Maa Ki Har Baat Nirali Hai

Durga Mantra Jaap (माँ दुर्गा मंत्र जाप)

जय माता दी  जय माता दी जय माता दी  जय माता दी
 जयकारा शेरावाली का – बोल सांचे दरबार की जय

_

माँ की हर बात निराली है


पास की सुनती है,
दूर की सुनती है
गुमनाम के संग संग,
मशहूर की सुनती है

माँ तो आखिर माँ है,
माँ के भक्तो
माँ तो हर मजबूर की सुनती है


माँ की हर बात निराली है
माँ की हर बात निराली है
बात निराली है,
के हर करामात निराली है

माँ की हर बात निराली है
माँ की हर बात निराली है

महादाती से सब को मिली
सौगात निराली है
माँ की हर बात निराली है
माँ की हर बात निराली है


वक़्त की चाल बदले,
दुःख के जंजाल बदले
इसके चरणों में झुककर,
बड़े कंगाल बदले

यहाँ जो आये सवाली,
कभी वो जाए न खाली
यह लाती पतझड में भी,
हर चमन में हरियाली
काली रातो में लाती प्रभात निराली है

माँ की हर बात निराली है
माँ की हर बात निराली है


दया जब इसकी होती,
तो कंकर बनते मोती
जिसे यह आप जगादे,
ना फिर किस्मत वो सोती

गमो से घिरने वाले,
बड़े इस माँ ने संभाले
फसे मंझधार में बेड़े,
इसी ने बाहर निकाले
इसकी मीठी ममता की बरसात निराली है

माँ की हर बात निराली है
माँ की हर बात निराली है


दुःख काटती है यह,
सुख बांटती है ये,
हमे पालती है ये दिनरात ही

जादू इसका अजीब,
देखो हो के करीब,
यह तो बदले नसीब दिन रात ही
इसकी रहमत हर निर्दोष के साथ निराली है

माँ की हर बात निराली है
माँ की हर बात निराली है


माँ की हर बात निराली है
बात निराली है,
के हर करामात निराली है
माँ की हर बात निराली है
महादाती से सब को मिली सौगात निराली है

माँ की हर बात निराली है
माँ की हर बात निराली है

_

Durga Bhajan List

_
_

Maa Ki Har Baat Nirali Hai

_

Maa Ki Har Baat Nirali Hai

Paas ki sunti hai,
door ki sunti hai
Gumnaam ke sang sang,
mashahoor ki sunti hai

Maa to aakhir Maa hai,
Maa ke bhakto
Maa to har majboor ki sunti hai


Maa ki har baat nirali hai
Maa ki har baat nirali hai
baat niraali hai,
ke har karamaat niraali hai

Maa ki har baat nirali hai
Maa ki har baat nirali hai

Mahadaati se sab ko mili
saugaat niraali hai

Maa ki har baat nirali hai
Maa ki har baat nirali hai


Waqt ki chaal badale,
duhkh ke janjaal badle
Iske charano me jhuk-kar,
bade kangaal badle

Yahaan jo aaye savaali,
kabhi woh jaaye naa khaali
Yah laati patajhad mein bhi,
har chaman mein hariyaali
Kaali raato mein laati prabhaat niraali hai

Maa ki har baat niraali hai
Maa ki har baat niraali hai


Daya jab iski hoti,
to kankar bante moti
Jise yah aap jagaade,
na phir kismat vo soti

Gamo se ghirne wale,
bade is Maa ne sambhaale
Phase majhdhar mein bede,
isi ne baahar nikaale
Isaki mithi mamta ki barsaat niraali hai

Maa ki har baat nirali hai
Maa ki har baat nirali hai


Duhkh kaatati hai yeh,
sukh baatati hai ye,
hame paalati hai ye din raat hi

Jaadoo iskaa ajeeb,
dekho ho ke kareeb,
yeh to badle naseeb din raat hi
Iski rahamat har nirdosh ke saath niraali hai

Maa ki har baat niraali hai
Maa ki har baat niraali hai


Maa ki har baat nirali hai
baat niraali hai,
ke har karaamaat nirali hai
Maa ki har baat nirali hai

Mahadaati se sab ko mili saugaat niraali hai

Maa ki har baat nirali hai
Maa ki har baat nirali hai

_