Sheesh Gang Ardhang Parvati – Shiv Aarti

Shiv Mantra Jaap (शिव मंत्र जाप)

ॐ नमः शिवाय ॐ नमः शिवाय   ॐ नमः शिवाय ॐ नमः शिवाय
ॐ नमः शिवाय ॐ नमः शिवाय   ॐ नमः शिवाय ॐ नमः शिवाय
Shiv Bhajan
_

शीश गंग अर्धांग पार्वती – शिव आरती


शीश गंग अर्धांग पार्वती,
सदा विराजत कैलासी।
नंदी भृंगी नृत्य करत हैं,
धरत ध्यान सुर सुखरासी॥

Shiv Ardhang Parvati

शिव अर्धनारीश्वर – (Shiv – Ardhnarishwar)

अर्धांग पार्वती – सृष्टि के निर्माण हेतु भगवान् शिव ने अपनी शक्ति को स्वयं से पृथक (अलग) किया। इसलिए, अर्धनारीश्वर रूप में, आधे शरीर में वे शिव थे तथा आधे में शिवा (पार्वती)।

शीश गंग अर्धांग पार्वती,
सदा विराजत कैलासी।

नंदी भृंगी नृत्य करत हैं,
धरत ध्यान सुर सुखरासी॥


शीतल मन्द सुगन्ध पवन बह
बैठे हैं शिव अविनाशी।

करत गान-गन्धर्व सप्त स्वर
राग रागिनी मधुरासी॥

Sheesh Gang Ardhang Parvati
शीतल मन्द सुगन्ध पवन बह बैठे हैं शिव अविनाशी

यक्ष-रक्ष-भैरव जहां डोलत,
बोलत हैं वनके वासी।

कोयल शब्द सुनावत सुन्दर,
भ्रमर करत हैं गुंजा-सी॥


कल्पद्रुम (कल्पवृक्ष) अरु पारिजात तरु
लाग रहे हैं लक्षासी।

कामधेनु कोटिन जहां डोलत
करत दुग्ध की वर्षा-सी॥

ऋषि मुनि देव दनुज नित सेवत, गान करत श्रुति गुणराशी

सूर्यकान्त सम पर्वत शोभित,
चन्द्रकान्त सम हिमराशी।

नित्य छहों ऋतु रहत सुशोभित
सेवत सदा प्रकृति दासी॥


ऋषि मुनि देव दनुज नित सेवत,
गान करत श्रुति गुणराशी।

ब्रह्मा, विष्णु निहारत निसिदिन,
कछु शिव हम को फरमासी॥

ब्रह्मा, विष्णु निहारत निसिदिन, कछु शिव हम को फरमासी

ऋद्धि-सिद्धि के दाता शंकर
नित सत् चित् आनन्दराशी।

जिनके सुमिरत ही कट जाती
कठिन काल यमकी फांसी॥


त्रिशूलधरजी का नाम निरन्तर
प्रेम सहित जो नर गासी।

दूर होय विपदा उस नर की
जन्म-जन्म शिवपद पासी॥

Blessings of Lord Shiv
दूर होय विपदा उस नर की जन्म-जन्म शिवपद पासी

कैलासी काशी के वासी
अविनाशी मेरी सुध लीजो।

सेवक जान सदा चरनन को
अपनो जान कृपा कीजो॥


तुम तो प्रभुजी सदा दयामय
अवगुण मेरे सब ढकियो।

सब अपराध क्षमाकर शंकर
किंकर की विनती सुनियो ॥

Shiv
कैलासी काशी के वासी अविनाशी मेरी सुध लीजो

शीश गंग अर्धांग पार्वती,
सदा विराजत कैलासी।
नंदी भृंगी नृत्य करत हैं,
धरत ध्यान सुर सुखरासी॥

ओम नमः शिवाय
ओम नमः शिवाय
ओम नमः शिवाय

(For download – Shiv Bhajan Download 5)

_

Shiv Bhajans

_
_

Shiv Aarti – Sheesh Gang Ardhang Parvati

Rajendra Jain

_

Shiv Aarti – Sheesh Gang Ardhang Parvati


Sheesh gang ardhang Parvati,
sada viraajat kailaasi.
Nandi bhringi nritya karat hain,
dharat dhyan sur sukhraasi.

Shiv Ardhang Parvati

अर्धांग पार्वती – सृष्टि के निर्माण हेतु भगवान् शिव ने अपनी शक्ति को स्वयं से पृथक (अलग) किया। इसलिए, अर्धनारीश्वर रूप में, आधे शरीर में वे शिव थे तथा आधे में शिवा (पार्वती)।

Sheesh gang ardhang Parvati,
sada viraajat kailaasi.

Nandi bhringi nritya karat hain,
dharat dhyan sur sukhraasi.


Sheetal mand sugandh pavan bahe
(Jahaan) baithe hain Shiv avinaashi .

Karat gaan gandharv sapt swar
raag raagini madhuraasi.


Yaksh raksh bhairav jahan dolat,
bolat hain van ke vaasi.

Koyal shabd sunaavat sundar,
bhramar karat hain gunja si.


Kalp-vriksh aru paarijaat taru
laag rahe hain lakshaasi.

Kam-dhenu kotin jahan dolat
karat dugdh ki varsha-si.


Surya-kant sam parvat shobhit,
chandrakaant sam himaraashi.

Nitya chhahon ritu rahat sushobhit
sevat sada prakriti daasi.


Rushi muni dev danuj nit sevat,
gaan karat shruti gunaraashi.

Brahma, vishnu nihaarat nisidin,
kachhu Shiv hum ko pharamaasi.


Riddhi-Siddhi ke daata Shankar
nit sat chit anandraashi.

Jinke sumirat hi kat jaati
kathin kaal yam ki phaansi.


Trishuldhar ji ka naam nirantar
prem sahit jo nar gaasi.

Door hoya vipada us nar ki
janm-janma Shivpad paasi.

Blessings of Lord Shiv
Kailaasi Kashi ke vaasi, avinaashi meri sudh lijo.

Kailaasi Kashi ke vaasi
avinaashi meri sudh lijo.

Sevak jaan sada charanan ko
apano jaan kripa kijo.


Tum to prabhuji sada dayaamay
avagun mere sab dhakiyo.

Sab aparaadh kshamaa kar Shankar
kinkar ki vinati suniyo .


Sheesh gang ardhang Parvati ,
sada viraajat kailaasi.

Nandi bhrungi nritya karat hain,
dharat dhyaan sur sukharaasi.

Om Namah Shivay
Om Namah Shivay
Om Namah Shivay

Shiv Aarti
Shiv Aarti – Sheesh Gang Ardhang Parvati

Sheesh gang ardhang Parvati,
sada viraajat kailaasi.
Nandi bhringi nritya karat hain,
dharat dhyan sur sukhraasi.

_

Shiv Bhajans

_