Hey Maat Meri – Kaisi Yeh Der Lagai Hai Durge

Durga Mantra Jaap (माँ दुर्गा मंत्र जाप)

जय माता दी  जय माता दी जय माता दी  जय माता दी
 जयकारा शेरावाली का – बोल सांचे दरबार की जय
Durga Bhajan
_

कैसी यह देर लगाई है दुर्गे – हे मात मेरी


कैसी यह देर लगाई है दुर्गे
हे मात मेरी, हे मात मेरी।

कैसी यह देर लगाई है दुर्गे
हे मात मेरी, हे मात मेरी।


भव सागर में घिरा पड़ा हूँ
काम आदि गृह में घिरा पड़ा हूँ।
मोह आदि जाल में जकड़ा पड़ा हूँ।
हे मात मेरी, हे मात मेरी॥

कैसी यह देर लगाई है दुर्गे
हे मात मेरी, हे मात मेरी।

हे मात मेरी, हे मात मेरी

ना मुझ में बल है, ना मुझ में विद्या।
ना मुझ ने भक्ति, ना मुझ में शक्ति।
शरण तुम्हारी गिरा पड़ा हूँ
हे मात मेरी हे मात मेरी॥

कैसी ये देर लगाई है दुर्गे
हे मात मेरी, हे मात मेरी।


ना कोई मेरा कुटुम्ब साथी,
ना ही मेरा शरीर साथी।
आप ही उभारो पकड़ के बाहें
हे मात मेरी हे मात मेरी॥

कैसी यह देर लगाई है दुर्गे
हे मात मेरी, हे मात मेरी।

आप ही उभारो पकड़ के बाहें – शरण तुम्हारी गिरा पड़ा हूँ

चरण कमल की नौका बना कर
मैं पार हूँगा ख़ुशी मना कर।
यम दूतों को मार भगा कर
हे मात मेरी, हे मात मेरी॥

कैसी यह देर लगाई है दुर्गे
हे मात मेरी, हे मात मेरी।


सदा ही तेरे गुणों को गाऊं
सदा ही तेरे सरूप को ध्याऊं।
नित प्रति तेरे गुणों को गाऊं
हे मात मेरी, हे मात मेरी॥

कैसी यह देर लगाई है दुर्गे
हे मात मेरी, हे मात मेरी।

सदा ही तेरे सरूप को ध्याऊं – सदा ही तेरे गुणों को गाऊं

ना मैं किसी का, ना कोई मेरा
छाया है चारो तरफ अंधेरा।
पकड़ के ज्योति, दिखा दो रस्ता
हे मात मेरी, हे मात मेरी॥

कैसी यह देर लगाई है दुर्गे
हे मात मेरी, हे मात मेरी।


शरण पड़े हैं हम तुम्हारी
करो यह नैया पार हमारी।
कैसी यह देरी लगाई दुर्गे
हे मात मेरी, हे मात मेरी॥

कैसी यह देर लगाई है दुर्गे
हे मात मेरी, हे मात मेरी।

कैसी यह देर लगाई है दुर्गे, हे मात मेरी

कैसी यह देर लगाई है दुर्गे
हे मात मेरी, हे मात मेरी।


(For download – Durga Bhajan Download 2)

_

Durga Bhajans

_
_

Kaisi Yeh Der Lagai Hai Durge – Hey Maat Meri

Narendra Chanchal

_

Kaisi Yeh Der Lagai Hai Durge – Hey Maat Meri


Hey maat meri, hey maat meri
Hey maat meri, hey maat meri

Kaisi yeh der lagai hai Durge
Hey maat meri, hey maat meri

Bhav saagar mein ghira pada hu
Kaam aadi grih mein ghira pada hoon.
Moh aadi jaal mein jakda pada hoon.
Hey maat meri, hey maat meri

Kaisi yeh der lagai hai Durge
Hey maat meri, hey maat meri

Na mujh mein bal hai,
na mujh mein vidya.

Na mujh ne bhakti,
na mujh mein shakti.

Sharan tumhaari gira pada hoon
he maat meri he maat meri.

Kaisi ye der lagai hai Durge
Hey maat meri, hey maat meri

Na koi mera kutumb saathi
na hi mera sharir saathi.
Aap hi ubhaaro pakad ke baahen
he maat meri he maat meri.

Kaisi yah der lagai hai Durge
Hey maat meri, hey maat meri

Charan kamal ki nauka bana kar
main paar hoonga khushi mana kar.
Yam dooton ko maar bhaga kar
Hey maat meri, hey maat meri

Kaisi yah der lagai hai Durge
Hey maat meri, hey maat meri

Sada hi tere gunon ko gaau
Sada hi tere saroop ko dhyaau.
Nit prati tere guno ko gaoon
Hey maat meri, hey maat meri

Kaisi yah der lagai hai Durgey
Hey maat meri, hey maat meri

Na main kisi ka, na koi mera
Chhaaya hai chaaro taraph andhera.
Pakad ke jyoti, dikha do rasta
Hey maat meri, hey maat meri

kaisi yah der lagai hai Durge
Hey maat meri, hey maat meri

Sharan pade hain hum tumhaari
Karo yah naiya paar hamaari.
Kaisi yah deri lagai Durge
Hey maat meri, hey maat meri

Hey Maat Meri – Kaisi Yeh Der Lagai Hai Durge
Hey Maat Meri – Kaisi Yeh Der Lagai Hai Durge

Kaisi yah der lagai hai Durge
Hey maat meri, hey maat meri

_

Durga Bhajans

_
Hey Maat Meri - Kaisi Yeh Der Lagai Hai Durge
Bhajan:
Hey Maat Meri - Kaisi Yeh Der Lagai Hai Durge
Bhajan Lyrics:
Hey maat meri, hey maat meri Hey maat meri, hey maat meri Kaisi yeh der lagai hai Durge Hey maat meri, hey maat meri
Category:
Website:
Bhajan Sandhya
-