Jag Janani Jai Jai Maa – Meaning in Hindi

जगजननी जय जय माँ, जगजननी जय जय।
भयहारिणी, भवतारिणी, भवभामिनि जय जय॥
तू ही सत्-चित्-सुखमय, शुद्ध ब्रह्मरूपा।
सत्य सनातन, सुन्दर, पर-शिव सुर-भूपा॥

Anup Jalota

_

Jag Janani Jai Jai Maa Meaning in Hindi (अर्थ सहित)


जगजननी जय जय माँ, जगजननी जय जय।
भयहारिणी, भवतारिणी, भवभामिनि जय जय॥
  • जगजननी – समस्त संसारकी माता
  • जय जय माँ – सदा सर्वदा आपकी जय हो
  • जगजननी जय जय – समस्त संसारकी माता! सदा आपकी जय हो।
  • भयहारिणी – संसारके समस्त भयको (कष्टोंको) हरनेवाली (दूर करनेवाली),
  • भवतारिणी – संसारका उद्धार करनेवाली एवं
  • भवभामिनि – संसारको सुशोभित करनेवाली सर्वसुंदरी,
  • जय जय – जगत् माता! आपकी जय हो॥
_
तू ही सत्-चित्-सुखमय, शुद्ध ब्रह्मरूपा।
सत्य सनातन, सुन्दर, पर-शिव सुर-भूपा॥
  • तू ही सत्-चित्-सुखमय – आप सच्चिदानंद हैं,
  • शुद्ध ब्रह्मरूपा – आप ब्रह्मस्वरूपा हैं।
  • सत्य सनातन, सुन्दर – आप सत्य, सनातन, सुंदर,
  • पर-शिव – कल्याणकारिणी और
  • सुर-भूपा – देवरूप हैं॥
_
आदि अनादि, अनामय, अविचल, अविनाशी।
अमल, अनन्त, अगोचर, अज आनन्दराशी॥
  • आदि – आप आदि (प्रारंभ),
  • अनादि – नित्य,
  • अनामय – निरोग, रोग से रहित, दोष रहित
  • अविचल – स्थिर,
  • अविनाशी – अक्षय (जिसका नाश नहीं होता है)।
  • अमल – पवित्र,
  • अनन्त – शाश्‍वत, जिसका अंत न हो,
  • अगोचर – इंद्रियातीत, इंद्रियोंसे परे,
  • अज आनन्दराशी – अज (सतत) आनंदराशि हैं॥
_
अविकारी, अघहारी, सकल कलाधारी।
कर्ता विधि भर्ता हरि हर संहारकारी॥
  • अविकारी – आप नित्य विकाररहित (अर्थात विकारों से मुक्त) हैं
  • अघहारी – आप ही समस्त पापोंको दूर करनेवाली अघहारी हैं
  • सकल कलाधारी – आप समस्त कलाओंको धारण करनेवाली एवं कलामुक्त हैं।
  • कर्ता विधि – आप ही इस सृष्टिकी रचना करनेवाली ब्रह्मा हैं,
  • भर्ता – भरण-पोषण करनेवाली विष्णुरूप तथा
  • हरि हर संहारकारी – संहार करनेवाली साक्षात शिवरूप हैं॥
_
तू विधिवधू, रमा, तू उमा महामाया।
मूल प्रकृति, विद्या तू, तू जननी जाया॥
  • तू विधिवधू – हे जगत-जननी। आप ही ब्राह्मी,
  • रमा – लक्ष्मी,
  • तू उमा महामाया – पार्वती और महामाया हैं।
  • मूल प्रकृति – आप मूल कृति हैं,
  • विद्या तू – आप विद्याको जन्म देने तथा
  • तू जननी जाया – विद्याको विकसित करनेवाली हैं॥
_
राम, कृष्ण, तू सीता, ब्रजरानी राधा।
तू वाँछा कल्पद्रुम, हारिणि सब बाधा॥
  • राम, कृष्ण, तू – आपकी ही छवि राम, कृष्ण रूपमें विद्यमान हैं।
  • सीता, ब्रजरानी राधा – आपकी ही छवि सीता एवं राधाके रूपमें विद्यमान हैं।
  • तू वाँछा कल्पद्रुम – समस्त कामनाओंको पूर्ण करनेवाली कल्पवृक्ष हैं तथा
  • हारिणि सब बाधा – विभिन्न (सर्व) बाधाओंको नष्ट करनेवाली हैं॥
_
दश विद्या, नव दुर्गा, नाना शस्त्रकरा।
अष्टमातृका, योगिनि, नव-नव रूप धरा॥
  • दश विद्या, नव दुर्गा – आप ही दसों विद्या युक्त नवदुर्गारूप हैं।
  • नाना शस्त्रकरा – नाना शस्त्र हाथोंमें धरे दुर्गारूप हैं।
  • अष्टमातृका, योगिनि – आप अष्टमातृका रूप और योगिनी रूप तो हैं ही,
  • नव-नव रूप धरा – साथ ही नित्य नए-नए रूपोंको धारण करनेवाली हैं॥
_
तू परधाम निवासिनि, महा-विलासिनि तू।
तू ही शमशान विहारिणि, ताण्डव लासिनि तू॥
  • तू परधाम निवासिनि – आप ही परम् धाम हैं
  • महा-विलासिनि तू – आप परमशक्तिमयी भी हैं।
  • तू ही शमशान विहारिणि – आप ही श्मशानमें विहार करनेवाली एवं
  • ताण्डव लासिनि तू – ताण्डव मचा देनेवाली हैं॥
_
सुर-मुनि मोहिनि सौम्या, तू शोभाधारा।
विवसन विकट सरुपा, प्रलयमयी धारा॥
  • सुर-मुनि मोहिनि सौम्या – देवताओं और मुनियोंको मोहनेवाली
  • तू शोभाधारा – हे माता! आप दिव्य कांतिमय दुर्गा हैं।

(हे माता ! आप अपने दिव्य कांतिमय दुर्गा रूपमें जहां एक ओर देवताओं और मुनियोंको मोहनेवाली हैं, वहीं)

  • विवसन विकट सरुपा, प्रलयमयी धारा – अपने विकराल स्वरूपमें साक्षात् प्रलयकारी धारा भी हैं॥
_
तू ही स्नेहसुधामयी, तू अति गरलमना।
रत्नविभूषित तू ही, तू ही अस्थि तना॥
  • तू ही स्नेहसुधामयी – हे माता! आप अपने भक्तोंके लिए प्रेमकी अमृतमयी धारा एवं सरलचित्त हैं,
  • तू अति गरलमना – तो दुष्टजनोंके लिए विषमय भी हैं।
  • रत्नविभूषित तू ही – आप रत्नोंसे विभूषित,
  • तू ही अस्थि तना – तो दूसरी ओर अस्थियोंका अलंकार भी आपने ही धारण किया है॥
_
मूलाधार निवासिनि, इहपर सिद्धिप्रदे।
कालातीता काली, कमला तू वर दे॥
  • मूलाधार निवासिनि – आप ही संसारकी मूलाधार हैं।
  • इहपर सिद्धिप्रदे – आप ही इहलोक (संसार) एवं परलोक (स्वर्ग) दोनोंमें ही सिद्धि दायिनी हैं।
  • कालातीता काली – आप ही कालबंधनसे मुक्त काली हैं,
  • कमला – आप ही लक्ष्मी हैं,
  • तू वर दे – हे देवी! आप मुझे वरदान दें॥
_
शक्ति शक्तिधर तू ही, नित्य अभेदमयी।
भेद प्रदर्शिनि वाणी विमले वेदत्रयी॥
  • शक्ति – आप ही शक्ति (ऊर्जा का स्रोत) एवं
  • शक्तिधर तू ही – आप ही विभिन्न शक्तियोंको धारण करनेवाली
  • नित्य अभेदमयी – शाश्‍वत देवी हैं।
  • भेद प्रदर्शिनि – आप ही अनेक भेदोंको (रहस्योंको) प्रकट करनेवालीं
  • वाणी विमले – विमल वाणी (सरस्वती) हैं।
  • वेदत्रयी – आप ही त्रिवेद (तीनों वेद) हैं॥
_
हम अति दीन दुखी माँ, विपट जाल घेरे।
हैं कपूत अति कपटी, पर बालक तेरे॥
  • हम अति दीन दुखी माँ – हम सब दीन दुःखी एवं
  • विपट जाल घेरे – विपत्ति ग्रस्त आपके बालक हैं।
  • हैं कपूत अति कपटी – हम भले ही कपूत हों, कपटी हों;
  • पर बालक तेरे – परंतु आपके बालक हैं॥
_
निज स्वभाववश जननी, दयादृष्टि कीजै।
करुणा कर करुणामयी, चरण शरण दीजै॥
  • निज स्वभाववश जननी – आपका ही अनुपम ताप सर्व व्याप्त है। अपने मातृरूपकी रक्षा कीजिए,
  • दयादृष्टि कीजै – अपनी दयादृष्टि रखिए।
  • करुणा कर करुणामयी – करुणामयी होनेके कारण हम सब बालकोंपर दया कीजिये और
  • चरण शरण दीजै – अपने श्रीचरणोंमें आश्रय दीजिए॥

For more bhajans from category, Click -

-
-

For Hindi Lyrics of Maa Durga Aarti: – जगजननी जय जय माँ
_

Mata ke Bhajan

_

Bhajan List

Maa Sherawali Bhajan – Hindi
Devi Aarti – Hindi
Bhajan, Aarti, Chalisa, Dohe – List

_
_

Durga Bhajan Lyrics


_
_

Bhajans and Aarti

  • मेरी लगी श्याम संग प्रीत
    Meri lagi Shyam sang preet,
    ye duniya kya jane
    Mujhe mil gaya man ka mit,
    ye duniya kya jaane
    Kya jaane koi kya jane
  • सिद्धि विनायक मङ्गल दाता
    सिद्धि विनायक मङ्गल दाता,
    मङ्गल कर दो काज
    आये हैं हम शरण तुम्हारी,
    शरण तुम्हारी आज
  • हे नाथ अब तो ऐसी दया हो
    हे नाथ अब तो ऐसी दया हो
    जीवन निरर्थक जाने न पाए
    ये मन ना जाने क्या क्या कराये
    कुछ बन ना पाए मेरे बनाये
  • सुंदरकाण्ड - 5
    तब देखी मुद्रिका मनोहर।
    राम नाम अंकित अति सुंदर॥
    चकित चितव मुदरी पहिचानी।
    हरष बिषाद हृदयँ अकुलानी॥
    फिर सीताजीने उस मुद्रिकाको देखा तो वह सुन्दर मुद्रिका रामचन्द्रजीके मनोहर नामसे अंकित हो रही थी अर्थात उसपर श्री राम का नाम खुदा हुआ था॥
  • सुंदरकाण्ड - 3
    सुनहु पवनसुत रहनि हमारी।
    जिमि दसनन्हि महुँ जीभ बिचारी॥
    तात कबहुँ मोहि जानि अनाथा।
    करिहहिं कृपा भानुकुल नाथा॥
    विभीषण कहते है की हे हनुमानजी! हमारी रहनी हम कहते है सो सुनो। जैसे दांतों के बिचमें बिचारी जीभ रहती है, ऐसे हम इन राक्षसोंके बिच में रहते है॥
  • जय जय नारायण नारायण, हरि हरि
    जय जय नारायण नारायण, हरि हरि
    स्वामी नारायण नारायण, हरि हरि
    प्रभु के नाम का पारस जो छूले, वो हो जाए सोना
    दो अक्षर का शब्द हरि है, लकिन बड़ा सलोना
    तेरी लीला सब से न्यारी न्यारी, हरि हरि
    तेरी महिमा प्रभु है प्यारी प्यारी, हरि हरि
  • जैसे वीराने में कोई बस्ती
    जैसे वीराने में कोई बस्ती
    सूनी महफ़िल में आ जाये मस्ती
    जैसे पतझड़ में फूल खिल गया
    मेरा सांवरा मुझे मिल गया
  • कबीर के दोहे - List
    गुरु गोविंद दोऊँ खड़े
    दु:ख में सुमिरन सब करै
    भक्ति बिन नहिं निस्तरे
    कबीर संगत साधु की
  • श्री विष्णु चालीसा
    नमो विष्णु भगवान खरारी।
    कष्ट नशावन अखिल बिहारी॥
    प्रबल जगत में शक्ति तुम्हारी।
    त्रिभुवन फैल रही उजियारी॥
_
_

Bhakti Geet Lyrics

_