bhajans