Tere Bhagya Ke Chamkenge Taare – Hindi

तेरे भाग्य के चमकेंगे तारे,
पूरे होंगे सवाल तेरे सारे
भरोसा रख माता रानी पे
भरोसा रख माता रानी पे

_

Tere Bhagya Ke Chamkenge Taare


तेरे भाग्य के चमकेंगे तारे,
पूरे होंगे सवाल तेरे सारे
भरोसा रख माता रानी पे
भरोसा रख माता रानी पे

भरोसा रख माता रानी पे
भरोसा रख महारानी पे


क्यूँ डरता है देख के अँधेरा,
आ जायेगा रे ख़ुशी का सवेरा
भरोसा रख माता रानी पे

भरोसा रख माता रानी पे
भरोसा रख महारानी पे


जो भी लोग चढ़ते हैं
भक्ति के रथ पे
मुश्किलें ही मुश्किलें हैं
उनके तो पथ पे

तेरी आस्था को वो आजमाएगी
तुझे मंजिल पे वो ही पहुंचाएगी
भरोसा रख माता रानी पे
भरोसा रख माता रानी पे

भरोसा रख माता रानी पे
भरोसा रख महारानी पे


तेरे आस पास है माँ,
तुझ से ना दूर वो
आज नहीं कल
तेरी सुनेगी जरूर वो

दुःख हरती वो सारे ही जहां का
दिल पत्थर नहीं होता कभी माँ का
भरोसा रख माता रानी पे
भरोसा रख माता रानी पे

भरोसा रख माता रानी पे
भरोसा रख महारानी पे


शेरो वाली माँ के लाल
शेर ही हैं होते
हस्ते मुसीबतों में डरते ना रोते

प्यासी आत्मा को जल वोही देगी
सहनशक्ति व फल वो ही देगी
भरोसा रख माता रानी पे
भरोसा रख माता रानी पे

भरोसा रख माता रानी पे
भरोसा रख महारानी पे


तेरे भाग्य के चमकेंगे तारे,
पूरे होंगे सवाल तेरे सारे
भरोसा रख माता रानी पे
भरोसा रख माता रानी पे

भरोसा रख माता रानी पे
भरोसा रख महारानी पे


For more bhajans from category, Click -

-
-

_

Durga Devi Bhajans

_

Bhajan List

Mata ke Bhajan – Hindi
Devi Aarti – Hindi
Bhajan, Aarti, Chalisa, Dohe – List

_
_

Durga Bhajan Lyrics

_
_

Bhajans and Aarti

_
_

Bhakti Geet Lyrics

  • सुंदरकाण्ड - 13
    श्रवन सुनी सठ ता करि बानी।
    बिहसा जगत बिदित अभिमानी॥
    सभय सुभाउ नारि कर साचा।
    मंगल महुँ भय मन अति काचा॥
    कवि कहता है कि वो शठ मन्दोदरीकी यह वाणी सुनकर हँसा, क्योंकि उसके अभिमानकौ तमाम संसार जानता है॥
  • अब सौंप दिया इस जीवन का सब भार
    अब सौंप दिया इस जीवन का,
    सब भार तुम्हारे हाथों में
    है जीत तुम्हारे हाथों में,
    और हार तुम्हारे हाथों में
  • कबीर के दोहे - List
    गुरु गोविंद दोऊँ खड़े
    दु:ख में सुमिरन सब करै
    भक्ति बिन नहिं निस्तरे
    कबीर संगत साधु की
  • मन तरपत हरी दर्शन को आज
    मन तरपत हरी दर्शन को आज
    मोरे तुम बिन बिगरे सगरे काज
    बिनती करत हूँ, रखियो लाज
    मन तरपत हरी दर्शन को आज
  • नैया पड़ी मंझधार
    नैया पड़ी मंझधार,
    गुरु बिन कैसे लागे पार।
    अन्तर्यामी एक तुम्ही हो,
    जीवन के आधार।
    जो तुम छोड़ो हाथ प्रभु जी, कौन उतारे पार॥
_