Kabhi Fursat Ho To Jagdambe

Durga Mantra Jaap (माँ दुर्गा मंत्र जाप)

जय माता दी  जय माता दी जय माता दी  जय माता दी
 जयकारा शेरावाली का – बोल सांचे दरबार की जय

_

कभी फुर्सत हो तो जगदम्बे


कभी फुर्सत हो तो जगदम्बे,
निर्धन के घर भी आ जाना।

कभी फुर्सत हो तो जगदम्बे,
निर्धन के घर भी आ जाना।

जो रूखा सूखा दिया हमें,
कभी उस का भोग लगा जाना॥

कभी फुर्सत हो तो जगदम्बे,
निर्धन के घर भी आ जाना


ना छत्र बना सका सोने का,
ना चुनरी घर मेरे तारों जड़ी

ना पेडे बर्फी मेवा है, माँ,
बस श्रद्धा है नैन बिछाए खड़ी

इस श्रद्धा की रख लो लाज हे माँ,
इस अर्जी को ना ठुकरा जाना

जो रूखा सूखा दिया हमें,
कभी उस का भोग लगा जाना

कभी फुर्सत हो तो जगदम्बे,
निर्धन के घर भी आ जाना


जिस घर के दिए मे तेल नहीं,
वहां ज्योत जलाऊं मै कैसे।

मेरा खुद ही बिछोना धरती पर,
तेरी चौकी सजाऊं मै कैसे।

जहाँ मै बैठा वही बैठ के माँ,
बच्चों का दिल बहला जाना॥

जो रूखा सूखा दिया हमें,
कभी उस का भोग लगा जाना॥

कभी फुर्सत हो तो जगदम्बे,
निर्धन के घर भी आ जाना।


तू भाग्य बनाने वाली है,
माँ मै तकदीर का मारा हूँ।

हे दाती संभालो भिखारी को,
आखिर तेरी आँख का तारा हूँ।

मै दोषी, तू निर्दोष है माँ,
मेरे दोषों को तूं भुला जाना॥

जो रूखा सूखा दिया हमें,
कभी उस का भोग लगा जाना

कभी फुर्सत हो तो जगदम्बे,
निर्धन के घर भी आ जाना।


कभी फुर्सत हो तो जगदम्बे,
निर्धन के घर भी आ जाना।

जो रूखा सूखा दिया हमें,
कभी उस का भोग लगा जाना॥

कभी फुर्सत हो तो जगदम्बे,
निर्धन के घर भी आ जाना

_

Durga Bhajan List

_
_

Kabhi Fursat Ho To Jagdambe

_

Kabhi Fursat Ho To Jagdambe

Kabhi fursat ho to Jagdambe,
nirdhan ke ghar bhi aa jana.

Jo rukha sukha diya hame,
kabhi us ka bhog laga jaana.

Kabhi fursat ho to Jagdambe,
nirdhan ke ghar bhi aa jana

Na chhatr bana saka sone ka,
na chunri ghar mere taaron jadi

Na pede barfi meva hai, Maa,
bas shraddha hai nain bichhaye khadi

Is shraddha ki rakh lo laaj hey Maa,
is arji ko na thukaraa jaana

Jo rookha sookha diya hamein,
kabhi us ka bhog laga jaana

Kabhi fursat ho to Jagdambe,
nirdhan ke ghar bhi aa jana

Jis ghar ke diye me tel nahin,
vahaan jyot jalaau mai kaise.

Mera khud hi bichhona dharti par,
teri chauki sajaoon mai kaise.

Jahaan mai baitha vahi baith ke Maa,
bachchon ka dil bahlaa jaana.

Jo rukha sukha diya hamen,
kabhi us ka bhog laga jaana.

Kabhi fursat ho to Jagadambe,
nirdhan ke ghar bhi aa jana.

Tu bhaagya banaane wali hai,
Maa mai takadir ka maara hoon.

He daati sambhaalo bhikhaari ko,
aakhir teri aankh ka taara hu.

Mai doshi, tu nirdosh hai Maa,
mere dosho ko tu bhula jaana.

Jo rookha sookha diya hamein,
kabhi us ka bhog laga jaana

Kabhi fursat ho to Jagdambe,
nirdhan ke ghar bhi aa jana.

Kabhi fursat ho to Jagdambe,
nirdhan ke ghar bhi aa jana.

Jo rukha sukha diya hame,
kabhi us ka bhog laga jaana.

Kabhi fursat ho to Jagdambe,
nirdhan ke ghar bhi aa jana

_