Tere Darbar Mein Maiya Khushi Milti Hai

Durga Mantra Jaap (माँ दुर्गा मंत्र जाप)

जय माता दी  जय माता दी जय माता दी  जय माता दी
 जयकारा शेरावाली का – बोल सांचे दरबार की जय
Durga Bhajan
_

तेरे दरबार में मैया ख़ुशी मिलती है


तेरे दरबार में मैया, खुशी मिलती है।
जिंदगी मिलती है, रोतो को हंसी मिलती है।
(तर्ज – जाने क्यू लोग मौहब्बत किया करते है।)


तेरी छाया में, तेरे चरणो में,
मगन हो बैंठू तेरे भक्तो में॥

तेरे दरबार में मैया, खुशी मिलती है।
जिंदगी मिलती है, रोतो को हंसी मिलती है।
तेरे दरबार में॥


एक अजब सी मस्ती, तन मन पे छाती है।
हर एक जुबा तेरे, ओ मैया गीत गाती है॥

बजते सितारों से, मीठी पुकारो से।
गूंजे जहा सारा, तेरे ऊँचे जयकरो से॥

मस्ती में झूमें, तेरा दर चूमे।
तेरे चारो तरफ, दुनिया ये घूमे।
ऐसी मस्ती भी भला क्या, कही मिलती है॥

जिंदगी मिलती है, रोतो को हंसी मिलती है।
तेरे दरबार में॥

जिंदगी मिलती है, रोतो को हंसी मिलती है, तेरे दरबार में

ओ मेरी शेरो वाली माँ, तेरी हर बात अच्छी है।
करणी की पुरी है, माता मेरी सच्ची है॥

सुख दुःख बताती है, अपना बनाती है।
मुश्किल में हो बच्चे तो, माँ ही काम आती है॥

रक्षा करती है, अपने भक्तों की।
बात सच्ची करती, उनके सपनो की।
सारी दुनिया की दौलत, यही मिलती है॥

जिंदगी मिलती है, रोतो को हंसी मिलती है।
तेरे दरबार में॥


रोता हुआ आये जो, हंसता हुआ जाता है।
मन की मुरादों को, वो पाता हुआ जाता है॥

किस्मत के मारो को, रोगी बीमारों को।
कर दे भला चंगा, मेरी माँ अपने दुलारों को॥

पाप कट जाये, चरण छूने से।
महकती है दुनिया, मां के धुने से।
फिर तु माँ ऐसी, कभी क्या, कहीं मिलती है॥

जिंदगी मिलती है, रोतो को हंसी मिलती है।
तेरे दरबार में॥

तेरे दरबार में मैया, खुशी मिलती है।

Tere Darbar Mein Maiya Khushi Milti Hai
Tere Darbar Mein Maiya Khushi Milti Hai

तेरे दरबार में मैया, खुशी मिलती है॥

_

Durga Bhajans

_
_

Tere Darbar Mein Maiya Khushi Milti Hai

Lakhbir Singh Lakha

_

Tere Darbar Mein Maiya Khushi Milti Hai


Tere darbar mein maiya, khushi milti hai.
Jindagi milti hai, roto ko hansi milti hai.
(Tarj – jaane kyoo log mauhabbat kiya karate hai.)

Teri chhaaya mein, tere charano mein,
magan ho bainthoo tere bhakto mein.

Tere darabaar mein maiya, khushi miltee hai.
Jindagi miltee hai, roto ko hansi miltee hai.
Tere darabaar mein.

Ek ajab si masti, tan man pe chhaati hai.
Har ek juba tere, o maiya geet gaati hai.

Bajate sitaaron se, meethi pukaaro se.
Goonje jaha saara, tere oonche jayakaro se.

Masti mein jhoomen, tera dar choome.
Tere chaaro taraph, duniya ye ghoome.
Aisi masti bhi bhala kya, kahi milti hai.

Jindagi milti hai, roto ko hansi milti hai.
Tere darbaar mein.

O meri shero wali maan, teri har baat achchhi hai.
Karani ki puri hai, maata meri sachchi hai.

Sukh duhkh bataati hai, apana banaati hai.
Mushkil mein ho bachche to, maan hi kaam aati hai.

Raksha karati hai, bhakt apane ki.
Baat sachchi karati, unake sapano ki.
Saari duniya ki daulat, yahi milti hai.

Jindagi milti hai, roto ko hansi milti hai.
Tere darabaar mein.

Rota hua aaye jo, hansata hua jaata hai.
Man ki muraadon ko, vo paata hua jaata hai.

Kismat ke maaro ko, rogi bimaaro ko.
Kar de bhala changa, meri maa apane dulaaro ko.

Paap kat jaaye, charan chhoone se.
Mahakati hai duniya, maa ke dhune se.
Phir tu maan aisi, kabhi kya, kahin milti hai.

Jindagi milti hai, roto ko hansi milti hai.
Tere darabaar mein.

Tere darabaar mein maiya, khushi milti hai.

Tere Darbar Mein Maiya Khushi Milti Hai
Tere Darbar Mein Maiya Khushi Milti Hai

Tere darabaar mein maiya, khushi milti hai.

_

Durga Bhajans

_