Jag Janani Jai Jai Maa – Meaning in Hindi

Durga Mantra Jaap (माँ दुर्गा मंत्र जाप)

जय माता दी  जय माता दी जय माता दी  जय माता दी
 जयकारा शेरावाली का – बोल सांचे दरबार की जय

_

जगजननी जय जय माँ, जगजननी जय जय – अर्थसहित


जगजननी जय जय माँ, जगजननी जय जय।
भयहारिणी, भवतारिणी, भवभामिनि जय जय॥
  • जगजननी – समस्त संसारकी माता
  • जय जय माँ – सदा सर्वदा आपकी जय हो
  • जगजननी जय जय – समस्त संसारकी माता! सदा आपकी जय हो।
  • भयहारिणी – संसारके समस्त भयको (कष्टोंको) हरनेवाली (दूर करनेवाली),
  • भवतारिणी – संसारका उद्धार करनेवाली एवं
  • भवभामिनि – संसारको सुशोभित करनेवाली सर्वसुंदरी,
  • जय जय – जगत् माता! आपकी जय हो॥

_

तू ही सत्-चित्-सुखमय, शुद्ध ब्रह्मरूपा।
सत्य सनातन, सुन्दर, पर-शिव सुर-भूपा॥
  • तू ही सत्-चित्-सुखमय – आप सच्चिदानंद हैं,
  • शुद्ध ब्रह्मरूपा – आप ब्रह्मस्वरूपा हैं।
  • सत्य सनातन, सुन्दर – आप सत्य, सनातन, सुंदर,
  • पर-शिव – कल्याणकारिणी और
  • सुर-भूपा – देवरूप हैं॥

_

आदि अनादि, अनामय, अविचल, अविनाशी।
अमल, अनन्त, अगोचर, अज आनन्दराशी॥
  • आदि – आप आदि (प्रारंभ),
  • अनादि – नित्य,
  • अनामय – निरोग, रोग से रहित, दोष रहित
  • अविचल – स्थिर,
  • अविनाशी – अक्षय (जिसका नाश नहीं होता है)।
  • अमल – पवित्र,
  • अनन्त – शाश्‍वत, जिसका अंत न हो,
  • अगोचर – इंद्रियातीत, इंद्रियोंसे परे,
  • अज आनन्दराशी – अज (सतत) आनंदराशि हैं॥

_

अविकारी, अघहारी, सकल कलाधारी।
कर्ता विधि भर्ता हरि हर संहारकारी॥
  • अविकारी – आप नित्य विकाररहित (अर्थात विकारों से मुक्त) हैं
  • अघहारी – आप ही समस्त पापोंको दूर करनेवाली अघहारी हैं
  • सकल कलाधारी – आप समस्त कलाओंको धारण करनेवाली एवं कलामुक्त हैं।
  • कर्ता विधि – आप ही इस सृष्टिकी रचना करनेवाली ब्रह्मा हैं,
  • भर्ता – भरण-पोषण करनेवाली विष्णुरूप तथा
  • हरि हर संहारकारी – संहार करनेवाली साक्षात शिवरूप हैं॥

_

तू विधिवधू, रमा, तू उमा महामाया।
मूल प्रकृति, विद्या तू, तू जननी जाया॥
  • तू विधिवधू – हे जगत-जननी। आप ही ब्राह्मी,
  • रमा – लक्ष्मी,
  • तू उमा महामाया – पार्वती और महामाया हैं।
  • मूल प्रकृति – आप मूल कृति हैं,
  • विद्या तू – आप विद्याको जन्म देने तथा
  • तू जननी जाया – विद्याको विकसित करनेवाली हैं॥

_

राम, कृष्ण, तू सीता, ब्रजरानी राधा।
तू वाँछा कल्पद्रुम, हारिणि सब बाधा॥
  • राम, कृष्ण, तू – आपकी ही छवि राम, कृष्ण रूपमें विद्यमान हैं।
  • सीता, ब्रजरानी राधा – आपकी ही छवि सीता एवं राधाके रूपमें विद्यमान हैं।
  • तू वाँछा कल्पद्रुम – समस्त कामनाओंको पूर्ण करनेवाली कल्पवृक्ष हैं तथा
  • हारिणि सब बाधा – विभिन्न (सर्व) बाधाओंको नष्ट करनेवाली हैं॥

_

दश विद्या, नव दुर्गा, नाना शस्त्रकरा।
अष्टमातृका, योगिनि, नव-नव रूप धरा॥
  • दश विद्या, नव दुर्गा – आप ही दसों विद्या युक्त नवदुर्गारूप हैं।
  • नाना शस्त्रकरा – नाना शस्त्र हाथोंमें धरे दुर्गारूप हैं।
  • अष्टमातृका, योगिनि – आप अष्टमातृका रूप और योगिनी रूप तो हैं ही,
  • नव-नव रूप धरा – साथ ही नित्य नए-नए रूपोंको धारण करनेवाली हैं॥

_

तू परधाम निवासिनि, महा-विलासिनि तू।
तू ही शमशान विहारिणि, ताण्डव लासिनि तू॥
  • तू परधाम निवासिनि – आप ही परम् धाम हैं
  • महा-विलासिनि तू – आप परमशक्तिमयी भी हैं।
  • तू ही शमशान विहारिणि – आप ही श्मशानमें विहार करनेवाली एवं
  • ताण्डव लासिनि तू – ताण्डव मचा देनेवाली हैं॥

_

सुर-मुनि मोहिनि सौम्या, तू शोभाधारा।
विवसन विकट सरुपा, प्रलयमयी धारा॥
  • सुर-मुनि मोहिनि सौम्या – देवताओं और मुनियोंको मोहनेवाली
  • तू शोभाधारा – हे माता! आप दिव्य कांतिमय दुर्गा हैं।

(हे माता ! आप अपने दिव्य कांतिमय दुर्गा रूपमें जहां एक ओर देवताओं और मुनियोंको मोहनेवाली हैं, वहीं)

  • विवसन विकट सरुपा, प्रलयमयी धारा – अपने विकराल स्वरूपमें साक्षात् प्रलयकारी धारा भी हैं॥

_

तू ही स्नेहसुधामयी, तू अति गरलमना।
रत्नविभूषित तू ही, तू ही अस्थि तना॥
  • तू ही स्नेहसुधामयी – हे माता! आप अपने भक्तोंके लिए प्रेमकी अमृतमयी धारा एवं सरलचित्त हैं,
  • तू अति गरलमना – तो दुष्टजनोंके लिए विषमय भी हैं।
  • रत्नविभूषित तू ही – आप रत्नोंसे विभूषित,
  • तू ही अस्थि तना – तो दूसरी ओर अस्थियोंका अलंकार भी आपने ही धारण किया है॥

_

मूलाधार निवासिनि, इहपर सिद्धिप्रदे।
कालातीता काली, कमला तू वर दे॥
  • मूलाधार निवासिनि – आप ही संसारकी मूलाधार हैं।
  • इहपर सिद्धिप्रदे – आप ही इहलोक (संसार) एवं परलोक (स्वर्ग) दोनोंमें ही सिद्धि दायिनी हैं।
  • कालातीता काली – आप ही कालबंधनसे मुक्त काली हैं,
  • कमला – आप ही लक्ष्मी हैं,
  • तू वर दे – हे देवी! आप मुझे वरदान दें॥

_

शक्ति शक्तिधर तू ही, नित्य अभेदमयी।
भेद प्रदर्शिनि वाणी विमले वेदत्रयी॥
  • शक्ति – आप ही शक्ति (ऊर्जा का स्रोत) एवं
  • शक्तिधर तू ही – आप ही विभिन्न शक्तियोंको धारण करनेवाली
  • नित्य अभेदमयी – शाश्‍वत देवी हैं।
  • भेद प्रदर्शिनि – आप ही अनेक भेदोंको (रहस्योंको) प्रकट करनेवालीं
  • वाणी विमले – विमल वाणी (सरस्वती) हैं।
  • वेदत्रयी – आप ही त्रिवेद (तीनों वेद) हैं॥

_

हम अति दीन दुखी माँ, विपट जाल घेरे।
हैं कपूत अति कपटी, पर बालक तेरे॥
  • हम अति दीन दुखी माँ – हम सब दीन दुःखी एवं
  • विपट जाल घेरे – विपत्ति ग्रस्त आपके बालक हैं।
  • हैं कपूत अति कपटी – हम भले ही कपूत हों, कपटी हों;
  • पर बालक तेरे – परंतु आपके बालक हैं॥

_

_

निज स्वभाववश जननी, दयादृष्टि कीजै।
करुणा कर करुणामयी, चरण शरण दीजै॥
  • निज स्वभाववश जननी – आपका ही अनुपम ताप सर्व व्याप्त है। अपने मातृरूपकी रक्षा कीजिए,
  • दयादृष्टि कीजै – अपनी दयादृष्टि रखिए।
  • करुणा कर करुणामयी – करुणामयी होनेके कारण हम सब बालकोंपर दया कीजिये और
  • चरण शरण दीजै – अपने श्रीचरणोंमें आश्रय दीजिए॥
_

Durga Bhajan List

_
_

Jag Janani Jai Jai Maa – Meaning in Hindi

Anup Jalota

_