2 – Bhajan List

For List in Hindi, click (हिंदी लिस्ट के लिए क्लिक करे) -- भजन लिस्ट हिंदी में (हिंदी सूची)
Bhajan, Aarti
Dohe (Meaning in Hindi)
Chalisa, Mantra
Stotra (Hindi Meaning)
-
-
-

Bhajans

For Bhajan List in Hindi:
भजन, आरती, दोहे
चालीसा, स्तोत्र
हिंदी में पढ़ने के लिए बटन पर क्लिक करे >>


Bhajan Download

Krishna Bhajan

Durga Bhajan

Ram Bhajan

Shiv Bhajan

Ganesh Aarti

Ganesh Bhajan

Hanuman Bhajan

Sai Bhajan

Kabir Dohe

Aarti

Meera Bhajan

Bhajan from Films

_

Krishna Bhajan

  • For complete list of Krishna Bhajans, please visit –>
_

Shree Ram Bhajan

  • For complete list of Ram Bhajans, please visit –>
_

Maa Durga Bhajan

  • For complete list of Durga Bhajans, please visit –>
_
_

Shiv Bhajan

  • For complete list of Shiv Bhajans, please visit –>
_

Shree Ganesh Bhajan

  • For complete list of Ganesh Bhajans, please visit –>
_

Hanuman Bhajan

  • For complete list of Hanuman Bhajans, please visit –>
_

Sai Bhajan

  • For complete list of Sai Bhajans, please visit –>
_

Hindi Bhajan

  • For complete list of Hindi – Vividh Bhajans, please visit –>
_

Bhajans from Films

  • For complete list of Bhajan from Films, please visit –>
_
For Bhajan List in Hindi:
भजन, आरती, दोहे
चालीसा, स्तोत्र
हिंदी में पढ़ने के लिए बटन पर क्लिक करे >>

_

Dohe

Kabir ke Dohe with Meaning in Hindi

Tulsidas ke Dohe in Hindi

_

Bhajan Lyrics

_

Meera ke Bhajan

_

Sant Kabir ke Bhajan

_

Rahim ke Dohe

Ramayan

Gita Quotes

_

Aarti

_

Chalisa

_

Stotra

_

Maha Mrityunjaya Mantra

Mahamrityunjay Mantra (ॐ त्र्यम्बकं यजामहे) - Audio + Meaning in Hindi + Download
-
-
-

महामृत्युंजय मंत्र (Maha Mrityunjay Mantra)

Maha Mrityunjaya Mantra

_

Mahamrityunjay Mantra – Audio


Listen to Maha Mrityunjaya Mantra
ॐ त्र्यम्बकं यजामहे
सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्।

1. Maha Mrityunjaya Mantra


2. Maha Mrityunjay Mantra

_

Maha Mrityunjaya Mantra – Lyrics

ॐ त्र्यम्बकं यजामहे
सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्।
उर्वारुकमिव बन्धनान्
मृत्योर्मुक्षीय माऽमृतात्॥


Maha Mrityunjaya Mantra – Meaning in Hindi

त्रयंबकम – त्रि-नेत्रों वाले
यजामहे – हम पूजते हैं, सम्मान करते हैं

सुगंधिम – मीठी महक वाले, सुगंधित
पुष्टि – एक सुपोषित स्थिति, फलने-फूलने वाली, समृद्ध जीवन
वर्धनम – वह जो पोषण करते है, शक्ति देते है, (स्वास्थ्य, धन, सुख में) वृद्धिकारक; जो हर्षित करते है, आनन्दित करते है

हम भगवान शंकर की पूजा करते हैं, जिनके तीन नेत्र हैं, जो प्रत्येक श्वास में जीवन शक्ति का संचार करते हैं, जो सम्पूर्ण जगत का पालन-पोषण अपनी शक्ति से कर रहे हैं।


उर्वारुकम – ककड़ी
इव – जैसे, इस तरह
बंधना – तना

मृत्युर – मृत्यु से
मुक्षिया – हमें स्वतंत्र करें, मुक्ति दें
मा – न
अमृतात – अमरता, मोक्ष

उनसे (भगवान शिव से) हमारी प्रार्थना है कि वे हमें मृत्यु के बंधनों से मुक्त कर दें, जिससे मोक्ष की प्राप्ति हो जाए।

जिस प्रकार एक ककड़ी अपनी बेल में पक जाने के उपरांत उस बेलरूपी संसार के बंधन से मुक्त हो जाती है, उसी प्रकार हम भी इस संसार-रूपी बेल में पक जाने के उपरांत जन्म-मृत्यु के बन्धनों से सदा के लिए मुक्त हो जाएं।

_

हम त्रि-नेत्रीय वास्तविकता (शिवजी) का चिंतन करते हैं, जो जीवन की मधुर परिपूर्णता को पोषित करते है और वृद्धि करते है। ककड़ी की तरह हम इसके तने से अलग (“मुक्त”) हों, अमरत्व से नहीं बल्कि मृत्यु से हों।


हम भगवान शंकर की पूजा करते हैं, जिनके तीन नेत्र हैं, जो प्रत्येक श्वास में जीवन शक्ति का संचार करते हैं, जो सम्पूर्ण जगत का पालन-पोषण अपनी शक्ति से कर रहे हैं।

उनसे (भगवान् शिवजी से) हमारी प्रार्थना है कि वे हमें मृत्यु के बंधनों से मुक्त कर दें, जिससे मोक्ष की प्राप्ति हो जाए।

जिस प्रकार एक ककड़ी अपनी बेल में पक जाने के उपरांत उस बेलरूपी संसार के बंधन से मुक्त हो जाती है, उसी प्रकार हम भी इस संसार-रूपी बेल में पक जाने के उपरांत जन्म-मृत्यु के बन्धनों से सदा के लिए मुक्त हो जाएं।

_

Bhajan List

Shiv Bhajan – List
Bhajan Download List

_

Mahamrityunjay Mantra Download

ॐ त्र्यम्बकं यजामहे
सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्।


On desktop To download the bhajan “महामृत्युञ्जय मन्त्र“, right-click on the “Mahamrityunjay Mantra Download“ link and select “Save Link As” option. Then save the file as Mahamrityunjay Mantra

“मंत्र डाउनलोड” लिंक पर राइट क्लिक (Right Clcik) करे और फिर Save Link As (सेव लिंक एस) पर क्लिक करे. और अपने कंप्यूटर में फाइल को Mahamrityunjay Mantra नाम से सेव करे।

On mobile Keep your finger pressed on the “Mantra Download“ link and select “Save Link” from the menu that appears. Maha Mrityunjaya Mantra will be saved in the Downloads folder

_
_

Shiv Aarti, Bhajans and Stotra

Shiv Tandav Stotra – Hindi
प्रफुल्ल नील पङ्कज प्रपञ्च कालिमप्रभा
वलम्बि कण्ठकन्दली रुचिप्रबद्ध कन्धरम्।
स्मरच्छिदं पुरच्छिदं भवच्छिदं मखच्छिदं
गजच्छिदांध कच्छिदं तमन्त कच्छिदं भजे॥


Om Jai Shiv Omkara – Shiv Aarti
श्वेतांबर पीतांबर, बाघंबर अंगे,
स्वामी बाघंबर अंगे।
सनकादिक गरुडादिक, भूतादिक संगे॥
॥ओम जय शिव ओंकारा॥


Shiv Rudrashtakam Stotra – Meaning
नमामीशम् – श्री शिवजी, मैं आपको नमस्कार करता हूँ जो
ईशान – ईशान दिशाके ईश्वर
निर्वाणरूपं – मोक्षस्वरुप
विभुं व्यापकं – सर्व्यवापी
ब्रह्मवेदस्वरूपम् – ब्रह्म और वेदस्वरूप है


Om Sundaram Omkar Sundaram
भस्म अंग रमाये भस्मीभूत सुन्दरम
अलख निरंजन सन्यासी अवधूत सुन्दरम
भस्म अंग रमाये भस्मीभूत सुन्दरम
अलख निरंजन सन्यासी अवधूत सुन्दरम


Sheesh Gang Ardhang Parvati – 1
कैलासी काशी के वासी, अविनाशी मेरी सुध लीजो।
सेवक जान सदा चरनन को अपनो जान कृपा कीजो॥
तुम तो प्रभुजी सदा दयामय अवगुण मेरे सब ढकियो।
सब अपराध क्षमाकर शंकर किंकर की विनती सुनियो॥


Maha Mrityunjaya Mantra – Meaning
ॐ त्र्यम्बकं यजामहे
सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्।
उर्वारुकमिव बन्धनान्
मृत्योर्मुक्षीय माऽमृतात्॥

_
_

Panchakshar Stotra – Meaning
मंदारपुष्प – आप सदा मन्दार पर्वत से प्राप्त पुष्पों एवं
बहुपुष्प – बहुत से अन्य स्रोतों से प्राप्त पुष्पों द्वारा
सुपूजिताय – पुजित है
तस्मै म काराय – हे म अक्षर धारी
नमः शिवाय – शिव आपको नमन है


Shiv Manas Puja – Meaning
जाती-चम्पक – जूही, चम्पा और
बिल्वपत्र-रचितं पुष्पं – बिल्वपत्रसे रचित पुष्पांजलि
च धूपं तथा दीपं – तथा धूप और दीप
देव दयानिधे पशुपते – हे देव, हे दयानिधे, हे पशुपते,
हृत्कल्पितं गृह्यताम् – यह सब मानसिक (मनके द्वारा) पूजोपहार ग्रहण कीजिये


Jai Girijapati Deen Dayala – Shiv Chalisa
जय जय जय अनंत अविनाशी।
करत कृपा सब के घटवासी॥
दुष्ट सकल नित मोहि सतावै।
भ्रमत रहे मोहि चैन न आवै॥


Chalo Shiv Shankar Ke Mandir
करें सब का कल्याण, कल्याणकारी
भरे सबके भण्डार त्रिनेत्र धारी
कोई उसको जग में कमी ना रहेगी
बनेगा जो तनमन से शिव का पुजारी
चलो शिव शंकर के मंदिर में भक्तो


Aisi Subah Na Aaye, Aaye Na Aisi Shaam
ऐसी सुबह ना आए, आए ना ऐसी शाम।
जिस दिन जुबां पे मेरी आएं ना शिव का नाम॥
सर्व कला संम्पन तुम्ही हो, हे मेरे परमेश्वर।
दर्शन देकर धन्य करो अब, हे त्रिनेत्र महेश्वर।
भाव सागर से तर जाउंगी, लेकर तेरा नाम॥


Maha Mrityunjaya Mantra – Meaning
ॐ त्र्यम्बकं यजामहे
सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्।
उर्वारुकमिव बन्धनान्
मृत्योर्मुक्षीय माऽमृतात्॥